बड़े बूब्स वाली अंजान लड़की की चुदाई

Big boobs wali stranger ladki ki chudai मैं सेक्स का बहुत शोक़ीन हू, सो जब भे मोक़ा मिलता है तो मैं सेक्स को भर पूर एंजाय करता हों. मैं इस फ्रेज़ को काफ़ी पसंद करता हूँ “डॉन’ट लुक दा फेस, फक दा बेस”. में जो स्टोरी आप को सुना ने जा रहा हू वो
उसका का रंग बादामी था. वो दिखने में कोई इंडियन ही लगती थी बहुत अट्रॅक्टिव थी. लास्ट मंथ में कराची डाइवू कॉक से जा रहा था शाम के कोई 7 बजे का टाइम था, ऐक लड़की जिस का नाम “माया” था जो मुझे बाद में पता लगा.

मेरी सामने वाले सीट पर आ कर बैठ गई. उस ने मस्त खुसबू लगाई हुई थी.जैसे ही वो काउच में एंटर हुए पूरी काउच खुसबू से महक गए उस के एज होगी कोई 27-28 साल. वो कुछ उदास से लग रही थी.उस ने वाइट कलर की टी-शर्ट और नीची जीन्स पहनी हुई थी. उसके मम्मे टाइट थे और बहुत ही अट्रॅक्ट कर रहे थे. उस का फिगर हो गा कोई 36 30 34.उस की आँखो से उदासी छलक रही थी और उस की सेक्सी बॉडी पर मेरी नज़र लगी हुई थी. जब वो मेरे सामने आ कर बैठी तो मैं ने उस को ऐक

स्माइल पास की उस ने भी मुझे स्माइल पास की और वो फोन पर कोई गेम खैलने लग गई, में बार बार उस को दैख रहा था वो मेरे ऑपोसिट सीट पर बैठी हुई थी. वो थोड़ा सा आगे झुकी हुई थी तो उसके बड़े बड़े मुम्मे जो कि टी-शर्ट से बाहर आने को बेताब थे मुझ को नज़र आ रहे थे.काउच जब हिलती तो साथ में वो भी हिलती और जब वो हिलती तो उस के मम्मे भी हिलते और में कोई भे मोक़ा जाने नही दे रहा था.

यह कहानी भी पड़े  किरण शादी एक गाण्डू लौंडे से हो गई

मेरी नज़र मुसलसल उस के क्लीवीज और मम्मो पर थी. उस ने भी ये बात नोटीस कर ली और मुझे थोड़ा घूर कर दैखा मेने ने जवाब मे स्माइल पास की तो उस ने नज़रे नीची कर ली और मैं अपने काम में लगा रहा. फिर अचानक से वो उठी और मेरी पास आ कर बैठ गई. काउच में रश बिल्कुल नही था. वो मेरे पास आ कर बैठी और कहने लगी
वॉट आर यू लुकिंग अट? नो, नतिंग हकालते हुए… यू आर लुकिंग अट माइ बिग बूब्स, डोंट यू? नो, यस.: यस ओर नो.: यस, यस: यू फक्किंग अशोल, यू वाना फक मी?

मेरी आवाज़ नही निकली और में ने उस के आँखों में दैखा, तो वो कुछ गुस्से में लग रही थी. स्पीक टू मी यू अशोल, यू वाना फक मी?
नो नो…. यस
यस ओर नो… ज़रा ऊँची आवाज़ से
यस.

फिर हम दोनो ज़रा देर चुप हो कर बैठ गये और मैं उस के मम्मो को दैख रहा था.
वॉट आर यू डूयिंग टूनाइट?
नतिंग, नतिंग……

मेरा स्टेशन आने वाला था तो मैं सोच रहा था कि बात भी नही बनी और स्टेशन भी आ गया. अभी मैं यही सोच रहा था कि काउच नेक्स्ट स्टेशन पर रुकी मैने स्टेशन का नाम दैखा, मुझे उस से अगले स्टेशन पर उतरना था.. वो खड़ी हुई और मेरा हाथ पकड़ कर बोली कम वित मी.
मुझे कुछ समझ में नही आया लेकिन में उठ कर खड़ा हुआ और उस के साथ चला गया…..वो मेरे आगे आगे चल रही थी और मैं उस के पीछे पीछे,

मुझे डर भी लग रहा था कि कहीं बाहर जा कर मेरी मार ना लगवा दे अपने फ्रेंड्स से… लेकिन यार जब वो मेरे आगे आगे चल रही थी तो अपनी मस्त गंद को मटका मटका कर तो मेरा लंड झटके खाना शुरू हो गया था उस के हर क़दम के साथ मेरा लंड सीडी चढ़ रहा था जब तक हम बाहर निकले तो मेरा लंड इतना टाइट हो चुका था कि मुझे पेन फील होने लगा अंडरवेर टाइट था. हम स्टेशन से बाहर निकले, मैं उस के साथ साथ चलने लगा, उस ने मुझे दैखा और थोड़ा सा मुस्कुराइ मैं समझ गया कि काम बन गया मेरा.

यह कहानी भी पड़े  भाई के दोस्त के साथ सुखद अहसास

थोड़ी दूर जा कर वो ऐक फ्लॅट में चली गई और मुझे भी साथ आने को बोला. वो ऐक स्टूडियो फ्लॅट था.. वो अकेली ही रहती थी.
माया: हॅव ए सीट. मैं सोफे पर बैठ गया, क्या मस्त सोफा था में सोचने लगा कि मैं इस सोफे पर ही उस को चोदु गा…… वो फ्रिड्ज से ड्रिंक्स निकाल कर ले आई और ऐक ड्रिंक मुझे दे दी. हम दोनो अपनी अपनी ड्रिंक पीने लगे…..मेरी नज़र उस के मम्मो पर ही थी. जब उस ने दैखा कि मेरी नेज़र उस के मम्मो पर ही आ

कर रुक गई है और मैं नज़र नही हटा रहा उस के मम्मो से तो वो उठ कर मेरे पास सोफे पर आ गई और मेरे सोफे के दू दोनो साइड हाथ रख कर मेरे ऊपेर झुक गई मानो उस के मम्मी मेरी मूँह के क़रीब आ गई. मैं ने उस के क्लीवीज के तरह अपना मूँह बढ़ाया.. वो ऐक दम से पीछे हट गई और हँसने लगी.
माया: यू आर ग्रीडी..यू आर फक्किंग ग्रेडी…यू गोना गेट दीज़ बूब्स…यू फक्किंग अशोल.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4