मौसी की प्यासी चूत

मेरा नाम नवीन है मे डेलही मई रेहता हू मेरी दीदी 20 की है ओर में 25 का हु। एक बार की बात है में ओर मेरी दीदी अपनी मोसी के घेर हरयाणा ग्ये थे मोसी के घेर पेर मोसी ओर उनकी बेटी रानी थी वो 18 साल की थी मोसी सुब्ह ही खेतो में चलई गई ओर मेरी दीदी बी उनके सात चली गई मई बाद मई खाना लेकर गया मोसी काम करने के बाद थक गई थी वो आराम करने के लिए लेट गई में उनकी बगल में लेट गया ओर मेरी दीदी बीह मेरे पास लेट गई।

मेरी आख लेग गई जब आख खुली तो देखा की मोसी के चुचे ब्लौस से बहेर निकल रहे थे ओर वो उनको दबा रही थी। मेरा लंड खड़ा हो गया ओर पानी निकलेने लगा। बाद मे मोसी फिर काम करने लगी। रात को हम घर आ गाये, खाना खाने के बाद जब सोने गए तो मोसी ने कहा की नवीन तू मेरे पास आना मई तुमसे बाते करनी है।

में मोसी के पास ग्या तो मोसी ने मेरी मा के बारे मे बात की ओर यहा वहा की बात करने लगे मेने देखा की मोसी का हाथ मेरे लंड के बिल्कुल पास था। में कुछ समाज नहीं पा रहा था ओर इतने मे मोसी का हाथ मेरे लंड को छुने लगा ओर वो हल्के से इसे रगदने लगी।

मेरे लंड मे कसाव आना सुरू हो गया मैंने वाहे से हटने की कोसिस की तो मोसी ने मेरे लंड पकड़ लिया ओर कहा की तेरी मोसी की एक बात मनगा तो मेने कहा की “क्या मोसी मेने आज तक आपकी कोई बात टला है क्या”।

यह कहानी भी पड़े  देवरानी की बगल में देवर से चुद गयी

नहीं तो सुन बेटा तेरी मोसी को बहुत प्यस्स है अपनी मोसी की प्यस्स मिटा दे बेटा तेरा लंड बहुत मोटा है। जब तू सो रहा था तो मेने तेरा लंड को देख रही थी वो बहुत मोटा है आ मेरी प्यस्स भुजा दे। ओर मोसी ने लंड को तेज़ से दबया मेने हल्का सा विरोड किया तो मोसी मुज से लिप्त गई ओर मेरे होटो को चूमने लगी ओर अपने चुचि मेरी छाती पे रगड़ने लगी मुझे भूत मज़ा आ रहा था मेने अपना हाथ मासी की गांद पेर लागया ओर दब्ने लगा।

मोसी के मु से सिसकीया निकलने लगी मेने मोसी के बूब्स को दबना सुरू किया वे भूत मोटे थे मेने मोसी का सूट निकला ओर उनके ऊपर लत ग्या तो मोसी ने कहा की बēटा बूब्स का सारा दूद पेई ले 4 साल हो गई किसी ने इनको नहीं पिया है मई बूब्स को ज़ोर ज़ोर सी पीने लगा मोसी के बूब्स मोटे होने लेगा था फिर मैंने मोसी की छूट पेर हाथ रख कर ज़ोर से दबा दिया मौसी आआा ऊऊओ ओर ज़ोर से दबा फाड़ दल इसको मेने अपनी उंगली छूट मई दल दी मोसी के मु से सिसकी निकलने लगी

मोसी बोली बेटा जल्दी कर मई बोकला की जल्दी क्या है सारी रात हमारी ही तो है मėसी ने मारा लंड पकड़ लिया मेने कहा की मोसी तू इशे मु मई ले ले ओर मोसी उषे चटने लगी मई बाऊत गर्म हो गया ओर मेने लंड सीदा मोसी की छूट मे मारा मोसी के मु से चीललने की आवाज़ आई

यह कहानी भी पड़े  मैंने माँ के आदेश पर उसकी चूचियों को अपने हाथो से रगड़ा

आआईई ईई मममम ममम्म्मीईईओ मेने मोसी के बूब्स को मसलना सुरू किया ओर कुछ देर बाद मोसी नॉर्मल हो गई मई मोसी को पेले जा रहा था ओर मेने मोसी की छूट मई छोड़ दिया मोसी ने कहा की तू तो भूत बड़ा खादली है मोसी को एक बार मई ही बार दिया यहे मेरा पहेका अनुभाय्व था दोस्तो आप को मेरा पेहला अनुबाव केसा लगा मुझे लिखना

error: Content is protected !!