कॉलेज फ्रेंड्स के सेक्सी डेर्स की हॉट कहानी

ही दोस्तों,

ये स्टोरी काफ़ी स्पेशल होने वाली है, क्यूंकी ये स्टोरी में वो सब होगा जो मेरी बस एक फॅंटेसी थी. चलो स्टोरी शुरू करते है.

तो मैं कॉलेज में पढ़ता हू, और मेरे कुछ आचे फ्रेंड्स भी है कॉलेज में. बुत आज कल ट्रेंड है बेस्टफ्र्ीएंड बनाने का, तो बता डू 2 लड़के और 2 लड़कियाँ मेरे बेस्टफ्र्ीएंड है. मतलब एक दूं अनोखे. हम हमेशा ही साथ रहते थे कॉलेज में, या कॉलेज से बाहर भी.

मेरे दोस्तों में 2 लड़के रोशन और ज़ाकिर थे. और लड़कियों में जो मेरी फ्रेंड्स थी वो माहिका और गोल्डी थी.

हम सभी फ्रेंड्स तब कॉलेज में थे, और हम अक्सर बहुत सारे उल्टे-सीधे काम करते थे. हमे मज़ा भी बहुत आता था. मतलब हमारे सारे फ्रेंड्स डेरिंग वाले थे, फिर वो चाहे लड़का हो या लड़की.

एक दिन पार्टी में हम सभी फ्रेंड्स गये हुए थे. वाहा पे कॉलेज के बाकी भी लड़के लड़कियाँ थे. पार्टी ख़तम होने तक रात के 1 बजे. काफ़ी रात हो गयी थी, तो हम 5 लोग ( मैं, गोल्डी, माहिका, ज़ाकिर, और रोशन) एक साथ ही पार्टी के बाद निकले. रास्ता बिल्कुल शांत पड़ा हुआ था. कोई दिखाई नही दे रहा था. तभी ज़ाकिर बोला-

ज़ाकिर: क्यूँ ना हम लड़कियों को कुछ चॅलेंज देते है, और लड़कियाँ हम लड़को को?

फिर सब ने हा बोल दिया, और हम धीरे-धीरे अपने घर की तरफ बढ़ रहे थे, और बातें भी किए जेया रहे थे. और तभी हम सब मेरे घर आए, और मैने अपनी कार निकली और हम सब उसमे बैठ के फिरसे ऐसे ही रॅंडम निकल गये कार से. हमे कुछ भी पता नही था, कहा जाएँगे, बस ये था की आज पूरी रात कार से घूमेंगे.

कार ड्राइव कर रहा था रोशन. मैं फ्रंट सीट पे बैठा था, और ज़ाकिर, माहिका, और गोल्डी पीछे की सीट पे. फिर एक ट्रक को देख कर के ज़ाकिर बोला-

ज़ाकिर: माहिका तुझे रोड की साइड में बैठ कर के पेशाब करना होगा. ट्रक के आने तक तुम पेशाब करती रहोगी, जब तक ट्रक पास ना हो जाए.

माहिका रेडी हो गयी, और रोशन ने कार रोक ली. फिर माहिका ने कार से उतार के, कुछ आयेज जाके अपनी जीन्स खोली, और फिर पनटी नीचे की, और वही हाइवे पे ही मूतने लगी. उसकी सस्यू की आवाज़ यहा तक आ रही थी, और हम लोगों को उसकी थोड़ी-थोड़ी गांद भी दिख रही थी.

माहिका पेशाब करती रही, और तभी ट्रक वाला आया. वो वाहा आया और ट्रक को स्लो कर दिया था ये नज़ारा देख कर. ट्रक वाला माहिका को ऐसे मूट-ते हुए उसकी पीछे से गांद देख मुस्काराया, और स्लो-स्लो ही वाहा से ट्रक लेकर के गया.

फिर हम सब खूब हास्से, और माहिका भी तब तक अपनी पनटी और जीन्स पहन कर आ गयी थी. उसने ये वाली एक फॅंटेसी डरे करके सब को खुश कर दिया था. फिर हम सब कार में बैठ कर के आयेज निकल गये. थोड़ी ही आयेज गये थे की फिर रोशन ने गोल्डी को बोला-

रोशन: तुम्हे अपना उपर का टॉप उतार करके रोड पे चलना होगा.

फिर गोल्डी अपनी टॉप निकली, और सिर्फ़ ब्रा में हो गयी. क्या लग रही थी गोल्डी ब्रा में. उसने पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी, और वो वैसे ही ब्रा में ही खुले रोड पे चलने लगी.

उसी समय कुछ बाइक्स और कार वाले भी आए और उनके सामने गोल्डी ऐसे ही ब्रा में चल रही थी. और उतने समय में जो आया सभी थोड़ी देर रुक करके गोल्डी का नज़ारा देखे. फिर गोल्डी वापस आई और अपना टॉप पहन ली, और हम सब फिरसे कार में बैठ गये थे. तभी माहिका ने मेरे से बोला-

माहिका: राहुल, तुम उस गर्ल्स हॉस्टिल के सामने जाके पेशाब करोगे.

