हिन्दी पॉर्न स्टोरीस अंजाम

Hindi Porn Stories वो धीरे धीरे चलती हुई अदा से उसके करीब आई और बाहें गले में डाल दी.

“यू नो, इफ़ आइ डिड्न’ट लव यू सो मच, आइ’ड नेवेर बी हियर अलोन विथ यू.” कहकर वो मुस्कुराया और उसे अपनी बाहों में उठाकर बिस्तर तक ले आया. वो बिस्तर पर उसके सामने बैठ गयी और वो ज़मीन पर खड़ा खड़ा झुका और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए.

जीन्स में उसका लंड इस तरह खड़ा हुआ था के जीन्स पहने रखना अब मुश्किल हो चला था.

झुक कर उसे चूमते हुए ही एक हाथ से उसने उसकी शर्ट के बटन खोल दिए. उसकी मोटी मोटी चूचिया अपने हाथ पर महसूस करना जैसे उसके जिस्म की आग में घी का काम कर रहा था.

कुच्छ पल बाद ही वो बिस्तर पर सिर्फ़ एक जीन्स में बैठी हुई थी. एक कदम पिछे को होकर वो उसे देखने लगा.

“ऐसे क्या देख रहे हो?” वो मुस्कुरा कर बोली

“युवर ब्रेस्ट्स” वो वैसे ही खड़ा खड़ा बोला

“सिर्फ़ इनमें ही इंटेरेस्ट है?” वो शरारत से मुस्कुराइ

“इंटेरस्ट तो सर से पावं तक पूरा है”

“तो पूरा देखो ना” कहकर वो बिस्तर पर ही खड़ी हो गयी और धीरे धीरे अपनी कमर ऐसे लहराने लगी जैसे संगीत की आवाज़ पर थिरक रही हो. हाथों को उसने अपनी कमर पर फिराया, फिर अपनी चूचियों को सहलाया और आख़िर में अपने बालों को पकड़कर अपने सर के उपेर कर लिया और धीरे धीरे नाचने लगी.

“युवर टिट्स लुक्स सो कूल लाइक दट, बाउनसिंग अप आंड डाउन” वो वहीं खड़ा उसे नाचते हुए देख रहा था.

“व्हाट अबाउट माइ आस?” कहकर वो पलटी और आगे को झुक कर अपने कुल्हों पर हाथ फिराने लगी “मेरी गांद कैसी लगती है तुम्हें?”

यह कहानी भी पड़े  जेठ जी ने मेरी चुदाई की पारिवारिक सच्ची चुदाई की कहानी

“इफ़ ओन्ली यू वुड लेट मी फक इट पर तुम लंड घुसाने ही नही देती” वो हस्ते हुए बोला

“बिकॉज़ इट हर्ट्स. एक बार तुमने डालने की कोशिश की थी तो जान निकल गयी थी मेरी” कहकर वो सीधी खड़ी हो गयी और नाचना बंद कर दिया

“तुम्हें चाहे जितनी बार नंगी देख लूँ, ऐसा लगता है के जैसे पहली बार नंगी हो रही हो तुम मेरे सामने” कहता हुआ वो उसके करीब आया. वो बिस्तर पर खड़ी थी और उसकी चूचियाँ ठीक उसके मुँह के सामने आ रही थी. आगे बढ़कर उसने एक निपल अपने मुँह में लिया और चूसने लगा.

“आआअहह” वो मस्ते में ऐसे लहराई जैसे हवा में उठ गयी हो “और जब मुझे चोद्ते हो? हाउ डू यू फील व्हेन यू फक मी?”

“लगता है जैसे पहली बार चोद रहा हूँ” कहकर वो ज़ोर ज़ोर से उसकी चूचियाँ दबाता हुआ चूसने लगा, काटने लगा.

“सक देम, बाइट देम, हार्डर ….. ज़ोर ज़ोर से ….. !!!! ” वो जैसे पागल हो रही थी

“चूत खोलो” वो उसकी जीन्स का बटन खोलने लगा

“क्यूँ?” वो फिर शरारत से मुस्कुराइ

“मारनी है”

“क्या?” वो उसे जीन्स नही खोलने दे रही थी.

“तेरी चूत. चल अब खोल” वो भी समझ गया था के वो क्या चाहती थी.

“चूत माँग रहा है या भीख माँग रहा है? ऐसे तो मैं किसी भिखारी को 50 पैसे ना दूं, तुझे अपनी चूत कैसे दे दूं साले” पलटकर वो भी बराबर का जवाब देते हुए बोली

“ओह्ह्ह मेरी जान” उसने आगे बढ़कर उसको ज़ोर से जकड़ा और एक झटके में ही जीन्स और पॅंटी दोनो नीचे खींच दी “जब तू ऐसे बोलती है तो दिल करता है के तेरी चूत में लंड घुसा के भूल ही जाऊं, कभी ना निकालु”

यह कहानी भी पड़े  चुदाई की प्यासी एक चुदकॅड आंटी

“क्यूँ साले? अपनी बीवी की चूत समझी है जो घुसा के भूल जाएगा?” वो अब भी पूरे मूड में थी

“नही, अपनी रखैल की चूत समझी है” वो बिस्तर पर उसके उपेर चढ़ता हुआ बोला. दोनो के जिस्म अब पूरी तरह नंगे हो चुके थे. लंड सीधा चूत के उपेर था.

“मैं तेरी रखैल हूँ तो तू भी तो मेरा भड़वा हुआ ना?”

“तो मैने कब इनकार किया है?”

“भाड़वो का लंड नही लेती मैं” वो अपनी कमर इधर उधर करते हुए बोली ताकि लंड चूत में घुस ना सके

“तू सिर्फ़ इस भदवे के लंड से ही ठंडी हो सकती है साली. तेरे पति का लंड तो ठंडी करता नही तुझे”

“और तेरी बीवी? वो ठंडी हो जाती है तेरे लंड से या वो भी किसी और से चुद रही है?”

“मेरी बला से” उसने उसकी टांगे थोड़ा सा फेलाइ और लंड चूत में घुसाता हुआ बोला “कहीं भी चुदे साली जाके. बिस्तर पर टांगे उठाके लेट जाने के सिवा कुच्छ नही आता उसको. उसको कोई एक बार चोद भी लेगा तो दोबारा नही आएगा”

इसके बाद कमरे में जैसे वासना और अश्लील बातों का एक तूफान सा आ गया. वो दोनो ऐसे ही सेक्स करते थे. अश्लील बातें करते, एक दूसरे को गाली देते, एक दूसरे की बीवी या पति को गाली देते.

Pages: 1 2 3 4 5

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!