कॉलेज लाइफ 2- शादी कज़िन की चुदाई मेरी

हेलो दोस्तो मई पालक अपनी रियल स्टोरी का सेकेंड पार्ट ले के आई हू, फर्स्ट पार्ट को अपने पसंद किया उसके लिए थॅंक्स.

इमरान से मेरी पहली चुदाई के बाद मुझे चूड़ने का नशा चाड गया था. हफ्ते मे कूम से कूम 3-4 बार मई इमरान से छुड़वा रही थी. ह्म दोनो को जहा मोका मिलता ह्म दोनो चुदाई शुरू कर देते थे.

फिर चाहे वो उसके दोस्त का रूम हो, कार हो या कॉलेज ही क्यू ना हो कॉलेज के अंदर कभी कभी इमरान किसी खाली क्लासरूम मे ले जाकर मेरी चुदाई करता था.

एक साल तक इसी तरह चूड़ने के बाद मई पूरा बदल गयी थी. मेरा फिगर साफ गवाही दे रहा था की मई जाम के छुड़वा रही हू. मेरी आस आंड बूब्स काफ़ी बड़े हो चुके थे.

साथ ही कॉलेज मे लड़के लड़कियो को भी पता चल गया था की मई बहुत बड़ी चुड़ाकड़ बन चुकी हू.

लेकिन मुझे इन सब से कोई फरक नही पद रहा था मुझे तो ब्स चुदाई का नशा चड़ा हुआ था.

ठीक इसी तरह एक दिन मेरी कज़िन सिस्टर की शादी थी और शादी मे पहनने के लिए मैने एक बॅकलेस रेड कलर की चोली और ल़हेंगा खरीदा. मैने जब ये बात इमरान को ब्टाई तो वो बोला-

इमरान – मई तुझे ल़हेंगा चोली मे छोड़ना चाहता हू.

मई – ठीक है कभी मिलगे तो मई यही पहना लूँगी.

इमरान – नही, तुझे शादी के दिन ही छोड़ना है.

मई – पागल हो क्या शादी मे नही मिल सकते!

इमरान – नही, मई उसी दिन तुझे छोड़ुगा, मई रत मे अवँगा शादी मे तू मोका देख के 1 घंटे का टाइम निकल लेना.

इमरान शादी के दिन ही मेरी चुदाई पे अदा रहा. मुझे तोड़ा दर भी लग रहा था बुत मुझे पता था की इमरान ने बोला है तो वो आएगा ज़रूर. इसलिए मैने भी अपनी तरफ से तैयारी शुरू कर दी.

सब्से पहले तो मैने बातरूम मे जा के अपनी छूट के बाल साफ किए. क्यूकी उसको ये बाल पसंद नही थे. फिर मैने अपनी एक रिलेटिव फ्रेंड जो मेरे कॉलेज मे ही पड़ती थी. जिसको मेरी चुदाई के बारे मे तोड़ा बहुत पता था उसको पटाया. जिससे वो मेरी थोड़ी हेल्प कर दे वो भी मान गयी.

रत का टाइम हो गया, मैने लहनगा चोली पहनी हुई थी जिसमे मई काफ़ी हॉट दिख रही थी. जिसका अंदाज़ा इस बात से हो गया था की शादी मे आए हुए लोग मुझे बहुत लाइन दे रहे थे. बुत इसका फयडा नही था क्यूकी मई पहले से ही इमरान से पति हुई थी.

इमरान भी शादी मे आया अपने एक दोस्त के साथ पर ह्मने बात नही की. रत मे कर्बी 1 भजे जब आधे लोग चले गये और बचे हुए लोग सोने चले गये तभी ह्म लोगो का प्लान आक्टिव हुआ.

जिस होटेल मे शादी हो रही थी उसकी बॅक साइड मे एक छ्होटा सा स्टोर रूम था जहा कोई नही जाता था. मैने सुभह ही वो जगह फिक्स कर ली थी. और अपनी फ्रेंड की हेल्प से वाहा दो गद्दे डाल दिए थे.

