एक सेक्सी आंटी ने दिलवाई दूसरी आंटी की चूत

तो दोस्तों, ये कहानी का 2न्ड पार्ट है, और अगर आपने 1स्ट्रीट पार्ट नही पढ़ा है, तो वो ज़रूर पढ़ लेना. अब आयेज-

मुस्कान: मेरी वजह से हुआ है ना. डॉन’त वरी, मैं फिक्स करती हू.

राहुल: वो कैसे?

मुस्कान: आज के लिए तू मास्टरबेट कर ले. बाकी मेरे पे छ्चोढ़ दे. और तुझे मास्टरबेशन में हेल्प हो उसके लिए ये पकड़.

आंटी ने अपनी निघट्य के नीचे अपने हाथ डाले, और उन्होने जो पनटी पहनी हुई थी, वो उतार कर मुझे दी. वो वाइट कलर की पनटी थी, जिसपे ब्लॅक डॉट्स बने हुए थे, और हाथ में पकड़ते ही मुझे पनटी थोड़ी गरम महसूस हुई.

राहुल: वाउ, तट’स सो सेक्सी ऑफ योउ आंटी. बाइ थे वे, युवर पनटी स्मेल्स सो गुड.

मैने उनके सामने पनटी स्मेल की, और उसके खुश्बू मुझे बहुत अची लगीं

मुस्कान: वैसे तुम लड़के ना किसी भी लड़की की पनटी बस देख लो, तुम्हारा तो खड़ा ही हो जाता है. ई नो तट. एनीवेस, एंजाय बेटा. आंड ई विल मेक इट उप फॉर युवर वर्जिनिटी.

इतना कह के मुस्कान आंटी अपने रूम में चली गयी सोने, और मैने तुरंत अपनी लोवर्स उतरी और उनकी पनटी सूंघते-सूंघते मैने अपने 7 इंच के लंड का पानी उनकी पनटी पे निकाला.

खैर उसके बाद कुछ दिन यू ही गुज़रे. फिर करीब 4 दिन बाद सॅटर्डे के दिन मुस्कान आंटी, मैं, और उनका बेटा हम सब एक बीच रिज़ॉर्ट पे गये जो पास ही में था. फिर पता चला की वो रिज़ॉर्ट मुस्कान आंटी की बेस्ट फ्रेंड करिश्मा का था, और हम 1 रात वही रुकने वाले थे.

करिश्मा: हे मुस्कान मेरी जान, कितने टाइम बाद मिली है. वेलकम तो मी रिज़ॉर्ट. वेलकम किड्स.

मुस्कान: एस करू. मीट मी सोन कुणाल आंड तीस इस राहुल, युवर बॉय.

मुझे वैसे युवर बॉय का समझ तो नही आया, बुत आयेज की बातें सुन कर मुझे यकीन हो गया की आयेज होने क्या वाला था. मुस्कान और करिश्मा आंटी कुछ-कुछ कोड लॅंग्वेज में बातें कर रहे थे, जैसे कुणाल को पता ना चले.

करिश्मा: ओह, हे चॅंप, बाइ थे वे नाइस पर्सनॅलिटी. मुस्कान बहुत टाइम हो गया अछा कंपॅनियन मिले. लेकिन मुझे लगता है राहुल अछा रहेगा. आंड वॉट अबौट कुणाल? बच्चा दो योउ वॉंट तो हॅव फन टू?

कुणाल (इनोसेंट वे में): एस आंटी. हम सब यहा एंजाय करने आए है.

मुस्कान: एस करिश्मा. कुणाल यहा बीच व्यू और बाकी सब एंजाय करने आया है. बुत राहुल तुम्हे कंपनी देगा, और अगर मुझे लगा तो मैं भी जाय्न कर लूँगी.

