बीवी के जाने के बाद बेटी काम आई

ही फ्रेंड्स, मैं स्टोरी फर्स्ट टाइम लिख रहा हू. कुछ ग़लतियाँ होंगी तो मुझे माफ़ करना. ये स्टोरी है एक परिवार की, जिसमे बाप और टीन बेटियाँ है. तो चलिए कहानी शुरू करता हू. बाप का नामे अशोक, आगे 42. मा का नामे पूनम, आगे 41. पहली बेटी का नाम प्रिया, आगे 20. दूसरी बेटी का नाम कोमल, आगे 20. तीसरी बेटी का नाम रिया, आगे 19.

कहानी शुरू होती है खाना खाने के दौरान. रात के वक़्त सभी लोग खाना खा रहे थे. सभी लोग हस्सी मज़ाक कर रहे थे. अशोक और पूनम ओपन माइंडेड है. कोमल खाना खाते-खाते मोबाइल उसे कर रही थी. तभी पूनम ने पूछा-

पूनम: कोमल क्या कर रही है तू? खाना खा ले पहले, बाद में छत कर ले.

कोमल: मैं छत नही कर रही हू. रील देख रही हू मों.

अशोक: पूनम तुम क्यूँ मेरी बेटी को परेशन कर रही हो? वो बड़ी हो गयी है अभी. देखो कोमल, तुम बाय्फ्रेंड से बात कर रही हो, तो इसमे च्छुपाने की क्या बात है? तुम बोल दो अपनी मों को.

कोमल: हाहाहा, मेरा कोई ब्फ नही है पापा. मम्मी शायद प्रिया दीदी का बाय्फ्रेंड हो.

प्रिया: कुछ भी मत बोलो, मेरा भी कोई बाय्फ्रेंड नही है. शायद रिया का हो हाहहाहा.

रिया: मेरे बाय्फ्रेंड तो आप हो पापा.

सभी लोग हेस्ट है.

पूनम: रिया ऐसा नही बोलते, ये तुम्हारे पापा है.

रिया: मम्मी मज़ाक कर रही हू. वैसे आप भी तो मोबाइल बहुत उसे करती हो. आपका शायद कोई बाय्फ्रेंड हो.

अशोक हेस्ट हुए जवाब पूछता है: बोलो पूनम, क्या तुम्हारा भी है हाहहहः?

पूनम: हा है ना, मैं तो उसे बहुत प्यार करती हू. लेकिन उसके पास वक़्त ही कहा रहता है अपनी गर्लफ्रेंड से प्यार करने का.

अशोक: अछा, क्या नाम है तुम्हारे बाय्फ्रेंड का?

प्रिया: हा मम्मी, बोलो ना क्या नाम है हमारे दूसरे होने वाले पापा का?

पूनम: नामे की क्या ज़रूरत है? मिला ही देती हू ना मैं ट्यूमा ज़्ब को.

रिया: सच में मम्मी आपका बाय्फ्रेंड है?

कोमल रिया को देख कर हस्ती है और सब लोग हेस्ट है. तभी पूनम चेर से उठी, और अशोक के लॅप में जेया कर बैठ गयी, और बोली-

पूनम: यही तो मेरा बाय्फ्रेंड है बच्चो.

अशोक: मुझे तो मालूम ही नही था की तुम मेरी गर्लफ्रेंड हो.

अशोक पूनम के गाल पर किस करता है, और अपना हाथ पूनम की त-शर्ट के अंदर डाल देता है. तभी प्रिया बोली-

प्रिया: मम्मी-पापा हम यही पर है.

अशोक और पूनम दोनो अलग हो गये.

अशोक: हहा बेटी, मैं तो भूल ही गया था. चलो खाना हो गया है, तो तुम लोग अपने रूम में जाओ.

कोमल और प्रिया अपनी अपनी प्लेट्स लेके किचन की तरफ चले जाते है, और रिया वही बैठी रही.

पूनम: रिया तुम अभी तक खा रही हो?

रिया: बस हो गया मम्मी, 2 मिनिट्स.

प्रिया और कोमल अपने रूम में आते ही हासणे लगते है. रिया नही दिखी तो प्रिया अपने रूम से बाहर आई, और रिया को बोली-

प्रिया: बस कर, कितना खाएगी.

