भाई ने भाई को लॉक करके उसकी बीवी चोदी

तो अब मैं इस कहानी के मैं कॅरेक्टर्स के बारे में बता डू (इस कहानी के मैं कॅरेक्टर्स 07 है. उनके नाम नीचे डीटेल्स में बता रही हू.

(प्रियंका/अंजलि/रिया/राजेश/राकेश/सन्नी/हीरालाल)

01: प्रियंका (निकनेम पिंकी, आगे 27 साल, रंग गोरा, हाइट 5 फीट 3 इंचस, वेट 56 क्ग, फेस शेप रौंद, आइज़ शेप रौंद आंड कलर ब्लॅक. लिप्स रौंद, नोस शेप स्नब, फिगर साइज़ 34-28-34. बूब्स निपल शेप ऑमंड आंड कलर ब्राउन. वेस्ट शेप रौंद, हिप्स शेप फिट, पुसी शेप बार्बी, आस शेप रौंद, पुसी कलर लाइट पिंक).

02: अंजलि (निकनेम अंजू, आगे 25 साल, रंग गोरा-चितता, हाइट 5 फीट 4 इंचस, वेट 60क्ग, फेस शेप डाइमंड, आइज़ शेप डीप सेट, आंड कलर ब्राउन. लिप्स वाइड, नोस शेप तुर्न-उप, फिगर साइज़ 36-30-38, बूब्स निपल शेप आइवरी आंड कलर लाइट ब्लॅक. वेस्ट शेप कर्वी, हिप्स शेप रेक्टॅंगल, पुसी शेप पफ्स आंड कलर पिंक. आस शेप पेयर).

03 रिया (निकनेम बीटू, आगे 22 साल, रंग एक-दूं गोरा, हाइट 5 फीट 6इंचस, वेट 54 क्ग, फेस शेप हार्ट, आइज़ शेप मोनॉलिड, आंड कलर ब्राउन, लिप्स तीन, नोस शेप न्यूबियन, फिगर साइज़ 32-26-32, बूब्स निपल शेप ब्रॉन्ज़ आंड कलर पिंक. वेस्ट शेप स्लिम, पुसी शेप डब्ल्यू, आंड कलर पिंक, आस शेप ट्राइंगल).

04: राजेश (निकनेम राजू, आगे 28 साल, वेट 67 क्ग, लंड साइज़ 7इंचस, सेक्स स्टॅमिना 7 से 12 मिनिट्स अराउंड).

05: राकेश (निकनेम राकु, आगे 26 साल, वेट 68 क्ग, लंड साइज़ 5इंचस, सेक्स स्टॅमिना 7 से 10 मिनिट्स अराउंड).

06: सन्नी (निकनेम सन्नी, आगे 24 साल, वेट 61क्ग, लंड साइज़ इंचस 8, सेक्स स्टॅमिना 20से 25 मिनिट्स अराउंड).

07: हीरालाल (निकनेम हीरु, आगे 54 साल, वेट 72क्ग, लंड साइज़ 6 इंचस, सेक्स स्टॅमिना 12 से 15 मिनिट्स अराउंड).

तो फ्रेंड्स अब मैं कहानी पर आती हू. ये कहानी शुरू होती है पिंकी और राकु से. गर्मियों का मौसम था, पिंकी और राकु दोनो ही टेरेस पर सोने गये हुए थे, और दोनो की अभी-अभी शादी हुई थी. दोनो का एंजाय करने का टाइम था. तो वाहा से शुरू होता है पिंकी और राजू का सेक्स रिलेशन्षिप. क्यूंकी उस रात राकु की जगह राजू से पिंकी चुड गयी थी.

(टेरेस पर राकु और पिंकी)

पिंकी: डार्लिंग उठो ना, क्या आप सो गये?

राकु: हा बोलो डार्लिंग क्या हुआ?

पिंकी: क्या हम टेरेस पर बस खाली सोने के लिए आए है?

राकु: हा लेकिन तुम ऐसे क्यूँ बोल रही हो?

