डिवोर्स्ड एक्स गर्लफ्रेंड की चुदाई

मेरी गर्ल फ्रेंड थी इंदु, वो अपने डाइवोर्स के चक्कर में बंगलोरे आई हुई थी. हुँने पहले कभी सेक्स नही किया था बस फोरप्ले तक ही सीमित थे.

अब वो बंगलोरे और मैं भी बंगलोरे की एक मंक में काम कर रहा था. हम दोनो में उसकी षड्दी के बाद कोई भी कॉंटॅक्ट नही था. पर अचानक एक दिन उसने मेरा नंबर ट्रॅक किया और मेसेज किया. यह वो टाइम था जब हुमारे पास स्मार्ट फोन्स या फिर सोशियल मीडीया नही था.

थोड़े दिन चाटिंग के बाद एक दिन हम ने मिलने प्लान बनाया – हम में कॉफी दे मिलना था. हम 4-5 साल बाद मिल रहे थे. तो मी सर्प्राइज़ वो बहोट बदल चुकी थी. उसके बूबे उसकी ब्रा के बाहर निकल गये थे और उसको आँकें बहोट नशीली थी.

हम मिले थोड़ी देर बॅयात करने के बाद हम बिके पे घूमे ने गये. वो जब पीछे बैठी तो मेरा तो लंड खड़ा हो गया. मुझे उसके बूब्स अपने पीछे महसूस हो रहे थे और वो कितनी गरम हैं वो भी. थोड़ी देर बिके पे मस्ती करने के बाद मैं उसको प्ग पे ड्रॉप कर दिया.

मुझे तो उसको छोड़ने के बहोट मूड था पर डरता था के उसका डाइवोर्स अभी कन्फर्म नही हुआ हैं. पर जल्द ही हुँने वापस न्यू एअर 2011 के पार्टी का प्लान बनाया. उस दिन शाम के वक़्त हम मिले पहले तो “टीस मार ख़ान” फिल्म गये जो की इतनी बोरिंग थी के इंटर्वल में ही निकल गये. और मेरे रूम पे रात 1 बजे टके आ गये.

रूम पे आने के बाद अब आग तो दोनो तरफ लगी थी. पर मैने इसको अब तक छोड़ा नही था तो मैं तोड़ा बककफूट कहले लगा. जब वो मेरे पास बैठी तो मुझे एहसास हुआ की वो कितनी गरम हो चुकी हैं. मैने उसको बेड पे सोने को कहा और उसके उपर आकर किस्सिंग शुरू की.

यह मेरे पहली किस थी मौत तो मौत ओं बेड उसके साथ उसने भी मेरा खूब साथ दिया और यह किस्सिंग अगले 10 मीं तक चलती रही. हुमारे दोनो की जीभ दुखने लगी थी.

इंदु बोली – अरुण तुम कितना वाइल्ड किस करते हो.

मैने कहा अभी तो बहोट कुछ वाइल्ड देखना बाकी हैं. वो सलवार कमीज़ में थी और मैं जीन्स और टशहिर्त में.

मैं उसकी सलवार नीचे की और उसके बूब्स चाटने लगा. उसे बूब्स को खोभ दबाया और चूसा. उसे से रहा नही जर आहा था. मैने उसके सार बदन पर हाथ फेरा और गांद दबाने लगा. उसकी तो हालत क़राब हो रही थी. वो मेरे लंड को पंत के उपर से सहलाने लगी और दबाने लगी.

इंदु ने कहा बहोट गर्मी हो रही हैं चलो अपने कपड़े निकल देते हैं. उसने अपना सलवार कमीज़ उतार दिया और अब वो सिर्फ़ अपनी पनटी और ब्रा में थी और मैं सिर्फ़ अपने अंडरवेर में. वो मेरे उंदरवाएर में छुपे हुए लंड को घूरे जर आयी थी, वो बिस्तर पर बैठी थी. तो मैं उस मूह के पास अपना अंडरवेर में खड़ा हुआ लंड ले के गया. वो उसको अपने हूतो से चूमने लगी और हातो से सहलाने लगी.

इंदु ने कहा यह तो बहोट बड़ा लग रहा हैं. मैने उसे वापस बिस्तर पर लाइत्न्े को कहा वो मिशनरी पोज़िशन में लाइट गयी तो मैं उसके बदन को चूमने लगा और ब्रा निकल दी वो और गरम होती जेया रही थी. मैने उसका हाथ ले के उसकी छूट पर रखा तो अपनी छूट सहलाने लगी.

मैं उसको झंगो और छूट के पास चूमने लगा वो भी इसका बहोट मज़ा ले रही थी. उसने कहा अरुण मेरी पनटी उतार दो. मैने धीरे से उसकी पनटी उतरी.

