हयात मेरी गफ़ जो की शादीशुदा थी एक बचे की मा

हे में एक बार और बार मेरी दूसरी स्टोरी बताने आगेया आप सभी को मेरे सलाम. ई आम अली फ्रॉम बंगलोरे. मेरी कहानी कुछ आल्ग हैं आप उससे सुन के प्लीज़ मुझे एमाइल पे कॉमेंट करके मुझे से बात करे. आज कल बहोट परेशन रहता हू, अलोन फील होता हैं. सो प्लीज़ आप में से जो भी मेरी स्टोरी पढ़ रहा हैं मुझे कॉंटॅक्ट करे एमाइल पे.

अभी स्टोरी पे आते हैं.

पहले में अपने बारे मैं आपको बता देता हू. मेरी आगे जो हैं वो 21 हैं और बॉडी जो हैं वो एक दूं हॉट हैं जिम की भी ज़रूरत नही हैं. बॉडी कूलर वाइट हैं लंड का साइज़ 7 इचा और 3 इचा मोटा हैं और किसी को शक हो तो बंगलोरे में मिल के देख लो. 😉

यह बात थोड़ी पुरानी हैं 2 साल पहले की. मैं फ़ेसबुक बहोट उससे करता था वीडियोस देखने खास कर कॉमेडी. एक दिन मुझे मेरे लोका; एरिया की एक लड़की जिसका नामे हयात था प्रोफाइल दिखे मैने रिक्वेस्ट भेज दी.

उसने रात को आक्सेप्ट की रिक्वेस्ट. उसके बियो मैं मेरे एरिया का लोकेशन था और मॅरीड था लिखा हुआ था. मैं सोचा चलो देखते हैं आयेज क्या होता हैं.

फिर एक चला गया.

मैं आपको बता डू यह स्टोरी में जो जो हुआ सब बताओंगा तो पूरा पढ़ना और रिप्लाइ ज़रूर करना पढ़ के प्लीज़ 🙏

रिक्वेस्ट आक्सेप्ट होके एक दिन तक मैने कोई मेसेज नही किया, फिर एक दिन डोफेर में बहोट बोरिंग लग रहा था. वो ऑनलाइन थी मैने मेसेज कर दिया.

मे: अस्सलामुआलैईकूं.

कुछ टाइम तक कोई रिप्लाइ नही आया शायद वो बिज़ी थी बहोट वेट किया फिर भी नही आया रिप्लाइ, फिर रात हो गयइ. 10:35 को उसका रिप्लाइ आया-

हयात : वलेकुमस्सलाम.

में तोड़ा वेट किया 5 मीं फिर मैने बात शुरू की.

मे : खेरियत?

हयात : अल्हाम्दुलिल्लाह आंड योउ?

अभी वो जल्दी रिप्लाइ दे रही थी शायद फ्री थी.

मे : अल्हाम्दुलिल्लाह मैं भी थेक हू.

फिर मैने कुछ टाइम ऐसी नॉर्मल बात थी यहा वाहा की. वो भी सब मेसेज का रिप्लाइ टाइम तो टाइम देरी थी. बहोट रात हो गयइ थी वो फर्स्ट टाइम था और हम 2 घंटा बात किए पता ही नही चला, फिर उसके कहा-

हयात : चलो अब बहोट टाइम हो गया हैं कल बात करते है गुडनाइट.

मे : थेक ह कल मिलते गुडनाइट.

फिर उसने (एक हासणे वाली एमोजी सेंड की.)

फिर कल पूरा दिन बात नही हुई, रात को फिर सेम टाइम पे उसका मेसेज आया.

हयात : हे.

मे : हिी.

हयात : हाउ अरे योउ?

मे : बस दुआ हैं आपकी और आप?

हयात : अछा बचु मेरी दुआ..?

वो हासणे लगी मेसेज में.

मे : हन क्यू नही हैं दुआ.

हयात : नही ऐसी बात नही हैं दुआ हैं.

मे : अछा दुआ हैं.

