जिम वाली मिलफ लेडी के साथ सेक्स की कहानी

ही दोस्तों, मैं कबीर राजपूत, उमर 28 साल, 6’1” हाइट, सिक्स पॅक एबेस, और लीन बॉडी.

मैं देल्ही का रहने वाला हू. वैसे तो किसी भी चीज़ की कमी नही है, पर इनडिपेंडेन्स और शौंक के लिए एक जिम चलता हू.

ये कहानी ज़्यादा पुरानी नही है. और मेरे दिल को बहुत अज़ीज़ है. हम सब का शौंक होता है कही से एक सेक्सी मिलफ हमारी लाइफ में आ जाए, और वो फ्रेंड्स वित बेनिफिट्स बन जाए. ये कहानी उसी सपने के पुर होने की है.

मेरे जिम में हर उमर के लोग आते है. मॉडर्न एक्विपमेंट और अची लोकेशन की वजह से आवा-जाहि भी ज़्यादा है. इन्ही में से एक है म्र्स. रूपा. ये एक डाइवोर्स है. एक मंक में जॉब करती है, और अपने आलीशान फ्लॅट में अकेले रहती है.

रूपा जी को मैं पिछले 1 साल से पर्सनल ट्रैनिंग दे रहा था, और वो मुझसे काफ़ी फ्रॅंक थी. उनकी उमर 36 साल की है. उनका रंग गोरा, 5’6” हाइट, 36” के बूब्स, 32″ की कमर, और बलखाती 36″ की गांद एक-दूं कातिल फिगर बनवा दिया है मैने.

उनके ब्रा-स्ट्रॅप लेंग्थ के गोलडेन ब्राउन बाल और उनका सेक्सी फेस कट, एक-दूं किसी मिस यूनिवर्स से कम नही लगती थी. कुछ 3-4 महीने पहले की बात है. सनडे का दिन था. उस दिन जिम हाफ दे ही खुला रहता है. लोग भी कम होते है.

रूपा जी 11 बजे आई, तो वाहा बस उनके अलावा दो लड़के और थे. रूपा जी ने चेंजिंग रूम में चेंज किया, और स्पोर्ट्स ब्रा और स्पोर्ट्स लेगैंग्स में आ गयी. उनकी फिटनेस इस वक़्त देख कर कोई नही कह सकता था की वो 36 साल की थी.

हम ज़ुम्बा रूम में मिले, और कुछ गप्पे मारने के बाद वॉर्म-उप स्टार्ट किया. काफ़ी दीनो से मेरी नज़र और मेरा मॅन उनके साथ सेक्स करने को था. सही पूछो तो वो भी काफ़ी दफ़ा लाइन देती थी, पर असली मौका नही हाथ लग पा रहा था. उस दिन मुझे लगने लगा की शायद आज वो मौका बन जाएगा.

रूपा जी झुकी, और उनकी गांद के गोले जैसे मानो गोलाकार तरबूज़. और उसके बीच में से आती हुई वो लोवर की लाइन, जो इतनी टाइट थी, की उनकी छूट के होंठ उस पर उभर कर दिखाई दे रहे थे.

ऐसा लगता था की काई बार फदवा के मज़ा दिए हो उन्होने जिससे होंठ उभर कर लेगिंग के बाहर दिखाई देते है. मैं ज़मीन पर ही बैठा पीछे से निहार रहा था, और आनंद ले रहा था. तभी रूपा जी झुकी, और मुझे उनको ताड़ते हुए देख लिया.

रूपा जी: कबीर तुम मुझे जान कर ये झुकने वाली एक्सर्साइज़स करवाते हो ना? ताकि तुम मेरी गांद को ताड़ सको?

मैने भी फ्रॅंक होते हुए कह दिया-

मैं: इतना कातिल फिगर है आपका रूपा जी, कों नही ताड़ना चाहेगा?

रूपा जी मुस्कुरा दी, और अपनी एक्सर्साइज़ में लग गयी. फिर मैने उनसे भुजंग आसान करवाया, जिसमे उन्हे अपनी छाती उठा कर रोकनी होती है.

सच काहु तो आज उनके चूचे कुछ ज़्यादा ही उभर कर आ रहे थे, और ऐसा लग रहा था, जैसे मुझे कह रहे हो की आज़ाद कर दो हमे.

रूपा जी मेरी नीयत भाँप रही थी, और मेरा भी मॅन अकेले में आज ज़्यादा ही उनके करीब जाने को हो रहा था. इतनी देर में जिम खाली हो गया, और मैने बाकी ट्रेनर्स की भी जल्दी छुट्टी कर दी. अब बचे मैं और रूपा.

मैं उनको बॅक की एक्सर्साइज़ करवा रहा था, और बार-बार उनके पास जेया कर उन्हे इधर-उधर चू रहा था. वो झुकती तो उनका पोज़ करने के बहाने से अपना लंड अपने लोवर के उपर से उनकी गांद पे रग़ाद देता.

तो कभी वज़न को खींचने में उनकी मदद करते हुए उनके दोनो चूचों को अपनी कलाईयों से दबा लेता. अत्यंत सुख आ रहा था और मेरा लॉडा खड़ा हो चुका था.

रूपा: आज काफ़ी सपोर्ट कर रहे हो. क्या इरादा है? जिम भी खाली है.

मैं: सही काहु तो आज आप कुछ ज़्यादा ही अची लग रही हो. सोचता हू की इतना सेक्सी फिगर बिना कपड़ों के कैसा लगेगा.

रूपा का मूह खुला रह गया.