रिया: क्या हुआ? तुम जाओ, मैं आती हू.

तभी अशोक बोला-

अशोक: कोई बात नही प्रिया बेटी, खाना खाने दो उसको आराम से.

पूनम सभी बर्तन उठाने लगती है, और खाना फ्रिड्ज में रख देती है. वो प्रिया को इशारे से बोलती है इसको लेकर जेया. प्रिया समझ जाती है की मम्मी क्या कहना चाहती थी.

प्रिया: रिया तू चल, रूम में ही खाना खा लेना.

रिया: हो गया दीदी.

अशोक: रिया और खा लो ना?

रिया: बस पापा और नही खा सकती मैं.

अशोक: ओक, पूनम किधर हो तुम.

पूनम: आ रही हू.

रिया किचन में प्लेट रख कर प्रिया के साथ चली जाती है रूम में.

पूनम: ह्म, बोलो क्या बात है?

अशोक: क्या बात है? कुछ नही बस. आज तुम्हारे बाय्फ्रेंड को प्यार करना है उसकी गर्लफ्रेंड को, और क्या?

पूनम: अछा तो बाय्फ्रेंड को क़िस्सने रोका है. वो तो कभी भी प्यार कर सकते है. बस उसके पास टाइम नही रहता है मेरे लिए.

अशोक: अछा प्यार इधर ही हॉल में करू तो गुस्सा तो नही होगी ना गर्लफ्रेंड?

पूनम: प्यार करो तो पहले.

अशोक पूनम का हाथ पकड़ के अपनी और खींचता है, और किस करने लगता है. 1 मिनिट की किस के बात पूनम बोलती है-

पूनम: इसको तुम प्यार बोलते हो? रूको मैं आपको बताती हू प्यार किसे बोलते है.

पूनम किस करना स्टार्ट करती है, और एक हाथ से अशोक का लंड पंत के उपर से ही पकड़ने लगती है. तभी अशोक किस रोक के बोलता है-

अशोक: ये वाला प्यार तो मुझे भी आता है.

और फिर किस करना स्टार्ट करता है, और पूनम की छूट उपर से सहलाने लगता है. पूनम बहुत गरम हो गयी थी और अशोक का लंड पंत के उपर से सहला रही थी.

पूनम: मुझे मेरे बाय्फ्रेंड का लंड देखना है. काफ़ी दीनो से नही देखी है.

अशोक: देख लो, किसने रोका है.

पूनम: चलो रूम में चलते है.

अशोक: नही हॉल में ही करना है मुझे प्यार.

पूनम: ये प्यार नही है, वो है, समझे.

अशोक: वो क्या पूनम? खुल के बोल मुझे, मैं तुम्हारा बाय्फ्रेंड हू.

पूनम: सेक्स.

अशोक: हिन्दी में बोलो मेरी जान.

पूनम (अशोक को किस करता हुई बोलती है): चुदाई मेरे बाय्फ्रेंड.

अशोक: हा मुझे तुम्हारे साथ चुदाई करनी है हॉल में.

पूनम लंड पंत से बाहर निकालती हुई बोलती है.

पूनम: बहुत दीनो से तुम्हारा लंड नही मिला मुझे. आज तो इसको खा डालूंगी चूस-चूस कर लाल कर दूँगी.

पूनम लंड अपनी जीभ से चाटने लगती है. उसके टोपे को दाँत से काट-ती है, और हल्का सा मूह में लेना चालू करती है. अशोक की आवाज़ निकलती है-

अशोक: आह, और आचे से लो.

पूनम 5 मिनिट तक मूह में लेती रही और बोली-

पूनम: कोई आ जाएगा तो दिक्कत हो जाएगी. चलो रूम में.

अशोक: तुम सिर्फ़ लंड चूसो.

पूनम: 3 बेटियाँ है घर में. उनमे से कोई आ गयी तो क्या करोगे?

अशोक: जब आएगी तब देखेंगे. अब तो मेरा लंड लो मूह में आचे से. और काट मत साली हरमज़ाडी.

पूनम लंड मूह से निकाल के बोलती है-

पूनम: अशोक तुम मुझे गाली दे रहे हो?

