दोस्तो मे चुदाई का खेल

हेलो फ्रेंड्स वेलकम तो अनदर पार्ट ऑफ मस्ती से मजबूरी तक. तो पिछले पार्ट में आप ने पता के कैसे एक उनकॉवन् नंबर मुझे परेसन कर रही थी. और मुझे सिर्फ़ डाउट था तो मामली और सीखा पर. बुत में कन्फर्म नहीं कर सकता था.

एक ही चीज़ से कन्फर्म कर सकती थी और मुझे उनके बूब्स देखने को मिल जाए तो. पर वो कैसे होगा मुझे भी नहीं पता है. खैर चलिए स्टोरी पे आते हैं.

फिर वीडियो कॉल एंड होने के बाद मैने उस नंबर से क्या बात की अब सुनिए. तो मैने फिर वेट किया उसकी कॉल का लेकिन उसने कॉल नहीं किया. तो मैने कॉल बॅक किया.

अननोन: क्या हुआ रहा नहीं जा रहा है क्या?

मे: ऐसी कोई बात नहीं है. बस जानना चाहता हूँ की कौन हो तुम.

अननोन: पहले यह तो बताओ कैसी लगी में?

मे: अछा लगा.

अननोन: अछा या बहुत अछा?

मे: बहुत अछा.

अननोन: क्या सबसे अछा लगा?

मे: इतनी सी टाइम ठीक से देख भी नहीं पाया तो बताना मुस्किल है.

अननोन: अछा जी और देखने का इरादा है क्या? (बॅकग्राउंड में किसी लड़की की आवाज़ सुनाई दी.) अछा चलो में सोने चलती हूँ बाद में देख लेना. गुड नाइट

उसने फिर फोन रख दिया. पर बॅकग्राउंड में लड़की की आवाज़ सुन के में साँझ गया की ए अकेली नहीं रहती और इसके साथ कोई और लड़की भी रहती है.

लेकिन मेरे जानकारी में ऐसी कोई लड़की नहीं थी जो एक और लड़की के साथ रहती हो. सिर्फ़ रानी और रिया को छोड़ कर. तो में डाउट करने लगा. और मैने रात को टीया को फोन पे सारी बात बताई तो उसने कहा की ठीक है सनडे को बात करेंगे जब वो घर पे आएगी. और वो सोने के लिए चली गयी. फिर मैने रानी को जलाने के लिए अपना लंड का एक पिक भेजा वो भी अंडरवेर पह्न के. रानी का तुरंत म्स्ग आया.

रानी: क्या बात हैं आज तो मंदिर बिना गये ही प्रसाद मिल गया.

मे(डाउट था की अननोन नंबर सयद वो रानी है): मंदिर ना आई तो क्या हुआ? प्राथन ना तो करती रहती है. इसीलिए यह प्रसाद. और अभी से ज़्यादा नाटक करने की ज़रूरत नहीं. समझी.

रानी: नाटक?

मे: हन और नहीं तो क्या? तो मैने उसे अननोन नंबर के बारे में बताया. तो उसने कहा की उसे भी देखना है उस लड़की को. मैने कहा की मैने लड़की का फेस नहीं देखा है सिफ्र उसकी नंगी बॉडी देखी है. तो उसने भी कहा की उसे भी देखना है.

तो मैने उसे भी सनडे को टीया के टाइम बुला लिया. उसने मुझे पूछा की क्या वो रिया ला सकती है तो मैने हन बोल दिया. और सोने चला गया. अगले 2 दिन मेरे लिए बहुत मुस्किल होने वेल थे एग्ज़ाइट्मेंट के कारण.

क्यूँ की बुझे बेशबरी से इंतेजर था की कौईं है यह लड़की जो सेक्स के लिए इतना तड़प रही थी. तो यह सब सोचते सोचते में सोने के लिए चला गया.

सुबा उठकर में रेडी हो कर ऑफीस निकल गया. में ऑफीस में काम कर रहा था की अजय का फोन आया. और वो बोल की भाई शादी की तारीख निकल गयी है. आले महीने 25 को है. हार्ड्ली 1 मंत लेफ्ट.

तो मैने उसे कोंग्रथस किया और बाचेलोरेत्टे पार्टी के लिए फोर्स करने लगा तो वो बोला हन एवेंग को जब सब दोस्त बैठैंगे तब डिसाइड करेंगे. में भी हन बोल दिया और फोन रख दिया. फिर मैने टीया को बताया और फिर मैने रिया को फोन किया की कोंग्रथस.

रिया: थॅंक योउ. बुत मुझसे ज़्यादा एग्ज़ाइटेड कोई और है.

मे: कौन?

रिया: मेरी बहें और कौन.

मे: बहें तो होगी ही शादी के महॉल जो बन ने वाला है.

रिया: उसके लिए काम तेरे से चूड़ने के लिए ज़्यादा.