पिंकी: तो चलो जाओ सो जाओ.

राजू: डार्लिंग तुम इतनी गुस्से से क्यूँ बोल रही हो? क्या हुआ है तुमको?

पिंकी: और क्या बोलू तुमको? तुम कुछ समझ ही नही रहे हो. हुमको सोना होता तो हम बेडरूम में भी सो सकते है. हम यहा टेरेस पर क्यूँ आए है?

राकु: चलो तुम ही बता दो की हम टेरेस पर क्यूँ आए है?

पिंकी: अर्रे डार्लिंग, हमे यहा एंजाय करना है. तुम क्यूँ नही समझ रहे?

राकु: डार्लिंग मुझे पता है. लेकिन मैं तुम्हारे मूह से सुनना चाहता था बस. अब तुम तैयार हो जाओ.

तुम्हारे बोलने से मुझमे जोश आ गया है, और जब तुम मुझे बोलती हो, तो मेरा अपने आप ही खड़ा हो जाता है.

पिंकी: तो डार्लिंग जल्दी करो. मुझे छोड़ो, मेरी छूट कब से तड़प रही है आपके लंड के लिए.

राकु: डार्लिंग तुम बड़ी बेशर्म लड़की हो, जो छुड़ाने के लिए अपने मूह से बोलती हो मुझे छोड़ो तुम्हारा लंड मेरी छूट में चाहिए.

पिंकी: हा डार्लिंग, बेशर्म हू. लेकिन मैं अपने पति के लिए बेशरम हू. क्यूंकी मेरे पति का लंड ऐसा है, जिसको देख कर मेरी छूट में खुजली होने लगती है.

और फिर राकु पिंकी के कपड़े उतार देता है, और उसके बूब्स को दबाने लगता है. फिर अपने मूह में लेकर उसके निपल चूसने लगता है. पिंकी बहुत गरम हो जाती है, और अपनी छूट का पानी छ्चोढने लगती है.

पिंकी: चलो डार्लिंग, अब तो मेरी चूत चातो. मेरी चूत बहुत गरम हो चुकी है. और मैं छुड़वाने से पहले अपनी छूट चटवाना चाहती हू.

पिंकी को छूट चटवाना बहुत पसंद है. लेकिन हमेशा की तरह राकु छूट नही चाट-ता है और सीधा उसका लंड उसकी छूट में घुसा देता है, जो पिंकी को बिल्कुल ही पसंद नही होता है.

पिंकी: अर्रे डार्लिंग, मैने तुमसे क्या कहा था? मेरी छूट छातो. लेकिन तुमने तो सीधा मेरी छूट में अपना लंड ही घुसा दिया. अब घुसा दिया है तो मुझे आज बहुत छोड़ना. मुझे आज बहुत चुदाई करनी है.

राकु पिंकी के उपर था. वो मिशनरी सेक्स पोज़िशन में पिंकी को छोड़ रहा था. करीब 3 से 4 मिनिट छोड़ने के बाद वो उठा तो पिंकी बोली-

पिंकी: अब क्या हुआ, क्यूँ उठ गये? मैने तुमसे कहा था ना, की मुझे आज पूरी रात चुदाई करनी है.

राकु: अर्रे डार्लिंग तुम टेन्षन मत लो. मैं तुम्हे आज पूरी रात छोड़ूँगा. और अब तुम घोड़ी बन जाओ, तब तक मैं बेडरूम से तेल लेकर आता हू, और फिर मैं तुम्हे पीछे से छोड़ूँगा, ठीक है?

पिंकी: वाउ, लगता है तुम्हारा लंड आज बहुत देर तक टिकने वाला है. इसीलिए शायद तुम्हारे लंड को तेल की ज़रूरत पड़ेगी. जाओ जल्दी लेकर आओ.

और फिर राकु जल्दी से टेरेस से नीचे अपने बेडरूम आ ही रहा था, की नीचे से राजू ने उसे नंगा देख लिया.

राजू (मॅन में): अर्रे ये क्या, राकु इतनी रात गये नंगा कहा जेया रहा है?

