दया, अंजलि, और जग्गू का बड़ा लंड

अपने पिछले पार्ट में पढ़ा कैसे तारक मीनाक्षी को पत्ता के उसकी चुदाई करता है. दूसरी और जग्गू भाई अंजलि और दया को स्विम्मिंग पूल में मज़ा देता है. जग्गू भाई को लगता था की वो तारक की वाइफ के मज़े ले रहा था. लेकिन तारक भी उसकी वाइफ की चुदाई कर रहा था.

तारक को लगता है वो अंजलि और जग्गू भाई से च्छूपा के मीनाक्षी को छोड़ रहा था. लेकिन वाहा जग्गू भाई स्विम्मिंग पूल में अंजलि को अपना लंड चुस्वा रहा था.

जब दया और अंजलि जग्गू का लंड चूस-चूस कर उसका माल निकाल के चाट लेती है.

बाद में जग्गू का लंड ठंडा हो जाता है. दया और अंजलि जग्गू को बेडरूम में ले जाते है. और जग्गू भाई साथ में दारू की बॉटल और ग्लास पकड़ लेते है. अब आयेज.

दया और अंजलि को पूरा नंगा देख के उसको नशा हो रहा था. दोनो का कर्वी फिगर, और सेक्सी उभरी हुई गांद थी. दया तो अपनी गांद मटका के चलती है. जग्गू भाई मॅन में सोच लेता है, की दया की गांद के धागे खोल देगा.

रूम में एंटर होते ही दया और अंजलि जग्गू भाई को सोफा पे बिता देते है. जग्गू अपना और एक पेग रेडी करने लगता है. दया और अंजलि बेड पे चढ़ जाती है, और जग्गू को सिड्यूस करने लगती है. दया ने जूड़ा बाँध हुआ था. अंजलि अपने खुले बालों को अड्जस्ट करके जूड़ा बाँध लेती है.

अब दया और अंजलि एक-दूसरे के पास बैठ जाती है, और जग्गू भाई को सेक्सी नज़रों से देखती है. दोनो एक नंबर की रंडी लग रही थी. जग्गू भी दारू का मज़ा ले रहे थे. उनको भनक भी नही थी की उसके साथ क्या-क्या होने वाला था.

अब दया अंजलि के बालों को खींच कर उसके लिप्स चूसने लगती है. जग्गू ये नज़ारा देख के शॉक्ड हो जाता है. वो बहुत एग्ज़ाइटेड हो गया, क्यूंकी पहली बार लिव सेक्सी सीन देख रहा था. दो सेक्सी भाभियाँ एक-दूसरे को किस कर रही थी, और दोनो का फिगर कर्वी था. दोनो की बॉडी शाइन कर रही थी, और बॉडी पे एक भी बाल नही था.

दोनो 5 मिनिट तक स्लॉपी किस करने के बाद वो जग्गू की और देखते है. जग्गू का तो मूह खुल्ला रह गया था. वो एक कुत्ते की तरह लग रहा था. उसका चेहरा देख के दोनो के फेस पे स्माइल आ जाती है.

दोनो को पता था, आज आचे से दोनो की चुदाई होना पक्की थी. दया अंजलि के कान में कुछ कहती है. अंजलि वो सुन के थोड़ी एग्ज़ाइटेड हो जाती है, और दोनो एक-दूसरे की और देख के स्माइल करती है.

अब दया जग्गू भाई का हाथ पकड़ कर उसको चेर पे बिता देती है, और अंजलि उसके कान में धीमे से कहती है.

अंजलि: जग्गू मी बेबी, आज हम दोनो तुम्हे ऐसा मज़ा देंगी, की तुम हमे भूल नही पाओगे.

अंजलि की बात सुन कर उसका लोड्‍ा एक-दूं टाइट हो जाता है, और वो अंजलि के बाल पकड़ कर उसको लीप लॉक कर देता है. दया उसका लंड फिरसे मूह में डाल देती है, और उसको चूस्टी है. उसका लोड्‍ा लोहे जैसा सख़्त हो जाता है.

2-3 मिनिट के बाद दया और अंजलि जग्गू को चेर पे रस्सी से बाँध देती है.

जग्गू भाई: ये क्या कर रही हो?

अंजलि: आपकी ये रंडी आपके हाथ बाँध के आपसे मज़ा लेना चाहती है.

दया जग्गू भाई के लिप्स पे किस देती है, और उससे डोर हो जाती है. वो अंजलि का हाथ पकड़ पर बेड पे ले जाती है. अब वो दोनो लीप किस करते है. अब दया उसके दोनो हाथ से अंजलि के बूब्स दबाती है. दया और अंजलि दोनो एक-दूसरे की आँखों में हवस से देखते है. उन दोनो का ये पहली बार था, की वो एक औरत से सेक्स कर रही थी.

