बॉयफ्रेंड के साथ रातभर मनाया हनीमून

हेलो दोस्तों मैं आप सभी का  में बहुत बहुत स्वागत करती हूँ। मैं पिछले कई सालो से इसकी नियमित पाठिका रही हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी सेक्सी स्टोरीज नही पढ़ती हूँ। आज मैं आपको अपनी कहानी सूना रही थी। आशा है की ये आपको बहुत पसंद आएगी।
मेरा नाम निशिता हैं। मै अभी 18 साल की हूँ। मैं बहुत ही हॉट, जवान और सेक्सी लड़की हूँ। मुझे देखकर लड़को का लंड तो देखते ही तनमना उठता है। सारे लड़के मेरी रसीली चूत के पीछे ही अपना लंड लटकाकर लाइन लगाये रहते हैं। बचपन से लेकर आज तक मैने कई लड़को को अपनी चूत का दर्शन कराया है। मुझे लंड चूसना बहुत ही अच्छा लगता है। लड़को को भी मेरी रसभरी चूत चूसना बेहद पसंद है। वो भी मेरी चूत चाटे बिना रह नहीं पाते। मुझे मेरी शरीर का सबसे प्यारा अंग चूंचिया लगती हैं। जब भी इसे कोई छूता हैं मेरी जिस्म में आग सी लग जाती है। मैं बहुत ही गर्म हो जाती हूँ। मेरी साँसे बढ़ने लगती हैं। दोस्तों मै अब अपनी चुदाई के बारे में बताने जा रही हूँ किस प्रकार मेरे बोयफ्रेंड ने मुझे चोदा।

एक मीडियम परिवार की लड़की हूँ। मेरे पापा का नाम रामदेव है। वो खुद का एक मेडिकल स्टोर चलाते हैं। वो मुझे पढ़ा लिखाकर डॉक्टर बनाना चाहते है। उन्हें नहीं पता की मैं बिना पढ़े लिखे भी कई लोगो का इलाज प्रतिदिन कर सकती हूँ। मेरा सिर्फ अकेला एक भाई ही है। वो मुझसे बड़ा है। उसकी शादी हो चुकी है। पास में ही उसका ससुराल है। सारा दिन भाभी से फ़ोन पर चिपका रहता है। जब मन करता है मिलने चला जाता है। अपनी चुदाई की जरूरतो को पूरा कर के ख़ुशी ख़ुशी घर वापस आ जाता है। मै अभी इंटर में पढ़ती हूँ। लेकिन मुझे देख कर बच्चे बूढ़े जवान सारे के सारे मात खा जाते है। मै देखने 24 साल की लगती हूँ। मेरा फिगर 34 28 36 है। चूंचिया बहुत ही लाजबाब है। जो भी देखता है पीने ले लिए लार टपकाने लगता है। मेरी दोनों मम्मे के निप्पल हमेशा अपना मुह उठाये खड़े ही रहते है। अब तक मैंने कई लड़को से चुदवा कर अपनी चूत को कली से फूल बना डाला है ।

यह कहानी भी पड़े  कच्ची उम्र की साली को चोदा

मेरी चूत के दोनों पंखुड़ी खूब खुले और फूले हुए है। लगता है उसमें खूब माल भरा हुआ है। गद्देदार चूत में सबका लंड फिट बैठ सकता है। मेरी चूत ने बहुत बड़ा बड़ा लंड खाया है। मैं भी जब कॉलेज जाती हूँ। खूब बनठन कर जाती हूँ। होंठो पर लिप बाम लगाए होंठो को सजाये रखती हूं। दोस्तों पहली बार मैं जब 10 में पढ़ती थी तभी चुद गई थी। इतनी बेदर्द चुदाई आपने भी नहीं देखी होगी। मेरी उम्र उस समय 18 साल की थी। लेकिन मैं 19 साल के मस्त मोटे तगड़े लौंडे से फस गयी। उसका नाम नकुल था। वो इंटर में पढता था। मुझसे दो साल बड़ा था। उस समय मेरी जवानी का खून उबल रहा था। चूत भी चुदने को मचल रही थी। मुझे भी रहा नहीं जा रहा था। पहला पहला बॉयफ्रेंड था।

उसके लंड के दर्शन करके मुझे जो आशीर्वाद मिला। वो आज तक काम कर रहा है। बाप रे उस दर्द भरे दिन के बारे में सोच कर मेरी रोंगटे आज भी खड़े हो जाते हैं। मेरे मम्मे फूलने लगते है। दोस्तों मै पहले ज्यादा सज के स्कूल नहीं जाती थी। फिर भी मैं बहुत जबरदस्त माल लगती थीं। मेरी चूंचियां काफी विकसित हो चुकी थी। उसी टाइम से मुझे ब्रा पहनना पड़ रहा था। मुझे देख कर पहली ही झलक में नकुल मुझ पर मरने लगा। प्यार की तरह चुदाई की भी कोई उम्र नही होती। जो भी मिले चोद देना चाहिए ऐसा नकुल का मानना था। मैं भी इसी जाल में फस गई। धीरे धीरे मुझे वो ताड़ने लगा। लेकिन सच दोस्तों मुझे उस टाइम नहीं पता था। उसको ताड़ता देख मेरी भी बदन में आग लग जाती थी। मैं भी विचलित होने लगती थी। कभी कभी तो मुझे सीट पर ही चूत में ही ऊँगली डालने के लिए मजबूर होना पड़ता था। मैं स्कूल में बने शौचालय में जाकर मुठ मार लेती थी। कभी कभी कंपनी देने के लिए वो भी आ जाता था। हर वक्त हम दोनों चुदाई के ही बारे में सोचते रहते थे। वो बहुत ही बड़े घर का लड़का था। उसने मुझे कई बार अलग रूम में लेकर जाना चाहा लेकिन मैं मना कर देती थी। धीरे धीरे ये मामला बढ़ गया।

यह कहानी भी पड़े  फ्री सेक्स किया रंडी साली पिंकी के साथ

दोस्तों मेरा क्लास और उसका क्लास आमने सामने ही थी। हम दोनों खिड़की पर बैठ कर एक दूसरे को गर्म करते थे। लेकिन ये ज्यादा दिन तक नही चलने वाला था। गर्मियों की छुट्टियां होने वाली थी। अब हम दोनों की बेकरारी और भी ज्यादा बढ़ गई। आखिरकार वो दिन आ ही गया जब मेरी चुदने की प्यास बुझने वाली थी। वो मुझे अपने घर ले जाना चाहता था। एक दिन पहले ही उसने मुझसे बता दिया।
नकुल- “कल मेरा घर खाली है। वहाँ कोई डर नहीं है। घर के सारे लोग बाहर चले जायेंगे। फिर हम तुम घर पर खूब बात करेंगे”
मै- “ठीक है लेकिन कोई जान गया तो मार डाली जाऊंगी”
नकुल- “कोई है ही नहीं तो कैसे जानेगा कोई”

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!