भाई ने दिलवाई कृति भाभी की चूत-1

हेलो फ्रेंड्स, मई शाश्वत एक बार फिर आप सब के सामने अपनी एक और कहानी के साथ हाज़िर हू. इश्स कहानी मे आप पढ़ेंगे की कैसे मेरी कहानी पढ़ कर कैसे एक रीडर ने मुझसे मैल पे कॉंटॅक्ट किया अपनी वाइफ मुझसे छुड़वाने के लिए.

अब और देरी ना करते हुए मे सीधा स्टोरी पे आता हू. बात डिसेंबर की है. एक रोज मुझे एक मैल आया मनोज (चेंज्ड नामे) के एक व्यकाती का.

मैल मे उन्होने बताया की उनकी सदी को 1. 5 साल हो गये है. और वो अपनी वाइफ को मुझसे छुड़वाना चाहते है. मैने उनसे रीज़न पूछा तो उन्होने बताया की वो उनकी वाइफ को सॅटिस्फाइ नही कर पाते थे. और वो अपनी वाइफ को किसी और से चुड़ते हुए देखना चाहते थे. फिर हम लोग व्हातसपप पे छत और कॉल करने लग गये. उन्होने अपनी वाइफ कृति की पिक भी मुझे भेजी.

कृति भूत ही सुदार लड़की थी. गोरा सारीर, क्यूट फेस, 5. 3 की हाइट, मीडियम साइज़्ड बूब्स, पतली कमर, और उभरी गंद. पूरी कयामत थी वो.

तो मेरी कॉल पे भी कृति से बात होने लगी. और हम रोज सेक्स कॉल करने लगे. फिर जन्वरी मे हमने मिलने का प्लान बनाया. मनोज ने मेरी नॉइदा की टिकेट्स करा दी और अपने फ्लॅट का अड्रेस भी बता दिया.

मे 29 जान की साम को नॉइदा मे उनके बताए फ्लॅट पर पहुच गया. फिर मैने उनके फ्लॅट को नॉक किया तो मनोज ने दरवाजा खोला और मुझे सोफे पर बिताया. कृति भी आ गयी वाहा.

मे तो कृति को देखता ही रह गया. कृति सच मे बहुत खूबसूरत थी. उसने ब्लू सारी पहन रखी थी. मैने उसे भी हेलो बोला. उन दोनो ने मेरा हाल चाल पूछा. और फिर कृति को छाई लाने को बोल दिया. मनोज 33 साल का था और एक प्राइवेट कंपनी मे आक्ची जॉब करता था.

वो काफ़ी अकचे से बात कर रहा था. मुझे वो काफ़ी मेच्यूर आंड अकचे स्वाभाव वाला आदमी लगा. उसने मेरे बारे मे पूछा की क्या करते हो क्या हॉबी है वाईगारा. फिर इतने मे कृति छाई ले कर आ गयी और हम सब बेत कर छाई पीने लगे. मुझे दोनो ही हज़्बेंड वाइफ काफ़ी अंडरस्टॅंड लगे. हमने कुछ देर नॉर्मल बाते की.

फिर मनोज ने पूछा की केसी लगी तुम्हे कृति. मैने बताया की आपको वाइफ भूत सुंदर है आंड आपका बहुत सुक्रिया जो आपने मुझे बुलाया. मनोज ने फिर आयेज बताया की हम दोनो एक दूसरे से भूत प्यार करते है.

पर क्यूकी मे कृति को सारिरिक ख़ुसी नही दे पा रहा हू इसलिए मैने तुम्हे बुलाया है. मुझे भी उनकी बाते सही लगी आंड मैने उनसे पूछा की क्या मे आप को भैया आंड भाभी बुला सकता हू. क्यूकी वो मुझसे 10 साल बड़े थे. वो भी खुस हुए और कहा की तुम काफ़ी समझदार हो और अकचे हो.

फिर उन्होने बताया की पहले तुम जेया कर नहा कर फ्रेश हो जाओ, तब तक हम खाना माँगा लेते है और आल्कोहॉल भी. तो मैने उन्हे बताया की मे आल्कोहॉल नही लेता. तो वो बोले कोई बात नही तुम्हारे लिए कोल्ड ड्रिंक्स माँगा लेंगे.