हयात : हन हैं.

मे : और बोलो..

हयात : की बोलू?

मे : कुछ भी.

फिर हम दोनो कुछ यहा वाहा की बात करने लगे, फिर कुछ बात बात मैं मैने उससे पूछा-

मे : हयात आप मॅरीड हो?

हयात : हन क्यू प्राब्लम हैं क्या तुमको मैं मॅरीड हू तो?

मे : नही प्राब्लम क्यू होगी अची बात हैं.

हयात : अची बात हैं, ऐसा क्या?

फिर उसने बताया के उसके हज़्बेंड ऑफ हो गये हैं फिर में कहा-

मे : श सॉरी मुझे नही मालूम था.

हयात : कोई बात नही.

मे : अछा फिर तुम अगर मेरी दोस्त बनना चाहो तो हम बन सकती हो.

वो बिना कुछ सोचे समझे मान गयी.

हयात : हन क्यू नही तुम दोस्त ही मानती हू मैं, दोस्त ही तो दोस्त के काम आता हैं.

उसकी यह बात सुनके मुझे कुछ कुछ वैसी फीलिंग आई. लेकिन मुझे नही मालूम था के हम ऐसा कुछ कर लेंगे. फिर मैने कहा-

मे : काम से क्या मतलब था?

हयात : कुछ नही.

मे : बोलो ना.

हयात : आपकी गफ़ हैं क्या?

मे : नही.

हयात : श बेचारे सिंगल.

उसकी यह बात सुन के मैने एक डाइलॉग मार दिया-

मे : अछा इतना तरस आता तो तुम बन जाओगा मेरी गफ़.

हयात : सोचूँगी.

मे : अछा सच में?

हयात : हन.

फिर यह सब में रात हो गयइ वो ऐसी ऑफ हो गयइ. अगले दिन मैने उसे मेसेज किया-

मे : ही हयात जी.

उसने थोड़े टाइम बाद रिप्लाइ दिया.

हयात : हे अली.

मे : क्या कर रहे हो?

हयात : कुछ नही अकेली बती हू.

मे : मैं अओ क्या?

वो हासणे लगी और बोली-

हयात : चुप बदमाश अभी तुम बचे हो.

मे : अछा बचा हू मैं, तुमने कब देख लिया?

यह सुन के वो और हासणे लगी और बोली-

हयात : देखी तो नही, देखूँगी कोई दिन.

मे : कोई दिन क्यू अभी तो अकेली हो ना?

आक्च्युयली वो मेरे से ज़्यादा बात इसलिए करती थी क्यूकी उसके उसका घर मेरा घर सिर्फ़ 5 मीं दूर था और उसने मुझे बहोट बार देखा हैं.

हयात : अकेली तो हू लेकिन तुमसे कैसे करू?

मे : कैसे करू मतलब बुलाओ तो फिर देखो.

हयात : अछा इतना जोश?

मे : जोश समझे अभी या भूक तुम्हारी मर्ज़ी.

हयात : अछा भूक हैं कभी किया भी हैं क्या?

मे : तुम मौका तो देके देखो.

हयात : थेक ह पहले तुम मुझे प्रॉमिस करो तुम किसी को नही बताओगे यह सब.

मे : नही, प्रॉमिस करता हू किसी को नही बताओंगा.

अभी तो मेरी खुशी का ठिकाना नही था.

हयात : थेक ह आज घर पे भी कोई नही हैं और बेबी को जल्दी सुला दूँगी फिर मेसेज करती 12 के बाद.

मे : थेक ह पर पक्का करना.

हयात : हन पक्का.

मे : ओहक.

फिर मैं रात का वेट कर रहा था फिर 12:10 को उसका मेसेज आया-

हयात : ही अली क्या कर रहे हो, याद नही हैं क्या आज मैने बुलाया था?

मे : ही, याद है ना, मैं भी तो आपके मेसेज का वेट कर रहा था.

हयात : थेक ह आ जाओ कोई प्राब्लम नही.

मे : थेक ह आया.

