कज़िन भाई की बीवी के साथ की चुदाई

ही ऑल ड्के रीडर्स. मेरा नाम निक है. मैं गुजरात का रहने वाला हू. मेरी उमर 24 यियर्ज़ है, आंड लंड साइज़ 6.9 इंच है. कोई भी भाभी, या बेहन, या आंटी गुजरात में मेरा इंतेज़ार कर रही हो तो मुझे निक्कनीत26@गमाल.कॉम पे मैल करे. मैं उनको ज़रूर खुश करूँगा, आंड ये बात पर्सनल भी रहेगी. ईवन ई लोवे गुजराती भाभिस. अब आते है कहानी पर.

मेरा फॅमिली बहुत बड़ी आंड रिप्यूटेड है. मेरे कज़िन भाई ने अमि नाम की लड़की से शादी की थी 3 साल पहले, जो की मेरी भाभी है. अमि की बात करे तो वो 28 साल का माल है जिसका फिगर 36-32-38 है, जो खुद उसीने मुझे बताया है.

वो हमेशा मुझे बड़े प्यार से देखती थी, आंड मेरी गफ़ के बारे में भी पूछती रहती थी. मुझे पता था की वो मुझे लीके करती थी. पर मैं बस एक मौके की तलाश में था.

फिर एक दिन वो मौका मुझे मिल गया. वो रात आ गयी जब मेरी आंटी की तबीयत बिगड़ गयी और उन्हे अचानक मुंबई ले जाना पड़ा (मतलब अमि भाभी की साँस को). इसमे मेरे कज़िन भाई, उनके छ्होटे भाई, और उनकी बीवी तीनो मिल कर मेरी आंटी को मुंबई ले गये.

उस समय मेरे अंकल की भी तबीयत ठीक नही रहती थी, तो ध्यान रखने के लिए मेरे पापा ने मुझे उनके घर 2 दिन रुकने भेज दिया. जैसे ही में घर पहुँचा अमि भाभी ने कहा-

अमि भाभी: मेरे बेटे को बाहर घूमने लेके जाना है.

उनका छ्होटा बेटा 2.5 एअर का है. उसको बाहर घूमे बिना नींद नही आती. तो मैने मेरी बिके निकली. ठंडी का मौसम था, और रात के 10:30 बजे थे. फिर हम लोंग ड्राइव के लिए निकल गये. बिके पे उनका बेटा आयेज बैठा था, पेट्रोल की टंकी पर, और वो मेरे पीछे, और उसका हाथ मेरे शोल्डर पर. मेरा तो पूरा खड़ा हो गया था, जब उसके बूब्स मेरे को चू रहे थे.

10 मिनिट के बाद हम घर पहुँचे और मैं नीचे बैठ कर टीवी देखने लगा. मेरे अंकल ने बोला की मैं सोने जेया रहा हू, तुम आराम से आ जाना. मैने ओक बोला और टीवी देखने लगा. मैं अमि भाभी को भी ढूँढ रहा था, लेकिन वो कही नही दिख रही थी.

15-20 मिनिट बाद अमि भाभी टॉप और शॉर्ट्स में आई. उनको देख कर मेरा तो मूह खुला का खुला रह गया. वो मुझे ऐसे देख कर बोली-

अमि भाभी: क्या देख रहे हो देवर जी?

मैं: मोविए (भोला बन कर).

अमि भाभी: अछा, कों सी?

मैं: मैं हूँ ना.

अमि भाभी: छ्चोढो ये, चलो कुछ खेलते है. चेस खेलते है.

मैं: ओक.

जब भी अमि भाभी चलती थी, मैं उसके बूब्स को देखता. क्या पहाड़ थे वो, मेरा तो लंड खड़ा होके गरम हो रहा था.

अमि भाभी: निक तू तेरी गफ़ से तो मिलवा.

मैं: पहले कोई होने तो दो. फिर मिलवौनगा. चलो आप ही बन जाओ, वैसे भी आप मस्त हो.

अमि भाभी: अब तो मैं एक बच्चे की मा हू, कहा से किसी की गफ़ बनूँगी. निक तू जवान है, मैं नही.

मैं: चलो देखते है कों जवान है?

अमि भाभी: कैसे?

मैं: हम दोनो कपल डॅन्स करते है, जो पहले थकेगा वो जवान नही होगा.