मे जेया कर उनके बातरूम मे नहाने लगा. उनका फ्लॅट 2 भक था. मैने नहा कर त शर्ट और लोवर पहन कर बाहर आया. तब तक मनोज भैया ड्रिंक्स ले कर आ चुके थे और खाना भी आ चुका था.

कृति भाभी ने खाना गरम किया और तोड़ा तोड़ा ही प्लेट मे लगा दिया. हुँने खाना खाया फिर. भैया आंड भाभी ड्रिंक करने लग गये और मुझे कोल्ड ड्रिंक्स दे दी. और साथ ही टीवी पे फिफ्टी शेड्स ऑफ ग्रे लगा दी. फिल्म बहुत बोल्ड थी और ड्रिंक की वजह से वो दोनो गरम होने लगे. मे भी फिल्म और कृति भाभी को देख क्र गरम होने लगा.

भैया भाभी को वही किस करने लगे और मे भी भाभी के सॉफ्ट बूब्स ब्लाउस के उपर से दबाने लगा. क्या मस्त बूब्स थे भाभी के. फिर मनोज भाई ने अपना लोवर उतार कर अपना लंड कृति के हाथो मे दे दिया आंड कृति मनोज के लंड का मूठ मरने लग गयी.

अब कृति करीब 2 मीं मे ही मनोज के 4 इंच के लंड ने कृति के हाथो मे पानी छ्चोड़ दिया और वो तक कर हफाने लगा. कृति ने अपने हाथ सॉफ किए और फिर मनोज ने कहा अब तुम दोनो अकचे से मज़े करो बेडरूम मे चल कर.

मैने कृति भाभी को अपनी गोदी मे उठाया और उनके बेडरूम ले गया. मनोज भाई भी पीछे पीछे आ कर बेडरूम के सोफे मे बैठ गया. मैने कृति को बेड पर लिटा कर उनके उपर चाड कर उनके मस्त होंठो को चूमने चूसने लगा. और हंतो से उनकी चुचि दबाने लगा.

करीब 10 मीं की किस्सिंग के बाद मैने भाभी की ब्लाउस और ब्रा को उतार कर अलग कर कर दिया. अब कृति के नंगे चुचे मेरे सामने थे. उसके ब्राउन निपल्स टाइट होकर मुझे बुला रहे थे.

आख़िर मैने कृति के चुचो मे मूह लग दिया और उनको मूह मे भर कर चूसने लगा. मैने उनकी चुचियो पर काई जगह कटा भी. साथ ही मैने भाभी की पेटिकोट को उपर कर के एक हाथ से उनकी छूट को पनटी के उपर से सहलाना शुरू कर दिया.

अब भाभी सिसकारिया भरने लगी थी. अहह उम्म्म्ममम उूउउफफफ्फ़…

भाभी की पूरी पनटी उनकी छूट के रस से गीली हो चुकी थी. फिर मे कृति की नाभि और पेट चूमते हुए नियचे आया और उनकी पेटिकोट और पनटी उतार कर अलग फेक दी. कृति अब मेरे सामने पूरी नंगी हो गयी थी.

उधर मनोज भी अपना लंड सहला रहा था हम दोनो की मस्ती देख कर. फिर मैने भाभी की क्लीन शेव्ड गोरी छूट मे मूह लगा कर चूसने लग और जीभ अंदर डाल कर उनकी छूट छोड़ने लगा.

क्या मस्त नमकीन टेस्ट था उनकी छूट का. और साथ ही मैने फिंगर्स से उनकी छूट का दाना भी मसलाना शुरू कर दिया. करीब 3-4 मीं मे ही कृति भाभी मेरे मूह मे झाड़ गयी. और मैने उनका सारा नमकीन पानी पी लिया.

कृति ने मुझे गले से लगा लिया और बोली “यार भूत मज़ा दिया यार तुमने चूस कर ही मेरी छूट का पानी निकल दिया. भूत अक्चा चुड़ते हो यार तुम”.