और वो लंड ज़ोर से दबा देती है मज़ाक में. अशोक की चीख निकल जाती है.

अशोक: क्या कर रही हो तुम पूनम?

पूनम लंड को और ज़ोर से दबाती है. दूसरे रूम में तीनो बेटियाँ अपने काम में लगी पड़ी थी. कोमल मोविए देख रही थी हेडफोन लगा कर. रिया ग़मे खेल रही थी हेडफोन लगा कर, और प्रिया पढ़ाई कर रही थी. प्रिया को उसके पापा की चीखने की आवाज़ सुनाई दी, तो रूम से बाहर निकल कर देखने लगी.

प्रिया को मालूम था की मम्मी-पापा कर रहे थे. फिर भी वो रूम से बाहर निकल कर चोरी से देखने लगी. मम्मी पापा दोनो सोफे पर बैठे थे, मम्मी पापा का लंड हाथ में पकड़ कर ज़ोर-ज़ोर से नाख़ून से दबा रही थी. ये सब प्रिया देख रही थी.

पूनम: तुम मुझे गालियाँ दे रहे हो, और मैं कुछ भी ना करू.

अशोक: आअहह बस दर्द हो रहा है. सॉरी मुझे लगा तुमको अछा लगेगा. सॉरी, छ्चोढ़ दो प्लीज़, नाख़ून से दर्द हो रहा है तुम्हारे बाय्फ्रेंड को.

पूनम हाथ हटा लेती है, और लंड अपने मूह में फिर लेने लगती है. वो ऐसे चूस रही थी, जैसे कोई कुट्टी हड्डी को चूस्टी है.

अशोक: बस करो, मुझे नही करना. मुझे दर्द हो रहा है.

पूनम लंड को मूह से बाहर निकाल कर दाँत से काट देती है. अशोक को गुस्सा आ जाता है, और पूनम को एक थप्पड़ मार देता है. पूनम रोटी हुई रूम में जाने लगती है और कहती है-

पूनम: तुमने मुझे थप्पड़ मारा. मुझसे बात मत करो.

और रूम अंदर से लॉक कर दिया. अशोक वही सोफे पर बैठ कर अपने लंड को देख रहा था, क्यूंकी नाख़ून लगने की वजह से हल्का से खून आने लगा. ये सब प्रिया देख रही थी. पापा की हालत देख कर उससे रहा नही गया, और वो अपने रूम में चली गयी. फिर वो एक क्रीम लेकर आई, और पापा के सामने खड़ी हो गयी.

अशोक प्रिया को देख कर घबरा जाता है, और साइड में से पिल्लो उठा कर अपने लंड पर रख देता है, ताकि अपने लंड को च्छूपा सके.

अशोक: प्रिया तुम क्या कर रही हो यहा पे? अपने रूम में जाओ.

प्रिया: पापा मैने सब देख लिया है, और सुन भी लिया है. ये लो क्रीम लगा लो, जलन थोड़ी कम हो जाएगी, और जल्दी ठीक हो जाएगा.

अशोक: मुझे मालूम है बेटी, तुम जाओ यहा से. मैं रूम में जाके लगा लूँगा, जाओ तुम.

अशोक पिल्लो के पीछे हाथ डाल के अपना लंड अपनी पंत के अंदर करने की कोशिश करता है. लेकिन उसको जलन हो रही थी, तो वो डाल नही पाया. प्रिया वही खड़ी रही.

अशोक फिरसे प्रिया को बोला: जाओ बेटी, मैं कर लूँगा.

प्रिया अपने रूम की तरफ मूडी जाने के लिए. अशोक जब तक खड़ा हो कर अपने रूम की तरफ चला गया. लेकिन दरवाज़ा पूनम ने अंदर से बंद कर लिया था. अशोक ने दरवाज़े को खोलने की कोशिश की, फिर नॉक किया.

अशोक: पूनम दरवाज़ा खोलो, पूनम दरवाज़ा खोलो.

पूनम ने जवाब दिया: आज तुम हॉल में ही सो जाओ. मेरे से बात मत करना, और मैं दरवाज़ा नही खोलूँगी.

अशोक: ओके सो जाओ तुम अकेले.

