दोस्तो के साथ ग्रूप चुदाई

हेलो फ्रेंड्स वेलकम बॅक. पिछले पार्ट में आपने पढ़ा की में ऋतु आंटी के साथ बात करके सोने चला गया. सुबा उठ कर मैने टीया को कॉल किया और सारा कुछ बता दिया.

वो सुनके हैरान थी की आंटी भी ऐसा कर सकती हैं. मैने यह भी कहा की शायद आंटी मुझे सनडे घर बुलाएंगी, तू चलेगी?

तो उन्होंने कहा की नहीं सनडे मुझे गाओं जाना है कुछ फंक्षन है. मैने उसे पूछा अगर आंटी सेक्स के लिए बोली तो? तो उसने कहा की माना कर देना.

मैने कहा की क्या बोलूं?

वो बोली की बोलना शादी के बाद डिसाइड हुआ यह सारा कुछ. तो मैने कहा ठीक है और में बेड से उठ के फ्रेश होने चला गया और बातरूम जाके आंटी के नाम की मुति भी मार ली. फिर में ऑफीस के लिए निकल गया.

ऑफीस गया तो मैने रिया को कॉल किया और कल रात के बारे में सब कुछ बताया. आज सॅटर्डे था तो रिया का छूटी था. क्यूँ की वो कॉर्पोरेट सेक्टर में काम करती थी. तो उसेनए कहा की क्यट योउ छूटे ले सकता है? मतलब हलफदा?

मे: हन क्यूँ नहीं. पर क्या करूँ छूटे लेके?

रिया: यार जबसे तूने मेरे दिमाग़ में रानी का ख़याल भरा है ना तब से चुटमें आग लगी पड़ी है. और आज घर में सब लोग हैं. तो में सोच रहा था की तेरे घर अगर चलें जाए तो?

मे: तू सच बोल रही है?

रिया: झुत क्यूँ बोलूं?

मे: में टीया को बुला सकता हूँ?

रिया: नहीं यार टीया के सामने शरम आएगी.

मे: आबे टीया आएगी तो तुम लोग हमारी चुदाई भी देख सकते हो.

रिया: हन वो तो है पर उसके सामने रानी से चुड़ूँगी यह सोच कर शरम आती है.

मे: क्या पता सयद वो भी जाय्न कर ले.

रिया: ठीक है फिर जेसा तुझे ठीक लगे. तो कितने बजे आ जौन?

मे: 1 बजे तक में ऑफीस निकल ता हूँ तू 2 बजे तक पहुँच जाना.

रिया: ठीक है चल रखती हूँ.

फिर मैने फोन रख दिया और मैने मेरे उपर के ऑफीसर को बोल दिया की घर्मे कुछ काम है मुझे 1 बजे निकल ना है. और में वापस अपनी सीट पे आके बैठ गया और अपना काम निपटने लगा. तो रिया ने फिर से कॉल किया.

रिया: सुन और एक बात थी.

मे: हन बोल??

रिया: अर्पिता को भी बुललुन क्या? उसे भी देखना था तुम्हारी चुदाई.और वो होगी तो मुझे थोड़ी शरम कर आएगी.

मे: पर वो वहाँ आकर क्या करेगी?

रिया: वो सब देख लेंगे बाद में.

मे: ठीक है फिर बुलले. और मैने कॉल डिसकनेक्ट कर के टीया को फोन कर के सारी बात बताई.

टीया: साची में.

मे: हन नहीं तो क्या मज़ाक कर रहा हूँ?

टीया: मुझे तो अभी से नर्वस फील हो रहा है.

मे: जान कुछ नःन होता में हूँ ना.

टीया: ठीक है देखते हैं कहा तक बात जाती है.

मे: ठीक है फिर तू घर अजना 1 बजा.

टीया का घर मेरे घर के पास था और उसे मेरे घर मे कोई कुछ नहीं बोलता. वो मेरे कमरे जाके साफ सफाई कर दे इसीलिए में उसे 1 बजे बुला लिया और में वापस काम में लग गया.

1 बजने में सिर्फ़ 1 अवर था पर मुझसे और कंट्रोल नःन हो रहा था. तो में जैसे तेसे कर के टाइम कटा और 1 बजे निकल गया. मैने सुबे से कुछ भी नहीं खाया था. नोट ईवन ब्रेकफास्ट. पर मुझे भूक भी नहीं लग रही थी एग्ज़ाइट्मेंट के मारे. और में घर जाके 1:30 को पहुँच गया.

मैने देखा की वहाँ ऑलरेडी सब लोग प्रेज़ेंट थे. रिया रानी अर्पिता सब. तो मेरे मम्मी ने पूछा की क्या बात है आज सारे सैइटन एक साथ. अर्पिता ने कहा की आंटी रिया की शादी के बारे में डिस्कशन करना है. और फिर हम सब उपर मेरे रूम में चलने लगे.