और राजू एक-दूं से वाहा से हॅट गया और साइड में खड़ा हो कर च्छूप गया, ताकि राकु उसे ना देख ले. और इत्तेफ़ाक़ से राकु ने उसे नही देखा था, और राकु अपने बेडरूम में चला गया. फिर राजू आहिस्ते-आहिस्ते उसके बेडरूम की दरवाज़े पर आ गया, और तोड़ा सा दरवाज़ा खोल कर देखा तो राकु अंदर कुछ ढूँढ रहा था.

राजू को अंदर पिंकी नही दिख रही थी, तो शक हुआ की पिंकी ज़रूर टेरेस पर होगी, और राकु अपने बेडरूम में कुछ लेने आया था. तो ये देख कर राजू जल्दी से टेरेस के उपर आ गया, और जाते ही उसने देखा की पिंकी नंगी हो कर घोड़ी बनी हुई थी. वो अपनी छूट में उंगली कर रही थी नीचे से हाथ डाल कर.

राजू को सॉफ-सॉफ उसकी छूट दिख रही थी, क्यूंकी टेरेस के दरवाज़े की तरफ उसकी गांद थी, और मूह आयेज की तरफ था.

पिंकी: आह आह ह ह ओह राकु, जल्दी आओ ना, मेरी गीली छूट तुम्हारे लंड के लिए तड़प रही है. ह ह ओह हाए मेरी ये गीली गरम छूट की आग कैसे बूझोउ? राकु तुम जल्दी आ जाओ. ये साला मेरा पति भी क्यूँ जल्दी नही आ रहा है? मेरी गीली गरम छूट बहुत तड़प रही है लंड के लिए.

ये सब पिंकी के मूह से सुन कर और ये सब देख कर राजू की नीयत खराब हो गयी. उसका लंड भी खड़ा हो गया, और जल्दी से वो नीचे गया, और राकु के बेडरूम के बाहर से दरवाज़े को कड़ी लगा कर वापस उपर टेरेस पर आ गया.
फिर टेरेस पर आ कर दरवाज़े की भी कुण्डी बाहर से लगा दी, ताकि कोई आ ना जाए. उसके बाद झट से अपनी पंत उतार दी और आयेज पिंकी की तरफ बढ़ा.

पिंकी: ओह डार्लिंग, तुम आ गये. अब जल्दी से अपना मोटा लंड मेरी छूट में डालो. मैं कब से तड़प रही हू तुम्हारे लंड के लिए.

राजू (मॅन में): अर्रे ये तो मुझे छोड़ने के लिए बोल रही है. लेकिन ये मुझे राकु समझ कर बोल रही है. आबे राजू, क्या सोच रहा है? ये सोचने का वक़्त नही है. ये छूट आज के लिए तेरी है. छोड़ डाल. और इसे क्या पता, इसका मूह आयेज की तरफ है. ऐसे लगेगा की तेरा भाई राकु इसे छोड़ रहा है.

और फिर राजू ने ज़्यादा टाइम वेस्ट नही किया, और पिंकी की छूट पर अपना मूह रख दिया. फिर अपनी जीभ से पिंकी की छूट को चाटने-चूसने लगा.

पिंकी: वाउ राकु, आज तो तुम मुझे बहुत मज़ा दे रहे हो. हा ऐसे ही अपनी जीभ से मेरी छूट को चाट-ते रहो. रुकना मत, मुझे बहुत मज़ा आ रहा है.

फ्रेंड्स, पिंकी को छूट चटवाना बहुत पसंद है, और राजू को छूट चाटना. राकु को लंड चुसवाना पसंद है, और अंजू को लंड चूसना पसंद है. मतलब इन चारो का टेस्ट अलग-अलग है एक-दूसरे से. फिर राजू ने और देर नही की. वो उठा, और अपना लंड सीधा पिंकी की छूट में घुसा दिया, और घपा-घाप छोड़ने लगा. पिंकी भी बड़े मज़े से छुड़वा रही थी घपा-घाप.