फिर मैं घर पे बोला दोस्त के घर पे सोने जेया रहा बोल के उसके घर पे आ गया. यहा पे बंगलोरे में लॅडीस ज़्यादा कर के मॅक्सी में रहती हैं. वो ब्राउन कलर की मॅक्सी में थी. उसकी मॅक्सी देख के सॉफ पता चल रहा था वो अंदर कुछ नही पहनी हैं.
मेने जाते ही उसके बूब्स को बदाना शुरू कर दिया. वो भी मेरे साथ देनी लगी थी. पहले तो उसने मुझे तोड़ा रोका पर मेरी भूक के आयेज वो कुछ नही कर पाई और मुझे अपने हाल पे छोड़ दी.

में बताओ यार मेने पहली बार इतने बड़े बूब्स को देखा था. मुझे साइज़ याद नही हैं वो इतने मस्त थे और मुझे पहले से ही औरत की पूरी बॉडी मैं बूब्स से ज़ेयडा कुछ नही पसंद. मेने उसके बूब्स को ऐसा चूस रहा था मानो भूका शियर हो कोई.

में एक एक करके नही बाकी दोनो बूब्स को साथ मैं कररा था. कभी चूस्ता कभी कटता कभी मसलता कभी उसका ढुद पिता कभी हिलता. और उसका हाल मत पूचु, मैने उसको खड़े खड़े इतना पागल कर दिया वो लेट के करने बोलती थी. पर मैने खड़े खड़े किया सब.

उसने तो पहले से कुछ नही पहेना था अंदर. मैने उसकी छूट पे हाथ लगाया तो वो पूरी पानी पानी थी. मुझे ना यार रोमॅंटिक सेक्स बहोट पसंद हैं इसलिए मैं हार एक चीज़ करता हू.

वैसे मैने हयात की उमर नही बताया आपको वो 26 की थी और मैं 21 का. फिर मैने बिना देर किए उसकी मॅक्सी निकल दी. वो मेरी त शर्ट निकल दी और पंत खोलने जारी थी तो मैने रोक दिया.

तो उसने कहा-

हयात : क्या हुआ?

मे : कुछ नही मैं पूरा मज़ा लेना चटा हू.

हयात : नही प्लीज़ अभी मुझे कंट्रोल नही होरा मुझे आपका लंड चाहिए.

मेने उसका हाथ कपड़ा और उसके घर पे एक बेड था जो की बहोट बड़ा था और उसका बेबी झूले मैं सोता था.

फिर मेने उसको बेड पे लिटाया और खुद बेड के नीचे बात गया. उसके दोनो पैर उपर करके उसकी छूट देख रहा था, छूट पे पूरा पानी पानी था. मैने एक कपड़ा लिया और पानी सॉफ कर दिया, वो अपनी दोनो आँखें बंद करके लीटी हुई थी.

मैं पानी सॉफ कर के एक उंगली उसकी छूट मैं घुसा दिया उसकी आवाज़ निकल गयी.

हयात : आव छ्च आ…

अब मैं उंगली को अंदर बाहर कर रहा था वो बहोट हिल रही थी.

अगर आपको ज़िंदगी मैं कभी सेक्स करना हो बहोट आचे से. तो पहले औरत को तड़पाव फिर जो मज़ा आता हैं आप बयान नही कर सकते.

मैने उंगली कर कर के उसका दूसरी बात पानी निकल दिया. वो अब मेरा हाथ कपड़ा ने लगी और बोली-

हयात : अब बस अली तुम बहोट कर लिए अब मेरी बारी हैं.

मेने उसका हाथ पकड़ के उठाया उससे उसने मेरी पंत खोली. उसके पंत नीचे करते ही उसकी नाक पे टन तनाता हुआ मेरा लंड लगा जिससे देख के वो बोली-

हयात : अली क्या हैं यह आज तो मैं मार गयी!

