देहरादून में मकान मालकिन की चुदाई

दोस्तो, मैं आज आपके साथ अपनी पहली सच्ची स्टोरी शेयर करना चाहता हूँ. ये कहानी मैं पहली बार लिख रहा हूँ.. कोई गलती हो तो माफ़ कर देना. मैं काफी टाइम से अन्तर्वासना में आप सभी की सेक्स स्टोरी पढ़ रहा हूँ और आज मुझे लगा कि मैं भी आपके साथ अपनी स्टोरी शेयर करूँ.

मेरा नाम सुमित शर्मा है, मेरी लंबाई 6 फिट है. मुझे जिम जाने का शौकीन है.. जिस कारण मेरा शरीर काफी आकर्षक है. मैं बरेली में रहता हूँ.

मेरी एक गर्लफ्रेंड थी, जो बरेली में ही मेरे साथ रहती थी और वहीं पर जॉब करती थी. एक दिन उसका ट्रांसफर देहरादून हो गया और वो वहां चली गयी. मुझे कुछ दिनों तक उसके बिना बहुत बुरा लगा. फिर मैं भी कुछ दिनों बाद देहरादून निकल गया और उसके साथ रहने लगा.

वो दो मंजिला घर में ऊपर रहती थी और नीचे मकान मालकिन रहती थी. मैं मकान मालकिन को आंटी जी कहता था. उनको ये पता था कि हम दोनों भाई बहन हैं.

मैं जब देहरादून गया था तो मैंने वहां कोई जॉब नहीं की थी, तो मैं घर पर ही रहता था. इस कारण मेरी आंटी से दोस्ती कुछ ज्यादा ही हो गयी थी. वो मुझसे काफी ओपन हो गई थीं और अपनी हर बात मुझे बताने लगी थीं.

मैं आंटी के बारे में आपको बताता हूँ. आंटी एक 40 साल की भरी पूरी महिला थीं. उनके मम्मों की 38 साइज इंच थी.. उनके चूतड़ एकदम गोल और उठे हुए थे. आंटी देखने में एकदम मस्त माल थीं. वो चूंकि पहाड़ों वाले इलाके यानि नैनीताल के अल्मोड़ा की रहने वाली एक पहाड़न थीं तो आप खुद समझ सकते हैं कि तो कैसी होंगी.

जिस टाइम मेरी उनसे बात होती थी, उस टाइम वो आपने पति से बहुत दुखी थीं क्योंकि उनके पति का बाहर किसी और से चक्कर चलता था. उनके दो बच्चे थे, जो बाहर पढ़ते थे. उनका पति सुबह जाता था और रात को ही आता था, जिस कारण वो अपनी सारी बातें मुझे बता देती थीं.

यह कहानी भी पड़े  जन्मदिन का उपहार और सज़ा

एक बार मेरी गर्लफ्रेंड दो दिन के लिए ऑफिस के काम से बाहर चली गयी, जिस कारण मैं घर में अकेला था और टीवी में मूवी देख रहा था. तभी आंटी जी मेरे रूम में आईं और रोने लगीं.. वे अपने पति की बात बताने लगीं. मैं उनको दिलासा देने लगा.
मैंने आंटी से कहा- आप कितनी हॉट लगती हो.. तब भी अंकल बाहर मुँह मारते हैं.. अगर आप मेरी बीवी होतीं, तो मैं आपको छोड़ता ही नहीं.

आंटी शर्मा गईं और कहने लगीं कि झूठ मत बोलो.
मैंने कहा- सच में आंटी मैं गलत नहीं कह रहा हूँ. आप बहुत ही हॉट हो.
आंटी खुश होकर कहने लगीं- चल हट, मैं अब कहां से हॉट रह गई हूँ.

मैंने उनकी आँखों में देखा तो मुझे एक वासना सी दिखाई दे रही थी. मैंने समझ लिया कि शायद आज इनका चुदने का मन है, इसलिए ये मेरे पास आई हैं. तब भी मैं पूरी तरह से उनको समझ लेना चाह रहा था. यदि गड़बड़ हो जाती तो पता नहीं वो क्या सोचतीं और मेरी शिकायत मेरी जीएफ से कर देतीं तो सब कुछ बिगड़ जाता.

इसलिए मैंने उनकी आँखों में झांकते हुए कहा- अच्छा ये बताओ कि आपने उस औरत को देखा है, जिसके साथ आपके पति का चक्कर चल रहा है?
आंटी बोलीं- हां देखा है.. साली सूखा छुआरा सा लगती है.. न सीना है.. न पिछवाड़ा है.
मैं समझ गया कि आंटी गरम हो रही हैं.

मैंने पूछा- इसका मतलब उसका सीना और पिछवाड़ा बिलकुल भी उठा हुआ नहीं है?
वे अपने मम्मे उठाते हुए बोलीं- ये देखा जैसे मेरे बूब्स हैं, ऐसे नाप में तो उस जैसी के तीन बार समा जाएंगे.
मैंने कहा- आपके तो वाकयी बहुत बड़े हैं.

यह कहानी भी पड़े  मेरे दोस्त अमन की माँ और दीदी साथ सेक्स

मेरी बात सुनकर उन्होंने अपना पल्लू गिरा दिया और गहरे गले वाले ब्लाउज में से उनकी दूधिया घाटी दिखने लगी.

आंटी- तू सही कह रहा है, वो मेरे जैसी हॉट नहीं है.
मैंने कहा- वाओ सबसे ज्यादा आपके बूब्स हॉट हैं.
उन्होंने ये बात सुनते ही नजरें नीचे कर लीं.

तभी मैंने मौके पर चौका मारा. मैंने आंटी से कहा कि क्या मैं आपके बूब्स एक बार छू सकता हूँ.
तो वो कुछ नहीं बोलीं, मैंने भी हिम्मत करके उनके मम्मों को छू लिया. वो एकदम से शर्मा गईं.

उनके मम्मों का स्पर्श पाकर मेरा तो लंड एकदम से खड़ा हो गया. उन्होंने मेरे खड़े लंड को देख लिया. फिर मैं उनके मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लगा. आंटी के मम्मों की साइज़ का सही अंदाजा हुआ तो समझ आया कि आंटी चूचियां नहीं बड़े बड़े चूचे थे. मेरे प्यार से सहलाने के कारण आंटी के खरबूजे जैसे विशाल स्तन कड़क हो चुके थे. ये इतने बड़े-बड़े थे कि मैं एक हाथ से दबा नहीं पा रहा था. मुझे दोनों हाथों से एक को दबाना पड़ रहा था.

आंटी गरमा गईं, उनका एक हाथ मेरे कच्छे पर आ गया, तो मैंने तुरंत अपना कच्छा खोल कर लौड़ा बाहर निकाल लिया. आंटी मेरे लंड को देख कर हैरान हो गईं. आंटी बोलीं- उई माँ.. इतना लम्बा और मोटा लंड.. मैंने तो कभी नहीं देखा.
मैंने कहा- देखा नहीं है तो अब देख लीजिएगा आंटी इसको मुँह में लेकर चूसो न आपको और ज्यादा मजा आएगा.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!