रिचा भाभी की चुदाई का न्योता

हैल्लो मेरे प्यारे प्यारे दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और में सूरत शहर का रहने वाला हूँ और आप सभी की तरह में भी पिछले बहुत सालो से कामुकता डॉट पर सेक्सी कहानियों को पढ़कर मज़े लेता आ रहा हूँ। दोस्तों मुझे बचपन से ही चुदाई करने में बड़ी रूचि रही है और अब में सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेता हूँ जिसके बाद मेरा मन खुश हो जाता है। दोस्तों मेरी उम्र 23 साल है और मेरे लंड की लम्बाई सात इंच लंबा तीन मोटा है और अब में अपनी कहानी को सुनाना शुरू करता हूँ। दोस्तों मेरे पास वाले एक मकान में एक भाभी रहती है, उसका नाम रिचा है और वो क्या मस्त चीज़ है? उसको एक बार कोई भी देख ले तो वो अपना लंड लेकर उसके पीछे पीछे चला जाएगा। वो कुछ इस तरह की गजब की बला लगती है और में उसकी सुंदरता को देखकर हमेशा उसकी तरफ बड़ा आकर्षित हुआ करता था। दोस्तों उसकी शादी को हुए करीब दो साल हो चुके थे, लेकिन वो दिखने में अभी भी किसी कुंवारी लड़की से कम नहीं थी और अब तक उसको अपना कोई बच्चा भी नहीं था। दोस्तों मेरी हॉट सेक्स भाभी रिचा के बूब्स का आकार करीब 42-30-44 था और वो दिखने में बड़ी ही सुंदर उनका गोरा जिस्म बड़ा ही आकर्षक लगता था।

दोस्तों में बहुत दिनों से बस उसको ही देखकर जी रहा था और उसको देखकर मेरी इच्छा होती थी कि में उसको अभी उसी समय पकड़कर जबरदस्ती लेटाकर उसकी जमकर चुदाई कर दूँ, लेकिन में ऐसा नहीं कर सकता था और फिर भी में ऐसे किसी अच्छे मौके की तलाश में था कि कब मुझे वो मौका मिलेगा और में उसके साथ अपनी मर्जी के सभी कुछ काम कर लूँ पता नहीं वो दिन कब आएगा क्या पता? फिर एक दिन मेरी बंद किस्मत खुल गई। हुआ यह कि उस दिन उसने उसके पास वाले लड़के को कहा कि वो जो पास वाले साहब है तुम उनको यहाँ पर मेरा नाम लेकर बुलाकर ले आओ। फिर उस लड़के ने मेरे पास आकर मुझसे वो कह दिया जो उसको मेरी भाभी ने कहने के लिए कहा था और फिर में तुरंत ही उनके घर चला गया। फिर मैंने जाकर देखा कि उस समय उसका पति भी घर में नहीं था और वो बिल्कुल अकेली मेरा आने का इंतजार कर रही थी। फिर में जब उसके सामने पहुंचा तब उसने मुझसे कहा कि अभी दो घंटे से हमारे घर की बिजली अचानक से चली गयी है, लेकिन में उसके बारे में कुछ भी नहीं जानती, प्लीज आप ज़रा देख लीजिए ना क्या समस्या हो सकती है? क्योंकि मुझे यह सब काम करने में बड़ा डर लगता है और इस समय में अकेली घर में बोर हो रही हूँ अगर बिजली होती तो में टीवी देखकर ही अपना समय बिता लेती।

यह कहानी भी पड़े  Savita Bhabhi: Chachera Bhai Milne Aaya

अब मैंने उनसे कहा कि हाँ ठीक है भाभी, बस इतनी सी बात। में अभी आपकी इस समस्या को खत्म किये देता हूँ। फिर में उनकी तरफ मुस्कुराता हुए सीधा मीटर की तरफ चला गया और फिर मैंने देखा तो वहां पर लगी सबसे मुख्य एमसीबी उस समय बंद थी और मैंने उसको चालू कर दिया। अब झट से पूरे घर की बिजली चालू हो गई और मेरे पास खड़ी भाभी ने हंसते हुए मुझसे कहा कि तुम तो बड़े कमाल के हो, आते ही तुमने बिजली को एक ही झटके में चालू कर दिया। अब मैंने मजाक करते हुए उनको कहा कि भाभी आप तो मुझसे भी कमाल की हो, आपने मुख्य स्विच को तो बंद करके रखा था, बिजली फिर कहाँ से आती। अब भाभी मुझसे सबसे पहले आराम से बैठने के लिए कहा और उसके बाद वो मुझसे कहने लगी कि तुम मुझसे नाराज़ मत होना, क्योंकि बिजली का जाना बस एक बहाना था और असल बात यह है कि में आपसे बहुत दिनों से अपने मन की बात करना चाहती थी, लेकिन मुझे सही मौका ही नहीं मिला जो में आपसे बात करती और वो इतना कहकर मेरे पास में आकर बैठ गयी। दोस्तों मेरी तो हालत अब बहुत खराब होने लगी थी। अब मेरा लंड उनके साथ बैठने और पहली बार इतना खुलकर बिल्कुल करीब से बात करने और उनके बड़े आकार के बूब्स उस सुंदर गोरे बदन को देखकर उसकी भीनी भीनी खुशबू को सूंघकर खड़ा हो गया था।

अब वो मेरे चेहरे से मेरे मन की बात को पढ़कर बहुत खुश होकर मुझसे कहने लगी कि राहुल में आपसे बहुत दिनों से एक बात करना चाहती हूँ और वो तुरंत ही बोल पड़ी क्या आप मुझे चोद सकते हो? दोस्तों उसके मुहं से वो चुदाई का न्योता पहली ही बार में मिलते ही और वो शब्द सुनकर मेरी तो हवा ही निकल गयी। अब में मन ही मन में सोचने लगा था क्या कोई औरत किसी को ऐसा भी पहली बार में कह सकती है? और उतने में वो मुझसे पूछने लगी क्यों क्या सोच रहे हो? अब मैंने उसको कहा क्या भाभी आप यह सब सच कह रही है? और उसी समय तुरंत ही भाभी बोल पड़ी कि हाँ में तुमसे यह सब मजाक में नहीं बल्कि असलियत में कह रही हूँ। दोस्तों में तो उनके मुहं से यह बात सुनकर खुश होकर तुरंत ही अपनी हॉट सेक्सी भाभी पर टूट पड़ा। अब मैंने उनको चूमना प्यार करना शुरू किया और कुछ देर बाद में उनके गुलाबी होंठो को चूमने लगा था। होंठो को चूमते हुए मैंने अपनी जीभ को उसके मुहं में डाल दिया, वाह क्या गजब का स्वाद था जैसे मैंने कोई मीठा लड्डू अपने मुहं में भर लिया हो उसका मुझे बड़ा मस्त मज़ा आया। दोस्तों में तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था में लगातार उसके होंठो को चूमता चाटता गया और धीरे धीरे में अब जोश में आकर उनके बूब्स को भी दबाने लगा था।

यह कहानी भी पड़े  होटल में चुदाई का खेल

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!