कॉलेज के लड़का-लड़की के रोमॅंटिक सेक्स की कहानी

मेरा नाम मल्लू (नामे चेंज) है. मैं उप का रहने वाला हू. अब मैं आप लोगों को बिना बोर किए स्टोरी पे आता हू.

ये कहानी मेरी कॉलेज लाइफ की है. जब मैं अपने कॉलेज में फर्स्ट दे गया, तो अपने कुछ ओल्ड फ्रेंड्स से मिला, और अपना लेक्चर अटेंड करने गया.

तब मेरी नज़र एक बहुत की खूबसूरत लड़की पर पड़ी, जो बहुत स्माइल कर रही थी. मैं उसको घूरे जेया रहा था. फिर लेक्चर ख़तम होने के बाद मैं अपने दोस्तों के साथ बात कर रहा था.

सॉरी आप लोगों को उसका नाम बताना भूल गया. उसका नाम श्रुति था. तब वो लड़की केरे से बात करने आई, और बोली-

श्रुति: क्या मैं तुमसे बात कर सकती हू?

मे: यॅ शुवर.

श्रुति: तुम मुझे लेक्चर के टाइम इतना घूर क्यू रहे थे?

मे (घबराते हुए ): नही.

श्रुति: मैने खुद देखा था.

मे: सॉरी, बुत तुम बहुत खूबसूरत हो. मेरी तो नज़र ही तुमसे नही हॅट रही थी.

श्रुति: थॅंक्स.

और वो मुस्कुरा कर चली गयी.

फिर ऐसे ही हमारी रोज़ बातें होने लगी, और हम दोनो बहुत आचे दोस्त बन गये. हम दोनो ने एक-दूसरे के साथ मोबाइल नंबर्स एक्सचेंज कर लिए थे.

कॉलेज के बाद हम टेक्स्ट मेसेज और Wहत्साप्प पे बात करने लगे, और रात-रात भर कॉल्स पे बातें करने लगे. एक दिन बात करते हुए श्रुति बोली-

श्रुति: मैं तुम्हे बहुत मिस कर रही हू. ई मिस योउ.

मे: ई मिस योउ टू.

श्रुति: मुझे लगता है मुझे तुमसे प्यार हो गया है. मैं तुम्हारे साथ अपनी ज़िंदगी बिताना चाहती हू. ई लोवे योउ सो मच. दो योउ लोवे मे?

मैं भी श्रुति को प्यार करने लगा था, तो मैने उसको बोला-

मे: ई लोवे योउ टू श्रुति. मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हू, और अपनी पूरी ज़िंदगी तुम्हारे साथ बिताना चाहता हू.

इसी तरह बात करते-करते पता ही नही चला कब मॉर्निंग हो गयी. और हम दोनो अब कॉलेज में मिलने के लिए बहुत एग्ज़ाइटेड थे.

मैं रेडी होकर कॉलेज पहुँच गया था, और श्रुति का वेट करने लगा. मैं बहुत ही एग्ज़ाइटेड था श्रुति से मिलने के लिए. आज कुछ अलग ही एग्ज़ाइट्मेंट थी. फिर अचानक मेरी कॉलेज गाते पर नज़र गयी. श्रुति पिंक त-शर्ट और ब्लू जीन्स में खुले बालों के साथ आ रही थी.

वो बाला की खूबसूरत लग रही थी आज, और मैं उसको देखे ही जेया रहा था. फिर अचानक से एक आवाज़ आई, और वो आवाज़ श्रुति की थी.

श्रुति: गुड मॉर्निंग जान.

मे: गुड मॉर्निंग बेबी.

हम दोनो एक&दूसरे को हग किए, और हग इतना टाइट था की मैं श्रुति के बूब्स फील कर पा रहा था. श्रुति को हग करते हुए मेरी जीन्स में भी कुछ हुलचूल हुई, और मेरा लंड रोड की तरह कड़क हो चुका था. ये श्रुति को भी फील हो रहा था.

अब हम एक-दूसरे में खोए हुए थे. फिर हम अलग हुए, और अपने लेक्चर को अटेंड करने के लिए क्लास में एंटर किए. हम दोनो लास्ट बेंच पर एक साथ बैठे हुए थे.

