बाय्फ्रेंड ने रंडी बना के चोदा अपनी गर्लफ्रेंड को-2

अब आयेज की कहानी… 

बाय्फ्रेंड ने रंडी बना के चोदा अपनी गर्लफ्रेंड को-1


मई उठ गयी और उसने मुझे पकड़ कर मेरे लेफ्ट निपल पर अपने लंड को दबा कर हिलने लगा. और रिघ्त बूब को दबाए र्खा. बोला रंडी चुदाई करवाएगी ना?

मैने बोला नही पीयूष क्या बोल रहे हो, ई लोवे उ बेबी. उसने बोला लोवे योउ रंडी चुदाई तो तेरी होगी आज.

और मुझे लेता कर वो मेरे उपर आ गया और अपना गरम लंड मेरी चूत मेी एक बार मेी उतार दिया. मई दर्द मेी चिकने लगी आआहह… पीयूष आआआआआः आआआआ… मेरी अखून से आँसू निकल आए इतना दर्द हुआ. मानो जान ही निकल जाएगी.

मैने बोला पीयूष मत करो बहुत दर्द हो रा है. मेरा ब्लड निकल आया और उसने टवल से उसे पोछा और मुझे लीप किस करने लगा. उसी पोज़िशन मेी अपना लंड हाफ अंदर किए हुए.

मुझे बहुत दर्द हो रा था. उसने दोबारा पुश किया और अपना लंड मेरे अंदर डाला दोबारा. मई चिकने लगी, वो बोला बेबी ऐसे करूँगा तो और दर्द होगा. मुझे करने दो तुम्हे मज़ा आएगा.

धीरे धीरे उसने अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू किया. और मेरे लिप्स अपने लिप्स लॉक कर लिए और 10 मीं तक हल्के हल्के ही छोड़ता रहा. फिर उसने मेरी सिसकिया सुनी, मई आ आ… करने लगी थी.

उसने देखा और ज़ोर से धक्का मारने लगा और धीरे धीरे मुझे मज़ा आना शुरू हुआ. वो रुक गया और खड़ा हो गया और बोला उठ. और मुझे दीवाल पर लगा कर मेरी एक तंग उठ कर मुझे छोड़ने लगा. उपर नीचे उपर नीचे और मेरे बूब्स दबाने लगा. मई ज़ोर ज़ोर से सिसकने लगी.

उसने छोड़ते हुए बोला तू बॉस के ऑफीस मेी भी ऐसे ही चुदाई करवाती है. वो ऑफीस का लोंदा ऐसे ही छोड़ता है तुझे रंडी?!

मैने बोला बाबू अभी तो तुमने मेरी सील तोड़ी है, कों छोड़ेगा मुझे. उसने बोला हा अपना दूध तो पिलाती होगी सब को!

तो मैने बोला आ तुझे मज़ा देती हू कुत्ते, बहुत बड़ा चुदाई करने वाला है ना. वो शॉक्ड हो गया मेरी बात सुन कर और मैने उसे बेड पर लेता दिया. मई उसके लंड पर बैठ गयी और नंगी रंडी जेसे ही उसकी हवस शांत करने के लिए उसके लंड के उपर उछालने लगी.

मेरे इस रूप को देख कर वो डांग रह गया. और बोला और कर और तेज़ मेरी रंडी और तेज़. उसने मेरी कमर पकड़ी और खुद मुझे उपर नीचे करने लगा. मेरे बूब्स जेसे नाच रे हो ऐसे उछाल रे थे और उसकी अखून को सुकून दे रहे थे.

बहुत देर उसने मुझे ऐसे चोदा फिर जब वो झरने ही वाला था मेी उतार गयी. वो उठा और मुझे गोद मे अपने लंड पर बेता लिया और मेरे बूब्स चूसने लगा.

अयाया अया… मई तो जेसे जानत मे आ गयी हू चुदाई और बूब चूसा एक साथ. परम सुख मेी ज़ोर ज़ोर से अया आआआः आआआः अयाया अया… करने लगी.

उसके हर एक झटके से मेरी आ निकलती रही. मैने बोला ये बेस्ट है बाबू छोड़ते रो ऐसे ज़िंदगी भर मुझे.

वो नाराज़ हो गया और बोला ऐसे ही ऑफीस के लोंदा तुझे दिन भर अंदर छोड़ता है ना! रंडी साली आज इतना छोड़ुगा तुझे सारी चुदाई निकाल दूँगा.

मई कुछ बोलती इससे पहले उसने मुझे किस कर लिया और बोला काउ पोज़ मेी आ. और पीछे से मुझे खूब छोड़ा. मुझे मज़ा भी आ रा था और बहुत बहुत सुख मिला.

