होटल की ट्रेनी रिसेप्शनिस्ट को चोदा-2

मेरी चोदन कहानी के पहले भाग
होटल की ट्रेनी रिसेप्शनिस्ट को चोदा-1
में आपने पढ़ा कि मैं एक होटल में रुका और वहां मुझे मसाज गर्ल पसंद नहीं आई. मैंने रिसेप्शन की एक लड़की की मांग कर दी. बुकिंग मेनेजर भी एक लड़की थी, उसने मेरी मदद की और उस लड़की को मेरे रूम में आने के लिए मना लिया. लेकिन वो तय समय पर नहीं आई तो मेरा दिमाग खराब होने लगा था.
अब आगे:

लगभग 8:00 बजे मेरे कमरे की डोरबैल बजी. मैंने दरवाजा खोला तो देखा कमरे के बाहर जूली खड़ी थी. मैंने झट से उसे अंदर बुलाया और दरवाजा बंद करते ही उसको बांहों में उठा लिया.
जूली बहुत ही गजब की सुंदर छोटी सी लड़की थी. उसका फिगर 32-30-34 होगा. उसने होटल की यूनिफार्म ही पहन रखी थी.

मैंने जूली से पूछा- तुमने तो 6:00 बजे आना था?
जूली ने बताया- मेरी मम्मी को कुछ दवाइयों की जरूरत थी, अतः मार्केट से दवाइयां खरीद कर मम्मी को दे कर आई हूँ और उनको बोल कर आई हूँ कि मुझे दोबारा नाइट शिफ्ट में होटल जाना है.
जूली की बात सुनते ही मैं खुश हो गया कि लड़की सारी रात मेरे बिस्तर में रहेगी. मैंने जूली का कोट निकाल दिया और दोबारा उसे गोद में उठा लिया.

जूली के गाल एकदम गोरे थे. मैंने उसका टाई बैंड खोला और शर्ट के ऊपर के दो बटन खोल दिए. मैंने उसके मम्मों को उसकी ब्रा के अंदर से पकड़ कर देखा. एकदम टाइट मम्मे थे. मैंने जूली के होठों को अपने होठों के बीच ले कर चूसना शुरू किया. जूली धीरे-धीरे गर्म होने लगी.

मैंने जूली की स्कर्ट को निकाल दिया. अब वह मेरे सामने एक सफेद शर्ट और प्रिंटेड पैंटी में खड़ी थी. जूली गजब की सेक्सी लड़की लग रही थी. उम्र की छोटी थी, लेकिन उसको देख कर मेरा 8 इंच लंबा लंड और 3 इंच मोटा लंड मेरी पैंट फाड़ने को हो गया था.

यह कहानी भी पड़े  चाची की सहेली की बेटी चुद गई

मैंने धीरे धीरे जूली के सारे शरीर पर हाथ फिराया और उसे गर्म किया.
मैंने जूली से पूछा- पहले कभी सेक्स किया है?
उसने कहा- एक बार मेरे बॉय फ्रेंड से किया था, परन्तु उस वक्त बहुत दर्द हुआ था और मेरे ब्लीडिंग होने लगी थी, मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा था.
वह कहने लगी- मैं तो अभिलाषा मैम के कहने से आई हूँ. उन्होंने कहा है कि आप हमारे अच्छे कस्टमर हैं.

मैंने कहा- ठीक है अगर तुमने मेरा साथ दिया तो अभिलाषा इसी होटल में तुम्हारी नौकरी पक्की कर देगी.

दोस्तो! मेरी एक आदत रही है कि मुझे कभी भी कुँवारी लड़की को चोदने में इतना मजा नहीं आता जितना चुदी हुई में आता है. एक तो मुझे मेरे मोटे और बड़े लंड की प्रॉब्लम होती है, क्योंकि कुँवारी लड़की मेरे लंड को पहले दिन लेने से घबराती है. पहली बार तो लड़की का रोना पीटना ही रहता है. मुझे चूत मारने में मज़ा तब आता है जब लड़की मजे से आह… उह… करे और सेक्स का आनंद ले.
मैं खुश हो गया कि चलो इसकी सील तो टूटी हुई है, अतः आज यह ज्यादा रोया पिटी नहीं करेगी.

मैंने जूली की पैंटी में हाथ दिया और उसे नीचे तक खिसकाकर निकाल दिया. जूली अब मेरे सामने केवल शर्ट में थी और नीचे से पूरी नंगी थी. उसकी जांघें और टांगें मांसल लग रही थी, उसकी चूत पर मैंने हाथ फिरा कर देखा तो उसकी चूत भी पावरोटी की तरह से फूली हुई थी.

मैंने सोफे पर बैठ कर जूली को अपनी गोद में लिटा लिया और उसको किस करने लगा. उसके शर्ट के सारे बटन खोल कर उसकी ब्रा को निकाल दिया. मैं उसके बढ़िया उभरे हुए मम्मों को चूसने लगा और एक हाथ से उसके पट और चूत पर हाथ फिराने लगा. जूली ऊपर से देखने में कमसिन सी लग रही थी, परन्तु कपड़े उतारने के बाद देखा तो वह एकदम से गुदाज़ और मस्त लड़की लग थी. उसकी चूचियाँ, चूतड़, पट और चूत बिल्कुल सॉलिड चोदने लायक थी.

यह कहानी भी पड़े  अपने माँ के लिए एक मोटा लंड ढूंढा

जूली की चूत के ऊपर एक भी बाल नहीं था. उसने बताया कि वह बाल साफ करने वाली क्रीम से अपनी चूत को साफ रखती है. उसकी जांघों और चूत के आसपास 1-2 छोटी छोटी फुंसी थी. कुछ देर बाद उसके सारे शरीर के ऊपर हाथ फिराने के बाद और पूरी तरह से उसको गर्म करने के बाद, मैंने अपनी पैंट उतारी.

मैंने अपनी अंडरवियर भी निकाल दी और उसके सामने मेरा फ़न फनाता हुआ 8 इंच लंबा लौड़ा सामने तन कर खड़ा हो गया, जिसे देख कर वह डर गई और एकदम बोली- यह मुझसे नहीं होगा. मैंने उसको समझाया कि हम बड़े प्यार से सेक्स करेंगे, इससे तुम्हें कोई नुकसान नहीं होगा. मैंने उसको बताया कि लड़की की चूत में बहुत लचीलापन होता है और वह बड़े से बड़ा लंड अपने अंदर ले सकती है.

वह कहने लगी- मैं आपके साथ इंटरकोर्स नहीं कर सकती, क्योंकि आपका पेनिस बहुत बड़ा है.
मैंने उससे कहा- ठीक है, तुम इसको अपने हाथ में पकड़ लो और इससे मजा लो.
वह मेरे लौड़े को अपने हाथों से आगे पीछे करने लगी.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!