बीवी की पर्मिशन से पति ने किया रोमॅन्स

हेलो दोस्तों, सॉरी तोड़ा ज़्यादा टाइम लग गया नेक्स्ट पार्ट लिखने में. और आप सब का बहुत-बहुत धन्यवाद जो इतने लोगों ने मेरी स्टोरी पसंद करी और मुझे मौलिक6जे2@रेडिफ़्फ़्माल.कॉम पर मैल किया. थॅंक योउ सो मच.

अब ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधा स्टोरी पे आते है. जैसे की आपने पिछले पार्ट में पढ़ा की कैसे मैने रानी को बहुत मज़ेदार तरीके से छोड़ा. फिर मेरी वाइफ आ गयी, और उसने हमे देख लिया. अब आयेज बात करते है.

जो लोग मुझे नही जानते उन्हे अपना इंट्रो दे डू. मैं मौलिक जामनगर गुजरात से हू, और अब तक इतनी लॅडीस को छोड़ चुका हू की हिसाब लगाना मुश्किल है. अगर भरोसा ना हो तो मेरे पेज पर आप मेरी सारी आपबीती पढ़ सकते हो, जो बिल्कुल ही सॅकी है.

चलिए अब बोर ना करते हुए सीधा बात आयेज बढ़ते है. तो हुआ यू, की मैं और रानी की लंबी चुदाई ख़तम हुई. फिर मैं जैसे ही अपने कमरे में जाने लगा, तो सामने मेरी बीवी खड़ी थी.

थोड़ी देर हम तीनो एक-दूसरे को ऐसे ही देखते रहे. रानी तोड़ा दर्र गयी. एक अजीब दर्र लगता है लॅडीस को, जब किसी का पति आपको छोड़ रहा हो, और उसकी बीवी वाहा पे आ जाए, तो कैसा दर्र लग जाता है.

फिर मैने जाके अपनी बीवी को पकड़ के उसके होंठो पे एक लंबी किस करी, और उसको थॅंक्स बोला. मेरी बीवी मुझे डोर हटा कर रानी के पास गयी, और उसके बालों पे हाथ फिरते हुए उसके गालों पे एक प्यारी सी किस करी, और बोली-

बीवी: अब खुश?

रानी ने खड़ी होके उसको गले लगा लिया, और थोड़ी सी उसकी आँख में नामी आ गयी. क्यूंकी रानी बहुत ही ज़्यादा तृप्त हो गयी थी मेरी चुदाई से. फिर मेरी बीवी ने मेरे पास आके मेरे भी गाल पे एक किस करी, और बोली-

बीवी: थॅंक योउ, बेचारी को एक खुशी देने के लिए.

फिर रानी बोली: आप दोनो बैठो, मैं कुछ नाश्ता लेकर आती हू.

रानी किचन में चली गयी, और मेरी बीवी और मैं एक-दूसरे को देख रहे थे. तब मैं अपने होंठ चबा रहा था, तो बीवी बोल पड़ी-

बीवी: अब क्या मुझे भी छोड़ोगे? दिल नही भरा क्या?

मैने बोला: हा दिल नही भरा.

तब बीवी बोली: कोई बात नही, एक रौंद और लेलो. लेकिन जल्दी सो जाना, सुबा जल्दी निकल जाना है.

फिर मैं मेरी बीवी के पास जाके उसको किस करने लगा. बहुत टाइट हग करके किस कर रहा था मैं, और मैं फिरसे जोश में आ रहा था. तभी किसी के खाँसने की आवाज़ आई तो ह्मने अपनी किस तोड़ी. और देखा तो रानी हाथ में छाई और नाश्ते की ट्रे लेके खड़ी मुस्कुरा रही थी.

फिर सब ने छाई-नाश्ता करा, और बीवी बोली: चलो मैं चली सोने. आप दोनो भी जल्दी सो जाना.

हम दोनो ने हा में सर हिलाया, और फिर मैं बिस्तर पर लेट गया. तब रानी भी दरवाज़ा बंद करके आई और पुर कपड़े उतार कर मेरे साथ चिपक के लेट गयी मेरी छाती पे सर रख कर. वो लेट गयी, और मैं उसकी मुलायम पीठ पे हाथ घूमता रहा.

अब वो भी अपने कोमल-कोमल हाथ का जादू मेरे बदन पे डालने लगी. छाती से लेकर पेट तक, तो कभी मेरे गाल पर, तो कभी होंठ पर रानी हाथ घूमती रही.

अब उसका फिरसे चुदाई का मूड बन रहा था, क्यूंकी हाथ फेरने की स्पीड बढ़ चुकी थी. फिर धीरे से उसने मेरा लंड पकड़ लिया, और बहुत ही प्यार से उपर-नीचे करने लगी.

वो मेरी तरफ देखने लगी और लंड को मुट्ठी में टाइट करने लगी, और आयेज-पीछे करने लगी. मैं आँखें बंद करके उसकी पीठ पर और मुलायम गांद पर हाथ फेर रहा था. जब मैने आँखें खोली, तो रानी मेरी तरफ ही देख रही थी.

फिर मैने उसके बालों को तोड़ा ज़ोर से पकड़ा, और अपने होंठ की तरफ खींच के किस करने लगा. किस चालू करते ही रानी ने अपनी आँखें बंद कर ली, और मेरे लंड को काफ़ी टाइट पकड़ लिया. वो अपने बूब्स मेरी छाती पे दबाने लगी.

कुछ देर ऐसे ही किस करने के बाद रानी मेरे उपर चढ़ गयी. इस बीच हमारी लीप-किस चालू ही रही. कुछ देर ऐसे ही किस करने के बाद रानी मेरे होंठ छ्चोढ़ कर मेरी छाती पे आ गयी, और मेरी निपल्स को चूसने लगी. उसने एक-एक करके दोनो निपल्स चूज़.