करिश्मा: ओह पुराने टाइम जैसे? याद है हम लोग सब शेर करते थे. बहुत सेक्सी था वो. चलो अभी तुम लोग अपने रूम्स में जाओ. राहुल, तुम मेरे रूम में आराम कर लो. इट’स ओं थे रिघ्त 002 आंड मुस्कान योउ गॉट युवर रूम ओं थे लेफ्ट 0010. मज़ा कीजिए सब.

फिर हम अपने-अपने कमरे में चले गये, और मुझे उनकी बातों से लगा की मुस्कान आंटी करिश्मा आंटी से मेरी वर्जिनिटी लेने के बातें कर रही थी. वेल फिर जैसे ही रात के 11 बजे, तो करिश्मा आंटी जो मुस्कान आंटी की उमर की ही थी, लेकिन उनका फिगर तोड़ा चब्बी था.

मतलब मोटा तो नही कह सकते, लेकिन हा आवरेज बॉडी साइज़ से तोड़ा ज़्यादा. बुत वो थी बहुत सुंदर. उन्होने ब्लॅक जीन्स और वाइट शर्ट पहनी हुई थी, आंड आते ही वो मुझसे बातें करने लगी.

करिश्मा: सो राहुल, हाउ अरे योउ डूयिंग? तुम्हे पता है मुस्कान ने ये क्यूँ प्लान किया?

राहुल: मैं अछा हू आंटी. मुझे लगता है की आज यहा किसी के साथ मेरी वर्जिनिटी जाएगी.

करिश्मा: और अगर मैं काहु की वो सम्वन मैं ही हू तो?

राहुल: रियली आंटी? ई मीन, मुझे बहुत अछा लगेगा. लेकिन मेरे पास कोई एक्सपीरियेन्स नही है आंटी.

करिश्मा: एप, ई नो बच्चा. मुस्कान ने बताया है मुझे सब. आंड ऑल्सो मैं फॉरिनर तो नही हू, बुत स्टिल तुझे मज़ा दूँगी. और मेरे अलावा भी तुम्हारे लिए एक सर्प्राइज़ है.

राहुल: मेरे लिए आप ही सर्प्राइज़ की तरह हो आंटी. ई मीन मैं बहुत एग्ज़ाइटेड हू. लेकिन दूसरा सर्प्राइज़ क्या है?

करिश्मा: पता चल जाएगा. बुत फॉर तट तुझे 1 चीज़ करनी पड़ेगी, जो मैं कहूँगी.

राहुल: एस शुवर आंटी.

करिश्मा: हहा, सुन तो ले बच्चा.

इतने में आंटी ने एक ड्रॉयर में से एक मेडिसिन निकली, और पहले खुद मूह में लिया, और मेरे पास आ कर मेरी गोद में बैठ गयी. हमने एक-दूसरे को हग किया, आंड उन्होने मुझे अपना मूह खोलने को कहा.

मैने मूह खोला तो आंटी ने वो पिल मेरे मूह में ट्रान्स्फर कर दी, थोड़ी थूक के साथ. खैर मैने तो मस्त बिना पूछे पिल खा ली, आंड मुझे पता चला की वो वियाग्रा था.

करिश्मा: तुझे ये पूरी रात जमाए रखने के लिए काम आएगा. और मज़ा हम दोनो को आएगा. हहे.

फिर करिश्मा आंटी मेरी गोद में मेरे थाइस पे रब करने लगी. साथ ही साथ हमने स्मूच करना शुरू कर दिया था. दोस्तों कभी तुमसे बड़ी उमर की लॅडीस को किस करने का एक्सपीरियेन्स है? ई मीन वो इतनी एक्सपर्ट थी की मैं सिर्फ़ मूह खोल के बैठा हुआ था, और करिश्मा आंटी खुद से ही मुझे एक-दूं डीप किस करे जेया रही थी. वो मेरे चेहरे पर अपने कोमल हाथ घुमा रही थी, जैसे मेरे फेस की अडॉर कर रही हो. देन शी स्टार्टेड किस्सिंग मी चीक्स, नोस, आइज़ आंड फोर्हेड.

