मेरी जवान बेटी की कामुकता शांत की

एक दिन मैं अपनी बेटी रिया के कमरे में गयी तो देखा की वह एक किताब बड़े मन से पढ़ रही है . उसके पन्ने पलट पलट कर देख रही है . मैं जब और थोडा नजदीक गयी तो उसने झट से किताब तकिया के नीचे छिपा दी . मैंने कहा रिया बेटी ज़रा एक कप चाय बनाकर ले आ ? वह चाय बनाने चली गयी .तब मैंने तकिये के नीचे से किताब निकाली और देखने लगी . देखते ही मेरे होश उड़ गए . वह एक पोर्न किताब थी जिसमे मर्द और औरत की नंगी नंगी फोटो थी . बड़ी बड़ी चूंची, बड़े बड़े लण्ड, बड़ी बड़ी गांड, लण्ड पीते हुए, चोदते हुए, गांड मारते हुए, मरवाते हुए, वह भी एक लण्ड नहीं बल्कि कई लण्ड सब तरह की बड़ो बड़ी तश्वीरें थी . मैं समझ गयी की अब रिया लण्ड देखने में दिलचस्पी लेने लगी है . चाय आने के पहले मैंने किताब वही रख दी .
एक बार रिया अपना मोबाईल घर में ही भूल गयी और माल चली गयी . इतने में फोन आ गया . वह बोली हाय रिया मैं रन्नो बोल रही हूँ मैंने कहा ऊ वह बोली जानती है यार रियाज़ का लौड़ा बहन चोद बड़ा मोटा निकला ? मुझे तो पहले यकीं ही नहीं हुआ पर मैंने जब खुद उसकी जिप में हाथ डाल कर लण्ड पकड़ कर देखा तो मालूम हुआ की जाहिरा सही कह रही थी . तुम पकड़ोगी तो मज़ा आ जायेगा . तुमको तो मोटे लण्ड पसंद है न ? यार मेरा अब्बू आ गया है . मैं फिर बात करूंगी . मेरी बात पक्की हुई जा रही थी की रिया को अब लण्ड की जरुरत महसूस हो रही है .
मेरा नाम रेहाना है मैं ४२ साल की एक बेहद खूबसूरत औरत हूँ .
कहते है की जो औरत जितनी खूबसूरत होती है उतनी ही लण्ड की दीवानी होती है . उसे नए नए लण्ड पकड़ने की बड़ी इच्छा होती है .
यही इच्छा मेरे अन्दर भी है . मैं भी लण्ड पकड़ने का कोई मौका छोडती नहीं हूँ . मेरी बेटी भी खूबसूरत है . वह भी शायद अपनी माँ पर गयी है . मैं यही सोचने लगी . मैंने एक दिन एक चाल चली . मैंने कहा मैं अपनी दोस्त के घर जा रही हूँ मैं शाम को आऊंगी . तुम चिंता न करना मैं एक चाभी लेकर जा रही हूँ . ऐसा कह कर मैं चली गयी . लेकिन बस घंटे भर में ही मैं वापस आ गयी . मैंने धीरे से दरवाजा खोला और चुपके से रिया का कमरे में झाँकने लगी . मैंने जो देखा उसे देख कर मेरी आँखे खुल गयी . मैंने देखा की रिया एकदम नंगी लेटी हुई टी वी पर एक ब्लू फिल्म देख रही है . उसके साथ उसकी एक दोस्त भी है . वह भी नंगी है . दोनों एक दूसरे की चूत चाट रही है . उधर ब्लू फिल्म में तीन लड़के मिलकर दो लड़कियां चोद रहे है . रिया की चूत उसकी चूंची और उसकी गांड देख कर मैं समझ गयी की अब वह पूरी तरह जवान हो गयी है . उसे इस समय लण्ड की सख्त जरुरत है . पर मैं चुपचाप फिल्म देखती रही .इतने में उसका फोन आ गया .
वह बोली :- हेलो कौन बोल रहा है ? ………ओ नदीम भोषडी के तू कितनी देर लगाएगा ? ,,,,,,,,,,,,,,,देख मेरे पास समय नहीं है . ,,,,,,,,,,,,,,,,, पता नहीं अम्मी बहन चोद कब आ जाएँगी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, ? मेरे बदन में आग लगी हुई है ,,,,,,,,,,,,,,,,,, आज मैं तेरा लण्ड जरुर पकडूगी . ,,,,,,,,,,,,,,,,उसका मक्खन निकाल कर चाटूंगी ,,,,,,,,,,,,,,,, जल्दी आ मादर चोद ? देख ऊपर छत से आना . कोई माँ की लौड़ी देख न पाए ?
