दोस्त की हॉट बीवी की गोवा मे चुदाई की

दोस्तों मेरा नाम संतोष हैं और मैं एक प्राइवेट कम्पनी में काम करता हूँ. मेरे एक दोस्त का नाम नितिन हैं जो मेरा बेस्ट फ्रेंड हैं. हम दोनों बचपन से ही दोस्त हैं. हम कोलेज के दिनो में एक ही कमरे में रहते थे. हम दोनों को एक दुसरे के बारे में सब कुछ पता था, अफेयर, निजी बातें वगेरह सब कुछ!

क्यूंकि हम अच्छे दोस्त थे इसलिए हमने एक ही बिल्डिंग में एक ही फ्लोर के ऊपर फ्लेट लिए थे. और फिर हम दोनों ने शादी के लिए लडकियां देखनी भी चालु कर दी. और एक इन हम दोनों एक लड़की को देखने के लिए गए. दर्जनों लड़कियां देखने के बाद नितिन को एक सुन्दर लड़की शीतल पसंद आ गई. शीतल बड़ी ही सुन्दर और परफेक्ट लड़की थी. नितिन और शीतल की 2015 में शादी हो गई. और मैं अभी भी लड़की ढूंढने में लगा हुआ था.

क्यूंकि नितिन मेरा बेस्ट फ्रेंड था इसलिए मैं अक्सर उसके घर पर जाता था. हम दोनों जिस प्राइवेट कम्पनी में काम करते थे उसमे शिफ्ट जॉब थी. कभी हम दोनों एक ही शिफ्ट में होते थे तो कभी अलग अलग. शीतल भाभी एकदम गोरी हैं और उनकी बॉडी एकदम सेक्सी हैं. उनकी हाईट साड़े पांच फिट हैं और वो एक परफेक्ट वाइफ हैं. वो कम बोलती हैं और शालीनता से बात करती हैं. वो जब साडी पहनती हैं तो एकदम हॉट लगती हैं. और ऐसे में मैं अपनी आँखे उसके ऊपर से हटा ही नहीं पाता हूँ.

नितिन हनिमुम के लिए एक वीक के लिए शिमला गया था. जब वो वापस आये तो उसने सब फोटो मेरे साथ शेयर किये. मैं उसकी बीवी को देख के अन्दर ही अन्दर जल सा रहा था. शीतल भाभी मेरे साथ भी बड़ी कम्फर्टेबल थी क्यूंकि मैं फेमली फ्रेंड था. जब भी मुझे बोर लगता मैं नितिन के घर चला जाता, वो घर पर हो या ना हो. और कभी कभी तो मैं शीतल भाभी के साथ घंटो बातें किया करता था. जब भी शीतल भाभी से मिलता था तो मुझे अच्छा लगता था.

यह कहानी भी पड़े  आंटी और उनकी बेटी की चुदाई

एक बार हम सब ने वेकेशन के लिए गोवा जाने का डिसाइड किया. हम लोगों ने बिच से सटे हुए एक होटल में दो रूम लिए. नितिन और शीतल एक रूम में थे और मैं उनके सामने वाले रूम में. दोनों रूम की बालकनी एक दुसरे के सामने थी. मेरी बालकनी से रूम का बेड भी दीखता था. हम लोग कमरे में रेस्ट कर रहे थे. शाम को 4 बजे साइटसिन के लिए निकलन तय हुआ था. मैं थका हुआ था इसलिए सोने के लिए चला गया.

4 बजे नितिन और शीतल निचे रिसेप्शन के ऊपर आ गए. नितिन ने शीतल को बताया की वो टेक्सी अरेंज करेगा. और उसने कहा की तब तक तुम जा के देखो की संतोष रेडी हुआ की नहीं. इसलिए शीतल ने मेरे कमरे में आ के मुझे आवाज दी.

मैं बहुत थका हुआ था और अंडरवियर पहन के ही सोया हुआ था. उसने कमरे में आ के चद्दर खिंची और उसने मुझे सिर्फ अंडरवियर में देख लिया. मेरा लंड नींद में ही खड़ा हुआ था और उसकी लम्बी साइज़ शीतल भाभी ने देख ली. मेरा लंड पुरे 7.5 इंच का हैं और मुझे ये पता था की नितिन का लंड काफी छोटा हैं करीब 4 इंच का. वो सरप्राइज के साथ मेरे कडक लंड को अंडरवियर में देख रही थी. और मैंने उसके चहरे के ऊपर एक अजीब सी स्माइल और प्यास देखि. मैंने आँखे खोली तो उसने कहा, हम लोग आप का निचे लोबी में वेट कर रहे हैं. मैं उठ गया और फिर रेडी हो के हम लोग बिच के ऊपर चले गए.

बिच के ऊपर हमने मोटरबोट में बैठने का फैसला किया. लेकिन नितिन को डर लग रहा था इसलिए उसने कहा की मैं नहीं बैठूँगा. शीतल भाभी थोड़ी अपसेट हो गई ये सुन के. उसे अन्दर जाना था मोटरबोट मैं बैठ के. इसलिए नितिन ने शीतल को कहा की तुम अकेली ही चली जाओ जाना हैं तो. लेकिन वो अकेली जाने से डर रही थी. नितिन ने कहा तुम एक काम करो तुम संतोष के साथ चली जाओ. और उसने मुझे रिक्वेस्ट किया शीतल के साथ जाने के लिए.

यह कहानी भी पड़े  डिवोर्सड आंटी ने लंड चूसा मेरा

तो मैं और शीतल राइड के लिए चले गए. बोट 2 सिटर थी और पीछे वाले को आगे वाले को पकड के बैठना था. मैं शीतल के पीछे बैठा हुआ था. उसने ब्लू जींस और ब्राउन टॉप पहना हुआ था. जब बोट चली तो वो मेरी गोदी में बैठ गई. मैंने भी उसकी कमर को पकड़ लिया. मेरा लंड पूरा खड़ा हो के उसे टच हो रहा था. उसकी गांड मेरे लंड से लड़ रही थी और मैं एकदम एक्साइट हो रहा था!

उसे भी मेरे लंड का स्पर्श और अहसास हुआ. और उसने और पीछे हो के और भी अंदर तक लंड को फिल कर लिया. मैं समझ गया की ये तो टेम्पररी मजा था और इस बोट से उतरने पर ये मजा भी चला जाएगा. नितिन को इसके बारे में कुछ भी पता नहीं था. वो तो बिच की खूबसूरती को अपने केमेरा में उतार रहा था.उस दिन हमने बिच पर खूब मजे किये. अलग अलग वैरायटी का खाना खाया, सी गेम्स खेले. शाम को 7 बजे हम लोग होटल पर आ गए. 9 बजे के करीब होटल में ही बुफे डिनर लिया. फिर कार्ड और केरम बोर्ड की गेम्स खेली.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!