मेरी गर्लफ्रेंड निशा

मेरी गर्लफ्रेंड निशाफ्रेंड्स. मोहित फ्रॉम गाज़ियाबाद. ये मेरी फर्स्ट सेक्स स्टोरी हे मेरी गर्लफ्रेंड निशा के साथ. ई में 5.8″. और आ नॉर्मल बॉय हॅव आ गुड बॉडी. ई हॅव आ नॉर्मल कॉम्प्लेक्शन, इंटेलिजेंट भी हूँ ओर बहुत ही मज़ाक करने वाला भी हूँ ओर 12क्लास तक मेरी फ्रेंड्स भी बहुत थी लेकिन गर्लफ्रेंड किसी को नहीं बनाया क्योंकि ऑफ स्टडी..अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हूँ.

ये बात अब से 3 एअर पहले की हे जब मैं 18 एअर का था ओर 12पास करके !.स्क में अददमिसिओन लिया था.तभी मैं कॉलेज में नया नया स्टूडेंट था तो फर्स्ट टाइम जब मैं क्लास में गया.फर्स्ट टाइम ही मैं लेट हो गया था तो माँ ने मुझे माफ कर दिया ओर कहा के पूरी क्लास के सामने अपना इंट्रोडक्षन दो. मैंने अपना इंट्रोडक्षन बहुत अच्छे से दिया ओर माँ ने मुझे फर्स्ट बेंच पर बिठाया उस बेंच पर एक लड़की ओर बैठी थी जिसका नाम था निशा.जब मैंने उसे देखा तभी मैं उसे देखता ही आर गया. वो 5.5″ की होगी. फेयर कॉमलेक्ष्िोन, 34-28-32 का साइज(जो उसने बाद में बताया था) मैं बस उसे ही देखता आर गया.वो स्टडी में बहुत अच्छी थी .तो मैंने उससे उसका नाम पूछा उसने बता दिया फिर धीरे धीरे उससे मेरी बात ब्धहती गयी.फोन नो. एक्सचेंज हो गये. रोज़ नाइट तक बात होती रही.फिर वेलेन्टाइन दे का दिन आया ओर मैंने उसे बारे ही रोमॅंटिक ट्राइक से प्रेपोज़े किया.मैंने सोचा के ये इतनी सुंदर हे मुझे क्यों हां खेगी.

लेकिन उसने कहा के वो मुझे फर्स्ट टाइम से लाइक करती हे ओर लव भी करती हे ये सुनकर मैं से झुक उठा ओर उसे भाहो में ले लिया ओर चीख पर किस किया उसने रेस्पॉन्स में मुझे लिप्स पर किस किया. वो मेरा फर्स्ट किस था लाइफ का.मैंने भी रेस्पॉन्स में उसे जोरदार किस किया वो मुझे काश के हग करके किस कर रही थी.उस टाइम मुझे ऐसा लग रहा था के के इस दुनिया में बस मैं ओर वो ही हे सब कुछ अच्छा लग रहा था इतना मजा आ रहा था किस करने में की मुझे ये भी पता नहीं था की हम कहा पर किस कर रहे हे.

यह कहानी भी पड़े  Bua Ki Beti Ki Choot Ki Pyas

फिर मैंने उसके बूब्स पर हाथ लगाया तो उसने मेरे हाथ पकड़ कर अपनी ब्रा में डाल दिया ओर मुझे उसके निपल्स फील होने लगे मैंने उसकी ब्रा भी नीचे कर दी ओर उसके निपल्स ज़ोर ज़ोर से सक करने लगा वाउ उसके बूब्स तो ईयसे थे जैसे की किसी वाइट मिलो पर पिंक कलर लगा दिया हो. उसके निपल्स भी कधे हो गये थे फिर मुझे महसूस हुआ के ये शी वक्त ओर शी जगह नहीं हे ये सब करने की तभी मैंने उसे दूर किया.ओर मुझे ऐसा लगा के बस मैं कंट्रोल नहीं कर पाऊँगा सो मैंने उसे चोद दिया ओर अपने घर वापस आकर मूठ मारी.

उसी रात उसका कॉल आया ओर उसने पूछा के तुम इतनी जल्दी क्यों चले गये तो मैंने उसे सारी बात सच सच बता दी के मैं उससे बहुत प्यार करता हूँ ओर फिज़िकल रीलेशन के लिए प्यार नहीं किया. उसने कहा के कल मेरे घर पर आना तुम्हारे लिए सरपरिज हे. मैंने ओके कहा
नेक्स्ट डे जब मैं उसके घर गया तभी उसके घर पर कोई नहीं था वो अकेली थी मैंने जब पूछा तो उसने कहा के सभी आउट ऑफ टाउन गये हे ये सुनकर मैं बहुत खुश हुआ ओर मैंने उसको काश कर हग किया.फिर हम अंदर गये ओर वो मेरे लिए कोल्ड ड्रिंक लेकर आई एक ही गिलास में जिसमें से हम दोनों ने पिया. फिर वो मेरे पास ही आ गयी बिलकल चिपक कर ओर मेरे थिंग्स पर हाथ रब करने लगी मैं मदहोश होने लगा उसने शॉर्ट्स ओर पिंक टॉप फीन रखा था ओर उसके अंदर उसकी रेड कलर की ब्रा साफ नज़र आ रही थी.अब मैं कंट्रोल ना कर सकता था सो मैंने निशा को पकड़ा ओर 15 मिनट. तक स्मूच किया ओर साथ में मैंने उसके बूब्स भी प्रेस करने लगा. उसके बूब्स इतने सॉफ्ट ओर प्यारे थे की मैंने उसका टॉप उतार दिया ओर ब्रा फाड़ दी. फिर मैंने उसके बूब्स 15 मिनट तक सक किया वो पिंक निप्पल ऑन वाइट मिलो. अब भी याद करता हूँ तो लंड कधहा हो जाता हे.

यह कहानी भी पड़े  कंप्यूटर कालेज वाले सर से चुदवाया-1

Pages: 1 2

error: Content is protected !!