रूपा: ये क्या कह रहे हो कबीर?

मैं: वही जो आप भी चाहते हो पर कह नही पाते. कितना समय हो गया आपको किसी के साथ सेक्स किए?

रूपा की मानो सुलगती रूह चू ली हो.

रूपा: चाहती तो कभी-कभी मैं भी हू, पर…

मैं रूपा जी के पीछे से पास आया, और उनकी जाँघ पर हाथ रख कर सहलाने लगा.

मैं: कितनी मोटी चाँदी है तुम्हारी रूपा.

ये कह कर मैने उनकी खाल को तोड़ा सा नोच लिया.

मैं: लेकिन ये कपड़े क्यूँ तुम्हे ऐसे घोत कर रख रहे है? आज़ाद कर दो अपने बदन को.

मेरा लॉडा अब उनकी पीठ को चू रहा था. अब उनसे रहा नही गया, और वो भी पलट कर मेरे लॉड पर अपना हाथ रख बैठी.

रूपा: क्या मस्त है ये यार. इसके लिए भी कोई जिम करते हो?

ये कह कर वो लोवर के उपर से ही उसको सहलाने लगी. अब कुछ कहने सुनने को नही रह गया था. मैने रूपा की गर्दन पकड़ कर उसके मोटे जूस से भरे हुए होंठो पर अपने होंठ रख दिए, और उन्हे चूसने लगा.

रूपा के बदन में मानो आग लग गयी हो. वो उठ कर मेरे गले लग गयी. उसके चूचे मेरी छाती से आ दबे, और वो मुझे जाकड़ कर और ज़ोर से किस करने लगी. मैने भी उसके बालों में हाथ डाल कर उनको अपने सीधे हाथ में पकड़ लिया, और उसके होंठो को चबाने और चूसने लगा.

रूपा का एक हाथ मेरे लोवर के उपर से अभी भी सहलहट कर रहा था. मैने झट से उसका हाथ पकड़ा, और उसको अपने लोवर के अंदर दे दिया.

मेरा 7 इंच लंबा और 1.5 इंच मोटा लॉडा अपने नंगे हाथो में पकड़ कर उसका बदन पिघल गया, और वो मेरी बाहों में आ गिरी. वो उसकी उपरी ढीली सतह को सहलाती और महसूस करती. मैने उसको धीरे से नीचे बिताया, और अपना लोवर उतार कर उसको असली नाग के दर्शन करवा दिए.

उसने देखते ही दोनो हाथो से उसको पकड़ लिया और उसको ज़ोर-ज़ोर से उपर-नीचे सरकाने लगी.

दोस्तों जिस जवानी को आप छोड़ने चाह रहे हो, और वो आपके सामने आपके लॉड को पकड़ कर बैठी हो, तो मानो अंदर हैवान जाग जाता है, वैसे ही उस दिन मेरे साथ हुआ. मैने उसका मूह पकड़ कर अपना लॉडा उसके मूह में दे दिया और उसका मूह छोड़ना चालू कर दिया.

सरपट उसका मूह धना-धन आयेज पीछे चलने लगा, और उसकी गर्दन पर मेरा लॉडा जाके दस्तक देने लगा. उसके मूह से झाग निकल रही थी, और वो दोनो हाथ से उसको मूह में ले रही थी.

स्लर्प-स्लर्प की आवाज़े उसके मूह से आ रही थी. फिर उसने मेरा लॉडा प्यार से चूसना शुरू कर दिया, और अपनी जीभ से मेरे निकले हुए लाल टोपे पर सरसरने लगी. 15 मिनिट मूह चुदाई और लॉडा चटाई के बाद मेरा वीरया उसके मूह पर छ्छूट गया, और वो उसको चाटने लगी.

उसकी उंगलियाँ मेरे चिपचिपे सफेद वीरया रस्स में सनी हुई थी, और वो उसका आनंद ले रही थी. लेकिन आग अभी शांत नही हुई थी. मैने फिर रूपा को गोद में उठा लिया, और उसके मोटे सूज चुके होंठो को काटने और चूसने लगा. वो उम्म आहह उम्म्म की आवाज़े देने लगी.

एक हाथ उसकी कमर पे और एक हाथ अपने लॉड पर रख के जो की अभी भी तन्ना हुआ था, उसकी छूट के होंठो पे कपड़ों के उपर से ही रगड़ने लगा. उसकी छूट के होंठो के बीच में बनी लाइन पर जब मेरा लॉडा सरपट लहरा रहा था, तब उसकी जान निकली जेया रही थी.

मैं: रूपा आज तुझे ऐसा छोड़ूँगा की तू इस लॉड को बार-बार माँगेगी.

रूपा: देर मत करो कबीर, छोड़ डालो मुझे.

मैं उसको उठा कर स्टीम रूम में ले गया और उसके कपड़े उतार फेंके. उसने भी मेरी त-शर्ट बाहर खींच ली. स्टीम रूम में गर्मी बढ़ चुकी थी. धुएँ के बीच में उसके चूचे जब आज़ाद हो कर मेरे हाथो में आए, तो मैं उन्हे मसले बिना रह नही सका.

मैं साइड में बनी स्टोन बेंच पर बैठ गयी, और उसको उठा कर उसकी गीली भीगी सूजी और चमचमाती छूट को अपने लॉड पे धार दिया.

दोस्तों इसके आयेज अगले भाग में. एमाइल करके रिप्लाइ करना मत भूलिएगा.

यह कहानी भी पड़े  भोंसड़ा बनाया चाची की चूत और गांड का


error: Content is protected !!