डाइवोर्स स्टोरी रीडर की पलंग तोड़ चुदाई

दोस्तो जिनको मेरे बारे मे नही पता उनको ज़रा मेरे इंट्रो देता हू. तो मेरा नाम सचिन है और मैं हयदेराबाद से हूँ. मैं एक कंपनी मे जॉब कर रहा हूँ, मेरी उमर 24 साल है और मेरे लंड का साइज़ 6.5 इंच लंबा और 2 इंच मोटा है.

तो ये था मेरा इंट्रो अब शुरू करते है स्टोरी. इश्स स्टोरी की हेरोइन है ज़रीन. मेरी स्टोरी के फीडबॅक से हुमारी बात शुरू हुई, फिर कैसे मैने उसको छोड़ा ये स्टोरी है. और फ्रेंड्स ये स्टोरी थोड़ी लंबी और सेक्सी प्लीज़ पूरा पढ़े और आचे से से मज़ा ले.

ज़रीन का इंट्रो, वो बंगलोरे से है उसका फिगर 34-30-36 है और मॅरीड थी. उसका डाइवोर्स हो चुका है इसलिए वो अपना काम उंगली से चल थी है. इसलिए मेरी स्टोरी पढ़ के मुझे मैल से कॉंटॅक्ट की.

अब शुरू करते है स्टोरी.

डेली हमारी छत होना शुरू हुई और हम डेली सेक्स छत वीडियो सेक्स करे है बुत मिलें का मौका नही मिल रहा था. बुत कुछ ही दीनो मे वो हयदेराबाद आई और मे उसे मिलने गया. वाहा हम बाहर लंच करने गये और लंच करके जब हम रूम पे आए.

रूम पे आते ही वो मुजपे टूट पड़ी और मुझे किस करने लगी. ऐसे लग रहा था जैसे मुझे खा ही जाएगी. हमारी किस 10 मीं तक चली. जब हम अलग हुए तो एक दूसरे को देख रहे.

मैने उसकी कमीज़ को निकाल फेका और उसके मुममे उसकी ब्लॅक ब्रा के मस्त लग रहे थे. मुझसे रहा नही गया और मई ब्रा के उपर से उसके बूब्स को काटना शुरू कर दिया और वो और गरम होने लगी.

मे हाथ नीचे लेके उसकी छूट को मसाल रहा था. फिर मैने उसको नीचे जाने का एशारा किया और वो अची रंडी की तरह मेरी जीन्स निकल के मेरे लंड को मसलना शुरू की. मई उसके बाल पकड़ उसको चूसने का इशारा किया.

वो मेरे लंड को मूह मे लेके चूसना शुरू की. मई उसके मूह को छोड़ना शुरू किया जिससे उसकी आइज़ रेड हो गयी. और मे उसके मूह को बेरहमी से छोड़े जेया रहा था. अब उससे रहा नही गया और वो मेरा लंड बाहर निकल के हापने लगी.

मई उसको उठा के उसकी ब्रा निकल दिया और साथ मे उसकी सलवार को भी निकाल दिया. उसकी पनटी पूरी गीली हो गयी थी. फिर उसकी पनटी को भी निकाल के हम बेड पर आ गये और सीधे 69 पोज़िशन मे आ गये.

उसकी छूट पे थोड़े थोड़े बाल थे जो मुझे बहोट पसंद आए. मैने उसकी छूट को चाटना और चूसना शुरू कर दिया और वो मेरे लंड को चूस रही थी.

मई उसकी छूट को चबा रहा था और छूट मे दो उंगलिया डाल के उसकी छूट को छोड़ भी रहा था. उससे रहा नही गया और वो झाड़ गयी. मई उसकी छूट के रस को सारा पी गया और मे भी उसके मूह मे झाड़ गया.

कुछ देर हम एक दूसरे की बाहो मे रेस्ट किए और मई उसकी निपल्स को चूस रहा था. अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैने उसको अपने नीचे लेटया और उसको मिस्सोनोरी पॉस मे छोड़ना स्टार्ट किया. उसकी छूट पे लंड को सेट के एक शॉट मारा तो आधा लंड घुस गया.. डाइवोर्स के बाद वो पहली बार छुड़वा रही थी इसलिए ज़ोर से चिल्लाई और मुझे रुकने को बोल रही थी.

मे रुका नही और लंड को बाहर निकाला उसको लगा मे निकल दिया लंड बाहर और रुक जौंगा. बुत मैने एक ज़ोर का धक्का मारा जिससे पूरा लंड उसकी छूट को चियर था हुआ अंदर चला गया. वो ज़ोर से छिला रहा थी आआआााअ आहाहााआ हााआआ… निकालो इससे मई मार जौंगी आआहाआ आमी अया.. मई उसको बुरी तरह से छोड़ रहा था और साथ ही साथ उसके निपल्स को काट रहा था.

ज़रीन: आआ काटो मॅट प्लीज़ आआअहहाा ऊउच प्लीज़ मॅट काटो…

मे चुप कर रंडी छीनाल बंगलोरे से आई है मुजसे छुड़वाने… ले मज़े तुझे मेरी चुदाई पसंद थी ना अब क्या हुआ भें की लोदी रंडी!