मे: हन यार यह भी तो है. तू एग्ज़ाइटेड नहीं है क्या?

रिया: हन मैने कब माना किया है?

मे: तो क्या शूहग्रत को ही शुरू कर दें क्या?

रिया: शादी के बाद मेरे पति का लंड मेरे छूट में पहले जाएगा.

मे: हन तो मैने कब कहा की में लूँगा. हाहाहा

रिया:तू नहीं पर तेरी बलि का तो नज़र है ना. और मेरी बहें का भी

मे: हन वो तो सही है.

रिया: अछा तुझे बुरा नहीं लगता जब टीया तुझे बोलती है की उसे अजय का लंड पसंद है.

मे: इसमे बुरा लगाने की क्या बात है मुझे भी तो दूसरी लड़कियाँ अची लगती है. पर इसे हमारा प्यार थोड़ी ना काम होता है. तूने अजय को बताया है की तुझे किसका लंड पसंद है?

रिया: नहीं पर एसए ही बातों बातों में मैने उसे पूछ लिया की अगर कभी थ्रीसम का आइडिया आया दिमाग़ में तो हम किसे इन्वाइट करें? तो वो शॉक हो गया पहले फिर जबाब दिया की अगर हुआ तो अर्पिता सही रहेगी.

मे: अर्पिता?

रिया: हन उसे अर्पिता पसंद है ना.

मे: और तू? तू किसे इन्वाइट करेगी?

रिया: उसने भी मुझे पूछा तो मैने तेरा नाम लिया. तो उसने पूछा क्यूँ तो मैने बोल दिया की एसए ही मुझे अछा लगता है. तो उसने कुछ ज़्यादा पूछ नहीं.

मे: में और अर्पिता? यह कैसे होगा?

रिया: सब होगा. तू मेरे उपर छोड़ दे ना.

मे: ठीक है. पर शूहग्रत को रानी को तोड़ा मज़ा तो लेने दे. कुछ नहीं तो चुदाई दिखा देना.

रिया: वो तो वेसेभी कई बार देख चुकी है. और क्या नया देखेगी.

मे: तो फिर अजय से छुड़वा देना.

रिया: वो पहले तेरे नीचे आएगी फिर उसके बाद किसी और की. कई बार बोल चुकी है वो. जिसमे तूने अपना माल गिरा के दिया था रात को छूट में रग़ाद के सोती है. इस लड़की का बस चले तो तुझे टीया से अलग कर के अपपने पास ही रख ले.

मे: ऐसा क्या कर दिया मैने? इतनी तड़प रही है तो सोच रहा हूँ कुछ कार्दुन यूस्क लिए.

रिया: बस एक महीना ही तो बचा है. उसके बाद कर लेना.

मे: एक काम करते है शूहग्रत में तू अजय से छुड़वाना और में रानी को?

रिया: एक ही कमरे में?

मे: ऐसा हो सकता है क्या?

रिया: पता नहीं. पर अजीब लगेगा.

मे: वो सब देखेंगे बाद में. पर यह पक्का रहा बुत उसे कुछ नहीं बताना.

रिया: और मेरा क्या?

मे: तेरे लिए तो है ना.

रिया: हन पर उसका ख़तम होने के बाद?

मे: हे भगवान दोनो बहें एक से बाद कर एक.

रिया: तू ज़्यादा आक्टिंग मॅट कर. सीधा सीधा बता उसके बाद मेरा नंबर है की नहीं?

मे: तू कहे तो अजय के साथ ही जाय्न कर लेता हूँ.

रिया: वो तो एक दिन ज़रूर होगा. अछा एक बात बता. तूने कभी टिया की गांद मारी है?

मे: नहीं उसे दर लगता है. पर एक दिन सयद ट्राइ करूँगा ज़रूर.

रिया: मुझे भी बताना.

मे: बताना क्यूँ है? जब ट्राइ कर सकती है तो.

रिया: अजय सयद नहीं मानेगा.

मे: तो क्या करेगी?

रिया: तू है ना.

मे: मैं तो हूँ ही. पर तू अगर चाहे तो मुझसे पहले ट्राइ कर सकती है.

रिया: मैने किया है पेन आंड पेन्सिल से पर मज़ा नहीं आता खुद कर ने में और उंगली करना मुस्किल होता है मेरे लिए.

मे: में खुद से नहीं बोल रहा हूँ.

रिया: तो फिर?

मे: है कोई मेरे दिमाग़ में. अगर तू बुरा ना माने तो बतौँगा.

रिया: कौन है बताना? बुरा नहीं मानूँगी.

मे: रानी.

अब रिया का क्या रिक्षन था. वो क्या बोली अगली पार्ट में बतौँगा. तब तक के लिए हिलाते रहिए और स्वस्त रहिए.

यह कहानी भी पड़े  मेरी जीफ़ शेफाली की सील तोड़ी मेरे घर पर

error: Content is protected !!