मैने थॅंक्स बोला और कहा की अभी तो देखती जाओ कृति बेबी अभी तो बहुत मज़ा करौंगा तुम्हे. फिर मैने अपने अपने कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया. मेरा कला 6. 3 इंच का लंड देख कर भाभी खुस हो गयी बोली भूत अक्चा है यार बेबी तुम्हारा ये.

मैने फिर कृति से मेरा लंड चूसने को बोला और वो अपने मूह मे भर कर मेरा लंड चूसने लगी. क्या मस्त गरम मूह था उनका. मे भी उनके चुचो से खेलने लगा.

फिर थोड़ी देर मे हम 69 की पोज़ मे आ गये और मैने भाभी की छूट मे उंगली करनी शुरू कर दी. करीब 5 मीं मे भाभी फिर से गरम हो गयी और उनकी छूट गीली हो गयी अब वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारिया ले रही थी और बोलने लगी-

ह उम्म्म… बेबी अब और मत तड़पाव मुझे उउउफफफफ्फ़… कब से तड़प रही हू छुड़ाने को… छोड़ दो अब मेरी छूट ह…

मैने भी अब देर करना ठीक नही समझा और लंड को मिशनरी पोज़िशन मे भाभी की छूट मे रगड़ने लगा और फिर कृति को किस करते हुए छूट को लंड मे एक ज़ोरदार ढाके से आधा पेल दिया. जिससे कृति के मूह से चीख निकल गयी.

सच मे कृति भाभी की छूट आज भी बहुत टाइट थी. मैने भाभी का मूह हाथो से दबाया और 2-3 धक्को मे पूरा लंड उनकी छूट मे पेल दिया.

और थोड़ी देर वेसए ही संत लेता रहा भाभी के उपर. फिर जब भाभी का दर्द कम हुआ तो मैने नीचे से धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए. अब भाभी की भी मज़ा आने लगा और वो भी गंद हिला कर मेरा साथ दे रही थी. मैने उनको कहुमते हुए उनकी छूट चुदाई ताबड़तोड़ तरीके से शुरू कर दी.

मनोज भाई भी नंगा ही बेड पे आ गया और हमारे पास आ कर भाभी के चुचे दबाने लगा. फिर मे भाभी को बेड के साइड मे ला कर उनकी टाँगे अपने कंधे मे रख कर उनको छोड़ने लगा और भाई भाभी से अपना लंड चुसवाने लगा. 2 मीं मे ही वो झाड़ गये और वही साइड मे लेट गया.

मैने फिर कृति को उसके हुसबाद के उपर घोड़ी ब्ना कर पेकचे से छूट मरने लगा और झुक कर उसकी चुचि नोचने लगा. भाभी बहुत ज़ोरो से मोन करने लग गयी थी
आआहह… मेरे राजा छोड़ दो मेरी छूट.. ब्ना लो मुझे अपने लंड की गुलाम उउउफफफ्फ़.. फाड़ दो मेरी छूट ऊओह…

फिर थोड़ी देर और वेसए ही छोड़ने के बाद भाभी की छूट मे झाड़ गया और उसके बगल मे लेट कर उसे अपने से चिपका के किस करने लगा. इश्स बीच भाभी 2 बार झाड़ चुकी थी.

यूयेसेस रात मैने 3 रौंद और कृति भाभी की छूट मारी. फिर अगले दिन मनोज भाई ने बताया की वो ऑफीस क काम से आहेमदबाद जेया रहे है साम को और मेन्ली की तुम दोनो अकेले मे एंजाय करो इश्स लिए जेया रहे थे. फिर मई 5 दिन वाहा अकेले कृति के साथ रुका और इश्स बीच कृति की गांद भी मारी. उसकी स्टोरी फिर कभी लीकुंगा.

मनोज मुझे अपना छोटा भाई मानने ल्गे. और कृति एसए तो मुझे ड्यूवर मानती थी पर अकेले मे बेबी बुलाती थी मुझे.

तो दोस्तो ये थी मेरी स्टोरी. उमीद करता हू आप सबको पसंद आएगी. अगर आपको और आयेज की भी स्टोरी जननी हो तो मैल करे मुझे

यह कहानी भी पड़े  भाभी की चुदाई ठंडी मे फुल मस्ती की

error: Content is protected !!