उसके बाद आंटी ने मेरे पुर मूह को चाटना शुरू कर दिया, आंड काफ़ी फेर वो बस कभी मेरे गाल चूस्टी, तो कभी मेरे होंठ, और नोस को जीभ से चाट लेती. फिर वैसे ही बैठे-बैठे आंटी ने मेरी त-शर्ट उतार दी, और मेरी पूरी बॉडी पे हाथ घूमने लगी.

जैसा अक्सर लड़के सोचते है की फीमेल बॉडी को टच करने में फील करने में इतना मज़ा आता होगा. ठीक वैसे ही करिश्मा आंटी भी मेरी बॉडी का फील ले रही थी. देन वो तोड़ा पीछे हुई, और मेरी चेस्ट पे किस करने लगी.

धीरे-धीरे उन्होने अपनी जीभ मेरे निपल्स पे रखी, और चाटने लगी. कुछ पता नही चला, और करिश्मा आंटी मेरे निपल्स पूरी तरह सक करने लगी थी. फिर स्लोली-स्लोली नीचे जाते हुए मेरे पेट को किस करते-करते नीचे पहुँची, और अपने हाथ मेरी थाइस पे घुमा रही थी.

सच बतौ तो मेरा इतने में खड़ा हो चुका था. फिर आंटी ने अपने कोमल नाज़ुक से हाथ मेरे जीन्स के बटन पे रखे, और उसे खोल दिया. ज़िप नीचे की, और कमर के साइड्स पे उंगलियाँ डाल कर मेरी जीन्स उतार दी. मैने अंदर जॉकी की प्रिंटेड ब्रीफ्स पहनी हुई थी, जिसमे से आंटी को मेरे लंड का उभर सॉफ नज़र आ रहा था. उन्होने मेरे अंडरवेर के उपर ही किस करना शुरू कर दिया. मुझे कुछ-कुछ गुदगुदी सी फील होने लगी.

करिश्मा: वेरी नाइस बच्चा. अभी तो शुरू ही हुआ है, और तेरा टाइट भी हो गया?

राहुल: एस आंटी. आप हो ही इतनी खूबसूरत. और उपर से आप मेरे चेहरे को लीक करने लगी, जिसमे मुझे बहुत मज़ा आया. तो बस खड़ा हो गया.

करिश्मा: तट’स गुड.

इतने में आंटी मेरे सामने खड़ी हुई, और रूम में एक सॉफ्ट म्यूज़िक ओं कर दिया. फिर वो धीमे-धीमे मूड में आने लगी, और मेरे सामने सेडक्टिव डॅन्स मूव्स करने लगी. डॅन्स तो नही, लेकिन मेरे सामने वो खुद को हर जगह टच करने लगी. धीरे-धीरे एक-एक करके अपनी शर्ट के 4-5 बटन्स खोल दिए. फिर शर्ट को शोल्डर्स से तोड़ा स्लाइड करके अंदर की ब्लॅक कलर की ब्रा स्ट्रॅप दिखाने लगी.

मतलब उनकी उपर बॉडी मुझे ऑलमोस्ट नज़र आने लगी थी, और ब्रा काफ़ी टाइट पहनी हुई थी, जिसकी वजह से उनके बूब्स उपर की तरफ लिफ्ट हुए थे. फिर मेरे पास आ कर मेरे चेहरे के ठीक सामने उन्होने अपनी जीन्स के बटन्स खोल दिए, और ज़िप नीचे की.

हल्की सी जीन्स को नीचे की, ताकि मुझे अंदर की रेड कलर की कॉटन वाली पनटी नज़र आए. फिर वो दूसरी तरफ घूमी, और मेरे सामने अपनी जीन्स को तोड़ा नीचे किया, ताकि मैं उनकी गांद का नज़ारा देख साकु. जीन्स तो उन्होने आधी ही उतरी थी, लेकिन पनटी हल्की सी साथ में नीचे उतरी, जो कुछ ही सेकेंड्स में आंटी ने फिर उपर कर ली.