कार थोड़ी डोर पे रोकी गयी, और मैं हॉस्टिल के सामने गया. अभी भी कुछ लड़कियाँ शायद स्टडी कर रही थी रात में भी. मैने अपनी ज़िप खोली, और गर्ल्स हॉस्टिल की तरफ मूह करके अपना लंबा लंड निकाल करके मूतने लगा. तभी कार में बैठे बाकी हल्ला कर दिए ताकि लड़कियाँ देख सके.

और ऐसा ही हुआ. रोड पे हल्ला सुन कर के बहुत सारी लड़कियाँ अपनी खिड़कियों पे आ करके रोड पे देखी. तो उनके सामने मैं अपना लंबा लंड निकाले मूट रहा था. और ये देख करके सारी लड़कियाँ कुछ अचंभित भी थी और कुछ मज़े भी ले रही थी देख करके.

अब वाहा पे कुछ बवाल ना हो, तो हम जल्दी से वाहा से कार लेके भागे. तब तक सुबा के 3:40 हो चुके थे, और लोग मॉर्निंग वॉक के लिए कोई-कोई बाहर निकालने लगा था. मैने फिर माहिका से बोला-

मे: माहिका तुमको किसी लड़के को अकेले में ले जाके सिड्यूस करना है.

माहिका शॉक हो गयी और बोली: नही-नही ज़्यादा हो जाएगा.

मे: अर्रे कुछ नही होगा. अभी ज़्यादा लोग नही है, और बस सिड्यूस करना है. जैसे ही तुमको लगे की वो कुछ करने वाला है, तुम वाहा से चली आना.

माहिका पहले तो रेडी नही थी, बुत फिर सब के कहने पे रेडी हो गयी. उसने स्पोर्ट्स ब्रा पहनी हुई थी, इसलिए वो अपना टॉप निकाल दी, और स्पोर्ट्स ब्रा में बाहर निकली. तभी उसको एक 40 साल के अंकल दिखाई दिए.

फिर वो तोड़ा लंगड़ाती हुई आयेज बढ़ने लगी, और हम सब बगल में ही च्छूपे थे. तभी अंकल माहिका के पास में आए और बोले-,

अंकल: क्या हुआ बेटा, क्या हुआ है आपको?

माहिका: अंकल मैं मॉर्निंग वॉक पे आई हुई थी, तो ठोकर लग गयी. बहुत दर्द हो रहा है.

अंकल माहिका का पावं खींचने लगे. तभी माहिका ने अंकल के कंधे पे अपना एक हाथ रख दिया, जिससे अंकल तोड़ा सा झेप सा गये.
फिर अंकल माहिका को अपनी गोदी में उठाए, और पास की एक सेमेंट की बनी पुली पे बैठा दिए.

अंकल ने माहिका को नीचे से उठाया था जिससे माहिका की गांद अंकल को टच हुई थी. और माहिका जान-बूझ के अपने बूब्स अंकल की च्चती से टकरा दी. अंकल अब पागल से हो गये थे. उसने माहिका को बिताया, और चारो तरफ देखा कोई नही था.

फिर माहिका के पावं को खींचने के बहाने उसका पावं अपने हाथ में लेकर के उसकी जाँघ तक सहलाने और टच करने लगा. माहिका कुछ भी रेस्पॉन्स नही दी, तो अंकल को और जोश आ गया और वो माहिका के पीछे जेया करके सीधे माहिका के दोनो बूब्स को पकड़ के मसालने लगे और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगे.

ये देख करके ज़ाकिर ने गोल्डी से बोला: वाह क्या सीन है गोल्डी. बेचारी सहम सी गयी ज़ाकिर के मूह से ये सब सुन करके.

अंकल माहिका के दोनो बूब्स को ऐसे निचोढ़ रहा था, जैसे उसमे से दूध निकाल रहा हो, और माहिका एक-दूं से मदहोश हो गयी थी. तभी माहिका को होश आया और वो फटत से उठी, और वाहा से भाग गयी. अंकल भी हैरान था की ये क्या हुआ. और वो तर्की अंकल माहिका के जाने के बाद अपना खड़ा लंड हाथ से मसलता रह गया. और इधर माहिका कार के पास चली आई.

कुछ देर के बाद हम सब भी कार के पास में गये, और माहिका को देख के हासणे लगे की एक 40 साल के अंकल की क्या हालत कर दी थी हमारी दोस्त ने. फिर अब बरी थी रोशन की, लेकिन सुबा भी हो गयी थी. तो हम वापस से घर आ रहे थे. तभी माहिका बोली-

माहिका: राहुल की बेहन को सिड्यूस करना होगा रोशन को.