इससे मेरे लंड में खलबली मचने लगी, और लंड फुल टाइट हो गया, और रानी के पेट पर चुभने लगा.

तब रानी बोली: अर्रे वाह! इतनी देर में खड़ा भी हो गया?

मैने बोला: क्या करू यार, तुम्हारा संगेमरमर का बदन देख कर फिरसे लंड बेकाबू हो गया है.

और हम दोनो हासणे लगे. फिर रानी नीचे गयी, और मेरे लंड को फिरसे पकड़ के हिलने लगी, और उसपे तोड़ा थूका. थूक कर लंड आयेज-पीछे करके उसने पूरा गीला कर दिया. फिर अपना मूह खोल के मेरी तरफ देख कर फिरसे एक ही बार में पूरा निगल गयी, जैसे साँप पूरा चूहा निगल जाता है.

मैं उसको ही देख रहा था. फिर धीरे-धीरे करके एक ही बार में मैं अपना लंड रानी के मूह में उतरता हुआ देख रहा था, और कुछ पल के बाद मेरा पूरा लंड रानी के मूह में चला गया.

रानी ऐसे ही लंड मूह में भर के मेरी गोटियों को हाथ से पकड़ के सहलाने लगी. कुछ सेकेंड लंड मूह में रख कर फिर धीरे-धीरे बाहर निकालने लगी. मैं उसको ही देख रहा था.

जैसे साँप निगला हुआ चूहा बाहर निकालता है, ऐसे ही मेरा लंड पूरा बाहर आ रहा था. जैसे ही पूरा लंड बाहर निकला, मैने रानी के बाल पकड़ कर अपने पास खीच लिया.

फिर मैं उसके होंठ मेरे होंठो से लगा के ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा. बहुत ज़ोर-ज़ोर से हम दोनो एक-दूसरे के होंठ चूस रहे थे. रानी एक हाथ से मेरे गीले लंड को हाथ से हिलाए जेया रही थी, और उपर हम दोनो एक-दूसरे के होंठ चूज़ जेया रहे थे.

मैं अपने दोनो हाथो से उसके दोनो मखमली बूब्स दबाए जेया रहा था. कुछ पल के बाद हम अलग हुए तो रानी फिरसे मेरे लंड को मूह में लेके चूसने लगी. मुझे बहुत ही ज़्यादा मज़ा आ रहा था उसकी स्टाइल देख कर.

अब मैने रानी की गांद को अपनी तरफ करा, और उसको मेरे उपर चढ़ा लिया, और हम दोनो 69 पोज़िशन में आ गये. अब मैं प्यार से रानी की छूट चाटने लगा, और साथ-साथ गांद के उपर उंगली घूमने लगा.

फिर थोड़ी देर छूट चाटने के बाद मैं ज़ोर-ज़ोर से नीचे से उसकी छूट चाटने लगा. मैं कभी ज़ुबान अंदर तक डाल देता, तो रानी आहह आअहह सस्शह करने लगती. वो ज़ोर से मेरा लंड पकड़ लेती, और पूरा मूह में ले लेती.

इसी बीच मैं उसकी गांद के आजू-बाजू मेरी उंगली घूमता रहा.

फिर रानी बोली: एक उंगली गांद में डालो ना प्लीज़, बहुत मज़ा आ रहा है आहह सस्सस्स आहह.

फिर मैने उंगली पे थूक लगाई, और बीच वाली बड़ी उंगली धीरे-धीरे करके उसकी गांद में पूरी घुसा दी. अब सीन ये था, की एक हाथ से मैं रानी की गांद को खोल रहा था, और एक हाथ से उसका एक बूब्स दबा रहा था और छूट चाट रहा था.

मैं गांद में उंगली अंदर-बाहर कर रहा था, और उधर रानी घपा-घाप मेरा लंड चूस रही थी. वो एक हाथ के सहारे मेरे उपर लेती थी, और दूसरे हाथ से अपनी गांद खोलने में मेरी हेल्प कर रही थी.

ये सिलसिला कुछ 10-12 मिनिट चला. अब रानी का पानी निकालने वाला था तो वो मेरे मूह में दबाव बढ़ने लगी, और लंड को ज़ोर-ज़ोर से मूह में दबाने लगी. मैने भी गांद में उंगली की स्पीड बधाई, और ज़ुबान भी छूट के अंदर डाल के ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा.

कुछ ही देर में रानी हाँफ-हाँफ के झाड़ गयी, और निढाल होके मेरे उपर गिर गयी. मैने उसको पकड़ कर सीधा किया, और मेरे उपर चढ़ा लिया, और उसके होंठो को अपने होंठो से लगा कर वाइल्ड किस करने लगा. साथ में उसके बालों में हाथ घूमने लगा.

काफ़ी देर तक हमारी किस चली. फिर हम एक-दूसरे से तोड़ा अलग हुए, तो हम दोनो की साँसे फूल गयी थी. अब रानी ने बोला-

रानी: अब कैसे छोड़ोगे मुझे?

मैने बोला: अब तुम बिस्तर से नीचे उतार जाओ, और झुक जाओ.

ऐसा करने से रानी के पावं ज़मीन पर थे और बाकी का हिस्सा बेड पर था. ऐसा करने से रानी की छूट बिल्कुल मेरे लंड के लेवेल पे आ गयी.

इसके आयेज की कहानी अगले पार्ट में. स्टोरी कैसी लगी, बताना ना भूले.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त के दोस्त की बहन की सील तोड़ने की कहानी


error: Content is protected !!