उपर के फ्लोर में सिर्फ़ में रहता हूँ. एक बड़ा बेडरूम था एक बड़ा सा हॉल था और एक ओपन किचन था. बेडरूम मेरा इतना बड़ा था की मॅन लो 2 बड़े बड़े रूम मिलकर एक रूम बाँया हो.

क्यूँ की और कोई रहने वाला नहीं तट ओह मने ऐसा ही बनाया था बेडरूम. कितना बड़ा बेडरूम है यह अंदाज़ लगाने के लिए में आप को बतादून की अगर मेरे बेडरूम से सारे समान निकल दो तो काम से काम 25 या 30 लोग आराम से सो सकते है. करीब करीब 800 स्क़्फ्त का है.

हम सब मेरे बेडरूम में चलने लगे तो मैने कहा की जिस जिस को फ्रेश होना है वो कूमों बातरूम में फ्रेश हो जाए. में बेडरूम के बतररों में टाय्लेट कर के आता हूँ.

अर्पिता: क्या हुआ इतने सारे लोग के बारे में सोच कर हॅगने लगा अब से.

मे: अरे ऐसी कोई बात नहीं है ऑफीस से आइया अननोन फ़्र्श हो जौन तोड़ा. तुम लोग तो सब अभी अभी आए हो.

में बतररों चला गया. फ्रेश होके बाहर आया तो देखा सारे बेडरूम में बैठे हुए थे. में सिर्फ़ टवल में था. हलकी सबने मुझे नंगा देखा है पर टीया के सामने कभी नहीं देखा था. तो मुझे शरम आ रही थी.

में अपने कपबोर्ड की तरफ जाने लगा तो रानी कहा कहाँ जा रहे हो?

मे: त-शर्ट पहने.

रानी: अब क्या शरमाना. अब तो सब उतरने वाला है.

फिर टीया ने भी कहा की हन क्या ज़रूरत है त-शर्ट की रहने दो.

मैने भी सोचा ठीक है रहने देता हूँ और में टवल पह्न के सोफे पे बैठ गया. मेरे बाजू में अर्पिता बैठी थी और टीया और रानी उसके साइड में और रिया बाल ठीक कर र्ही थी मिरर के सामने ने.

मे: जब बाल बिखरने ही है तो बना क्यूँ रही है?

अर्पिता: वो सब छोड़ो में क्या सिर्फ़ देखूँगी बैठ के?

मे: तू जिसे चाहे जाय्न कर सकती है. अब तो सहदी की भी टेन्षन नःन है. तो हुमारे साथ या रिया का साथ जिसका अछा लगे तू जाय्न कर ले.

रानी: हन दीदी एंजाय करने आई हो तो खुल के करो. शरम वरम सब उतार के फेंक दो. में तो कहती हू कपड़े भी उतार दो.

अर्पिता: अछा पहले कौन शुरू करेगा?

रिया: जिसका घर है वो शुरू करे.

टीया: नहीं दीदी आप बड़ी हो और आप पहली बार कर रही हो तो आप शुरू करो, क्यूँ रानी?

रानी: मुझे कोई दिकाट नहीं.

रिया: नहीं यार मुझे बहुत अजीब लग रहा है पहले तुम शुरू करो फिर थोड़ी एग्ज़ाइटेड हो जौंगी तो हम भी शुरू करेंगे.

अर्पिता: यार कोई तो शुरू करो. एक काम करो सब मिलके स्टार्ट करो.

इतने में मेरे फोन की घंटी बाजी. मैने उठा के देखा तो ऋतु आंटी थी. तो मैने सब को बोला की ऋतु आंटी है.

रिया: यह छीनाल रंडी साली हमेशा ग़लत वक़्त पे फोन करती है, काट दे उसका फोन.

तो मैने फोन काट दिया. लेकिन वो दुबारा फोन करने लगी. तो मैने सोचा की उठा के बात कर लेता हूँ. मैने फोन उठाया और स्पीकर पे डाल दिया.

मे: हेलो आंटी.

आंटी: क्या हुआ अपनी ऋतु को भूल गया क्या?

मे: नःन आंटी ऑफीस के काम में बिज़ी हो गया था तो ज़्यादा टाइम नहीं था सुबा से.

आंटी: अछा कहाँ है? तो सब ने कहा की घर पे है यह मत बोल ऑफीस में है बोल.

मे: ऑफीस में हूँ आंटी.

आंटी: अछा सुन कल शाम को घर आ सकता है?

मे: ठीक है आंटी.

आंटी: और सुन टीया को भी लेके आना.

मे: कोशिस करूँगा आंटी.

आंटी: और सुन प्रोटेक्षन ले के आना.

मे: जो होकम मेरे मालकिन.

आंटी: हाहहहाहा चल रखती हूँ. लोवे यो मेरे छोटे राजा.

मे: लोवे योउ ऋतु.

फोन रखने के बाद सब का रएअकतों क्या था यह अगले पार्ट में. तब तक के लिए हिलाते रहिए स्वस्थ रहिए.

यह कहानी भी पड़े  मेरी गर्लफ्रेंड अदिति की चुदाई सेक्स कहानी

error: Content is protected !!