पिंकी: ह ह ओह उफफफफफ्फ़ राकु, आज क्या खाया है यार? तुम बहुत मज़ा दे रहे हो. ऐसे ही छोड़ते रहो, बहुत मज़ा आ रहा है राकु. रुकना मत, मुझे नों-स्टॉप छोड़ते रहो. बहुत मज़ा आ रहा है.

राजू (मॅन में): हा डार्लिंग, मुझे पता है आज तुम्हे बहुत मज़ा आने वाला है. क्यूंकी मैं तुम्हे बहुत छोड़ने वाला हू. अभी तो चुदाई शुरू हुई है. वैसे मुझे दर्र भी लग रहा है इसे छोड़ने में. पर ये बड़े ज़ोर से मुझसे बोल रही है छोड़ने के लिए, तो मेरा जोश और बढ़ रहा है इसे छोड़ने का.

राजू पीछे से अपना पूरा लंड पिंकी की छूट में घुसा रहा था, मतलब छूट की गहराई तक जेया रहा था. राजू पिंकी के दोनो हाथो को पकड़ कर जाम के चुदाई कर रहा था.

छूट बहुत गीली थी, और गरम भी. लंड भी बड़ा मोटा था, और आराम से छूट में घपा-घाप कर रहा था. दोनो चुदाई के मज़े में गुम थे. दोनो की आँखें बंद थी. बस फाका-फक फाका-फक हो रहा था.

पिंकी: हा डार्लिंग, ऐसे ही मुझे छोड़ते रहो. क्यूंकी अब मेरा होने वाला है. तुम मुझे ऐसे आधे में मत छ्चोढना, करते रहो बस.

राजू: डार्लिंग तुम टेन्षन मत लो. मैं आज तुम्हे चाँद तक ले जौंगा.

पिंकी: ये तो हमेशा की तरह बोलते हो.

राजू: लेकिन डार्लिंग आज की चुदाई तुम याद करोगी. लो अब मैं और ज़ोर से तुम्हे धक्के मारने वाला हू.

इतना बोलने के बाद राजू तेज़ी से पिंकी की छूट में धक्के मारने लगा. वो लंड पूरा बाहर निकालता, फिर घुसता, घपा-घाप ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा. पिंकी पूरी हिल रही थी. राजू अपने दोनो हाथो से पिंकी की कमर को पकड़ कर चुदाई कर रहा था.

फिर सेक्स पोज़िशन चेंज हुई. राजू पीछे की तरफ लेट गया, और ऐसे ही पीछे से पिंकी उसके लंड के उपर बैठ गयी, उसका लंड अपनी छूट में ले कर. मतलब उसका फेस उसके पावं की तरफ था. राजू के मूह की तरफ उसकी पीठ थी, तो अभी भी पता नही चला था उसको. फिर वो ज़ोर-ज़ोर से राजू के लंड पर उछालने लगी.

करीब 10 से 12 मिनिट के बाद पिंकी की छूट में राजू ने अपने लंड के गरम-गरम माल की पिचकारी छ्चोढ़ दी, और पिंकी भी झाड़ गयी. फिर पिंकी निढाल हो कर ऐसे ही आयेज की तरफ झुक गयी, और जैसे राजू ने पिंकी की छूट में से लंड बाहर निकाला, तो पिंकी की छूट फाका फक फक की आवाज़ करने लगी.

वो इसलिए, क्यूंकी पिंकी की छूट में से राजू के लंड का माल बाहर निकल रहा था तपाक-तपाक करके. फिर राजू झट से उठा, और नीचे की तरफ भागा ताकि उसे कोई देख ना ले. फिर नीचे जाते टाइम उसने राकु के बेडरूम का दरवाज़ा भी खोल दिया, जो बाहर से लॉक था.

इससे आयेज क्या हुआ, वो मैं नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी. प्लीज़ मेरी कहानी पसंद आए तो कॉमेंट करना.

यह कहानी भी पड़े  मकान मालिक के चुड़क्कड़ ऑफर की कहानी


error: Content is protected !!