भाई ने बहन और उसकी बेटी के साथ किया थ्रीसम

मेरी और दी की चुदाई चल ही रही थी, की कायरा रूम में एंटर हो गयी और उसने ये सब जीजू को बताने की धमकी दी. तब मैने और दी ने उसको अपनी स्टोरी सुना कर कन्विन्स करना चाहा.

मे: और तुम्हारी मों की प्रेग्नेन्सी कॉंप्लिकेशन की बात मेरी फ्रेंड मीना ने बताई, जो उसी हॉस्पिटल में जॉब करती थी. आक्च्युयली हम दोनो क्लासमेट थे, और आचे फ्रेंड्स भी थे. एक-दूसरे से सारी बात शेर करते थे. और उसे ये भी पता था की मैं अपनी दी अनु को लीके करता हू, और वो अपने कज़िन ब्रो अशोक को लीके करती थी. और उन दोनो की सेट्टिंग करने में मैने हेल्प करी थी.

सो, जब तुम्हारे मों आंड दाद इंडिया आ कर हॉस्पिटल में गये, तब मीना ने उन्हे पहचान लिया. और पूरा मामला जान कर मुझे बताया, और बोला की बरसो पहले मैने जो हेल्प की, उसका फेवर वो लौटा रही थी.

कायरा: तो फिर क्या, मों मान गयी आसानी से?

मे: मीना ने मुझे बताया की तुम्हारी मों को लंड की नीड है, तो मैं उससे मिलने लगा, उससे ज़्यादा छत करने लगा, उसको मौका मिलने पे टच करने लगा. फिर धीरे-धीरे तुम्हारी मों भी मेरी तरफ अट्रॅक्ट होती गयी, और मौका मिलने पे मैने उसे प्रपोज़ किया बेड के लिए, और बताया की मैं उनकी हेल्प कर सकता हू.

दी: ओये, हेलो. मैं इतनी आसानी से नही मान गयी थी. इसका क्रेडिट तो मीना को जाता है. जब उसे मेरी प्राब्लम का पता चला, तो फिर उसने मुझसे यहा-वाहा की बात की फिर कहा-

मीना: देखो दी, मैं अब जो बताने जेया रही हू, वो शायद आपको अजीब लगे. पर आप उसे एक बार सुन लो ज़रूर. आपके पास नॅचुरल प्रेग्नेन्सी के अलावा और कोई चान्स नही, और उसके लिए आपको एक लड़के/मर्द की ज़रूरत पड़ेगी. अगर आप फॉरिन में होती तो कोई दिक्कत नही थी. क्यूंकी वाहा कोई आपको नही जानता होगा. पर यहा इंडिया में अपने एरिया में सब आपको पहचानते होंगे. सो आप यहा पे किसी अंजाने मर्द के साथ सेक्स करोगी तो बहुत रिस्क है.

दी: रिस्क तो है, पर अब मैं करू भी तो क्या?

मीना: मेरी नज़र में एक लड़का है, जो आपको मों बनाने में हेल्प कर सकता है. वो आपका नोन है, और आपके घर में आए-जाए किसी को कुछ शक नही होगा. और वो काम होने के बाद आपको परेशन भी नही करेगा, फुल सीक्रेसी.

दी: कों है वो?

मीयर्रा: मेरा फ्रेंड और आपका छ्होटा भाई.

दी: क्या? तुम क्या बकवास कर रही हो? कही पागल तो नही हो गयी तुम?

मीना: देखिए दी, मैने सब सोच समझ कर ही बोला है. बंद कमरे में कपड़े निकालने के बाद सिर्फ़ लड़का और लड़की रहते है, रिश्ते सब चौखट पे रुक जाते है. और मैं ये एक्सपीरियेन्स से बोल रही हू. क्यूंकी मैने भी अपने कज़िन ब्रो के साथ सेक्स किया है.

मीना: हम दोनो एक-दूसरे को पसंद थे. हम दोनो की मर्ज़ी थी, और हमने किया सेक्स. किसी को कुछ पता नही चला. आज वो अपनी बीवी बच्चो के साथ दूसरी सिटी में हॅपी है, और मैं यहा अपनी फॅमिली के साथ. और दूसरी बात बतौ, तो तुम्हारा भाई भी बचपन से तुम्हे लीके करता है.