ज़रीन: आआहाआहाआ आअमरा से बहोट मंत्स से चूड़ी नही आज आराम्म से छोड़लो फिर बाद मे जैसे चाओ वैसे छोड़लेना आआआहाआ प्लीज़…

तेरी जेसी रंडी पे मई रहम नही करता रंडी भें की लोदी! मेरा होने वाला था, मई उसके माना करने पर भी उसकी छूट मे ही झाड़ गया और उसके उपर लेट गया.

ज़रीन: ये क्या किया तुमने मेरे अंदर क्यू निकाला कुछ प्राब्लम होगी तो??

मई उसको थप्पड़ मार के बोला चुप कर साली! मैने रिसेप्षन पे कॉल कर एक विस्की मंगाई और अटेंडर जब आया तो ज़रीन कपड़े पहें रही थी. मैने उसे अपनी त शर्ट दिया सिर्फ़ और बोला जा लेके आ.

वो माना करने लगी बुत मेरे बार बार बोलने पे वो डोर ओपन की और अटेंडर अंदर आया और बेड की कंडीशन और ज़रीन की कंडीशन देख के समझ गया अंदर क्या हुआ और मुझे देख स्माइल करा.

मैने उसको 500 दिए और बोला चुप रहना और 2 कॉंडम के पॅकेट लाने बेझ दिया. ज़रीन मुझे गुस्से से देख रही थी. मई बोला चल पेग बना रंडी!

वो सच मे एक रंडी तरह मेरे ऑर्डर मान रही थी. मैने 2-4 पेग पिए और वो अटेंडर आया, मेरे बिना बोले ज़रीन डोर ओपन की और कॉंडम लेके आ गयी.

मैने अपने लंड को एक विसके के ग्लास मे दीप किया और उसको चूसने बोला बुत वो माना करी थी. मई उसके मूह मे लंड जबदस्ती डाल दिया और उसके मूह को छोड़ने लगा.

उसके बाद हम एक दूसरो की किस करे रहे थे और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. जससे देख कर वो हरीरन हो गयी और मुझे बोलने लगी ये क्या फिर से खड़ा हो गया…और हासणे लगी.

मई उसको बोला तेरे जैसे माल हो तो खड़ा नही तो क्या होगा.

ये बोल के उसके बाल पकड़ के उसके मूह को छोड़ने लगा. उसके मूह पूरा लाल हो गया और उसको साँस लेने मे भी परेशन हो रही थी. मई और 10 मीं उसको छोड़ने बाद मैने उसको घोड़ी बाँया और उसकी गांद पे लंड सेट किया. वो संज गयी क्या होने वाला है और मैने ज़ोर का धक्का मारा. लेकिन मैने उसको पड़के रखा और उसकी गांद मे लंड घुसा दिया.

अब वो छिला पड़ी और वो बोली – आहह अहहा मार गयी आहह अहः मलिक अहः आ मरररर गयी….मेरी गांद फट गयी है.

उसकी गांद मे से अब खून आ रहा था, उसकी गांद मे मेरा आधा लंड चला गया था. मैने उसके निपल्स को पकड़ा और उसके मूह को तोड़ा पीछे करके उसे किस करने लग गया.

किस्सिंग करते हुए पीछे से मई उसकी गांद को भी छोड़ रहा था. अब मेरा लंड उसकी गांद पूरा चला गया था और मुझे पूरा मज़ा आ रहा था.

ज़रीन – आ आहह मेरे राजा आहह अहहस्साहाआआआआ हााआआ…

अब मैं पीछे से उसे ज़ोर ज़ोर से छोड़ें ला गया, और मैं बोला – ले रंडी बहें की लोदी ले मेरा लंड बहें छोड़ छीनाल गस्ति बहें छोड़ ये ले मेरा लंड!

अब मैं उसे बहोट बुरी तरह से छोड़ रहा था और वो माओं करते ही जा रही थी.

ज़रीन – आ अहः मॅर गयी आहह अम्मी बचलो मुझे तुम्हारा लंड बड़ा है…प्लीज़ मेरे उपेर तोड़ा सा रहम करो..

मैने लंड उसकी गांद से निकाला तो उसको तोड़ा आरा मिला. पर फिर मैने लंड को उसकी छूट मे डाल दिया. जिससे उसकी चीख फिर से निकल गयी, और 8-10 ढाको मे फिर से उसकी छूट मे निकल गया.

और ये थी मेरी और ज़रीन की पलंग तोड़ चुदाई.

पड़ोसन आंटी और उसकी दो जवान बेटियाँ बहोट जल्द उपलोआड होगा नेक्स्ट पार्ट.

थॅंक योउ मुझे मेरी स्टोरी के बहोट फीडबॅक्स मिले, ऐसे ही अपना पयार देते रहिएगा. प्लीज़ अपना फीडबॅक देना ना भूले. तब तक पढ़ते रहे मेरी स्टोरी और अपनी फीडबॅक और कॉमेंट्स मुझे मेरी एमाइल ईद पे सेंड करे.

और कोई आंटी या कोई लड़की मुझसे सेक्स करना चाहती है, या सेक्स छत करना चाहती है. तो भी मुझे मैल करे या हणगौत्स पे म्स्ग करे.

यह कहानी भी पड़े  सब कुछ लड़कियो का प्लान था

error: Content is protected !!