और हासणे लगी. उसने कभी लंड को चूसा नही था अपने हज़्बेंड का भी नही. मैने उसको चूसने कहा वो माना कर रही थी. मैने तोड़ा उसकी छूट मैं उंगलिया की वो बिना बोले लंड मूह में लेके चूसने लगी. शायद उसे वो लेवेल का सेक्स चाड गया था.

वो मानो किसी बचे की तरहा लॉलिपोप जैसा चूस रही थी बिना कुछ सोचे. मुझे जो मज़ा आरा था की बताओ आप फील कर्रे होगे मेरी बातें से ही.

मेने उससे ज़ेयडा चूसने नही दिया क्यू के उसके चूसने के स्टाइल से मेरा पानी निकल जाता था. मैने खुद पे कंट्रोल किया और उससे उठा के लिटा दिया. अभी मुझे कंट्रोल भी नही हो रहा था उसकी छूट देख के मेरे ऐसा देख ने. से उसने पूछा-

हयात : क्या देख रहे हो यह तुम्हारी हैं अभी कार्लो जो करना हैं.

मैने बिना कुछ सोचे उसके पैर के बीच मैं आया लंड उसकी छूट पे रख के धक्का दिया. उसकी छूट बहोट दिन से चूड़ी नही थी इसलिए उसको दर्द हो रहा था. मैने दूसरा धक्का दिया जिससे उसकी चीक निकल गयी.

हयात : हइईए माआआआअ प्लीज़ आराम से करो आहह आहह…

मैने तोड़ा रुका और लंड पे थूक लगाया और फिर से छूट पे रख के धक्का देने लगा. और इस बार मैने उसके दोनो हाथ पकड़ लिए और उसको किस करने लगा और एक ही धक्के से मैने पूरा लंड अंदर डाल दिया.

वो मुझे से खुद को दूर करने लगी. लेकिन मैने उसका हाथ और उसको किस कररा था जिससे वो थोड़ी शांत हो गयी. मैं थोड़े टाइम रुका और फिर से धक्के लगा ना शुरू किया.

मैने हार धक्के पे इतनी ज़ोर से मररा था जैसे कोई बे रहम हो. वो अभी रोने लगी थी और मुझे सेक्स का इतना भूक चाड गया था मैने उसका रोना भी नही देखा. जानवर जैसा उसको छोड़े ज़ारा था.

मैने एक ही पोज़िशन मैं 20 मिनिट तक उसको छोड़ा रुक रुक के. अभी उसको भी मज़ा आ रहा था और मेरा पानी निकल ने वाला था. मैने उससे बोला नही मेरा पानी आने वाला हैं. बिना बोले एक ज़ोर का शॉट मारा और रुक गया, पूरा पानी उसकी छूट मैं छोड़ दिया.

जिससे वो बोली-

हयात : अली मुझे बोले नही यार आने वाला हैं मुझे अपने बूब्स पे निकलना था.

मे : सॉरी मुझे पता नही चला कब निकल गया.

फिर मैं ऐसी उसके उपर लेता रहा.

उठा तो उसकी छूट से पूरा पानी पानी बेड पे गिर गया. फिर हम दोनो आचे से एक दूसरे को साफे किए. हुमारी चुदाई 2 घंटा 30 मीं चली जिससे की 3 भेज गये थे. मैं टाय्लेट जाके आया वो भी आपने आपको सॉफ कर ली.

आयेज उसके क्या हुआ आपको आगली स्टोरी मैं बताओंगा.

पहले तो आप मेरी हेल्प कर दो कोई भी जो मेरी स्टोरी पढ़ रहा हैं बंगलोरे से कोई लॅडीस हो तो प्लीज़ मुझे से कॉंटॅक्ट करो एमाइल पे,

और स्टोरी लंबी करने के लिए सॉरी क्यू के जो भी कहा मैने एक एक चीज़ सच हैं इसमे.

प्लीज़ मुझे फीडबॅक सपोर्ट ज़रूर करे. आपके फीडबॅक से मुझे खुशी होगी खुदा हाफ़िज़.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की शादी में मेरी सुहागरात

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!