मीना: उसने ही मेरी कज़िन के साथ सेट्टिंग करने में हेल्प की थी. तब मैने उसे तुम्हारे साथ सेट्टिंग करवाने में हेल्प करने की बात की, तो उसने माना कर दिया, की दी के दिल में मेरे लिए ऐसा कुछ नही है, अगर किस्मत में लिखी होगी, तो वो मिल ही जाएगी.

मीना: और आज तुम्हे इस हालत में देख कर लगता है की किस्मत फिर तुम दोनो को साथ मिलने का खेल खेल रही है. सो, इस्पे सोचना ज़रूर.

दी: और उस दिन के बाद मैं भैया के बारे में सोचने लगी. और फिर जब इसने मुझे यहा वाहा टचिंग स्टार्ट की, तो मैं और भी अट्रॅक्टेड होती गयी. फिर फाइनली एक दिन ऐसा भी आया की इसने मुझे छोड़ ही दिया.

कायरा: ह्म. चलो मैं मान लेती हू की आपको मजबूरी में अंकल से छुड़वाना पड़ा. पर अभी जिस मज़े से आप छुड़वा रही थी, वो भी मैने देखा. और हो भी क्यूँ नही, अंकल का साइज़ भी अछा और तगड़ा है. पर मेरा क्या फ़ायदा इसमे?

मे: क्या चाहिए तुम्हे?

कायरा: वही चीज़, जो तुम्हे चाहिए थी. मों की छूट.

दी: क्या बोल रही हो तुम?

कायरा: आहहः, अपने भाई को जाने कब से दे रही हो. मुझे क्यूँ नही?

दी कुछ बोलने वाली थी, उससे पहले मैने उसे रोकते हुए कायरा को बोला-

मे: तुम कुछ मिनिट्स के लिए बाहर जाओ, मैं तुम्हारी मों से बात करता हू (और कायरा बाहर चली गयी).

दी: तुम पागल हो गये हो क्या? क्या बात करनी है इसमे?

मे: देखो दी, खुद सामने से चल कर हमारे पास वो चान्स आया है, जिसकी हम कुछ देर पहले बात कर रहे थे. कायरा को लंड टेस्ट करवाने की?

दी: इसका मतलब, तुम कायरा को?

मे: अब दी, ऐसा भी नही की मैं भी यही चाहता हू. पर सिचुयेशन ऐसी है की उसका हम फ़ायदा उठा सकते है. तुम्हे उसके साथ सेक्स करना होगा, ये तो पक्का है. क्यूंकी उसके साइवा कोई ऑप्षन नही. पर साथ में उसे लंड की भी आदत डाले तो फ्यूचर में उसके लिए सही रहेगा. वरना पता चला की कल वो तुम्हारे लिए दामाद के बदले बहू ले कर आ गयी, सो तोड़ा सोचो.

कुछ देर सोचने के बाद दी ने ‘एस’ में सिर हिलाया. तो मैने जेया कर कायरा को बुलाया. उसने आ कर गाते को बंद किया.

मे: तुम्हारी मों रेडी है तुमसे सेक्स के लिए. पर हमारी एक शर्त है.

कायरा: क्या?

मे: हम तीनो थ्रीसम करेंगे. है मंज़ूर?

कायरा: एस, मुझे कोई प्राब्लम नही. जो मेरा है, अब से आप लोगों का है.

ये बोलते हुए कायरा बेड के पास आई, और उसने दी ने जिससे खुद को च्छूपा लिया था, उस चादर को पकड़ कर खींच दिया. फिर उसने खुद अपना टॉप निकालते हुए दी के पास आ कर उसके हाथो को अपने बूब्स पे रखा. उसके बाद वो दी के होंठो को चूमने लगी.

अब दी के पास भी कोई ऑप्षन नही था. मैने उसे ‘गो वित थे फ्लो’ का इशारा किया, तो वो भी कायरा का किस्सिंग में साथ देने लगी, और उसके बूब्स को ब्रा के उपर से ही दबाने लगी. सीन ये था, की हम एक ही बेड पे 3 सिट्टिंग पोज़िशन में थे. मेरे और कायरा के बीच में अनु दी थी, जिसका फेस कायरा की और आंड बॅक मेरी तरफ था.

