गाओं वाली चाची की चुदाई

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम जाई है. मई देल्ही मे रहता हू बुत गाओं मे कोई फंक्षन मे आया था अपने घर. फंक्षन के बाद सब रिस्त्ेदार अपने अपने घर चले गये.

पड़ोस मे एक चाची थी क्या ही जबरदस्त फिगर था. उनके पति मुंबई काम करते थे तो वो 1 महीने के लिए ही आते थे बाकी पूरे साल अकेली अपने 2 बाकचो के साथ रहती थी.

उनका नाम सुमन था , फिगर 34-30-36 होगी एकद्ूम भरा भरा सरीर. चुकचिया तो एकद्ूम गुब्बारे जैसे थे मोटे मोटे.

एक दिन की बात है वो गोबर के उपले डाल रही थी बाहर मेरी नज़र पद गयी अचानक. उनकी चुचिया लटके हुए देख के मेरा लंड न गया. मई उनके चुचे घूर घूर के देख रहा था अचानक उन्होने मुझे देखा और कुछ सोचती मे अंदर भाग गया.

एक दिन की बात है उन्होने मुझे बुलाया आवाज़ दे के जब मे बाहर मोबाइल चला रहा था. उनके घर का फन नही चल रहा था तो मुझे बोला के इसे चेंज करना है दूसरा लगा के.

जब मे टेबल लगा के उपर चड़ा और अचानक नीचे देखा उनकी क्लीवेज सॉफ दिख रही थी. मेरे पंत मे हलचल होने लगी. किसी तरह कंट्रोल किया मगर उन्हे टा चल गया. फिर मे फन चेंज कर अपने घर चला गया.

एक दिन की बात है मेरे घरवाले कही जेया रहे थे. तो मुझे चाची के घर रुकने को बोल गये. फिर उनके जाने के बाद मे चाची के घर चला गया और एक चेर पे बैठ गया चाची नहा के आई थी गीले बालो मे और गीला बदन उफ़फ्फ़ कहेर ढा रही थी.

मई उनके पास गया और बोला चाची आज आप बहुत सनडर लग रही हो तो वो हास दी फिर बोली अब इस सुंदरता का क्या फयडा क्ब इसका काम ही ना आए.

मई भाभी का इशारा समाज गया और म्न मे तन लिया के आज रात चाची को ह्र हाल मे छोड़ना है.

रात हो गयी हम 9 भजे तक खाना खा के फ्री हो गये. उनके दोनो बाकछे खा के सो गये फिर चाची बाहर आई और मुझे बोला आप भी सो जाओ मे आपका बिस्तेर लगा दी हू दूसरे रूम मे.

फिर मे वाहा चला गया और चाची के नाम पे हिलमे लगा सॉकगटे सोचते तभी अचानक देखा गाते मे चाची खड़े देख रही है मे घबरा के बैठ गया.

फिर चाची आई और मेरे लंड मे हाथ रख के बोली क्यू इसकी जान ले रहा है मुझे बोल मे कुछ मदद कार्दु फिर तो बस ग्रीन सिग्नल मिल गया हो जैसे मैने चाची को बाहो मे कस के भर लिया और उनके होत चूसने लगा.

हम दोनो अब पागलो को तरह किस करने लगे फिर मैने उनके बूब्स पकड़ के ज़ोर से दबा दिया उनकी आ निकल गयी. फिर उनकी ब्लाउस निकल दिया और रेड ब्रा मे मोटे बूब्स क्या ही लग रहे थे.

तुररणत उनकी ब्रा खोल के उनके बूब्स पे टूट पड़ा और चूसने लगा काटने लगा. चाची पूरा गरम हो गयी और बोलने लगी आ आराम से चूस दर्द हो रहा है.

मैने बोला ऐसे बूब्स को भी आराम से चूस के बेज़्जती करनी है क्या. इतने जबरदस्त बूब्स है आपके जैसे कोई पोर्नटर के होते है.

फिर मैने उनकी सारी खोल के पेटीकोत भी निकल के नंगा कर दिया वाउ क्या फिगर था.

मई भी नंगा हो के उनके छूट चाटने लगा. वो बिल्कुल माधोस हो गयी थी और थोड़े देर मे ही पानी छ्चोड़ दिया. फिर चाची उठी और मेरा लंड पकड़ के चूसने लगी.

