कॉलेज के लड़कों ने मुझे चोदकर रंडी बनाया

New Sex Stories हेलो दोस्तों मैं प्रीति आप सभी का में स्वागत करती हूँ। मैं बहुत खूबसूरत और जवान लड़की हूँ। मेरी उम्र सिर्फ 22 है। मैं पूरी तरह से जवान हो चुकी हूँ और कई बार चुदवा भी चुकी हूँ। मैं अभी कॉलेज में पढ़ रह हूँ। मैं पहले की तरह अब छोटी बच्ची नही हूँ। मेरा हर तरह से विकास हो गया है। मेरा कद भी बढ़कर 5′ 2″ हो गया है। मेरा छातियाँ अब पहले की तुलना में काफी बड़ी बड़ी, और रसीली हो गयी है। कोई भी लड़का अगर मुझे एक बार देख लेता है तो बार बार देखना चाहता है। जवान लड़कों और अधेड़ उम्र के मर्द भी मेरे 36″ के बूब्स को बार बार ताड़ते है। कितने लड़के तो सिर्फ मुझे एक बार देखकर अपने घरों में जाकर मुठ मार लेते है। वो सब के सब मुझे चोदना चाहते है। वो सारे मर्द मेरी गुलाबी चूत में लंड डालकर मुझे चोदना चाहते है।

दोस्तों मेरे होठ भी काफी गुलाबी और सेक्सी है। कितने लड़के तो सिर्फ एक बार मेरे ताजे होठो को पीना चाहते है। मेरी गांड और पुट्ठे का साइज 34″ है। मेरी जींस से मेरे गोल मटोल पुट्ठे सभी को दिख जाते है। कई लड़के तो मेरी गांड पर चमाट मारना चाहते है और मेरी गांड में लंड डालकर चोदना चाहते है। मैं बहुत गोरी, सुंदर सुशील कन्या हूँ। मेरी चूत मारने के चक्कर में कितने लड़के मेरे पीछे पागल हो गये। दोस्तों मैं इतनी खूबसूरत लड़की हूँ की लड़के मेरी तरह बार बार खिंचे चले आते है। मुझे सेक्स और चुदाई बहुत पसंद है। मुझे अपनी रसेदार चुद्दी में 8″ का मोटा लंड खाना बहुत पसंद है। सेक्स और चुदाई मेरी कमजोरी है। यही वजह है की मैं रोज किसी न किसी लड़के से चुदा लेती हूँ। आज आपको अपनी स्टोरी सूना रही हूँ।

कॉलेज में जाते ही मेरी दोस्ती रोहन और दीपक से हो गयी थी। हमारा कॉलेज को ऐड था। लड़के लड़कियाँ साथ में पड़ते है। धीरे धीरे मुझे रोहन और दीपक से प्यार हो गया था। वैसे तो कोई लड़की एक बार में एक ही लड़के से इश्क लड़ाती है पर मेरा केस दूसरा था। मुझे दोनों से प्यार हो गया था। रोहन रोज सुबह मुझे कॉलेज के लिए पिक करने मेरे घर के पास एक बस स्टॉप पर आ जाता था। जबकि दीपक मुझे कॉलेज की छुट्टी होने के बाद अपनी बाइक से घर छोड़ देता था। एक दिन हम तीनो कॉलेज की केन्टीन में बैठे थे। रोहन और दीपक दोनों मुझे चोदना चाहते थे। हम तीनो एक बड़ी सी मेज के किनारे बैठे थे। अचानक रोहन ने अपना हाथ मेज के नीचे डाल दिया और मेरी जींस की चेन खोलकर चूत में ऊँगली करने लगा

यह कहानी भी पड़े  बड़े बूब्स और गांड वाली भिखारन को चोदा

केंटिन में और भी स्टूडेंट्स थे। पर सब अपनी अपनी माल के साथ बिसी थे। फिर दीपक ने देख देख लिया की रोहन अपने हाथ नीचे किये हुए है और मेरी चूत में ऊँगली कर रहा है। “ओय गांडू!! क्या कर रहा है???” दीपक बोला फिर उसने भी धीरे से हाथ मेरी नीचे डाल दिया और मेरी चूत में ऊँगली करने लगा। धीरे धीरे दोनों बारी बारी से मेरी चूत में ऊँगली करने लगे। मैं 15 मिनट बाद पूरी तरह से गर्म हो गयी थी।
“प्रीटी चल कॉलेज के पीछे वाले जंगल चलते है” रोहन बोला।