वो दोनो किस्सिंग कर रहे थे. कायरा दी के बूब्स को सहला रही थी, और मैं दी की कमर को. फिर मैने अपने हाथो को आयेज बढ़ा कर कायरा के पीछे ले गया, और उसकी ब्रा के हुक्स खोल दिए, और उसकी ब्रा को निकाल दिया. आ क्या मस्त स्मेल आ रही थी उसमे से.

कायरा ने अपने बूब्स आज़ाद होते ही दी से किस को ब्रेक किया, और उसके फेस को अपनी चेस्ट पे दबाया. उसका इरादा सॉफ था, और दी भी समझ गयी और उसके बूब्स को अपने मूह में भर कर चूसने लगी.

कायरा: आ मों, चूसो इसे. पूरा मूह में लेकर चूसो. आ, बहुत मज़ा आ रहा है.

कायरा के बाकी के वर्ड्स उसके मूह में ही रह गये, क्यूंकी उसके होंठो को मैने अपने होंठो में दबोच लिया था, और हमारी किस्सिंग चालू हो गयी. कायरा भी मुझे पॅशनेट्ली किस्सिंग कर रही थी. ये देख कर दी तोड़ा अनकंफर्टबल सी हुई. उसने हमारी किस को तोड़ कर कायरा को खड़ा किया, और उसको बेड पे लिटा दिया, और उसकी लोवर और पेंटी निकाल दी.

दी: ले, आज मैं तेरी सारी इकचाए पूरी करती हू.

और दी ने अपना फेस उसकी छूट पे सत्ता दिया, और उसकी छूट को सक करने लगी. दी ने मेरी और कायरा की मस्त किस को तोड़ दी, तो मुझे भी तोड़ा बुरा लगा. इसलिए दी जब कायरा की छूट चाट रही थी, तब मैं उसकी कमर को तोड़ा सा उपर करके उसकी छूट में अपना लंड डाल कर उसे छोड़ने लगा.

दी भी तोड़ा सर्प्राइज़्ड हुई, पर फिर वो भी ड्युयल साइड खेलने लगी. कायरा बेड के सपोर्ट से बैठी हुई थी. दी उसके आयेज लेती हुई थी, और मैं पीछे से दी को छोड़ रहा था. मतलब की फिरसे दी हम दोनो के बीच में थी. दी को तो मैं बहुत बारी छोड़ चुका था. आज तो कायरा को छोड़ना था. सो मैने अपना लंड उसकी छूट से निकाला और कायरा के पास जेया कर उसके मूह के आयेज किया.

मे: अपना मूह खोलो बेटा, और इसे मूह में लो. मैं तुम्हारी मों की छूट का रस्स इस्पे लगा कर लाया हू.

और कायरा के मूह में देकर उसको ब्लोवजोब देने लगा. वो भी इसे किसी लॉलिपोप की तरह चूसने लगी. मैने उसके गले तक पूरा अंदर डाल दिया, जिससे वो तोड़ा सा खाँसने भी लगी. तब दी उसकी छूट को चाटना बंद करके कायरा की जगह वो बैठ गयी, और अपनी छूट को आयेज किया.

फिर कायरा को इशारा किया अपनी छूट के करीब आने का. कायरा ने भी घोड़ी बन कर अपना मूह नीचे दी की छूट पे लगाना चाहा. पर मैने उसे रोका, और कायरा को पहले नीचे सीधा लिटा दिया. फिर उसके मूह के उपर दी को अपनी छूट रखने को कहा, और दी ने वैसा ही किया.

कायरा अपनी टंग को दी की छूट में डाल कर उसे सक करने लगी, और दी उसके बूब्स से खेलने लगी. कायरा की छूट को मैने थोड़ी देर चाट कर फिर अपना लंड उसपे सेट किया, और मा-बेटी दोनो कुछ समझ पाए, या कुछ बोले, उससे पहले मैने अपना लंड कायरा की छूट में प्रवेश कर दिया.

