ग्रूप सेक्स में पतियों की भी गांद फाटती

सेजल की बातों से जो प्रतीक को जेलासी हो रही थी, उसका पनिशमेंट मुझे मिल रहा था. प्रतीक मेरे बाल पकड़ कर मेरी छूट मारने लगा. सेजल भी अपने पैर फैला कर लेट गयी, और अनुज ने उसकी छूट चाटना शुरू कर दिया. प्रतीक भी तक गये थे, तो वो भी मेरी छूट पर जीभ रख कर चाटने लगे.

सेजल: अब मुझसे रहा नही जाता मेरे राजा. प्लीज़ मुझे आज छोड़ो. मुझे इतना छोड़ो की मेरी छूट फटत जाए. मैं आप दोनो से रंडी की तरह चूड़ना चाहती हू.

प्रतीक: हा, अब तो तुम्हे मेरा नही दूसरों का लंड पसंद आने लगा है. तुम तो अब रंडी ही हो.

अनुज की गांद जल रही थी. वो देख कर मैं और अनुज बहुत खुश हो रहे थे, और उसका कही ना कही असर सेजल के माइंड पर हो रहा था. मुझे और अनुज को हमारा प्लान सक्सेस होता हुआ दिख रहा था.

अब अनुज ने एक झटके में पूरा लंड उसकी छूट में उतार दिया. सेजल की आ निकल गयी, और उसने अनुज को हग कर लिया. और वो प्रतीक की और देख कर अनुज के शोल्डर पर किस कर रही थी. मैं भी अनुज और सेजल को दिखा कर प्रतीक का लंड चूसने लगी.

काव्या: वाउ यार प्रतीक तुम्हारा लंड कितना मस्त है. मेरी तो कब से इक्चा थी मुझे भी ऐसा लंबा और मोटा तगड़ी चुदाई करने वाला लंड मिले.

मैने प्रतीक की और गांद की तो उसने प्लग निकाल कर उसमे लंड घुसा दिया. मेरी आ निकल गयी. प्रतीक ने कुछ 15 मिनिट तक डॉगी स्टाइल में गांद मारी. मेरी तो हालत खराब हो रही थी. मैं लगातार चिल्ला रही थी.

प्रतीक आज मुझे बहुत गुस्से में छोड़ रहे थे. जब उसने लंड निकाला तो मैं प्रतीक का हाथ पकड़ कर उसको बेडरूम में ले गयी. अंदर जाते ही मैने प्रतीक को लिप्स किस करना शुरू कर दिया और कहा-

मैं: क्या हुआ है बेबी, आप मेरे साथ ऐसा क्यूँ कर रहे हो? आपको नही अछा लगता सेजल अनुज के साथ खुश है तो?

प्रतीक: ऐसी बात नही है.

काव्या: जेलासी हो रही है तो हम कभी भी ग्रूप सेक्स नही करेंगे, ठीक है. आप यहा मेरे साथ सेक्स करो. उनको वाहा एंजाय करने दो.

प्रतीक: नही यार मैं वो सब एंजाय कर रहा हू. मैने बहुत सोचा था की मेरे सामने कोई मेरी वाइफ की चुदाई करे. लेकिन जब सच में होता है ना तो अजीब फील होता है. दिमाग़ का सिस्टम हिल गया है.

काव्या: अब समझे ना अनुज पे क्या गुज़रा होगा जब आपने मुझे 5 रात तक बेरेहमी से छोड़ा था. फिर हम दोनो चुप-छाप सब कुछ एंजाय कर रहे थे. बेबी अभी तो अनुज छोड़ रहे है. आप को तो और नये लोगों के साथ करना है. तो फिर तो बहुत से लोग हमारी चुदाई करने आ जाएँगे. तब कैसे मॅनेज होगा?

प्रतीक: सॉरी यार. मैं सेल्फिश हो गया था. जब अपने पर आई तो मैं से नही पाया.

काव्या: इट’स ओक डियर. अब जेलासी को कंट्रोल करके उसको एंजाय करो. जेलासी में भी मज़ा है. चलो अनुज को भी फील करवाते है.

अब मैं और प्रतीक ने सेजल और अनुज को जाय्न कर लिया. प्रतीक के फेस पर अब बड़ी स्माइल थी. सेजल पूरी नंगी हो गयी थी, और उसकी दोनो बाहें अनुज के गले में थी. वो दोनो क्यूट कपल लग रहे थे, और किस कर रहे थे.

प्रतीक उन दोनो के सामने मेरी निघट्य उतार दिया, और पूरी नंगी करके मेरी बॉडी पर किस करने लगे. मैं उनकी गोदी में बैठ कर किस करने लगी. प्रतीक सेजल की और देख कर उसको जला रहे थे. प्रतीक को खुश देख कर सेजल ने कहा-

सेजल: क्या जादू कर दिया मेरे हज़्बेंड पर? अभी थोड़ी देर पहले तो मूह फुलाए हुए थे. अब तो बड़े एंजाय कर रहे है ( वो हासणे लगी).