मैं समझ गयी की दोनों मुझे कसके चोदना चाहते है। फिर धीरे धीरे हम लोग खिसक लिए। हमारे कॉलेज के पीछे एक बड़ा जंगल था। यहाँ पर अक्सर प्रेमी जोड़े आकर चुदाई का मजा लिया करते थे। क्यूंकि यहाँ पर काफी सुनसान था और जल्दी कोई नही आता था। कुछ ही देर में हम तीनो पैदल चलकर जंगल पहुच गये। एक बड़े से पेड़ के नीचे हम तीनो रुके। रोहन के कॉलेज बैग में अखबार था। उसने जल्दी से एक बड़ा सा अखबार खोल दिया और जमीन पर बीछा दिया। मैंने जल्दी से अपना पिंक कलर का टॉपउतार दिया। फिर ब्रा भी खोल दी। उसके बाद मैं उन दोनों के साथ अखबार पर लेट गयी। रोहन ने मेरी बायीं चूची को पकड़ लिया और दबाने लगा। जबकि मेरे दूसरे बॉयफ्रेंड दीपक ने मेरी दाई चूची को पकड़ लिया और निचोड़ने लगा। दोनों मुझसे मजा लेने लगे। मैं “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ..अअअअअ..आहा .हा हा हा” बोलकर चिल्लाने लगी। मुझे बहुत मजा मिल रहा था।

मेरे दोनों आशिक जल्दी जल्दी मेरी 36″ की चूची को हाथ से दबा रहे थे। उसे सहला भी रहे थे। फिर दोनों लेटकर मेरे बूब्स चूसने लगे। रोहन ने मेरी बायीं चूची को मुंह में भर लिया और हपर हपर की आवाज के साथ पीने लगे। वही दूसरी तरफ दीपक ने मेरी दाई चूची को मुंह में भर लिया और चूसने लगा। दोस्तों मुझे जन्नत जैसा मिल रहा था। मैं खुद को रोक नही पा रही थी। “..अई.अई..अई..अई..इसस्स्स्स्स्स्स्स्…उहह्ह्ह्ह…ओह्ह्ह्हह्ह..” की आवाजो के साथ मैं कराह रही थी और सिसकियाँ ले रही थी। मुझे अजीब सा सेक्स और चुदाई का नशा चढ़ गया था। मेरे दोनों बॉयफ्रेंड जल्दी जल्दी मेरे बूब्स को चूस और पी रहे थे। मेरे मम्मे बेहद खूबसूरत थे। 36″ की बड़ी बड़ी सफ़ेद छातियाँ थी जिसे पीकर रोहन और दीपक मस्त हो गये थे। दोनों मेरी रसीली चूचियों को जल्दी जल्दी चूस रहे थे। काफी देर तक ये खेल चला। फिर दोनों नंगे हो गये। रोहन मेरे सीने पर बैठ गया और उसने अपना कॉलेज वाला बैग मेरे सिर के नीचे तकिया बनाकर लगा दिया। फिर उसने अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया।
“जानेमन!! चलो चूसो इसे” रोहन बोला
मैं जल्दी जल्दी उसके 9″ के लौड़े को मुंह में लेकर चूसने लगी। मुझे फुल मजा आ रहा था। दीपक ने मेरे दोनों पैर खोल दिए और मेरी चूत चाटने लगा। मुझे आज डबल मजा मिल रहा था। दीपक जल्दी जल्दी मेरे भोसड़े को अपनी लम्बी जीभ से चाटने लगा। मेरी चूत में वासना की आग जल गयी थी। मैंने खुद ही अपने दोनों पैर खोल दिए थे। रोहन के लौड़े को मैं जल्दी जल्दी हाथ से फेट रही थी और मुंह में लेकर चूस रही थी। उसके लौड़े का सुपाड़ा बहुत गुलाबी था। मैं बार बार उसे मुंह में लेकर चूस लेती थी। फिर रोहन ने एक जोर का धक्का मारा और उसका लंड मेरे गले तक नीचे उतर गया। काफी देर तक उसने लंड गले में डालके रखा और निकाला ही नही। मुझे साँस भी नही आ रही थी। काफी देर तक रोहन ने अपना लंड मेरे मुंह से निकाल। फिर दोनों ने अपने कपड़े निकाल दिए और नंगे हो गये।
“प्रीटी को पहले मैं चोदूंगा” रोहन बोला
“नही पहले मैं चोदूंगा” दीपक बोला
फिर दोनों में झगड़ा होने लगा।

यह कहानी भी पड़े  चुदाई बाय्फ्रेंड ओर उसके दोस्त के साथ

Pages: 1 2

error: Content is protected !!