चोदो और सरको-2

चोदो और सरको-1 पिछले अंक में मेरी कहानी थोड़ी अधूरी छोट गयी थी, और टोइलेट में शालू की चुदाई के साथ ख़त्म हुई थी. इस अफ़सोस के साथ की सिर्फ एक लडकी की चुदाई कर पाया. सो, चोदन के बाद हम लोगों ने सोचा के थोडा थोडा करके दरवाजा खोलें और अगर बाहर कोई न हो तो एक एक करके बाहर निकल लें. आगे थी रुपिका, उसने दरवाजा हलके से खोला तो दरवाजा जोर से पूरा खुल गया. सामने कोच को देख के हम तीनों चौंक गए. कोच ने मुझे एक झापड़ लगाया और थोड़ी ऊँची आवाज में बात करने लगा. मैं घबरा गया के लोग इकठ्ठे हो जायेंगे और जम के पिटाई होगी. लेकिन कोच ने अपना ध्यान शालू पर केन्द्रित कर लिया. बोले- “तुम उम्र में सबसे बड़ी और टीम की सबसे पुरानी खिलाडी हो, तुम भी ऐसा करोगी. साथ में नयी लडकी को भी खराब कर रही हो. मैं तुम्हे टीम से भी निकालूँगा और स्कूल से भी.” शालू गिडगिडाने लगी. बोली- “सर, गलती हो गयी, बोलिए क्या करू?” कोच बोला- “गलती की सजा तो मिलेगी, यहीं ख़त्म कर सकते हैं नहीं तो बाद में.” मैं समझा नहीं लेकिन शालू समझ गयी, बोली- “जैसे आप करें, सर.” कोच बोला- “ठीक है, तो फिर वापिस अन्दर चलो.” शालू वापिस बाथरूम में, कोच के साथ और मैं और रुपिका बाहर रह गए. हमें समझ में नहीं आया के क्या करें. यकीन करो दोस्तों, अब का समय होता तो मैं शोर मचा के लोगों को इकठ्ठा करके कोच की करतूत खोल देता, लेकिन उस समय मैं खुद ही डरा हुआ था और जैसे भी हो, मुसीबत से पिंड छुटाना चाहता था.

आगे की कहानी खुद शालू के मुंह से सुनी हुई कहानी है:
अन्दर पहुँच के कोच ने अपने हाथ में शालू का मुंह ऐसे पकड़ा के अंगूठा एक गाल को दबोच रहा था तो अंगुलियाँ दुसरे गाल को. बीच में उसके गोल गोल ओंठ मानो चुम्बन के लिए बाहर निकले हों. कोच ने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया. फिर उसने शालू की चूची पे ज़ोरदार च्यूंटी मारी. शालू कराह उठी. कोच बोला -“क्यूँ, अजनबियों से चुदने में दर्द नहीं होता, हमी से दर्द होता है?” फिर कोच बोला- “लंड चूसेगी मेरा?” शालू बोली- “नहीं सर, जो करना है कर लीजिये” तो बोला- “लंड तो चूसना पड़ेगा, लंड चूसे बिना तो बात नहीं बनेगी. कितने दिनों से तेरे रसीले होठों पे लंड रगड़ने का ख्वाब लिए मुठ मार रहा हूँ मैं, आज तो मुंह में ले ही ले.” बोल के कोच ने अपना ढीला लंड अपनी पेंट से बाहर निकाला. शालू को थोड़ी हंसी आ गयी, तो कोच बोला, “चूस तो बिटिया रानी, फिर देख कितना बड़ा होता है. गांड फट जायेगी तेरी मेरा खडा लंड देख के.” शालू को उसके अश्लील शब्द इस्तेमाल करने पे गुस्सा तो आया, लेकिन बेचारी मजबूर थी. उसे घिन भी आ रही थी कोच के लौड़े से टपकती लार से, जिसने उसके गालों को गन्दा कर दिया था. अभी भी कोच का लंड एकदम ढीला था, लेकिन लम्बाई और गोलाई में थोडा बढ़ गया था. फिर उसने अपना लंड ले जाके शालू के होठों पे रगड़ना शुरू कर दिया. अपनी गंदी नज़रों से शाल के चेहरे पे लगातार नज़र रखे वो अपना लंड शालू के सख्त और बंद होठों से रगड़ता रहा. फिर बोला – “होंठ खोल भी जालिम, मुंह में ले ले”. शालू ने मुंह ज़रा सा खोला और उसके नाजुक नाजुक नर्म नर्म भरे भरे होठों पे कोच ने अपने लंड की उपरी त्वचा हटा के सुपाडा उसके मुंह में हल्का सा दे दिया. शालू को उसके लंड से बदबू सी आयी और ऊपर से लौड़े की लार का खट्टा खट्टा नमकीन सा स्वाद. उसके मुंह से उल्टी सी निकली, लेकिन उसका मुंह जरा और खुलते ही कोच ने उसके मुंह में अपना नर्म लौड़ा घुसेड़ने की कोशिश की. नाकाम होने पे कोच ने अपना हाथ शालू की ठोडी के नीचे रखा और दुसरे हाथ से उसका माथा थोडा पीछे धकेला. शालू का मुंह और खुला, कोई और चारा न देख के शालू ने पूरा लंड अपने मुंह में ले लिया और धीरे धीरे चूसने लगी. कोच ने अपनी आँखें यूँ बंद कर ली के अभी माल निकाल देगा, लेकिन वीर्य स्खलन के बजाय उसका लंड बड़ा और खड़ा होने लगा. अब लंड कोई ७-८ इंच लम्बा हो गया था और सिर्फ सामने के २ इंच शालू के मुंह में आ पा रहे थे. शालू ने अपने एक कोमल हाथ से कोच का लंड थामा और अपने मुंह को आगे पीछे कर के पंड चूसने लगी. लौड़ा और सख्त होता गया. कोच ने गंदी बातें जारी रखी – “बहन की लौड़ी, कहाँ थी इतने दिनों से, इतना मस्त तो रंडियां भी नहीं चूसती. चूस, और स्वाद ले ले के चूस.” गुस्से और शर्म से शालू का मुंह एकदम लाल हो रहा था, जिससे कोच को शायद और उत्तेजना मिल रही थी. झुक के कोच ने शालू का एक मम्मा पकड़ लिया और जोर जोर से दबाने लगा. शालू के निप्पल एकदम सख्त हो गए तो कोच ने कपड़ों के ऊपर से ही भांप के जोर से च्यूंटी भर दी. शालू ने हल्का सा कोच के लंड पे दांतों पे काट दिया लेकिन कोच को दर्द के बजाय उल्टा मजा आया, बोला- “हाँ, काट मेरे लौड़े पे कुतिया की तरह. उफ़, तेरे जैसी लौंडिया को तो मैं हर छेद में दिन रात चोदूं.”

यह कहानी भी पड़े  पोलीस वाली आंटी को बड़ा लंड दिया

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!