चाचा ने भतीजी के साथ की अपनी पहली चुदाई

हेलो दोस्तों, मेरा नाम है सलीम, और मैं कोलकाता से बिलॉंग करता हू. मेरी हाइट 5’5″ है. मेरे लंड का साइज़ 6 इंच है, और मैने अपनी स्टडी कोलकाता से ही की है.

आज मैं जिस लड़की के बारे में बताने जेया रहा हू, उसका नाम अस्टरा है. वो अपने बाप की एक ही लड़की है. वो एक बार सेक्स कर चुकी थी, अपने कज़िन भाई के साथ. ये बात मुझे बाद में पता चली. लेकिन मैं पहली बार किसी लड़की को छोड़ रहा था.

मैं अपनी स्टडी करने के बाद अपने गाओं गया घूमने. मेरे घर मम्मी, पापा, और मेरा छ्होटा भाई रहते है. लेकिन मेरा छ्होटा भाई दूसरी सिटी में रहता है. हमारे पड़ोस में एक आंटी की फॅमिली रहती है, उसकी रिलेटिव रहने के लिए आई थी.

आंटी के घर कन्स्ट्रक्षन का काम चल रहा था, तो उनकी रिलेटिव को हम लोगों के घर सोने के लिए भेज दिया. रिश्ते में वो मेरी भतीजी लगती थी. देखने में इतनी अची नही थी, लेकिन अभी-अभी जवानी में कदम रखा था.

लेकिन मैने उससे ऐसे ही बात करना शुरू किया. मम्मी किचन में काम कर रही थी. हम लोगों के दूसरे रूम में वो आराम कर रही थी, और हम लोग बातें कर रहे थे. मैने सोचा क्यूँ ना उसकी टाँग को टच किया जाए. फिर मैने वैसा ही किया.

उसने कोई रिक्षन नही दिया. फिर मैने उसके पैर को सहलाना शुरू किया.

मैने उससे कहा: छोड़ने डोगी?

फिर उसने कहा: मैं तुम्हारी भतीजी हू. मुझसे ऐसी बातें करते हो?

फिर मैने कहा: तुम हो भतीजी, लेकिन तुम्हारी छूट तो नही है.

फिर मैं उसकी छूट तक अपना हाथ लेके गया. वो मेरे हाथ को हटाने लगी.

फिर मैने उसको कहा: आज रात को मेरे रूम में आ जाना, डोर ओपन रहेगा.

फिर वो बोली: ठीक है, देखती हू.

मैने वैसे ही किया, और डोर ओपन करके सोने लगा. लेकिन नींद नही आ रही थी. रात के 3 बाज चुके थे. अचानक वो मेरे रूम में आई.

मैने उसको कहा: इतना लाते क्यूँ आई?

वो बोली: कोई देख ना ले, इसलिए इतनी लाते आई.

फिर मैने उसको कपड़े उतारने के लिए कहा. उसने अपनी पनटी तक ही कपड़े उतारे. उपर वाले वैसे ही पहने रही.

मैने कहा: अपनी ड्रेस पूरी उतरो.

उसने माना कर दिया. फिर मैने ज़बरदस्ती नही की. मैं उसको कुत्तों की तरह किस करने लगा. वो कहने लगी आहिस्ता से करो. मैने उसको अपने बेड पर लिटा दिया. फिर डाइरेक्ट उसकी छूट में अपना मूह रख दिया. छ्होटे-छ्होटे बाल थे उसकी छूट में. उसकी छूट बहुत काली थी.

लेकिन मुझे नशा था छूट को चाटने का. 10 मिनिट तक मैने उसकी छूट को चाट-चाट के लाल कर दिया.

फिर वो बोलने लगी: अपना लंड डालो ना.

लेकिन मैं सोच रहा था इतनी भी क्या जल्दी है. वर्जिन छूट है, तो आिष्ता-आिष्ता से करता हू. लेकिन वो पहले से चुड चुकी थी. मैने उसको बेड पे लिटा के उसके दोनो पैर अपने कंधे पे रख दिए. फिर मैने अपना लंड उसकी छूट में सेट किया. उसके बाद आहिस्ता-आहिस्ता से लंड को पुश किया, और लंड आराम से अंदर चला गया.