मोका पाते ही मई और इमरान वाहा पहुच गये और मेरी फ्रेंड आंड इमरान का दोस्त पहरा देने लगे.

रूम मे जाते ही इमरान ने अपने दोनो हाथ से मेरी आस पकड़ी और मेरे होत चूसने लगा, वो मेरे होतो को अपने दंटो से तोड़ा काट देता था और जूम के चूस्ता था. फिर उसने मेरी नेक पे किस की और मई भी जोस मे आ गयी.

फिर उसने मेरी चुर्नी अल्ग कर दी और मुझे गद्दो पे लिटा दिया. वो मेरे उपर आ गया और इमरान मेरे चेस्ट को निहारने लगा. क्यूकी मेरे दोनो बूब्स चोली उपर तेज़ सास चलने के कारण उपर नीचे होते हुए बहुत ही हॉट दिख रहे थे.

इमरान मे अपने रिघ्त हॅंड से मेरे लेफ्ट बूब को पकड़ के मसालने लगा. फिर उसने दोनो हाथ से चोली के उपर से ही मेरे निपल्स पकड़ के मुझे उपर की और खिचने लगा. जिससे मुझे दर और मज़ा दोनो हो रहे थे.

इमरान – साली तू तो बड़ी हॉट ल्ग रही है इसमे, आज तुझे छोड़ने का अलग मज़ा आएगा.

मई – जल्दी करो य्र कोई देख लेगा.

इमरान – चुप साली आराम से जी भर के छोड़ुगा तुझे आज.

फिर इमरान ने मुझे उल्टा लिटा दिया और मेरी बॅकलेस चोली जो सिर्फ़ एक हुओ के सहारे थी, उसकी खोल दिया और मेरे बॅक पे किस करने लगा. इस बीच उसने मे आस पे जोरदार 4-5 थप्पड़ भी मारे जो अब मेरे लिए नॉर्मल बात थी.

फिर उसने मुझे सीधा किया अब मई उसके सामने उपर से पूरी न्यूड थी मेरे लाइट ब्राउन निपल्स टाइट हो चुके थे. जिसको इमरान ने चूसना शुरू कर दिया, और मेरे बूब्स पे अपने बीते मार्क्स देने लगा.

इमरान हर बार मेरे बूब्स को काटता था जिसमे उसको बड़ा मज़ा आता था.

कर्बी 10 मीं तक मेरे बूब्स को द्वाने और चूसने से मई पूरी तरह से गीली हो गयी थी और इमरान भी ये साँझ गया था.

फिर उसने मेरा लहनगा खोल दिया और मेरी पेंटी उतार दी जिससे मई उसके सामने पूरी नंगी हो गयी. उसने भी मेरी छूट चाटना शुरू कर दिया और अपनी दो उंगली मेरी छूट मे डाल के छोड़ना शुरू कर दिया.

इससे मे एक बार झाड़ गयी लेकिन इमरान ने मेरी छूट चाटना चालू र्खा जिससे मई फिर से बहुत ज़यादा गरम हो गयी.

जब मुझे से रहा नही गया तो मैने इमरान से बोला-

मई – अब रहा नही जा रहा है छोड़ दो..

इमरान – (हेस्ट हुए) रुक जा मेरी जान.

तभी इमरान मेरे उपर आया और बिल्कुल मेरे चेस्ट पे बेत गया जिससे उसका लंड मेरे मूह के पास आ गया.

मैने भी उसके लंड अपने मूह मे लिया और उसको सक करने लगी. इमरान मेरे चेस्ट पे बेत के मेरे मूह मे अपना लंड दिए था. लंड चूसने के बाद इमरान नीचे आया उसने मेरे दोनो पैर उठा के अपने कांडो पे र्ख लिए और लंड मेरी छूट मे डाल के छोड़ने लगा.