थोड़ी टाइट सी थी उसकी छूट. जैसे ही मेरा लंड उसकी छूट की दीवार को चीरता हुआ अंदर गया, वो झटपटा उठी, और उसने ज़ोर से दी की छूट को मूह में भर लिया.

दी: आ, बेटा आराम से.

कायरा: मों, ये आप अपने भाई से बोलो.

दी: भाई आराम से. मैं बड़ी हू, मैं तेरा झेल सकती हू. पर ये नही.

मे: क्यूँ? (अपने लंड को अंदर झटका देते हुए) इसकी हालत तो देखो. एक तरफ मूह में अपनी मों की छूट है, तो दूसरी तरफ अपनी छूट में मामा का लंड लिए हुए है. आ, और तुम मॅरीड होने के बाद भी जब तुम्हे पहली बार छोड़ा था, तो तुम्हारी छूट थोड़ी टाइट थी. और ये अनमॅरीड होते हुए भी इसकी छूट में आसानी से लंड चला गया. ये तो तुझसे भी आयेज जाएगी. ये ले मेरा लंड बेटा.

और फिर मैने एक ज़ोर सा झटका छूट में लगाया, तो कायरा के मूह से आ निकल गयी-

कायरा: अंकल आराम से.

फिर मैने कायरा को दी की छूट के नीचे से बाहर खींचा, और उसके मूह पे अपना मूह रख दिया. मा की छूट का और बेटी के होंठो का, दोनो का स्वाद एक साथ आ रहा था. मैं उसे बाहों में भर के किस करते हुए उसकी चुदाई कर रहा था, और वो भी मोन कर रही थी.

दी: बेटी मिल गयी, तो मा को भूल गये. मुझे नही छोड़ोगे?

मे: ऐसी बात नही है मेरी जान. पर नयी छूट को छोड़ने का मज़ा ही कुछ अलग है. तुम दोनो तो मेरी रंडिया हो अब से. पहले तो ये चिंता थी की जीजू आने के बाद, तुम्हे कैसे छोड़ पौँगा? पर अब वो टेन्षन ख़तम, तुम्हारी ड्यूटी अब कायरा करेगी.

मे: जीजू को जब तुम्हे छोड़ना होगा, तब तुम कायरा को टुटीओन के बहाने मेरे घर पे नाइट रुकवाना. जीजू भी खुश, क्यूंकी उन्हे तुम आचे से छोड़ने डोगी, और यहा मैं आचे से कायरा को छोड़ूँगा. एक ही टाइम पे मा-बेटी दोनो अलग-अलग बिस्तर पे चूड़ोगी.

दी: बाद की बात बाद में. पहले तुम मुझे भी छोड़ो. कायरा ने चाट कर मेरी छूट को गरम कर दिया है.

कायरा: एस अंकल. आप छोड़ते कम हो, और बातें ज़्यादा करते हो. (और मा-बेटी दोनो हासणे लगे)

ये देखते हुए मैने पहले दी को नीचे सीधा लिटाया, और उसके उपर कायरा को सीधा लिटाया. दी कायरा के बूब्स दबाने लगी, और मेरे सामने दो छूट एक साथ थी. नीचे दी की छूट, और उपर भांजी की. मैने भी आज पहले से एक टॅबलेट ले रखी थी, सो मैं कायरा को आचे से छोड़ पौ.

थे फर्स्ट इंप्रेशन इस थे लास्ट इंप्रेशन. सो खड़े लंड को मैने दी की छूट में पेल दिया, और उसे छोड़ने लगा. फिर कुछ देर बाद उपर कायरा की छूट में डाल कर उसे छोड़ने लगा. दोनो छूट में मैं बारी-बारी अपना लंड डालने लगा.

दोनो मा-बेटी और मैं, हम तीनो तक चुके थे. उन दोनो की छूट में से पानी बह रहा था, और मेरा भी निकालने वाला था. सो मैने भी कायरा को उठा कर बेड पे एक साइड लिटा दिया, और उसकी छूट में मैं झाड़ गया. और हम तीनो बेड पे हानफते हुए गिर पड़े.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में (जो इस स्टोरी का लास्ट पार्ट होगा).

यह कहानी भी पड़े  भाभी को संतुष्टि और बच्चा दोनो दिए


error: Content is protected !!