प्रतीक: काव्या जैसी पार्ट्नर हो तो कोई कैसे अपसेट रह सकता है? ( मेरे बूब्स चूस्टे हुए) अफ क्या टाइट बूब्स है. टच करते ही सुकून मिलता है. बहुत खूबसूरत और नशीली आँखें है.

सेजल: वो तो है. मैं भी उसकी आँखें देख कर ही इसको चाहने लगी थी.

सेजल अब मेरे पास आ कर मुझे किस करने लगी. वो मुझे बेडरूम में लेकर चली गयी. हमारे हज़्बेंड भी हमारे पीछे आने लगे. सेजल ने मुझे लिटा दिया, और मेरे उपर चढ़ कर बैठ गयी. उसने मेरे बाल को पकड़ कर मुझे 2 मिनिट स्मूच किया. मेरी साँस अटक गयी.

वो जुंगली बिल्ली की तरह मेरे लिप्स चूस रही थी. मैं भी उसका साथ देने लगी. पुर बेडरूम में हमारी किस की आवाज़ गूँज रही थी. वो मेरी नेक पर किस करने लगी, और लोवे बीते के निशान बनाने लगी. फिर नीचे आ कर बूब्स और निपल्स चूसने लगी. वाहा भी दांतो के निशान बनाने लगी.

मुझे वो बहुत अछा लगता है. अब उसने मेरे दोनो पैर खोल कर छूट पर लिप्स रख दिए, और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी. मैं बहुत हॉर्नी हो गयी थी. मेरी मादक आवाज़ सुन कर प्रतीक मेरे पास आए, और मुझे लिप्स किस करने लगे. वो अपनी जीभ निकाल कर मेरे लिप्स चूस रहे थे, और बहुत पॅशनेट्ली किस कर रहे थे. मैं भी उनकी जीभ लेकर चूसने लगी, और वो एक हाथ से बूब्स दबाते और दूसरा बूब्स चूस रहे थे.

मुझे देख कर अनुज भी गरम हो गये और उन्होने सेजल की गांद उठा कर उसकी गांद में लंड घुसा दिया. सेजल की आ निकल गयी पर मैने उसके सर को मेरी छूट पर दबा के रखा था. अनुज पीछे से सेजल की गांद छोड़ रहे थे. अब प्रतीक घुटनो पर बैठ कर मेरे मूह में लंड घुसा दिया.

मैने भी पागल बन रही थी. मैने प्रतीक के लंड को बहुत हार्ड बना दिया. अब प्रतीक नीचे सोते हुए सेजल को लंड चुस्वा रहे थे. मैं भी अनुज के पास जेया कर उसको किस करने लगी. अब सेजल की गांद में अनुज का लंड था और मूह में उसके हज़्बेंड प्रतीक का लंड. मैं इस मोमेंट की एक वीडियो बनाने लगी.

अब सेजल को प्रतीक के लंड के उपर बिता दिया, और छूट में लंड घुसा दिया. प्रतीक ने जगह बनाई तो अनुज ने फिरसे गांद छोड़ना शुरू कर दिया. सेजल तो जन्नत में पहुँच गयी थी. दोनो तरफ तनाव बनने से उसकी चीखें निकल रही थी. मैं ये सब रेकॉर्ड कर रही थी, और दोनो मर्दों को उसकी छूट और गांद फाड़ने के लिए एनकरेज कर रही थी.

सेजल: काव्या आज मेरी बारी है. कल तेरी आएगी. तब पता चलेगा कैसा दर्द होता है.

प्रतीक: उसने तो 5 रात तक हम दोनो को झेला है. आज तेरी बारी आई है. अनुज मेरे भाई आज ठीक से खाना नही खाया क्या. ज़रा ज़ोर लगा के झटका मार ना.

अनुज: अर्रे मैं तो तेरी पर्मिशन के लिए रुका हुआ था. अब देख मेरा कमाल.

मैने अनुज की गांद में बट प्लग घुसा दिया. अनुज की ज़ोर से चीख निकल गयी. वो चिल्लाते हुए बोला-

अनुज: ओह फक. काव्या तुमने क्या घुसा दिया मेरी गांद में? बहुत जलन हो रही है.

काव्या: कुछ नही मेरी जान. बस एक छ्होटा सा प्लग डाला है (मैने उसको दूसरा प्लग दिखाते हुए कहा). बहुत अछा लगता है गांद मारना, अब तोड़ा आप भी फील करो, की गांद मरवाने में कितना दर्द होता है.

अनुज: प्लीज़ काव्या निकाल उसको बहुत दर्द हो रहा है. प्लीज़.

काव्या: बेबी थोड़ी देर दर्द होगा फिर कुछ पता नही चलेगा. ये दर्द मज़ा करने लगेगा. फिर तो बड़ा प्लग भी ले सकोगे.

मेरी बात सुन कर सेजल की हस्सी छ्छूट गयी. प्रतीक ने भी हेस्ट-हेस्ट उसका लंड बाहर निकाल दिया, और अनुज की गांद देखने चला गया.

प्रतीक: अनुज तेरी गांद में ये पिंक डाइमंड कितना सूट कर रहा है.