अशोक फिरसे हॉल में आ कर सोफे पर बैठ जाता है. तभी फिर से प्रिया भी आके सामने आ जाती है, और कहती है-

प्रिया: पापा आप मेरे रूम में चलिए, वाहा आप क्रीम लगा लीजिए.

अशोक: बेटी तुम जाओ अपने रूम में प्लीज़.

प्रिया: पापा आपको मेरी कसम है, आप मेरे रूम में चले जाओ. मैं हॉल में रुकती हू, और आप क्रीम लेगा के वापस आ जाना.

अशोक: ठीक है.

अशोक प्रिया के रूम में जाता है. फिर अपनी पंत उतार के शीशे में अपना लंड देखता हुआ बोलता है मॅन में-

अशोक: क्या सच में प्रिया ने सब देख है? लेकिन क्यूँ उसने ऐसा बोला? छ्चोढो जाने दो. मेरी बेटी अब बड़ी हो गयी है. कितना प्यार करती है मुझे.

अशोक वॉशरूम चला जाता है लंड वॉश करने के लिए. तभी प्रिया रूम के डोर के पास आके-

प्रिया: पापा, पापा आप क्रीम सोफा पर ही भूल गये पापा.

अशोक वॉशरूम में था, इसलिए उसको प्रिया की आवाज़ सुनाई नही दे रही थी. तो प्रिया रूम में एंटर करती है. उसके पापा का क्लॉत उसके बेड पर थे और वो खुद दिख नही रहे थे. इसलिए वो तोड़ा और अंदर जाती है. तभी उसके पापा उसके सामने आ कर खड़े हो जाते है, और वो भी एक-दूं सामने खड़ी हो जाती है.

अशोक अपने हाथ से लंड च्छूपाता है और पूछता है: प्रिया क्या कर रही हो तुम?

प्रिया: पापा मैं क्रीम देने आई थी. आप सोफा पर इसको भूल गये थे. आपको आवाज़ भी दी थी, पर आपने सुना नही.

अशोक: ठीक है क्रीम रख दो, और जाओ बाहर.

प्रिया स्माइल करके अपनी गांद मतकते हुए चली जाती है. अशोक जल्दी-जल्दी से क्रीम लगा के टवल लपेट के बाहर हॉल में आ जाता है.

अशोक: बेटी जाओ सो जाओ, और वो 2 क्या कर रही है? उनको भी बोलो सो जाए.

प्रिया: ओक पापा, लेकिन आप कहा सोने वाले हो पापा?

अशोक: मैं हॉल में ही सो जौंगा. तुम देखो रिया और कोमल क्या कर रही है?

प्रिया: ठीक है पापा.

प्रिया रिया और कोमल के रूम में जाती है. देखती है वो दोनो सो गयी थी. प्रिया फिरसे हॉल में जाती है और देखती है पापा सोफा पर लेते थे, और उनका लंड दिख रहा था.

प्रिया: पापा वो दोनो सो गयी है. आप मेरे रूम में सो जाओ.

अशोक का टवल खुल गया था. अशोक जल्दी से टवल ठीक करके बोलता है: नही मैं हॉल में ही ठीक हू. तुम जाओ और सो जाओ.

प्रिया: पापा प्लीज़ ज़िद मत करो, और मेरे रूम में चलो. आपको मेरी कसम है पापा.

अशोक: नही प्रिया, यही सो जौंगा मैं, तुम जाओ.

प्रिया: आप ऐसे टवल में नही सो सकते हो. प्लीज़ समझो. आप कोमल और रिया के बारे में सोचिए. कही उन्होने ऐसी हालत में आपको देख लिया तो?

अशोक कुछ सोचता है. फिर मान जाता है. वो सोफे से जैसे ही उठता है, उसका टवल गिर जाता है. नीचे प्रिया देखते हुए हस्ती है.

प्रिया: पापा मम्मी ने तो इसको लाल कर दिया है हाहहहहा.

अशोक: बेटी ऐसा मत बोल, अछा नही लगता है. मैं तुम्हारा पापा हू समझी.

दोनो बाप बेटी हेस्ट हुए चले जाते है रूम में सोने के लिए.

प्रिया: पापा आप बेड पर सो जाओ, मैं नीचे सो जौंगी.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  पड़ोस की लड़की से मुहब्बत भरा सेक्स


error: Content is protected !!