मैं भी उसके आने का इंतज़ार करने लगी . थोड़ी देर में नदीम आ गया . मैं उसे जानती थी . मेरे पड़ोस का लड़का है . मेरी बेटी ने जब उसे नंगा किया और लण्ड पकड़ा तो मैं देख कर दंग रह गयी . नदीम तो पूरा मर्द हो गया . उसका लौडा तो भोषडा चोदने वाला हो गया है . मेरा भोषडा भी साला गरम हो गया . खैर उन दोनों लड़कियों ने बारी बारी से लण्ड चूसा और फिर उसका मुठ्ठ मारा और उसका मक्खन खा गयी . दोनों जिस तरह से झड़ता हुआ लण्ड चाट रही थी उससे लगता है की ये अक्सर लण्ड चाटती है . अभी तक मैं भी चोरी छिपे लण्ड चाटती थी . चुदवाती थी . पर अब मैंने ठान लिया की मैं रिया के सामने ही लण्ड चाटूंगी लण्ड चूसूंगी और उसे अपने भोषडा में पेलूँगी ? मैं खुलकर सामने आऊंगी तो वह भी खुल जाएगी .
शनिवार छुट्टी का दिन था . मैंने उस दिन अपने दो दोस्तों को बुला लिया था . इससे पहले की वे दोनों आते, रिया पड़ोस की आंटी के घर चली गयी . तब तक मेरे दो साथी अमन और चमन आ गए . दोनों ही मेरी उम्र के थे . हम तीनो ने पहले तो थोड़ी शराब पी फिर अपने अपने कपडे खोल कर एक दूसरे के सामने आ गए . नीचे फर्श पर ही प्रोग्राम रखा था मैंने . मैंने अपने दोनों हाथो में एक एक लण्ड पकड़ा और उन्हें सहलाने लगी . वे दोनों मेरी एक एक चूंची सहलाने लगे . मैं बार बार झुक कर दोनों लण्ड का चुम्मा लेती उन्हें पुचकारती और प्यार करती . आप जानते है की मुझे लण्ड से विशेष प्यार है . मैं जब लण्ड देख लेती हूँ तो उसके सामने सारी दुनियां छोड़ देती हूँ . मैं लण्ड का मज़ा ले ही रही थी की रिया मेरे कमरे में आ गयी .
वह बोली :- वाओ, अम्मी ये क्या ? ये अंकल कौन है अम्मी ? मैं शायद गलत समय पर आ गयी हूँ सॉरी ? वह वापस जाने लगी .
मैंने कहा :- रिया मत जाओ वापस , मैं सब बताती हूँ .
वह बोली :- अरी अम्मी मेरे सामने ये सब कुछ कैसे हो सकता है ?
मैंने कहा :- अरे मैं सब समझाती हूँ तुम्हे ? पहले इनका लण्ड पकड़ कर बताओ की इसमें से किसका लण्ड नदीम के लण्ड से बेहतर है ?
वह बोली :- वाह, अम्मी मैं क्या जानू नदीम का लण्ड कैसा है ?
मैंने कहा :- अच्छा माँ की लौड़ी अब तू बुर चोदी मुझे सिखाने चली है . जब तू भोषडी वाली नदीम का लौड़ा चाट रही थी तब नहीं मालूम था की ये सब क्या हो रहा है ? तू क्या समझती है की सिर्फ तेरे पास ही चूत है ? लण्ड चाटने का केवल तुम्हे ही हक है ? मैं क्या ज़िन्दगी भर बस गांड मराती घूमती रहूंगी ?
इतना सुनते ही रिया सहम गयी , उदास हो गयी .
फिर मैंने प्यार से कहा देखो बेटी तुम जवान हो . खूबसूरत हो मैं जानती हूँ की तुम्हे लण्ड की सख्त जरुरत है . उस दिन जब मैंने तुम्हे नदीम का लण्ड चाटते हुए देखा तो सोच लिया था की मैं तुम्हे लण्ड लाकर दूँगी . और आज मैं तेरे लिए ये दोनों लण्ड लेकर आयी हूँ . अब तुम इन्हें पकड़ो सहलाओ चूसो चाटो और बताओ की तुम्हे लण्ड पसंद है की नहीं .
रिया बोली :- हाय अम्मी आई एम् सॉरी ?
मैंने कहा :- नहीं आज से तुम मेरी सहेली हो . मैंने तुम्हे इसलिए गाली दी है की तुम गाली देना सीख जाओ . लडको को लड़की के मुह से गाली सुनना बड़ा अच्छा लगता है .गालियाँ किसी और को दो लेकिन उसे सुनने वाले लड़के हों . खास तौर से लण्ड की गाली . तब उन्हें आता है मज़ा . और देखो सेक्स का मज़ा बेशरम हो जाने पर ही है . लण्ड का मज़ा खुल कर लो . बुर खोल कर लो . गांड खोल कर लो . अब आज से तुम मेरे भोषडा में लण्ड पेलो और मैं तेरी चूत में लण्ड पेलूँगी ? जवानी का जम कर लो मज़ा ?
वह बोली :- हां मेरी बुर चोदी अम्मी अब मैं जान गयी हूँ . अभी तक मैंने भी छुप छुप कर लण्ड पिया है अब मैं खुले आम पियूंगी लण्ड ?