तभी वो दर्द से हिलने लगी. मैने अपना पूरा लंड छूट में घुसा दिया, और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा.

वो कहने लगी: प्लीज़ छ्चोढो मुझे, हो गया है मेरा.

10 मिनिट ऐसे ही चूड़ने के बाद वो बोली: मेरी छूट से पानी निकालने वाला है.

फिर मैने अपना लंड निकाला अपना, और उसके मूह के पास लेके गया. मैने उसको लंड चूसने को बोला, लेकिन वो माना करने लगी. फिर मैने उसको माना लिया, और वो आहिस्ता-आहिस्ता से लंड मूह में लेने लगी. 5 मिनिट के बाद वो बोली-

वो: हो गया क्या?

मेरा अभी कहा हुआ था, तो मैने कहा: अभी कहा रानी? अभी तो शुरुआत हुई है.

फिर मैने उसको डॉगी-स्टाइल में खड़ा किया. लेकिन वो कहने लगी-

वो: जल्दी करो, सुबह हो जाएगी.

मैने अपना लंड फिर उसकी छूट में डाल दिया, और ज़ोरदार धक्के मारने लगा.

अब वो कहने लगी: आ मा मॅर गयी. प्लीज़ बाहर निकालो इसको. चाचा मुझे छ्चोढ़ दो प्लीज़.

मैं उसकी ऐसी हालत देख के और तेज़-तेज़ छोड़ने लगा, और वो फिरसे एक बार पानी छ्चोढ़ दी. फिर मैने अपना मूह उसकी छूट में लगाया और पूरा पानी पी गया. फिर मैने उसे कहा 69 की पोज़िशन में आ जाओ. लेकिन वो समझी नही. मैने उसको लिटा दिया, और अपना लंड उसकी मूह में डाल दिया, और उसकी छूट में अपना मूह रख दिया.

फिर मैने उसको कहा: इसको कहते है 69 की पोज़िशन.

लेकिन वो तक गयी थी. फिर मैं उसको पहले वाली पोज़िशन में लाया. उसके बाद अपना लंड फिरसे छूट में डाल दिया था.

अब उसको पता चल गया था की ये मुझे अब पूरी रंडी बना के ही छ्चोढेगा. लेकिन मैं आहिस्ता-आहिस्ता से छोड़ने लगा. अब वो अपने बूब्स को दोनो हाथो से सहलाने लगी, और मोनिंग करने लगी. अब मैं उसको बूब्स को भी ज़ोर-ज़ोर से प्रेस करने लगा, और उसके काले फेस को चूमने लगा.

फिर वो कहने लगी: मुझे किस करनी है.

मैं मान गया, और उसके होंठो से अपने होंठ मिला दिए, और हम किस करने लगे. मैं उसको आहिस्ता-आहिस्ता से छोड़ ही रहा था. 10 मिनिट उसी पोज़िशन में छोड़ने के बाद फिर वो अपनी छूट से पानी छ्चोढ़ दी.

मुझे प्यास लगी थी तो मैं बाहर गया पानी पीने. लेकिन मुझे अचानक ख़याल आया क्यूँ ना उसकी छूट का पानी पिया जाए.

फिर मैने उसको कहा: तुम सस्यू करो मेरे उपर.

उसने कहा: ये गंदा है.

लेकिन फिर वो मान गयी.

अब मैं उसकी छूट के पास अपना मूह लेके गया, और पूरा पानी पी गया. ये सब देख कर उसे और भी जोश आ गया.

उसने कहा: एक और रौंद मारते है ना.

मैने फिर वैसा ही किया, और जल्दी उसके उपर आ गया. फिर लंड उसकी छूट में लगा कर ज़ोरदार धक्के मारने लगा. इस बार वो ज़्यादा ही मज़े से चुड रही थी. ऐसे करते-करते सुबा हो गयी.

तो ये थी मेरी पहली चुदाई की कहानी. आयेज क्या हुआ नेक्स्ट पार्ट में. अगर आप लोगों को स्टोरी अची लगी, तो कॉमेंट ज़रूर करना. अगर कोई भाभी, या कोई विडो, या लड़की मुझसे छुड़वाना चाहती हो, तो मुझे एमाइल भेजे.

यह कहानी भी पड़े  गर्लफ्रेंड को मसालने और चूसने की सेक्सी कहानी


error: Content is protected !!