अया दोस्तो क्या चूस रही थी चाची मेरा लंड.फिर थोड़ी देर बाद चाची को उठा के बेड पे लिटाया और अपने लंड पे तोड़ा थूक लगाया और उनकी छूट पे सेट किया “साल भर अकेले रहने की वजह से उनकी छूट एकद्ूम टाइट सील पॅक जैसी हो गयी थी. ”

फिर मैने एक ज़ोर का धक्का मारा और लंड आधा आंद्र चला गया और उनकी चीख निकल गयी.

चाची- हाए बहुत दर्द हो रहा है जाई बाहर निकल इसे.

मैने बोला चाची थोड़ी देर बस फिर नही होगा दर्द और ये बोल के थोड़ी देर रुका और फिर एक और धक्का दे पूरा लंड अंदर पेल दिया चाची के आँखो से आंशु निकल आए और वो छटपटाने लगी.

मे उन्हे कस के जगद लिया फिर धीरे धीरे सुरू किया और उनका डरड अब केयेम हुआ और थोड़ी देर बाद उन्हे भी मजा आने लगा.

चाची- अया जाई और ज़ोर से छोड़ फाड़ दे आज अपनी चाची के छूट. ब्ना के मुझे अपने लंड की दीवानी.

उनकी ऐसी बात सुन मे और जोश मे आ गया

फिर मैने अपनी रफ़्तार तेज की और चुदाई का आनंद लेने लगे हम दोनो.

मे उन्हे पागलो की तरह छोड़ रहा था और उनके बूब्स मसल मसल के किस कर रहा था.

थोड़ी देर बाद चाची ने पानी छ्चोड़ दिया मगर मे अभी भी जोश मे था और उन्हे पेलता रहा काफ़ी देर बाद मेरा भी पानी निकालने वाला था फिर मैने रफ़्तार तेज की और उनके छूट मे ही पानी छ्चोड़ दिया और उनके उपर नीडाल पद गया.

चाची बोली वाह रे जाई क्या मस्त छोड़ता है तू. ऐसा तो कभी मजा नही आया तेरे चाचा के साथ.

मैने उनके बूब्स पकड़ के बोला आप हो ही इतने मस्त के अलग ही जोश आ गया आपको छोड़ने मे.

फिर दुबारा हम रेडी हो गये और फिरसे एक दूसरे को चूमे लगे.

मैने चाची को बोला अब आप घोड़ी अब्न जाओ अब आपकी गांद फदनी है. पहले चाची नखरे करने लगी बुत फिर माँग गयी. और उनको घोड़ी बना के उनके गांद पे लंड सेट कर एक ज़ोर धक्का दिया. पहली बार गांद मरवा रही थी इसलिए उन्हे बहुत पाईं हुआ और मुझे भी थोड़ी पाईं हुआ.

फिर थोड़ी देर रिलॅक्स होने के बाद धक्के सुरू किया और फिर नॉर्मल हो गयी और गांद हिला हिला के चूड़ने लगी. क्या मजा आ रहा था उन्हे छोड़ के.

उस रात मैने चाची को 3 बार और छोड़ा अलग अलग पोज़िशन मे.

फिर हम सो गये 4 भजे तक.

उर रात उनकी जिस्म पे बूब्स पे इतने बाइट्स किए थे के निसन पद गये थे सुबह चाची बता रही थी के बूब्स मे ज़्यादा निसन पड़े है. एकद्ूम जुंगली की तरह बाइट्स किया कल रात तूने.

उसके बाद जब टाइम मिलता मे चाची के घर चला जाता और उन्हे छोड़ देता. 2 हफ्ते रुका और रोज़ ही उन्हे छोड़ा मैने.

मैने उनकी कुछ न्यूड्स पिक्स भी ली और कुछ हॉट हॉट पोज़ मे क्लीवेज वाली ताकि जब मे चला जौ तो फोटो देख के मुट्ठी मार साकु.

सो फ्रेंड्स कैसी लगी मेरी रियल बेस्ड सेक्स स्टोरी.

यह कहानी भी पड़े  भाई के लंड के साथ मनाई पहली सुहागरात

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!