कॉल बॉय से चूत चुडवाई और गांद फतवाई

ही मानसी अगेन, लास्ट स्टोरी में आपने पढ़ा की मैने एक कॉल बॉय को बुलाया था. चलो नेक्स्ट क्या हुआ, ये बताती हू. सभी गर्ल्स छूट में उंगली और बाय्स मूठ मारना शुरू कर दो कहानी पढ़ कर.

उसका मोटा लंबा लंड मेरे मूह में था, और वो मेरे मूह में मुझे छोड़ने लगा. मैं भी पूरा साथ दे रही थी. मैं उसकी गोलियों से खेल रही थी. मैने उसके लंड को अची तरह चूसा, फिर उसने लंड मूह से निकाल दिया, और मुझे बेड पर लिटा दिया.

उसने मुझे उल्टा कर दिया. मुझे कुछ समझ नही आया. फिर खुद ही मेरी कमर पकड़ कर उठा दी, और मुझे डॉगी पोज़िशन में किया. उसके बाद उसने अपना लंड मेरी छूट पर रखा. मेरा सर बेड पर था, और फूल मेरे मूह में जेया रहे थे.

फूलों की महक मुझे और मदहोश कर रही थी. फिर उसने एक ज़ोर से झटका मारा, और उसका हाफ लंड मेरी छूट में आराम से चला गया, क्यूंकी कॉंडम लगा हुआ था. फिर दूसरा झटका मारा, और पूरा अंदर चला गया. मेरी चीख निकल गयी. उसने मेरी पनटी मेरे मूह में दबा दी, और मेरी चीख डब गयी.

मेरी छूट पूरी फटत रही थी. इतना मोटा नही लिया था मैने पहले. मेरे पति का लंड ऐसा ही था, और इतना लंबा नही था. हा मोटा ज़रूर था. फिर वो मुझे छोड़ने लगा. पुर रूम में आवाज़ आ रही थी फूच फूच की, और मैं ‘आ आ आ आ मेरे बाबू, प्यार से प्लीज़’ बोल रही थी.

मेरी छूट दर्द कर रही थी, बुत इस दर्द में भी मज़ा था. 20 मिनिट छोड़ने के बाद उसका पानी निकालने वाला था. उसने पूछा अंदर डालु या तुम पर?

मैने कहा मेरे मूह में. उसने जल्दी लंड निकाला, और कॉंडम उतरा. फिर लंड मेरे मूह में डाल दिया. मैने 2 मिनिट लंड चूसा, और उसका गरम माल मेरे मेरे मूह में आ गया. मैं सारा पी गयी, और उसका लंड चूस कर सॉफ कर दिया. उसका लंड तोड़ा ढीला हो गया था.

फिर हम दोनो चिपक के बेड पर लेट गये. हमने एक बियर पी, स्नॅक्स खाए, और फिर बातें करने लगे. उसने बताया की ऐसा मज़ा आज तक किसी क्लाइंट ने नही दिया, जितना मैने उसको दिया. उसने एक ज़ोरदार किस की मुझे, और अपने उपर कर लिया. अब उसके हाथ मेरी आस पर थे.

वो मेरे दोनो बूम को खोल रहा था. मेरी आस को सहला रहा था. फिर वो मेरी गांद में उंगली डालने लगा. मेरी गांद टाइट थी, और वर्जिन भी. उसकी उंगली जेया नही रही थी. फिर मेरी गांद पर ज़ोरदार स्लॅप किया. मेरे मूह से आ आ की आवाज़ आ रही थी. 1 अवर वो मुझे चूस्टा रहा. फिर बोला की अब वो मेरी गांद मारेगा.

मैने माना कर दिया बिकॉज़ ई न्यू पेनफुल होगा. वो बोला नही स्लोली होगा. मैं एक्शिटेड थी, बुत दररी भी थी. उसने अगेन मुझे घोड़ी बना दिया, और मेरी आस पर कोई लोशन लगा दिया. फिर मैने कहा-

मैं: बिना कॉंडम के करो, इसमे कों सा प्रेग्नेन्सी की टेन्षन है.

वो कुश हो गया. उसने अपना लंड मेरी गांद के होल पर रखा. उसका गरम लंड मेरी गांद फाड़ने को रेडी था. उसने धक्का दिया, और उसके लंड का हेड ही अंदर गया, और मेरी गांद फटत गयी. इतना पाईं हुआ मुझे. फिर उसने मेरी ब्रा-पनटी मेरे मूह में डाल दी, और मेरे हाथ पीछे से पकड़ लिए.

फिर एक ज़ोर का झटका लगा, और हाफ लंड अंदर गया. मैं रोने लगी. मेरा मूह लाल हो गया. आँखों से आँसू निकल गये. आवाज़ अंदर ही रह गयी. फिर ज़ोर का झटका और पूरा लंड अंदर गया. मैं बेहोश होने वाली थी. फिर ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा. मुझे पाईं हो रहा था, और मुझे कुछ गीला सा लग रहा था मेरी लेग्स पर. पर वो मेरी गांद मारे जेया रहा था.