मई भी सिसकिया लेने लगी आआआहााू आआ उउउम्म्म्म एयाया ऊहह.. इमरान जोरदार तरीके से मुझे छोड़े जा रहा था जिससे रूम मे आवाज़े आ रही थी.

तभी इमरान ने मेरे पैरो को मोदते हुए मेरे सर के पास लाया और जूम कर छोड़ने लगा, कर्बी 5 मीं चुदाई के बाद वो शांत हो गया

थोड़ी देर उसकी बहो मे आराम करने के बाद मई बोल-

मई – अब जौ?

इमरान – रुक अबी एक रौंद और छोड़ुगा.

इस टाइम तक मेरा भी दर जा चुका था और चुदाई का नशा चाड गया था तो मई भी मान गयी. लेकिन ह्म दोनो को एक घंटे से जयदा टाइम हो गया था.

थोड़ी देर बाद मैने इमरान का लंड दोबारा चूस के खड़ा किया और डॉगी पोज़ मे आ गयी.

इमरान भी मेरे पिच्चे आया और हमेसा की तरह आस पे जोरदार तपद मारे और मुझे छोड़ना शुरू कर दिया. उसने मेरे बाल पकड़ के मुझे जोरदार तरीके से छोड़ना शुरू कर दिया.

मई भी सिसकियो के साथ उसका लंड छूट मे फील कर रही थी.

तभी एक दूं से रूम मे मेरी रिलेटिव फ्रेंड आ गयी जो बाहर पहरा दे रही थी. अब उसने देखा की मई इमरान से कुटिया बन के लंड ले रही हू और इमरान भी मेरे बाल पकड़ के मुझे छोड़ रहा है था. वो शॉक्ड हो गयी, इमरान ने बिना चुदाई रोके उससे बोला-

इमरान – पारूल कोई आ रहा है क्या?

पारूल – नही, ब्स जयदा टाइम हो गया ना त्म लोगो को तो इसलिए चिंता होने लगी थी.

इमरान – साली भाग य्चा से नही तो मई तुझे भी छोड़ डुगा.

इतना सुनते ही पारूल वाहा से चली गयी. पर मई चूड़ते हुए ये सोच रही थी इमरान को उसका नामे कैसे पता. खेर मैने इस्पे ध्यान नही दिया और चुदाई के मज़ा लेने लगी.

थोड़ी देर बाद इमरान सीधा लेट गया और मई उसके लंड पे बेत के उच्छल उच्छल के उसके लंड लेने लगी. मेरे दोनो बूब्स उसकी आँखो के सामने झूल रहे थे. जिसे देख के इमरान को भी मज़ा आ रहा था. बीच बीच मे वो मेरी आस पे और फेस पे स्लॅप भी कर रहा था.

फिर एक दूं से इमरान ने मुझे पकड़ा और अपने नीचे ला के जोरदार तरीके से मुझे छोड़ना लगा. मेरी तो चीख सी निकल गयी पर मई साँझ गयी थी की अब इमरान का पानी निकालने वाला है और हुआ भी ऐसा ही.

सेकेंड रौंद की चुदाई के बाद मुझे काफ़ी नींद आने लगी. मान तो कर रहा था यही सो जाओ बुत फिर मैने कपड़े पहने और वाहा से जाने लगी.

तभी मैने इमरान से पुकचा त्म पारूल को कैसे जानते हो?

इमरान – पारूल की आस पे देखना एक बर्त मार्क है.

ये बोल के इमरान ने मेरी आस पे स्लॅप किया और हम दोनो वाहा से निकल गये.

इससे मई साँझ गयी की इमरान पारूल को भी छोड़ चुका था, लेकिन क्ब? ये नही पता चला.

तो दोस्तो ये रही मेरी सेकेंड रियल स्टोरी कैसी लगी ज़रूर बताए

यह कहानी भी पड़े  फेसबुक की अनजान लड़की से प्यार

error: Content is protected !!