अब अंजलि भी दया के बूब्स मसल देती है. दोनो एक-दूसरे के बारी-बारी निपल चूस्टे है. दया अंजलि को बेड पे लिटा देती है, और उसके पैरों को खोल देती है, और उसकी लेग पे किस करती है. अब वो धीरे से अंजलि की छूट को चू लेती है. अंजलि की आ निकल जाती है. अब दया उसकी छूट पे किस करती है. दया पहली बार छूट का टेस्ट फील कर रही थी. उसको अलग ही नशा हो रहा था.

वो अंजलि की छूट के दाने को चूस्टी है. अंजलि चादर को हाथो में टाइट पकड़ लेती है, और ज़ोर से मोन करती है. दया भी जोश में आ जाती है, और उनकी छूट चाटना स्टार्ट कर देती है. 10 मिनिट की छूट चुसाई के बाद अंजलि झाड़ जाती है, और दया उसका सारा पानी चाट लेती है. अब वो अंजलि को फिरसे लिप्स करती है. अंजलि को दया और उसकी छूट का स्वाद आ रहा था, और वो मदहोश जो गयी थी.

अब अंजलि दया को लिटा देती है, और वो उसकी छूट चाट रही होती है. 10 मिनिट की चुसाई के बाद दया भी झाड़ जाती है. अंजलि उसको चाट के सॉफ करती है, और दया को फिरसे किस करती है. दोनो एक-दूसरे को देख के स्माइल कर रही थी.

दया: अंजलि भाभी मुझे पता नही था, की आपके साथ ये मज़ा आता है. आप सच में बहुत मज़ा देती हो.

अंजलि: मुझे भी नही पता था आप की वजह से में आज रियल सेक्स एंजाय कर रही हू.

अब दोनो एक-दूसरे की टांगे बीच में फ़ससा देती है, और छूट से छूट घिसती है. दया जग्गू भाई के सामने अंजलि की गांद के दर्शन करवाती है. अंजलि की गांद वर्जिन थी. दया उसमे तोड़ा थूक लगती है, और एक उंगली डाल देती है. अंजलि श आ उःम्म्म सेक्सी आवाज़े निकालती है.

फिर वो एक और उंगली डाल देती है. अंजलि और ज़ोरो से चिल्लती है. 10 मिनिट तक दया ऐसे ही स्लो फास्ट उंगली करती है.

अंजलि: बहुत मज़ा आ रहा है.

जग्गू भाई से अब कंट्रोल नही होता और वो चिल्लाता है.

जग्गू: अभी उंगली गयी है, मेरा लंड लेगी तो मज़ा आ जाएगा. आज तेरी भी गांद मारूँगा.

अंजलि: हा मेरे राजा, छोड़ लेना इस रंडी की गांद. मैं तो आज तुझसे छुड़वाने के मूड में आई हू. मैने और दया भाभी ने घर से तय किया था, की आपसे आज छुड़वाना है.

जग्गू भाई: तुम दोनो रंडियन मुझे बहुत तडपा रही हो. मेरे हाथ खोलो, मुझे आपकी छूट चाहिए अभी. मेरा लंड फटत रहा है.

दया खड़ी होती है, और थोड़ी दारू उसके लंड पे गिरा देती है. जग्गू का लंड अंजलि के दांतो से च्चिल गया था, तो उसको वाहा बहुत जलन होती है.

जग्गू भाई (गुस्से में): अर्रे मदारचोड़ रंडी, साली ये तूने क्या किया? दया मैं आज तेरी छूट का भोंसड़ा बना दूँगा, और तेरी गांद फाड़ दूँगा.

अब अंजलि दया की गांद जग्गू को दिखती है, और उसको चाटना शुरू कर देती है. दया उसकी ये हरकत से चौक जाती है, और मोन करती है.

दया तो अंजलि: आ अंजलि भाभी, मॅर गयी. आप ये क्या कर रही है? मैने तो सोचा भी नही था आप मुझे इतना पसंद करने लगॉगे. मैं तो अब रोज़ आपसे गांद चटवाने आ जौंगी.

दया तो जग्गू: जग्गू मदारचोड़, तू क्या मेरी गांद फाड़ेगा, मैने मेरी गांद में बहुत से लंड लिए है. तेरे जैसे कितनो लंड का मैने पानी निकाल दिया है. आज देखती हू तेरे में कितना पवर है.

अब दया जग्गू के पास जाती है. वो उसका लोड्‍ा मूह में लेती है. जग्गू का अंजलि और दया का फोरप्ले देख के प्रेकुं निकल जाता है. दया को तोड़ा दारू का भी टेस्ट आता है. वो उसका लंड चूस्टी है, तो जग्गू भाई को जलन में तोड़ा आराम मिलता है. दया जग्गू की गोदी में बैठ जाती है.

जग्गू के हाथ अभी भी बँधे होते है. दया जग्गू का लंड पकड़ कर छूट पर सेट करती है, और उसके उपर बैठने की कोशिश करती है. लंड बहुत मोटा था, तो दया को तोड़ा पुश करना पड़ा. जब आधा लंड अंदर गया, प दया के मूह से चीख निकल गयी.

जग्गू: क्यूँ साली रंडी, फटत गयी ना छूट. अभी तो आधा गया है.