अमि भाभी: ठीक है.

हमने लोवे सॉंग माशुप लगा दिया. फिर 12 मिनिट लगातार डॅन्स करने के बाद मैं उनके बहुत ही करीब आ गया था, और उनकी नेक में हाथ घूमने लगा था. वो भी मुझे कातिल नज़रों से देख रही थी, और पता नही क्या हुआ हम एक-दूसरे को लिपलोक्क करने लगे.

हमारा लिपलोक्क अप्रॉक्स 15 मिनिट चला होगा, और फिर मैं उसे उठा कर नीचे वाले कमरे में ले गया. वो मुझे काटने लगी, और मेरी त-शर्ट फाड़ दी. मैने भी उसको पूरा नंगा कर दिया.

पुर कमरे में “निक आ आहह दो इट निक, लोवे युवर भाभी, मेक हेर युवर गफ़, मेक हेर युवर बेब, ऐसे प्यार कर जैसे मैं तेरी रंडी हू” जैसी आवाज़े गूँज रही थी.

अमि भाभी: आ निक ऊहह अया उमा आ आआ. प्यार करो मुझे निक आ. आचे से करो निक आह. प्यास बुझा दो मेरी निक आ.

मैं तो उसका दीवाना ही हो गया था, की उसने मेरा ट्रॅक उतार कर जब ब्लोवजोब दिया, तो मैं पागल हो गया. इसके जैसा ब्लोवजोब कोई नही दे सकता ये फील हो गया, और वो पूरा कम पी गयी. फिर उसने एक मस्त सेडक्टिव डॅन्स किया, जिससे मेरा वापस खड़ा हो गया.

मैने कहा: अब से मैं तुम्हे अमि बूलौंगी भाभी.

ये सुन कर उसने बोला: तू अमि बुला या मम्मी, तेरा लंड मैं हमेशा लूँगी, जब तक ज़िंदगी है तब तक.

और ऐसा बोलते ही मैने फाटाक से पूरा लंड उसके अंदर डाल दिया. अमि की फटत के हाथ में आ गयी और वो बोलने लगी-

अमि भाभी: ह निक, इतना बड़ा, मार डालेगा क्या मुझे ह उम्म्म्म.

और वो झाड़ गयी. फिर 7-8 मिनिट बाद मैं भी झाड़ गया उसके अंदर ही. फिर मैने दूसरे रौंद में उसकी गांद की सील तोड़ दी, जिसमे उसने मुझे मा बेहन की बहुत बड़ी गालियाँ दी. उसके बाद के 2 रौंद में उसने बड़े मज़े किए, और मैने भी. अभी तो पहली रात गयी थी. दूसरा दिन और दूसरी रात अभी बाकी थे.

अगली कहानी में आपको बतौँगा की कैसे अमि भाभी की मदद से घर की दूसरी टीन भाभीया मिली. तीनो का नाम अभी ही बता देता हू आपको चलो – अवनी (36-30-36/ आगे 24), एकता (36-28-34/ आगे 24) और आशि (34-26-36/ आगे 32). सोच के ही मूठ मार लो, और लड़कियाँ उंगली कर लो. और भाभियाँ तो सिर्फ़ मुझे इमॅजिन करो की जो अमि के साथ किया वही आपके साथ भी मैं करूँगा अगर आपकी मर्ज़ी हो तो. एक चीज़ ये भी है की अवनी आंड एकता अरे ट्विन्स, तो सोचो क्या और कैसे मेरे को मज़ा मिलेगा.

फीडबॅक ज़रूर दीजिएगा की कैसी लगी ये कहानी और ये भी बताए की आपको भी चाहिए मेरे जैसा देवर? कहानी को अपने फ्रेंड्स के साथ भी ज़रूर शेर करना.

प्लीज़ गिव युवर फीडबॅक आंड मैल में तो एंजाय मोरे बेनिफिट्स वित मे अलोन ओर थ्रीसम टू. ई आम रेडी तो फुलफिल ऑल ऑफ युवर फॅंटसीस वित ईज़ आंड प्रोटेक्षन आस वेल लोवे योउ आंड टीज़.

यह कहानी भी पड़े  दो दिन तक भाभी की प्यार भरी चुदाई


error: Content is protected !!