मैने और सेजल ने प्रतीक को नीचे झुकाया और उसकी गांद में भी बट प्लग डाल दिया. प्रतीक दर्द से काँपने लगा. वो झटपटा रहा था.

सेजल: ओह मी गोद. अनुज देखो तो सही ये ब्लू डाइमंड कितना सेक्सी दिख रहा है.

प्रतीक चिल्ला कर: अनुज प्लीज़ यार निकाल इसको. बहुत दर्द हो रहा है.

अनुज: अर्रे थोड़ी देर दर्द होगा, फिर मज़ा देगा.

काव्या: तो फिर आपको अब मज़ा आ रहा है ना?

अनुज ( परेशन होते हुए): नही यार, मैं तो ऐसे ही कह रहा हू. प्लीज़ निकालो इसको.

सेजल: जस्ट चिल गाइस. शरमाओ मत, आदत हो जाती है. जैसे मुझे हो गयी है. आज हमारी चुदाई ख़तम होने के बाद ही प्लग बाहर आएगा.

अनुज और प्रतीक पोज़िशन चेंज करके सेजल की छूट और गांद का मज़ा ले रहे थे. बीच-बीच में मैं भी उसकी गांद पर थप्पड़ मार्टी और बालों को खींच कर स्मूच करती. उस रात हमने 30 मिनिट तक सेजल को बुरी तरह छोड़ा. उसके बाद मेरे पति और पड़ोसी ने मिल कर मेरी भी क्लास लगाई. मैं भी रंडी की तरह दोनो से छुड़वा रही थी. हमने उस दिन बहुत सी चुदाई की वीडियो बनाई.

मैने और सेजल घुटनो पर बैठ गये, और हमारे हज़्बेंड्स का लंड चूस रहे थे. हम एक-दूसरे की और देख कर लंड शेर कर रहे थे. ये मोमेंट हमारी विन का था. मैने और सेजल ने मिल कर हज़्बेंड स्वापिंग का जो प्लान बनाया था, आज हम दोनो साथ में बैठ कर एक साथ एक-दूसरे के पति का लोड्‍ा शेर कर रही थी.

कुछ 5 मिनिट लंड चूसने और हिलने के बाद वो दोनो झाड़ गये. उनका गाढ़ा माल हमारे फेस और बूब्स पर गिरा था. और कुछ बूंदे तो हमारे हेर पर थी. मैने और सेजल ने एक-दूसरे के फेस पर से स्पर्म को चाट कर सॉफ किया, और लीप किस करने लगी. हम दोनो पॉर्न स्तर की तरह गंदा सेक्स कर रही थी. हमारे हज़्बेंड भी हमारा रंडी-पाना देख कर मुस्कुरा रहे थे. वो दोनो भी सॅटिस्फाइड हो कर बेड पर लेट गये.

मैं और सेजल बातरूम में फ्रेश हो कर आए, और नंगे उनके पास लेट गये. मैं सेजल के हज़्बेंड प्रतीक की बाहों में थी, और वो मेरे हज़्बेंड अनुज की.

काव्या: सेजल आज मेरी सारी फॅंटेसी पूरी हुई. हम दोनो ने साथ में चुदाई की.

सेजल: हा मुझे भी बहुत अछा लगा आप दोनो के साथ. (अनुज के गाल पर किस करते हुए) तेरा हज़्बेंड बहुत क्यूट है. मैं उसको हमेशा के लिए रखना चाहती हू.

काव्या (प्रतीक से लिप्स किस तोड़ कर): हा तो वो तेरे पास ही है. मुझे नही लगता उसको मेरी ज़रूरत है.

अनुज: स्वापिंग तक तो ठीक है, मुझे काव्या के बिना एक पल ना चले. ऐसी अंडरस्टॅंडिंग वाइफ कहा से मिले?

सेजल: मैं हू ना आपके पास बेबी (वो आक्च्युयली प्रतीक को चिढ़ा रही थी).

प्रतीक: सेजल तुम्हे लगता है पर अनुज भी काव्या के बिना नही रह सकता.

काव्या: तुम चिंता ना करो मेरी जान. तुझे कोई नही रखेगा तो मैं हू ना (मैने सेजल को लीप किस किया).

कही ना कही सेजल और प्रतीक के बीच दूरी बन रही थी. और उन दोनो को भी लगने लगा था की मेरे और अनुज के होने के कारण ही उनका रिश्ता बना हुआ था. प्रतीक का अब सेजल से मॅन भर गया था. ऐसा नही था की सेजल खूबसूरत नही है. वो मुझसे भी हॉट आंड सेक्सी है. पर प्रतीक का टेस्ट मेरे जैसी लड़की पर था.

अनुज को सेजल बहुत पसंद थी तो मैने और अनुज ने प्लान करके एमोशनली सेजल को उनके साथ अटॅच्ड कर दिया. अब सेजल और प्रतीक दोनो हमारे कंट्रोल में थे.

कहानी में अभी बहुत कुछ बाकी है. आपको स्टोरी अची लगी हो तो कॉमेंट करे. और आपका फीडबॅक मूडछंगेरबोय@गमाल.कॉम पर मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  पापा के दोस्तो ने रंडी बनाया


error: Content is protected !!