दोस्त की सेक्सी वाइफ का मुहं और चूत चोदी

हल्लो दोस्तों मेरा नाम शेखर हे और मैं महाराष्ट्र से हूँ. मैं एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हु. मेरी उम्र 26 साल हे और मैं देखने में एकदम हेल्धी और स्वस्थ हूँ. मेरे लोडे का नाम साड़े 6 इंच की लम्बाई और पौने 3 इंच की चौड़ाई. मुझे पता हे की सेक्स में किसी भी लड़की को कैसे संतोष दिया जाता हे. आज मैं अपनी लाइफ की एक सच्ची कथा सुनाने के लिए आया हूँ.

ये बात आज से करीब 6 महीने पहले की हे. ये कथा मेरे और मेरे दोस्त की वाइफ कृतिका के बिच में हुए संभोग की हे. कृतिका एक सुन्दर भाभी हे और उसकी बॉडी और रूप रंग एकदम एट्रेक्टिव हे. वो सफ़ेद दूध जैसी गोरी हे और आँखे एकदम काली हे उसकी. ऊपर से उसके वो दो प्यारे गुलाबी होंठो का नजारा भी देखने को बनता हे. कृतिका भाभी का फिगर 34-26-32 हे.

वैसे मेरे दोस्त की ये सेक्सी वाइफ अपने फिगर का बड़ा ध्यान रखती हे. वो योग और एरोबिक क्लास भी जाती हे. उसके फिगर को देख के किसी का भी मन करेगा उसको चोदने के लिए. मैं जब भी अपने इस दोस्त के घर पर जाता था तो इस हॉट भाभी को देख के लंड में हलचल होने लगती थी. साला मन करता था की भाभी को पकड़ के बस चोदता रहूँ!

मैं देखा था की कृतिका भाभी भी मुझे देखते ही खुश हो जाती थी. मुझे लगता था की वो भी मुझसे चुदना चाहती थी. एक दिन मुझे मेरे दोस्त करन का कॉल आया और उसने मुझे अपने घर पर बुलाया.

मैं 15 मिनिट में उसके घर पर पहुंचा और डोर बेल बजाई. तो कृतिका भाभी ने डोर ओपन किया और जैसे ही मैंने उनको देखा मेरा दिल बाग़ बाग़हो गया. मैंने बोला भाभी करन कहा हे तो उसने कहा की करन को अभी उनके बॉस का कॉल आया तो उन्हें जाना पड़ा! मैंने कहा ठीक हे मैं बाद में आऊंगा.

यह कहानी भी पड़े  लोग कहते हैं कि तुम ने मुझे बर्बाद किया

वो बोली, शेखर जी आप बैठे वो बोल के गए हे की आप आओ तो बिठाऊ. वो अपना काम निपटा के फट से ही वापस आ जायेंगे शायद तो.

मैं हॉल में सोफे के ऊपर बैठ गया. कृतिका भाभी बोली मैं आप के लिए चाय ले के आती हु.

वो 5 मिनिट में चाय ले के आई. मैं उसे पिने लगा. वो मुझे बोली आप बैठो मैं नाहा के आती हूँ. मैं कृतिका जा रही थी तो उसकी बड़ी गांड को देखने लगा. मन कर रहा था की साला ये चोदने को दे दे तो छोडू नहीं उसे. भाभी ने शायद अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी तो उसकी सलवार गांड की दरार में घुसी हुई थी जो एकदम सेक्सी लग रही थी!

तभी मेरे मोबाइल के ऊपर करन का फोन आया और उसने बताया की यार मुझे आने में टाइम लग जाएगा और उसने मुझे कहा की हम लोग रात को मिलते हे!

मैं वहाँ से निकलने को ही था की मुझे बाथरूम की तरफ से किसी के गिरने की आवाज आई. मैं भाग के बाथरूम की तरफ गया. मैंने भाभी को बोला, क्या हुआ कृतिका भाभी?

वो बोली, मेरा पाँव जरा फिसल गया.

मैंने कहा करन का कॉल आया था और वो लेट हो जाएगा तो मैं अब निकलता हूँ.

कृतिका भाभी ने कहा आप थोड़ी देर बैठो. मैं वही खड़ा रहा जैसे ही उसने दरवाजा खोला तो मैं उसको देखते ही दीवाना हो गया. उसने सिर्फ तोवेल को लपेटा हुआ था अपने चिकने और सेक्सी बदन के ऊपर. और वो लंगड़ी चाल से बहार आई. तो मैंने पूछा की कुछ हेल्प कर दूँ आप को. तो उसने कहा की मुझे कमर पर दर्द हो रहा हे तो जरा आयोडक्स लगा दीजिये प्लीज़, वहां तक मेरा हाथ नहीं जाएगा इसलिए.

यह कहानी भी पड़े  स्कूल टीचर सुनीता की अन्तर्वासना

मैं बोला ठीक हे, और वो अपने बेडरूम में जाने लगी. उसने आयोडक्स ला के मुझे दिया और खुद बेड के ऊपर लेट गई. मैं उनको तोवेल थोडा उपर लेने के लिए बोला. जैसे ही उसने तोवेल को ऊपर किया उसकी ब्लेक पेंटी मुझे दिखी. उनकी गोरी गोरी गांड देखकर दिल खुश खुश हो गया मेरा. फिर मैंने आयोडक्स कमर के ऊपर घिसना चालू कर दिया.

मैं एकदम सॉफ्ट हेंड से मसल रहा था. और उनकी मखमली बॉडी को टच कर के मेरा भी मूड बन रहा था. मेरे लंड ने पेंट के अन्दर ही फडफड होना चालू कर दिया था. और तभी मैंने महसूस किया की मेरे लंड को भी कुछ टच हो रहा हे. मैंने देखा की कृतिका भाभी का पैर मेरे लंड के ऊपर टच हो रहा था.

मैं समझ गया की गिरना और आयोडक्स लगवाना सिर्फ एक बहाना हे. कृतिका भाभी ने मेरे से चुदवाने के लिए ही ये सब नाटक किये थे. मैं उनकी पेंटी के ऊपर से गांड को टच किया. वो कुछ नहीं बोली. मैंने दोनों बम्स को प्रेस किये तो उसने अपने होंठो के ऊपर जीभ फेर दी एकदम सेक्सी मोड़ में. मैंने अब धीरे से कृतिका भाभी की पेंटी को खोला और गांड के ऊपर हाथ घुमाने लगा. भाभी ने भी मेरे लंड के ऊपर अब अपना हाथ रख दिया और वो उसे दबा के महसूस करने लगी थी.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!