फिल्म में काम करने के चक्कर में सर से चुदवाया

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम है सुरभि चौबे और मैं पुणे की रहने वाली हूँ | मैंने बी.कॉम की पढाई की है लेकिन मेरा रुझान सिर्फ एक्टिंग में था | तो मैं पुणे में ही मॉडलिंग करती थी और फिल्मों के लिए कोशिश करती रहती थी | मैं दिखने में बहुत सुन्दर हूँ और मुझे लगता है मेरा हुस्न ही मेरा दुश्मन है | मैं जहाँ भी जाती हूँ लोग मेरे पीछे पड़ जाते है मुझे पटाने के लिए | लेकिन मेरा सपना तो सिर्फ बॉलीवुड है और मैं एक हीरोइन बनना चाहती हूँ | मैंने बहुत से ऑडिशन दिए है लेकिन एक ऑडिशन जिसमे मुझे अपनी इज्जात से हाँथ धोना पड़ा लेकिन मुझे फायदा भी हुआ | तो ये है मेरे ज़िन्दगी का एक हिस्सा जो मैं आप सभी को पेश करती हूँ |

ये बात तब की है जब मैं एक शो में रैम्प पे चल रही थी तभी मेरी नज़र एक आदमी पे पड़ी | वो मेरी तरफ ऊँगली दिखा के अपने दोस्त से कुछ कह रहा था | फिर मैं वापस चली गई और मैंने सोचा कि मेरे साथ तो ऐसा होता ही रहता है इसलिए मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया | फिर कुछ दिन बाद मुझे एक आदमी का फ़ोन आया और उसने कहा कि क्या आप सुरभि बोल रही हैं ? तो मैंने उससे कहा हाँ लेकिन आप कौन ? तो उसने मुझे अपना नाम विक्की बताया और कहा कि मैडम हमारे सर आपसे मिलना चाहते हैं | मैंने कहा कौन सर ? उसने कहा हमारे सर का नाम है विनीत राणा और वो एक डायरेक्टर है | तो मैं खुश हो गई और मैंने उससे पूछा कि क्या काम है सर को मुझसे ? तो उसने कहा वो आप हमारे ऑफिस आ जाये, सर आपको वहीँ सब बता देंगे | तो मैंने ऑफिस का पता लिया और अगले दिन ही ऑफिस पहुँच गई | मैं अन्दर गई और पूछा कि विनीत सर है, तो उन्होंने कहा कि अभी थोड़ी देर में आते ही होंगे आप बाहर इंतज़ार करिए |

यह कहानी भी पड़े  देर से ही सही, चुद तो गई

मैं एक घंटे तक इंतज़ार किया और फिर सर आ गए और सर जैसे ही मेरे सामने आये तो मुझे देखने लगे और फिर नज़रें चुरा के अन्दर चले गए | फिर आधे घंटे के बाद एक लड़के ने मुझसे आके कहा कि क्या आप सुरभि जी है ? तो मैंने कहा हाँ | तो उसने कहा सर आपको अन्दर बुला रहे है | मैं जल्दी से उठ के अन्दर गई और दरवाज़ा खोलके के सर पूछा सर क्या मैं अन्दर आ सकती हूँ | उन्होंने ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुराते हुए कहा हाँ आओ सुरभि | मैं अन्दर गई और जाके कुर्सी पे बैठ गई | तो उन्होंने मुझ से कहा कि मैं एक पिक्चर बना रहा हूँ और तुम मुझे उस रोल के लिए सही लग रही हो | तो सर ने मुझ से पूछा कि क्या तुम्हें एक्टिंग आती है ? तो मैंने कहा हाँ सर आती है |

तो सर ने मुझे एक सिचुएशन दी और कहा इसके ऊपर मुझे कुछ एक्टिंग करके दिखाओ | तो मैंने कहा सर मुझे 5 मिनिट चाहिए सोचने के लिए तो सर ने कहा ठीक है | मैंने थोड़ी देर तक सोचा और एक्टिंग करने लगी | तो सर ने कुछ गलतियाँ बताई और कहा कल इसको ठीक करके आना | मैंने रात भर प्रैक्टिस की और अगले दिन जाके उनको एक्टिंग करके दिखाई | तो सर ने कहा अच्छा किया तुमने, अब ये लो और ये कुछ संवाद है इन्हें पुरे इमोशन के साथ पढो | मैं उसे पढने लगी तभी सर पीछे से आये और मेरे हाँथ के ऊपर अपनी ऊँगली फिरने लगे | मुझे थोडा अजीब सा लगा तो मैंने पढना बंद कर दिया और सर को देखने लगी तो सर ने कहा पढो | तो मैंने फिर से पढना शुरू कर दिया तो सर ने मुझसे से कहा तुम बहुत सुन्दर हो | तो मैंने कुछ नहीं कहा और पढ़ती रही तो सर ने कहाँ चलो आज के लिए इतना ठीक है कल औए अच्छे से प्रैक्टिस करके आना |

यह कहानी भी पड़े  पारूल दीदी का भीगा बदन

मैं घर जा के ये सोच रही थी कि क्या मुझे कल जाना चाहिए ? क्योंकि आज जो हुआ उससे मेरा जाने का मन नहीं हो रहा था लेकिन मैंने सोचा कि शायद मुझे कोई फिल्म करने को मिल जाये तो मेरे लिए अच्छा होगा | तो मैंने रात को खूब प्रैक्टिस की और अगले दिन मैं ऑफिस पहुँच गई | जैसे ही मैं अन्दर गई तो सर ने पूछा कि क्या तुम अच्छे से प्रैक्टिस करके आई हो ? तो मैंने कहा हाँ सर की है | तो सर ने कहा ठीक है चलो शुरू हो जाओ | मैंने सर को परफॉर्म करके दिखाया तो सर ने कहा कि मुझे लगा था तुम और ज्यादा अच्छा करोगी लेकिन तुमने कुछ ज्यादा ख़ास नहीं किया | मैं एकदम शांत थी तो सर ने बोला कि मैं कुछ कर सकता हूँ लेकिन इस पिक्चर में बोल्ड सीन भी हैं, तो मुझे तुम्हें अन्दर से भी देखना होगा और मेरे सामने कॉन्ट्रैक्ट रख दिया और कहा अगर तुम ये कर सकती हो तो मैं इस पर साइन कर दूंगा |

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!