भतीजे को सिड्यूस करने की कोशिश की कहानी

हेलो दोस्तों, कैसे है आप लोग? आशा करती हू आचे होंगे. मेरा नाम रजनी सिंग है. मैं भोपाल से हू. मेरे पति एक प्राइवेट कंपनी में काम करते है. ये स्टोरी मेरे और मेरे भतीजे की रियल लाइफ के बारे में है.

मेरी उमर 42 साल है. मेरा फिगर 34-28-35 है. मेरे भतीजे की उमर 20 साल है. चलिए शुरू करते है. लड़के अपना लंड निकाल ले, और लड़कियाँ और औरतें अपनी छूट में उंगली डाल ले.

कुछ दिन पहले की बात है. मेरे पति ऑफीस गये थे. एक बात बताना भूल गयी. उसका नाम सचिन है. मेरा भतीजा कॉलेज में है, पर वो घर रहता है, और ओन्ली एग्ज़ॅम देने जाता है. वो जिम करता है, तो उसकी बॉडी अची है.

मैं उसको उठाने गयी, तो मैने देखा उसका लंड खड़ा था. आज मैने पहली बार उसका लंड देखा था. उसके लंड को देख के लग रहा था, जैसे कोई कोब्रा खड़ा हो. उसका साइज़ 6.3 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है.

मेरी आज तक ठीक से चुदाई नही हुई. मेरे पति का 4 इंच का है. मेरा मॅन आज पहली बार आया की इसका मज़ा लेना चाहिए. पर घर में बदनामी ना हो जाए इसलिए तोड़ा खुद को रोका. लेकिन मैने उसके लंड को टच कर लिया.

ऐसा लग रहा था कोई असली मर्द है. फिर मैने उसको उठाया, और नीचे नाश्ते के लिए बुला लिया. फिर जैसे ही वो नीचे आया, उसने मुझे पीछे से हग किया. तब उसका लंड खड़ा था. पहले तो मैने कुछ सेकेंड्स उसके मज़े लिए. फिर उसको खुद से अलग किया, और फिर नाश्ता कर लिया.

पर आज उसके लंड का एहसास पा कर मेरे अंदर की औरत की प्यास जाग गयी. फिर आफ्टरनून में मैने किचन का काम बोल के उसको नीचे बुलाया, और खुद को उठाने को बोला. फिर उसने मुझे अपनी गोदी में उठाया. मैने उसके फेस पर अपने बूब्स रख दिए, जिससे उसका बॅलेन्स बिगड़ा, और हम दोनो नीचे गिर गये.

मैं उसके उपर गिर गयी, जिससे मेरे लिप्स उसके लिप्स पर जेया लगे. 15-20 सेकेंड तक तो दोनो में किसी ने अलग होने की नही सोची. फिर बाद में अलग हो गये.

मैने पूछा: कैसे गिर गये तुम?

तो वो बोला: मेरा बॅलेन्स बिगड़ गया था.

फिर उसने मुझे उठाया, और मैने फिर अपने बूब्स उसके फेस पर लगा दिए, और अपना समान उतार लिया. उसके बाद वो चला गया. शायद अभी जो हुआ उसके बाद तो उसने जाके मूठ मारी होगी. शाम को मेरे पति घर आ गये. फिर हमने खाना खाया, पर सचिन आज मुझसे नज़र नही मिला रहा था.

लग रहा था आज के हादसे की वजह से फिर वो अपने रूम में चला गया. रात को मैने पति से बोला-

मैं: चलिए करते है.

मेरे बहुत कहने पर वो करने लगे. कुछ टाइम में ही निकल गया उनका, और वो सो गये. फिर मुझे अपनी छूट में उंगली करनी पड़ी. जब मैं उंगली कर रही, तब मुझे लगा कोई मुझे देख रहा था. मैं समझ गयी सचिन होगा. तो मैं दरवाज़े की तरफ छूट करके ज़ोर-ज़ोर से उंगली करने लगी, और धीरे से सचिन का नाम लेके झाड़ गयी.

फिर मॉर्निंग में उठी, और पति को नाश्ता कराया, और ऑफीस के लिए भेज दिया. उसके बाद मैं सचिन को उठाने गयी. आज फिर उसका लंड खड़ा था, और उसे देख के आज मैने उसे दोबारा च्छुआ. बहुत हार्ड था उसका उस टाइम. उसने उठने के बाद नाश्ता किया.

आज सचिन मुझसे तोड़ा खुलने की कोशिश कर रहा था. वो मुझे छूने की कोशिश कर रहा था. फिर नहाने गयी और जान बूझ कर अपने कपड़े नही ले गयी. मैं ब्रा और पनटी में बाहर आ गयी. जब सचिन ने मुझे देखा तो देखता रह गया. मैं उसको होश में लाई, और उससे पूछा-

मैं: क्या देख रहा है?