इट वाज़ नोट आ सर्प्राइज़ उसकी छूट पूरी तारह से गिइली हो चुकी थी वो अपनी छूट उंगली दल कर अंदर बाहर करने लगी आंड मैं उसकी झाँके चाट रहा था.

मैने उसको मोड़ा और उसकी जब उंगलिया चल रही थी मैं उसकी बटक्स छाती अंर दबाए. इससे उसका पानी एक बार झाड़ गया, वो मुझे अपने उपर ले कर कस्स कर हग करने लगी. मेरे अंडरवेर से मेरा लंड उसकी छूट पर घिस रहा था.

मैं साइड में आकर सोगआया और अपनी अंडरवेर निकल दी. वो मेरा लंड पहली बार देख बहोट ही खुश होगआई उसे अपने हाथ से मेरे पेट से सहलाते हुए धीरे से मेरे लंड के तरफ ले गयी और उसको पूरा हाथ में लिया और उपर नीचे हिलने लगी.

मुझे बहोट मज़ा आरहा था बीच में हुँने थोड़ी किस्सिंग की. मैने कहा चलो मुझे छूट छोड़ने दो. उसने कहा पहले मुझे मूह में आपना लंड ले दो. वो मुझे सुला कर नीच मेरे लंड के पास मूह ले गये. उसने पहले तो उसे थोड़े किस किए. मेरा तो प्री स्पर्म निकल रहा था.

उसने ने अपने हातो से मेरे बॉल्स दबाए और ढेरी से अपने लिप्स मेर लंड पर रख दिए. मेरी बॉडी में तो करेंट दौड़ ने लगे. उसे अब मेरा लंड का टोपा अपने मूह मे लिया और चूज़ ने लगी. उसने अब मेरा पूरा लंड अंदर ले लिया आंड ज़ोर से चूज़ ने लगी.

मुझे बहोट हे मज़ा आ रहा था. वो कभी मेरे बॉल्स मूह मे लेतो तो कभी मेरे लंड को. वो एक एक्सपर्ट की तरह ब्लो जॉब दिए जेया रही थी. मैं बिल्कुल सर्प्राइज़ होगआया जब वो मेरे बॉल्स की नीचे के एरिया की तरफ छत रही थी मुझे बहोट मज़ा आया. वो बिल्कुल नीचे गयी आंड तोड़ा सा हल्के से मेरी गांद के छेड़ को छत लिया जिससे से मैं बहोट एग्ज़ाइट हो गया.

फिर उसे लगा होगा के फेली बार के लिए यह ज़्यादा हैं तो मेरे उपर आकर हग करने लगी. मैं उसे मिशनरी पोज़िशन मे लिया और अपने लंड को छूट पे रख कर पौच्ा.

इंदु क्या तुम्हे मेरा लंड चाहहीलये?

वो बोली – अरुण अपने लंड से मेरी छूट की प्यास भुजा दो.

मैने धीरे से उसे लंड अंदर डाल कर छोड़ने लगा, वो हारे एक शॉट पे अया अया अया करने लगी.

वो बोली के – अरुण क्या तुम मुझे पेचए से छोड़ोगे.

मैंने कभी डॉगी स्टाइल में छोड़ा नही था पर ऐसी ऑपर्चुनिटी कौन छोड़ था हैं.

वो बिस्तर फिर पे झुक के अपने हातो के की सपोर्ट से दूगी स्टाइल में आ गयी. अपने हाथ से मेरे लंड को अपने छूट पे लिया. मैं एक ज़ोर का धक्का दिया और पूरा लंड उसकी छूट में चला गया.

वो मज़े से बोलने लगी – छोड़ो अरुण मेरी प्यासी छूट को छोड़ो मुझे ज़ोर से छोड़ो.

और मई ज़ोर ज़ोर से लंड अंदर बाहर करने लगा. 5 -7 मिनिट तक चूड़ने बाद वो झाड़ गयी और झड़ने के बाद वो बोली के तुम बिस्तर पर सो जाओ.

उसने फिर से मेरे लंड को मूह में लिया और हातो से हिलने लगी. मैं झड़ने वाला था जब मैने कहा तो और ज़ोर से मेरे लंड अपने मूह में लिया आंड मैं उसे के मूह के अंदर ही झाड़ गया.

इसके बाद हम डन ने 2 बार और उस रात सेक्स किया और हुँने कार में भी सेक्स किया.

अगर आपको यह कहानी आक्ची लगी और आप आयेज यह सुनना चाहते हो तो प्लीज़ कॉमेंट कर के बताना और मुझे एमाइल करना

यह कहानी भी पड़े  ऑफिस के दो माल के साथ थ्रीसम सेक्स

error: Content is protected !!