दया उसको ज़ोरो से लीप-लॉक कर देती है. वो पूरी जीभ उसके मूह में घुमा रही थी. दया पूरी वाइल्ड हो गयी थी. जग्गू को वो निचोढ़ रही थी, साथ में जग्गू को उसके बूब्स चुस्वा रही थी. अब दया फुल जोश में पुश करती है, और पूरा लंड अंदर ले लेती है.

उसके पैर काँप जाते है. उसको दर्द होता है, और वो चिल्लाने लगती है. अंजलि खड़ी हो जाती है और जग्गू भाई के हाथ रस्सी में से छ्चोढ़ देती है. जग्गू भाई अब दया को फुल सपोर्ट में पकड़ लेता है, और लीप किस देता है. दया को अब अछा लग रहा था. 2 मिनिट चेर पे जंप लगाने के बाद दया तक जाती है.

जग्गू दया को लेके खड़ा हो जाता है, और चेर गिरा देता है. जग्गू फुल जोश में दया की खड़े-खड़े चुदाई करता है. दया आ आ की आवाज़ निकलती है. वो तो मानो जन्नत में थी. ऐसी चुदाई उसकी पहली बार हो रही थी. वो जग्गू के तकले को किस कर रही थी.

अंजलि तो उन दोनो की चुदाई देख के अपनी छूट में उंगली करती है. दया भी ज़ोरो से मोन करती है. अब जग्गू दया को लेकर सोफा पर लेट जाता है. और दया का एक पावं पकड़ कर, उपर करके, जग्गू पीछे से लंड डाल देता है.

अंजलि को जग्गू का 8 इंच का लंड दया की छूट से अंदर-बाहर होते दिखता है. वो ज़ोर से उंगली करती है. जग्गू अंजलि को इशारा करता है और अंजलि रेडी हो जाती है.

अब जग्गू अंजलि के पास आता है, और उसको लीप किस करता है. अंजलि भी फुल सपोर्ट करती है. वो तोड़ा झुक कर लंड को चूस कर चिकना कर देती है, और अपने हाथो में थूक लेकर छूट को आचे से गीली कर देती है. जग्गू भाई को वो इशारा करती है, की वो रेडी थी.

जग्गू उसकी छूट पर लंड सेट करता है, लेकिन फिसल जाता है. उसके लंड के सामने अंजलि की छूट वर्जिन मान लो आप. जब जग्गू लंड पे फोर्स करता है, तो अंजलि काँप जाती है. उसको दर्र लगता था की इससे उसकी जान ना निकल जाए.

दया को अब लगता था की उसको ही कुछ करना पड़ेगा. वो अंजलि के पास जाती है, और उसको लीप किस देती है. वो जब मदहोश होने लगती है, तो जग्गू को लंड डालने को इशारा करती है. दया का इशारा आते ही जग्गू फुल जोश में लंड डालता है.

बस आधा लंड अंदर गया था, और अंजलि के पैर काँप गये. उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे. वो से नही पा रही थी. जग्गू थोड़ी देर ऐसे ही रहा, और जब अंजलि रिलॅक्स हुई, तब पूरा लंड डाल दिया. अंजलि चीखने वाली थी, लेकिन दया ने उसको लीप लॉक कर दिया. साथ में दया उसके बूब्स सहला रही थी. अब धीरे-धीरे जग्गू ने उसकी चुदाई शुरू कर दी. अंजलि तो आज दूसरी बार वर्जिनिटी तुद्वा रही थी.

जग्गू का लंड उसके पेट में जेया रहा था. अंजलि को बस मज़ा आ रहा था. अब वो खुद से गांद उछाल कर छुड़वा रही थी, और मोन कर रही थी, “आ मज़ा आ गया”.

अंजलि: सच में जग्गू आज असली लंड मिला है. मज़ा आ गया. दया भाभी आप ना होती तो मैं ऐसा सुख नही ले पाती. थॅंक योउ मेरी जान.

15-20 मिनिट की चुदाई के बाद अंजलि जग्गू को कॉवगिरल पोज़िशन में छोड़ने को बोलती है, और पूरा लंड छूट में समा लेती है.

बीच-बीच में दया जग्गू का लंड चूस कर चिकना कर देती है. अब वो अंजलि को डॉगी-स्टाइल में छोड़ता है. 10-15 मिनिट की चुदाई के बाद वो झड़ने वाला होता है.

वो अंजलि को पूछता है: कहा निकालु?

अंजलि उसके बेड पे लेट जाती है और मिशनरी पोज़िशन में सेक्स करती है. वो जग्गू को बहुत टाइट पकड़ लेती है. फिर 5 मिनिट की तबाद-तोड़ चूड़ी के बाद वो अंजलि की छूट में झाड़ जाता है. दोनो की धड़कने तेज़ हो गयी थी. जग्गू अंजलि को लीप-किस करता है, और साथ में लेट जाता है. दया भी उसके साथ में लेट जाती है.

नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा कैसे जग्गू दया की गांद मारता है, और दया से बदला लेता है.

यह कहानी भी पड़े  हिन्दी कामुकता कहानी - राजू की बहने


error: Content is protected !!