तो वो बोला: कुछ नही.

फिर मैं चली गयी. आज उसके बातरूम का नाल खराब हो गया, तो वो आज नीचे के बातरूम में नाहया. जब वो नहा कर निकला, तो वो उस टाइम टवल में था. जैसे ही वो बाहर आया, तो उसका टवल नीचे गिर गया, और उसका लंड मेरी आँखों के सामने था.

3-4 सेकेंड्स तो मैं उसको देखती रही. फिर वो टवल उठा के भाग गया. फिर जब हम आफ्टरनून में खाना खा रहे थे, तब उसने मुझको सॉरी बोला आज के लिए. मैने उसको इट’स ओक बोल दिया, और कहा-

मैं: क्यूंकी तुमने भी तो मुझे ब्रा और पनटी में देखा था. तो हिसाब बराबर.

जब मैने ये बोला, तो उसका मूह खुला रह गया. फिर हमने खाना ख़तम किया, और मोविए देखने लगे. उसमे जिस्म मोविए चल रही थी, और किस सीन चालू था. उसे देख कर सचिन मुझे देखने लगा.

फिर जैसे ही मैने उसको देखा, तो उसने नज़र घुमा ली, और चॅनेल चेंज कर दिया. मैने उसको मेरे पैर दबाने के लिए बोला. जैसे ही उसने मेरे पैरों को च्छुआ, मेरी तो पूरी बॉडी में करेंट सा लग गया. मेरी छूट गीली होने लगी.

फिर वो पैर दबाने लगा. वो तोड़ा टाइट दबा रहा था. तब मेरे मूह से ‘आ अया मॅर गयी’ ये लाइन निकल गयी. वो मुझे देखने लगा.

मैने उसको बोला: तुम बहुत टाइट दबा रहे हो. इसलिए मूह से निकल गया.

फिर मैने उसको रूम में भेज दिया. मैं सोने चली गयी. आज सपने में भी में उसका बड़ा लंड ही आ रहा था. जब उठी तो सचिन भी आ गया. फिर हमने शाम को छाई पी. मैं उसको उसकी प्राइवेट लाइफ के बारे में पूछने लगी-

मैं: कितनी गर्लफ्रेंड्स है तेरी?

इस्पे वो बोला: एक भी नही.

मैने बोला: मैं मान नही सकती. अछा दिखता है, हाइट भी अची है, बॉडी भी अची है. और तेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नही है. झूठ बोल रहा है तू.

फिर वो बोलने लगा: नही, आज तक कोई लड़की सेट ही नही हुई.

फिर मैं और पूछने लगी: कोई तो होगी जिसने तुझे प्रपोज़ किया होगा.

तब उसने बोला: एक लड़की थी, पर मुझे वो अची नही लगी.

फिर वो बोला: मुझे लड़कियों में इंटेरेस्ट नही है.

मैं बोली: फिर क्या मेरे जैसी 40 साल की औरत में इंटेरेस्ट है?

इस्पे वो स्माइल करा और धीरे से बोला: ह्म.

फिर मैं बोली: 40 साल की में तुझे क्या मिलेगा?

वो बोला: बहुत कुछ.

मैं बोली: अपनी आगे की लड़की देख तुझे मज़ा आएगा. कहा हम जैसी 40 साल की बुद्धियों के चक्कर में पद रहा है? कुछ मज़ा नही आएगा.

इस्पे वो बोला: मज़ा तो बहुत आएगा, कोई पक्का खिलाड़ी हो मेरी तरह तो.

इस्पे मैने थोड़ी स्माइल दी, और उसको बोली: बहुत नॉटी बातें करने लगा है. चल जेया अब पढ़ ले.

जाते टाइम धीरे से बोला: मैं बहुत पक्का खिलाड़ी हू. एक बार चान्स दो.

फिर मैने उसको कुछ नही बोला, और वो चला गया.

आज के लिए इतना ही. आशा करती हू आपको मेरी स्टोरी अची लगी हो. तो आप स्टोरी को लीके करे, और किसी औरत को सेक्स की कमी हो तो मुझे मेरी गमाल पर मेसेज करे. मैं आपकी हेल्प करूँगी. जैसे भी हेल्प हो सकेगी मैं करूँगी. मैं आपकी हेल्प करूँगी. आप मुझे मैल कर सकते है अपनी प्राब्लम

यह कहानी भी पड़े  कस्टमर के साथ सुहाग रात


error: Content is protected !!