मेरी बीवी की कामुकता और थ्रीसम चोदन

मेरे दोस्तो, मैं बहुत दिनों के बाद आप से मिल रहा हूँ. मेरी पिछली कहानी थी
बीवी की चूत चुदाई उसके भाई से
आज मैं आप को अपना एक और किस्सा सुनाने जा रहा हूँ.
हम दोनों पति पत्नी को थ्रीसम चुदाई किये बहुत दिन हो गए थे और रितु को नए लंड का मजा नहीं मिला था, मैं भी उसको चुदते हुए देखना चाहता था, उसे मेरे सामने टाँगें उठा कर और जोर जोर से चुदने में और उसे मुझे सताने और जलाने में मजा आता है. हम जब भी सेक्स करते तो यही बात करते कि कुछ और हो जाए.

मैंने और रितु ने प्लान बनाया कि इस बार किसी बड़े और अनजान लंड को इस खेल में शामिल किया जाए. मैं और रितु जब भी बाहर घूमने जाते तो रितु गहरे गले के टॉप पहनती और वह भी ब्रा के बिना. उसके बड़े बड़े बूब्स और तने हुए निप्पल सामने वाले के लंड में आग लगा दे.

आखिर हमारी तलाश कुछ दिनों में अपने पड़ोस में खत्म हुई. वहां पर दो अफ्रीकन लड़कों ने किराये पर फ्लैट लिया था और उनमें से एक तो पूरा बॉडी बिल्डर था और उसका कद करीब साढ़े छह फुट के आस पास था. वह कॉलोनी के ग्राउंड पर रोज प्रैक्टिस करता था और उस पर रितु का दिल आ गया.
मेरी चालू बीवी बोली- अब तो अपनी चुत में इसका लंड ले कर ही रहूंगी मैं!
रितु ने भी उसकी प्रैक्टिस के समय पर जॉगिंग पर जाना शुरू कर दिया. जॉगिंग क्या, वो तो उस को पटाने के लिए जाती थी. योग पैन्ट और बिना ब्रा का टॉप.

दो तीन दिनों में उसने मेरी रितु को हेल्लो बोला और कहा- आप बहुत खूबसूरत हैं.
रितु ने भी हंस कर जवाब दिया- आप भी हैंडसम हैं और मस्त बॉडी का मालिक हैं.

यह कहानी भी पड़े  तांत्रिक के चंगुल में अन्तर्वासना

उसके दो दिन के बाद रितु ने उसे चाय पर बुला लिया. उसका नाम जेम्स था, वह चाय का आमंत्रण पाकर बहुत खुश हुआ और अगले दिन आने के लिए हामी भरी. अब रितु बहुत खुश थी कि उसका काम बन जायेगा. उसे इस बात का भरोसा था कि उसके कूल्हे और चूचे देखकर कोई उसे चोदना न चाहे ऐसा हो ही नहीं सकता.
रितु मुझे बताते हुए बहुत रोमांचित थी. रात को सेक्स करते हुए भी हम दोनों जेम्स की ही बात कर रहे थे.

अगले दिन शाम को हम दोनों जेम्स का इंतजार कर रहे थे और वह पूरे 6 बजे हमारे घर पर था. हम तीनों ने मिल कर चाय नाश्ता किया और एक दूसरे के बारे में जाना. वह यहाँ पर पढ़ाई के लिए आया था और इंजीनियरिंग के दूसरे वर्ष में था.

बातों बातों में हमने पूछा कि कोई लड़की दोस्त बनी या नहीं?
तो वह बोला- भारतीय लड़कियाँ सुंदर हैं पर कोई उसकी दोस्त नहीं बनना चाहती.
मैं बोला- रितु को ही दोस्त बना लो.

जेम्स की तो लाटरी निकल आयी, वह बहुत खुश हुआ और रितु को भी अच्छा लगा.

कुछ दिनों में उनकी बहुत गहरी दोस्ती हो गयी और दोनों में मोबाइल पर मेसेज भी होने लगे. और इसके बाद दोनों ने एडल्ट मेसेज भी भेजने शुरू कर दिए, मैं मेसेज देखकर मजे लेता था. अब जेम्स रितु के बूब्स और हिप्स की तारीफ करता था और उसे सेक्सी और सुन्दर कहता था.

एक शुक्रवार को मैंने उसे डिनर पर बुलाया.
हम तीनों ने ड्रिंक से शुरू किया. पहला ड्रिंक तो दोस्त बनाने के नाम पर था. दूसरे ड्रिंक पर हम दोनों ने बातचीत करना शुरू किया और दूसरे ड्रिंक के बाद रितु डिनर की तैयारी शुरू करने के लिए चली गयी.

यह कहानी भी पड़े  चुदासी मम्मी बेस्ट फ्रेंड की

मैंने जेम्स से पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो काम कैसे चलता है?
तो वह हंस कर बोला- हाथ है … और तो कोई चॉइस नहीं है अभी!

तभी रितु अपने कपड़े बदल कर आयी और इस वक़्त वह एक शोर्ट जो बहुत ही शोर्ट थी, और एक ढीला टॉप पहन कर आयी. उसने ब्रा नहीं पहनी थी और टॉप का गला बहुत बड़ा और ढीला था. उसके निप्पल तने हुए थे और टॉप में से निकलते हुए दिख रहे थे.
मेरा तो लंड खड़ा हो गया और कुछ कुछ जेम्स का भी ऐसा ही हाल था.

हम तीनों ने एक और पेग बनाया, यह रितु का तीसरा और हमारा चौथा पेग था.

हमने डिनर करना शुरू किया पर जेम्स की नजरें सिर्फ और सिर्फ रितु के बूब्स पर थी और उसकी पेंट में तम्बू बनाना शुरू हो चुका था. वह बात बात पर रितु की तारीफ कर रहा था और बोल रहा था कि वह बहुत सुन्दर है.

मैं उससे और खुलते हुए बोला- मेरी रितु से ज्यादा सेक्सी कोई नहीं!
और जेम्स को भी इसमें बोलने का मौका मिला कि वह बहुत सेक्सी है, रितु के हिप्स, उसकी चाल और उस के बूब्स!

खाना बहुत स्वादिष्ट था और हमने मजे से खाया.

मैंने जेम्स को बोला- आज रात हमारे घर पर ही रुक जाओ.
उसने बात मान ली.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!