बास की बीवी की चुदाई

“बास की बीवी की चुदाई” हैलो दोस्तो मेरा नाम जय है, मै नागपुर का रह्ने वाला हूँ, मेरे लण्ड का आकार 7 इन्च का है। मै सावला और शरीर से हष्ट-पुष्ट और हैन्ड्सम हूँ।
मै नागपुर मे एक खाता-बही आफ़िस मे काम करता हुँ, मेरे बास का आफ़िस उनके घर के बाहरी तरफ़ है और अन्दर उनका घर है वहाँ उनकी बीवी अकेले रहती है उनका नाम नीता है, आफ़िस बन्द करके चाभी अन्दर मै ही देने जाता हूँ कभी-कभी चाभी उनकी बीवी को देता मै उनकी बीवी को भाभी कह कर बुलाता हूँ वो बहुत ही सुन्दर और मस्त लगती है उनका शरीर 38-30-36 का है कोई भी देखे तो उनको चोदने की सोचने लगे मैने कभी उनके बारे कुछ गलत नही सोचता था कुछ दिनो के बाद भाभी और मै एक दूसरे से काफ़ी बाते करने लगे क्योकि आफ़िस के काम से सर को काफ़ी बाहर ही रह्ना पड्ता था और वो घर पर अकेले बोर हो जाती थी तो जब भी मै अन्दर जाता तो मुझसे काफ़ी देर तक बात करा करती धीरे धीरे मुझे भी उनसे बात करने मे अच्छा लगने लगा तब एक दिन ऐसा आया कि वो

मुझसे बहुत हस हस कर बात करने लगी मेरी उनके लिये सोच बदलने लगी और मै उनको चोदने के लिये सोचने लगा और मन ही मन वो भी मुझसे चुदवाना चाहती थी एक दिन सर एक दिन के लिये बाहर गये तो उन्होने मुझे रात मे उनके घर पर रुकने को बोला और 8 बजे सवेरे अपने घर चले जाना तो मै राजी हो गया मै भी भाभी को चोदने के लिये एसे दिन का इन्तजार कर रहा था भाभी घर पर बिल्कुल अकेले टीवी देख रही थी आफ़िस बन्द करने के बाद मै अन्दर चाभी देने गया तो उन्होने लाल कलर की साडी पहन रखी थी मन कर रहा था उनको तुरन्त चोद डालू उन्होने मुझे बैठ् कर टीवी देखने को बोला मै टीवी देखकर उनसे बात भी किये जा रहा था मैने उनसे पुछा जब सर इतना बाहर जाते है तो आपको अकेले रह्ने मे बहुत खराब लगता होगा उन्होने कहा हाँ लगता तो है पर अब तुम थोडी देर मुझसे बात कर लेते हो तो मेरा मन खुश हो जाता है मै मन ही मन उनको चोदने की सोच रहा था तभी टीवी पर एक मुवी मे एक किसिग सीन आने लगा मै और भाभी दोनो लोग उस सीन को देखे जा रहे थे हम दोनो के अन्दर एक गर्मी सी हो रही थी पर एक दूसरे पर जाहिर नही होने दी वो भी मुझसे चुदने को बेताब थी पर कुछ कह नही रही थी मै भी उनको कसकर चोदना चाह्ता था मैने उनसे कहा मै अभी बाथरुम

यह कहानी भी पड़े  मेरी चूत की गर्मी और गैर मर्द का मस्ताना लण्ड

होकर आया आप टीवी देखो वही सामने ही बाथरुम था मैने जानबूझ कर दरवाजा खुला छोड दिया और मै अन्दर उनके नाम की मुठ्ठ मरने लगा बाथरुम मे मै बहुत देर तक उनको चोद्ने के बारे मे सोच कर मुठ्ठ मारता रहा मुझे नही लग रहा था कि उसी दिन मुझे भाभी को चोद्ने को मिलेगा वो भी मुझे उसी समय चुदना चाह रही थी अचानक भाभी ने बाथरुम का दरवाजा खोल दिया मेरा लण्ड मेरे हाथ मे ही था भाभी ने पुछा जय ये क्या कर रहे इसको हाथ मे लेकर भाभी ने मेरे लण्ड को देखकर कहा तुम्हारा तो तुम्हारे सर से भी बडा है और मुझसे कहा दिखओ जरा अपना लण्ड और मेरा लण्ड अपने हाथो मे लेकर अपने मुह मे डालकर कस कस कर चूसने लगी 10 मिनट तक बाथरुम मे ही भाभी ने मेरे लण्ड को चुसा और लण्ड पकड कर अपने बेडरुम मे ले गयी तब मैने उनके रसीले होठो को कस कर चूमा और चुसा मानो जैसे अम्रतपान करा रही हो उसके बाद मैने उनकी साडी उतार कर उनके शरीर से अलग कर दी अभी वो लाल ब्लाउज और पेटीकोट मे थी और बहुत ही सेक्सी लग रही थी मन तो करा तुरन्त नगी कर उनको चोद दू साली को पर मुझे तो पूरा पूरा मजा लेना भी था और देना भी था मै उनको चूमता ही रहा फ़िर धीरे से मैने उनके ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिये अब वो ब्रा और पैन्टी मे ही मेरे सामने थी मै किस करते करते ब्रा के ऊपर से ही उनके बूब्स दबाये जा रहा था उनके मुहँ से ऊह आह और सी सी की आवाज आरही थी भाभी

यह कहानी भी पड़े  मेरी माँ और हमारे मकान मालिक

की ब्रा भी मैने कुछ देर मे उनके बूब्स से अलग कर दी और उनके दोनो बूब्स एक एक कर चुसे जा रहा था और एक हाथ उनकी पैन्टी डाल दिया उनकी चूत बिल्कुल गीली हो गयी थी फ़िर उनकी चूत मे अपनी उगली डाल कर अन्दर बाहर करता रहा भाभी अपनी मादक आवाज ऊह आह निकाले जा रही थी जिससे मै उनका दीवाना हुआ जा रहा था तभी भाभी बोली जय अब मुझे और मत तड्पाओ चोद दो मुझे मै तुम्हारे लण्ड को अपनी चूत मे लेकर चूत का भोषडा बनवाना चाह्ती हूँ मैने कहा भाभी अभी इतनी भी क्या जल्दी है मेरे लण्ड का पूरा मजा तो लो फ़िर मैने उनकी चूत से उनकी पैन्टी को भी आजाद कर दिया भाभी अब मेरे सामने पूरी नगी थी, उनकी चूत से रस टपक रहा था फ़िर उन्होने मेरे सार कपडे उतार कर मेरे बदन को कस कस कर चूमने लगी फ़िर मैने उनको गोद मे उठा कर बेड पर् लिटा दिया और उनकी चूत का रसपान करने लगा उनकी चूत एकदम चिकनी थी जैसे दिन साफ़ करी हो मुझसे चुदवाने के लिये मै उनकी चूत रसमलाई की तरह चूसे जा रहा था थोडी देर के बाद भाभी झड गयी और मैने उनकी चूत का पूरा रस पी लिया भाभी ने कहा मुझे भी

Pages: 1 2

error: Content is protected !!