बस 4-5 सेकेंड के लिए मुझे आंटी की गोरी गांद के बीच की दरार नज़र आई, जिससे मैं और एग्ज़ाइटेड हो गया. फिर आंटी ठीक मेरे उपर पर बैठी, और मेरे अंडरवेर के उपर से ही खुद की पनटी में से मेरे लंड पे छूट को घिस रही थी.

उपर से शर्ट आधी नीचे थी, तो मुझे सिर्फ़ उनके बाल हटाने थे, जिसके बाद उनकी गोरी पीठ और नेक पे मैं किस करने लगा. करिश्मा आंटी ने तुरंत ही मोन करना शुरू कर दिया. करीब ऐसे ही 4-5 मिनिट चला, और फिर आंटी ने शर्ट और जीन्स दोनो उतार दी. अब मेरे सामने आंटी ब्लॅक ब्रा और रेड पनटी में खड़ी थी.

करिश्मा: स्टॅंड उप राहुल.

इतना सुनते ही मैं बेड के आयेज खड़ा हो गया, और आंटी ने मुझे दूसरी तरफ घुमा दिया. फिर आंटी ने मेरे पीछे से मेरी अंडरवेर को नीचे किया. उतरा नही बस गांद में नीचे तक स्लाइड कर दिया. फिर वो मेरे बम्स पे अपने दोनो हाथो से मेरे बम्स दबाने लगी. वो कभी मेरी थाइस पे, तो कभी इन्नर थाइस पे हाथ घूमती. फिर पीछे से ही हाथ मेरी टाँगो के बीच डाला, और मेरी बॉल्स की हल्के-हल्के हाथो से सहलाने लगी.

आंटी पीछे अपने घुटनो पर बैठ चुकी थी, और एक हाथ मेरी गोटियों को सहला रहे थे. तो दूसरा हाथ मेरी गांद पे घुमा रही थी, और उनके होंठ मेरी गांद पे थे, जिसे वो किस करे जेया रही थी. उस वक़्त मेरा लंड पूरी तरह कड़क हो चुका था. जिसके बाद आंटी ने मेरी गांद पे 2 स्पॅंक किए, और खड़ी हो गयी.

फिर आंटी ने अपनी उंगलियों में तोड़ा थूक लिया, और पीछे से हाथ मेरे आयेज की तरफ लाते हुए सीधे मेरे खड़े लंड को पकड़ लिया. फिर वो मुझे पीछे से हग कर रही थी, गले पे किस कर रही थी, और अपने पेल्विस से मेरी गांद पे रब कर रही थी. इनके साथ मेरे खड़े लंड को भी सहला रही थी.

राहुल: आंटी आप जो भी कर रही हो, बहुत मज़ा आ रहा है. अफ फर्स्ट टाइम एक्सपीरियेन्स कर रहा हू, लेकिन इतना सुख कभी महसूस नही हुआ.

करिश्मा: ई थिंक योउ अरे रेडी फॉर मी पुसी. कभी छूट देखी है रियल में?

राहुल: नो आंटी. फर्स्ट टाइम देखूँगा.

करिश्मा: लकी योउ. आज देख ले छूट कैसी होती है. और छूट के अंदर कितनी गर्मी होती है.

इतना कहते ही आंटी ने पहले मेरी अंडरवेर पूरी उतार दी. फिर मेरे सामने खुद लेट गयी. उन्होने ब्रा उतार दी, लेकिन पनटी अभी भी पहनी हुई थी. मेरी आँखों में देख कर उन्होने एक हाथ से अपनी पनटी को टाँगो के बीच से स्लाइड किया, और मुझे अपनी मस्त छूट दिखाई. वो इतनी सॉफ थी मानो जैसे अभी-अभी शेव किया हो. फिर आंटी ने अपनी 2 उंगलियों में थूक लिया, और खुद की छूट पे 1 मिनिट के लिए रब किया.