वो लंड अंदर ही रख कर झार गया और हम दोनो लेट गयी. कुछ वक़्त बाद मई जागी और वो भी जाग गया था. मई चादर मे लिपटी हुई थी पर ब्रा पनटी पहें ली थी.

उसने मेरे बूब्स प्रेस करने चाहे तो मई उठ कर बेड से स्टेर्स पे भागने लगी. वो मेरे पीछे आया और उपर के रूम मेी विंडो के पास एक टेबल पर मुझे कमर से पकड़ के बेता दिया.

विंडो ओपन थी और वो मुझे किस करने लगा. मई आ आ करती हुई बाहर देखा. तो सामने वेल घर की टेरेस से एक लड़का ह्यूम देख रहा था. पीयूष ने मेरी ब्रा से बूब्स बाहर निकल दिए. और मेरी टांगे डोर कर के अपने दाँत से मेरी पनटी उतार कर मेरी छूट मेी मूह डाल दिया.

वो लड़का टेरेस से सब देख के पागल सा हुआ जा रहा था. उसने अपना लंड पकड़ लिया. जब पीयूष मेरी छूट चाट रहा था, उसमे टंग अंदर बाहर कर रहा था. तो मेरे बूब्स उछाल थे थे.

मई अया अया… करने लगी. तभी पीयूष की नज़र विंडो के बाहर लड़के पर गयी. मई उससे देख रही थी और उसने मुझे देखा. मेरी ब्रा उतार के फेक दी और पास खिच कर बोला. साली रंडी छीनाल, मई काफ़ी नही हू जो और लोंडो को देख रही?! उससे भी चूड़ना चाहती है?!

ये बोलते ही अपना लंड मेरे चूत मे डाल कर छोड़ने लगा. मेरे पैर उसकी कमर से लिपट गये और मेी आ आ… ज़ोर ज़ोर से करने लगी. पीयूष ने मुझे खूब गलिया दी. रंडी धनदा करती है ऑफीस मेी बॉस के रूम मे बैठ कर सब के लंड चुस्ती है और अपने बूब्स चुड़वति है! साली रंडी! आज तुझे देख कितना छोड़ता हू!

ये सब बोल कर वो मुझे छोड़ता रहा. वो लड़का अब भी वही था मुझे देखता हुआ. फिर पीयूष ने मुझे विंडो ग्रिल्स को पकड़ने को कहा. और काउ पोज़ मेी मेरी चुदाई करने लगा.

विंडो की ग्रिल्स से मेरे बूब्स उपर नीचे करते हुए बाहर भी निकल कर फस र्हे थे. और टेरेस मेी लकड़ा अपनी लंड पंत से बाहर निकल के खुद की मूठ मरने लगा. तब मुझे लगा मई भी काफ़ी हसीन हू.

पीयूष की बातें मुझे फील ही नही हो री थी. मई तो बस चुदाई का मज़ा लेती जेया रही थी. और मॅन ही मॅन सोचने लगी. की ऑफीस मेी भी कोई मेरा बूब्स पीना चाहे तो पीला दूँगी. मुझे पिलाने के लिए ही तो इतना बड़े बड़े चुचे दिए है उपर वाले ने.

फिर अचंक उसने बोला, बोल रंडी! मैने बोला हन चूसा दूँगी. वो गुस्से से पागल हो गया. और बोला क्या?! उसने मुझे पकड़ के घुटने के बाल बैठा दिया. और बोला ले चूस मेरा लोड्‍ा चूस ना रंडी तेज़ और तेज़ कर.

उसने कहा आग्र कुछ देखा दोबारा किसी ऑफीस के लड़के साथ हेस्ट हुए. तो वही ऑफीस मेी चड़वौनगा तुझे उससी लड़के से सबके सामने. और उसका लंड मई खूब चुस्ती रही. मई बोली बाबू मई सिर्फ़ तुम्हारी रंडी हू. तुम मुझे कही भी छोड़ लो, मई चड़वौनगी तुमसे बस.

ये सुन कर वो खुश हो गया और बोला याद रखना अपनी बात.

फिर वो मेरी गांद पर झार गया और नहा कर हम दोनो ने कपड़े पहने और मई अपने घर चली गयी.

इसके बाद उसने मुझे दोबारा चोदा. वो जानने के लिए प्लीज़ मुझे बताए आपको कैसी लगी मेरी स्टोरी और ज़रूर फीडबॅक दे.

यह कहानी भी पड़े  रिश्तेदार की लड़की की चूत और गांद मारी

ओर भी जवान भाभी ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.


error: Content is protected !!