मैं तो सुन के डांग रह गया और सोचने लगा ये क्या बोली थी माहिका.

मे: अर्रे वो मेरी बेहन है यार.

माहिका: मैने भी तो तुम्हारे कहने पे 40 साल के बुड्ढे को सिड्यूस किया ना.

मे: लेकिन ये मेरे घर की बात हो जाएगी.

माहिका: किसी को कुछ भी पता नही चलेगा, और हा तुम्हारे घर केवल रोशन जाएगा कार लेके हम लोग घर नही जाएँगे, वरना इसकी बेहन को ये सिड्यूस नही कर पाएगा.

और रोशन को उसका वीडियो ब्नाना था, ताकि सब देख सके की सिड्यूस किया है या नही. रोशन फिर मेरी कार लेके मेरे घर चला गया, और तब मेरी बेहन सोनाली बोल-ई-

सोनाली: राहुल कहा है?

रोशन: वो तो एक दोस्त की तबीयत खराब थी, तो उसी के साथ में है. और मैं इधर ही आ रहा था, तो मुझे बोला की घर पे मेरी कार लगा देना.

सोनाली: ठीक है, आप अंदर आओ और बोलो कुछ लोगे?

रोशन: जी नही, मुझे थोड़ी सस्यू लगी है.

सोनाली (हाथ से बताते हुए): उधर है, चले जाओ.

रोशन गया और सस्यू हो करके वापस आया.

रोशन: मैं कैसे जौ इतनी सुबा? मैं सोच रहा था राहुल आएगा उसी के साथ मैं अपने घर चला जौंगा.

सोनाली: ठीक है, आप राहुल के रूम में जेया कर के आराम कर सकते है.

और फिर सोनाली ये बोल करके बातरूम में नहाने चली गयी. सोनाली रोज़ सुबा में ही नहा लेती थी, और पूजा पाठ करती थी. रोशन को ये बात पता थी पहले से क्यूंकी उसने आते ही देखा की सोनाली टवल और अपने कपड़े ली हुई थी. इसका मतलब वो नहाने जाएगी. इसलिए रोशन ने पेशाब करने के बहाने बातरूम में जेया करके अपना मोबाइल च्छूपा करके रेकॉर्डिंग में लगा दिया.

उसने ऐसी जगह मोबाइल सेट किया, जिससे सोनाली पूरी दिखे. लेकिन सोनाली को मोबाइल ना दिखे. अब सोनाली नहाने गयी और थोड़ी देर बाद नहा करके बाहर निकली, और अपने रूम में चली गयी. फिर रोशन बातरूम में गया, और अपना मोबाइल लेके वापस राहुल के रूम में चला गया, और वीडियो चालू करके देखने लगा.

रोशन जैसे ही वीडियो चालू किया, उसने देखा की सोनाली बातरूम के अंदर आई और पहले टवल को हॅंगर पे लगाया. फिर सबसे पहले अपनी त-शर्ट निकाल दी. अब सोनाली उपर से केवल ब्रा में थी. उसके बड़े-बड़े बूब्स क्या लग रहे थे, जैसे बाहर निकालने को बेताब थे.

उसके बाद सोनाली ने लोवर को नीचे किया, और लोवर निकली. अब वो केवल ब्रा और पनटी में थी. और इधर रोशन का लंड सोनाली का बदन देख कर पूरा खड़ा हो चुका था.

तभी उसने देखा की सोनाली ने अपनी ब्रा भी खोल दी. अब सोनाली के बूब्स पुर नंगे थे और रोशन पहली बार मेरी बेहन के नंगे बूब्स देख रहा था.

फिर वो अपने लंड को बाहर निकाल करके हिलने लगा ये देख करके. सोनाली ने फिर लास्ट में पनटी भी निकाल दी. अब रोशन तो पूरा पागल हो गया था. क्या माल लग रही थी सोनाली. रोशन अभी तक 4 लड़कियों को छोड़ चुका था. ये उसने मुझे बताया था. बुत सोनाली को देखा तो उसको विश्वास ही नही हुआ की ऐसी माल उसके दोस्त की बेहन होगी.

और रोशन अब सोनाली को छोड़ने के सपने देखने लगा और अपना लंड हिलने लगा. उसको अभी भी विश्वास नही हो रहा था, की अपने सबसे बढ़िया दोस्त की बेहन को नंगा देख रहा था, और छोड़ने का आइडिया मॅन ही मॅन बना रहा था.

ये कहानी अगर अची लगी तो आप मुझे अपनी फीडबॅक ज़रूर दीजिएगा.

यह कहानी भी पड़े  मेरी मों रंडी के जैसे चुदि

अब अगले पार्ट में कैसे उसने दिया हुआ फॅंटेसी डरे कंप्लीट किया, और आयेज क्या हुआ वो पता चलेगा. तब तक के लिए आप लोग अपने प्यारे-प्यारे कॉमेंट्स करते रहिए.



error: Content is protected !!