एक दिन मुझे मेरी एक दोस्त मिसेज गोगी जैकब ने फोन से बताया की मेरी मैरिज एनिवर्सरी है और इसी को मनाने के लिए मैंने एक डांस पार्टी रखी है . आप अपनी बेटी के साथ जरुर आना प्लीज . गोगी मेरी बहुत पुरानी दोस्त है . उसका हसबैंड जैकब भी मुझे काफी घुला मिला है . हालांकि मैंने उसे नंगा कभी नहीं देखा . मैं शाम को तैयार होकर अपने बेटी रिया के साथ पार्टी में पहुँच गयी .
मैंने देखा की वहां कई लड़के लड़कियां मर्द और औरतें है . सब शराब में डूबे हुए है . लड़कियां कुछ ज्यादा ही नशे में है . डांस हो रहा है . लड़कियों की लो वेस्ट पैंट नीचे खिसकने लगी है . किसी किसी की तो बटन भी खुल गयी है . कई लड़कियों की झांट दिखने लगी है . उनकी गांड दिखने लगी है . उनकी चूंचियाँ भी खुलने लगी है . किसी किसी को तो चूंचियाँ बिलकुल नंगी हो गयी है . फिर भी वे नाचे जा रही है . चूंचियाँ भी नाच रही है . मर्दों की निगाहें चूंचियों पर टिकी है . उनकी खुलती हुई चूत पर टिकी है . लड़के भी कुछ कम नहीं है . उनकी पैन्ट भी नीचे गिरने लगी है . उनकी भी झांटे बाहर दिखने लगी है . मैं यह देख कर दंग रह गयी जब २/३ लड़कों के लण्ड दिखाई पड़ने लगे . मेरी बेटी लड़कों के लण्ड देख रही थी . वह धीरे धीरे नाचते हुए उनके पास गयी और एक का लण्ड पकड़ लिया . लण्ड और टन्ना कर खड़ा हो गया . रिया नीचे घुटनों के बल बैठ कर लण्ड चाटने लगी . उसे भी नशा चढ़ा था . उसे देख कर और लड़कियां भी लण्ड चाटने लगी . तब तक एक लड़का मेरे सामने आया और कहा आंटी लो तुम भी पकड़ो न प्लीज ? मैंने भी पकड़ लिया लण्ड ?
फिर मैंने देखा की आधे घंटे में सबने अपने अपने कपडे उतार दिया . सब के सब मादर चोद नंगे हो गए . मर्द नंगे औरतें नंगी लड़के नंगे लड़कियां नंगी . मैंने गोगी से कहा यार ये तो सेक्स पार्टी हो गयी है . वह बोली हां यार मैंने सेक्स पार्टी का प्लान बनाया है . खूब मस्ती से चुदाओ यार . भोषडा चुदाओ और मराओ गांड ?
मैंने कहा :- यार पहले मैं अपनी बेटी की बुर चुदाऊँगी .
गोगी बोली:- तुम रिया की बात कर रही हो न ?
मैंने कहा :- हां रिया की बात कर रही हूँ .
तब उसने कहा :- यार रिया तो मजे से चुद रही है . वो तो दो दो लड़कों से चुदा रही है . बड़ी सेक्सी लड़की है यार ? बिलकुल मेरी बेटी की तरह ?
मैंने कहा :- तो क्या तेरी बेटी भी चुदा रही है ? उसका जबाब था :- हां मैं तो पहले अपनी बेटी ही चुदवाती हूँ . तब तक मुझे मेरी कालोनी की एक लड़की जोया दिख गयी .
मैंने कहा :- अरे जोया तू भी यहाँ चुदाने आयी है क्या ?
वह बोली :- नहीं आंटी, मैं अपनी माँ चुदाने आयी हूँ . वह पहले ठीक से चुदा लेगी तब मैं चुदवाऊँगी . मैं लण्ड पकडे पकडे बातें कर रही थी . तब वह लड़का बोला आंटी तुम अपना भोषडा फैला दो मैं उसमे लण्ड पेल कर चोदता हूँ फिर तुम बात भी करती रहो . मैं फ़ौरन भोषडा चुदाने लगी . तब तक एक मर्द ने मेरे मुह में लण्ड घुसा दिया मैं वह भी लण्ड चूसने लगी . मैं जब थोड़ा बाई तरफ मुड़ी तो देखा की मेरी बेटी भी दो दो लण्ड से चुदवाने में जुटी है . अपनी गांड उठा उठा कर भकाभक चुदवा रही थी मेरी बेटी .
उसने मुझे देखा और बोली :- हाय अम्मी बड़ा मज़ा आ रहा है . लण्ड मादर चोद बड़े जबरदस्त है .
मैंने कहा :- हां मैं देख रही हूँ . मुझे चोदने वाले लण्ड बड़े भी सालिड है . थोड़ी देर बाद लण्ड की अदला बदली कर लेना तो और मज़ा आएगा .
रिया बोली :- अरे मैं दो बार लण्ड बदल चुकी हूँ . पहले वाले दोनों लण्ड का सडका मार कर गिरा दिया . पर माँ बड़े टेस्टी लण्ड थे दोनो लण्ड ?

यह कहानी भी पड़े  सगी मामी ने मुझे समर्पित कर दिया अपनी चूत का बगीचा

Pages: 1 2

error: Content is protected !!