वो पहले स्लोली-स्लोली कर रहा था. कुछ टाइम तक ज़ोर-ज़ोर से छोड़ने लगा. फिर मैं तड़प उठी दर्द से. 20 मिनिट बाद उसने कहा की वो झड़ने वाला था. मैने कहा अंदर ही डाल दो. 5 मिनिट बाद मेरी गांद में झाड़ गया, और मैं उल्टी ही लेती रही. मेरी गांद से फूच फूच की आवाज़ आ रही थी. उसका माल बाहर आ रहा था.

मैने हाथ लगाया तो देखा उसके माल के साथ ब्लड भी आ रहा था. मेरी गांद की सील टूट चुकी थी. गांद के च्छेद के उपर से ब्लड निकल रहा था. मैने उठने की ट्राइ की, लेकिन उठ नही पा रही थी. फिर उसने मुझे उठाया, और बातरूम ले गया. वाहा जेया कर गांद सॉफ की गरम पानी से.

फिर हम दोनो ने एक साथ नाहया. उसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया. मेरी गांद अभी भी दर्द कर रही थी. उसने आयिल मेरी गांद पर लगाया, तो मैं दर्र गयी. फिर वो बोला की वो अब और मेरी गांद नही मारेगा. मुझे लगा की मैं आज मॅर जौंगी. फिर हम दोनो ने एक-एक बियर पी, और कुछ खाया. रात के 2 बाज गये थे.

5 अवर में बातें, खाना-पीना, और 2 रौंद हो चुके थे. हम दोनो कुछ टाइम के लिए ऐसे ही चिपक कर सो गये. मॉर्निंग 5 बजे नींद खुली मेरी. मेरे साथ वो भी उठ गया. हम एक-दूसरे को किस करने लगे. फिर वो मेरे उपर आ गया, और लंड मेरे मूह में डाल दिया. मैं चूसने लगी.

मैं कभी उसका लंड, कभी उसकी गोलियाँ मूह में लेती. 15 मिनिट सकिंग करने पर पूरा टाइट हो गया. फिर हम 69 पोज़िशन पर आ गये. उसका मूह मेरी छूट पर, और मेरा मूह उसके लंड पर, ओह क्या मज़ा आ रहा था इसमे. मैं अपनी गांद का दर्द भी भूल गयी.

फिर 10 मिनिट बाद मेरी लेग्स उठा दी, और लंड मेरी छूट पर रखा. मेरी कमर के नीचे 2 पिल्लो रखे ताकि मज़ा ज़्यादा आए. फिर उसने छोड़ना शुरू किया. 30 मिनिट की चुदाई पर मेरे बूब्स पर सारा माल डाल दिया. फिर उसने पूछा की मैं खुश थी या नही. मैं बहुत खुश थी. मैने उसे ज़ोरदार किस किया. 6 बाज रहे थे. उसने कहा की उसे निकलना होगा.

लेकिन मैने उसे रोक दिया और बोला: नही, अभी नही. एक बार और.

वो बोला: नही, मैं तक गया हू, और मुझे नींद आ रही है.

मैने कहा: यही सो जाओ.

फिर हमने 3 -3 पेग मारे, खाया, और वो मेरे साथ ही सो गया. 10 बजे मेरी नींद खुली, और हम दोनो एक साथ नहाने चले गये. फिर एक बार बातरूम में बात टब में चूड़ी. मज़ा आ गया पानी में. फिर मैने उसको पेमेंट की. उसके फाइव थाउज़ंड बनते थे, लेकिन मैने उसको टेन थाउज़ंड दे दिए.

मैने कहा: मैं फिर कॉल करूँगी.

मैं उसको बाहर तक साथ ले आई. एक लोंग किस किया, और वो चला गया. फिर नेहा आ गयी. वो घर गयी थी. फिर एक रौंद उसके साथ लेज़्बीयन का गया. उसने देखा की मेरी गांद सूजी हुई थी.

तो वो बोली: भाभी क्या हुआ?

मैने उसको सब बता दिया. वो गुस्से हो गयी, क्यूंकी मैने उसको नही बताया था, और वो भी साथ आ जाती. मुझमे खाना बनाने की हिम्मत नही थी, तो मैने ऑर्डर कर दिया. 30 मिनिट बाद खाना आया. मैने खाना खाया. फिर कुछ आइस पॉलितेन में डाल कर अपनी गांद और छूट पर रखी, और पनटी पहनी. क्यूंकी दोनो होल सूज चुके थे. बातरूम भी नही जेया पा रही थी.

एक तो पैसे दिए और मज़ा लिया, और दर्द भी. मेरी आँखों के सामने अभी भी उसका लंड घूम रहा था. मैं उसको भूल नही पा रही थी. उसके दिए दर्द में भी मज़ा था, और मैं सो गयी. जब नींद खुली तो मोबाइल पर उसी का मसाज आया था.

मेसेज: थॅंक्स, कभी भी याद करना, मैं आ जौंगा. मैने भी वेलकम कहा और रात के 11 बाज गये थे. नेहा के सास-ससुर भी आ गये थे. नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी कैसे मैने अपनी एक फ्रेंड की हेल्प की, और मज़ा लिया. और भी काफ़ी कुछ है.

ओक फ्रेंड्स, कैसी लगी मेरी चुदाई? मैं भूखी शेरनी हू. बस मैल मे फॉर मी लोवे अट मांसिउप8@गमाल.कॉम

यह कहानी भी पड़े  खेत में गांद-फाड़ चुदाई का मज़ा


error: Content is protected !!