श्रुति मेरा हाथ पकड़े हुई थी. और वो मेरी ज़िंदगी का अलग ही एहसास था. हम एक-दूसरे को पागलों की तरह प्यार करने लगे थे. नेक्स्ट दे हम लोगो का ऑफ था, और हमने मेरे घर पर मिलने का प्लान बनाया.

मैं आप लोगों को बता डू, की मेरी फॅमिली में मेरी मुम्मा, और मेरे पापा है. पापा बिज़्नेसमॅन है, जो बिज़्नेस की वजह से आउट ऑफ सिटी रहते है, और मुम्मा भी उनके साथ जाती है. तो मैं अकेला ही रहता हू मोस्ट्ली.

हम दोनो ही कल का वेट कर रहे थे. फाइनली वो दिन आ ही गया, जब हम दोनो मेरे घर पर मिलने वाले थे. मैं अर्ली मॉर्निंग ही फ्रेश होकर रेडी हो गया, और मैने त-शर्ट आंड शॉर्ट्स डाले था. फिर मेरे घर के डोर पे नॉक हुई, और मैने डोर ओपन किया तो मेरे सामने श्रुति खड़ी थी.

वो पिंक त-शर्ट और शॉर्ट्स में थी. उसके खुले बाल हवा में लहरा रहे थे, जिनको देख कर मेरा खुद पर कंट्रोल ना रहा, और मैं उसको देखे ही जेया रहा था.

फिर अचानक से आवाज़ आई, “क्या डोर पे ही खड़ा रखोगे?” ये आवाज़ श्रुति की थी.

मे: ही श्रुति, लुकिंग गॉर्जियस!

श्रुति: ही जान, थॅंक योउ सो मच.

मे: आओ अंदर आओ. यहा क्यू खड़ी हो?

वो अंदर आती है, और मैं गाते लॉक करता हू. फिर मैने उसको सोफे पर बैठने को बोलता हू. उसके बाद मैं किचन से जूस लता हू दो ग्लासस में.

मे: जूस लो श्रुति.

वो जूस ले लेती है. फिर हम दोनो मेरे बेडरूम में जाते है, और लेट कर बातें करने लगते है. मैं बस श्रुति को ही देखने लगता हू, और देखते-देखते ही मैं उसके लिप्स पर अपने लिप्स रख देता हू. स्टार्टिंग में वो तोड़ा शरमाती है. बुत बाद में वो भी किस्सिंग में साथ देने लगती है.

मे: उम्महह.

श्रुति: उम्म्माअहह.

हम दोनो पागलों की तरह एक-दूसरे को किस कर रहे होते है. कभी वो मेरे मूह में अपनी जीभ डालती, और कभी मैं उसके मूह में. और हम दोनो बहुत गरम हो जाते है. फिर मेरा हाथ श्रुति के बूब्स पर चला जाता है, और वो मोन करने लगती है आह आह करके.

उसका साइज़ था 34-26-36, और मैं त-शर्ट के उपर से ही उसके बूब्स दबा रहा था. वो भी मज़े ले रही थी, और उसका हाथ मेरे लंड पर घूम रहा था. हम दोनो एक-दूसरे की गरम सांसो को महसूस कर रहे थे.

फिर मैं श्रुति के एअर के पास किस करता हू, उर नेक पर लोवे बीते देता हू. श्रुति बहुत गरम हो जाती है इस सब से. फिर मैं उसकी पिंक त-शर्ट उतार कर फेंक देता हू. उसने त-शर्ट के साथ पिंक कलर की ब्रा डाली थी.

मैं ब्रा के उपर से ही श्रुति के बूब्स को मूह में भर कर चूसने लगता हू, और श्रुति मोनिंग करने लगती है.

श्रुति: अया जान.

अब मैं श्रुति की डेनिम शॉर्ट्स भी निकाल देता हू, और वो पिंक पनटी और ब्रा में बहुत ही हॉट आंड खूबसूरत लग रही थी.

आयेज की स्टोरी मैं नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा. तब तक आप लोग मुझे मैल कर सकते है, और अपने सजेशन्स दे सकते है. थॅंक्स!

यह कहानी भी पड़े  भाई की हवस बहन और उसकी बेटी के लिए


error: Content is protected !!