करिश्मा: ई होप तुझे ये तो पता होगा की छूट के साथ पहले क्या करते है

मैने तुरंत ही करिश्मा आंटी की शेव्ड छूट को चाटना शुरू किया, और वो इतनी मस्त लग रही थी, जैसे उनके टाँगो के बीच भी कोई पर्फ्यूम हो. उन्होने अपनी दोनो टांगे मेरे कंधो पे रख दी, और मैं उनकी छूट चाटने लगा. फर्स्ट टाइम था लेकिन अछा लग रहा था. फिर मैं उनकी पनटी उतारने वाला ही था, की उन्होने रोक दिया.

करिश्मा: पनटी बाद में उतरुँगी. पनटी पहने हुए चूड़ने में अलग ही मज़ा आता है बेटा.

राहुल: ओके आंटी.

करिश्मा: तू रेडी है?

राहुल: हा आंटी, बस अब डालना ही तो है.

करिश्मा: हा लेकिन जेया पहले पीछे वेल ड्रॉयर में से कॉंडम का बॉक्स लेकर आ.

फिर में मैं घुमा, और उसी ड्रॉयर में से एक कॉंडम का बॉक्स लेकर आया. इतने में करिश्मा आंटी ने अपने बालों को सवार के अपने सर के नीचे पिल्लो रखा, और खुद की पोज़िशन ले ली.

करिश्मा: कम उप. सीट ओं मी टिटीस

फिर मैने उनकी बात मान कर उनके बूब्स पे अपनी गांद रखी, और दोनो टांगे दोनो साइड रखी. तो आंटी ने कॉंडम का पॅकेट खोला, और पहले तोड़ा थूका मेरे लंड पे. फिर एक बार उसे सहला के कॉंडम उपर पहना दिया. उन्होने 2 मिनिट मेरा लंड फिरसे चूसा, और फिर मुझे कहा की मैं अब उनकी छूट में डाल कर चुदाई शुरू ..

फिर मैने मिशनरी पोज़िशन ली, अपना लंड पकड़ा और उनकी पनटी को स्लाइड करके अपना लंड अंदर डाल दिया.

करिश्मा: अया उफ़फ्फ़ धीरे बेटा. एवेरी टाइम फर्स्ट टाइम स्लो डालना होता है.

राहुल: सॉरी आंटी, एग्ज़ाइट्मेंट.

करिश्मा: तुम लड़कों का एग्ज़ाइट्मेंट सिर्फ़ शुरू में होता है. दो मिनिट बाद सब की गांद से हवा निकल जाती है. इसलिए वियाग्रा पिल्स उसे करना पड़ता है. समझा बच्चू?

राहुल: ओके आंटी, समझ गया.

खैर फिर क्या था, मिशनरी पोज़िशन में मैने चुदाई शुरू की, जो मेरे लाइफ की पहली चुदाई थी. मुझे तो बड़ा मज़ा आने लगा था.

करिश्मा आंटी अपने हाथ मेरी पीठ पे घूमती, तो कभी मेरी गांद पे हाथ रख के मेरे बम्स दबाती. हमने करीब 10 मिनिट वैसे ही सेक्स किया. मतलब लगातार नही, बुत बीच में ब्रेक ले लेकर.

हमने उसी दौरान काई बार पोज़िशन भी बदली. जैसे कभी आंटी मेरे उपर बैठ गयी, और यहा वो बस नीचे से उपर नीचे हो रही थी. उपर से उन्होने अपने हाथो में अपने बाल पकड़ लिए थे, और बस मेरे लंड पे उपर-नीचे हुए जेया रही थी.

इसी बीच डोर पे नॉक हुआ, जिससे मैं और आंटी रुक गये.

वैसे दोस्तों कों होगा? और होगा क्या?

ये तो आपको आयेज वाली कहानी में पता चलेगा.

यहा तक की कहानी आपको कैसी लगी नीचे कॉमेंट्स करके और मैल ई’द पे मैल करके ज़रूर बताइए.

यह कहानी भी पड़े  जवान पड़ोस की लड़की की चुदाई


error: Content is protected !!