भाई-बहन ने लिए छुट्टियों में ताबड़-तोड़ सेक्स का मज़े

दोस्तों मेरा नाम नेहा है, और मैं यूपी की रहनी वाली हूं। मैं एक जवान लड़की हूं। मेरे बुर की गहराई लगभग 7 इंच है, और मेरी बुर में झाट के कोई बाल भी नहीं है। क्योंकि मैं अपनी बुर की सफाई रोज करती हूं।

दोस्तों मेरा एक भाई है, जो हैंडसम और मस्त जवान है। वो लगभग 23 साल का है। उसका नाम अमित है। उसकी तीन-चार गर्लफ्रेंड है, और वह उन सब को एक-एक करके चोदता है।

दोस्तों बात है गर्मियों की छुट्टी की, जब मैं अपने पापा और भाई के साथ घूमने शहर गई थी। मुझे क्या पता था कि मेरी चूत का भोसड़ा बन जायेगा वहां।

मैं, मेरे भाई, और पापा ने जाकर वहां एक होटल में रूम लिया, और रात को आराम किया। अगले दिन सुबह हम घूमने निकल गए। सारा दिन घूमा, और रात को रूम में आए और सो गए। हम लगभग एक हफ्ते का टूर बना कर आए थे, और दो दिन बीत गए थे।

दोस्तों मेरा मन अपनी बुर चुदाने को कह रहा था, क्यूंकी मैंने भईया को चोदते हुए देखा था।‌ और मेरे मन में बार-बार भाई का वही लंबा मोटा लौड़ा घूम रहा था। पर मैं भाई से कहती भी तो कैसे? आखिर वह मेरा सगा भाई था।

एक दिन मैंने देखा कि भाई पोर्न वीडियो देख रहे थे, और अपना लौड़ा हिला कर मुठ मार रहे थे। बस फिर क्या था। मुझे तो मौका मिल गया भाई से चुदाने का, और मैं भाई से बोली-

मैं: ये क्या हिला रहे हो?

भाई ने एक-दम हिचक कर कहा: कुछ‌ नहीं।

मैंने कहा: भाई मैंने सब देख लिया है, आप पोर्न वीडियो देख रहे थे ना?

भाई ने डरते हुए कहा: नहीं-नहीं नेहा।

मैंने भाई से कहा: अरे आप डरिए मत। मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगी। पर एक शर्त पर।

भाई ने कहा: कैसी शर्त?

मैं पूरे जोश से बोली: आपको मुझे चोदना होगा।

भाई एक-दम चुप हो गए।

फिर मैंने कहा: भाई क्या हुआ? अभी तक तो आप हिला रहे थे।

मुझे सब पता है कि आपको अपनी गर्लफ्रेंड की चूत चोदने को नहीं मिल रही है ना, इसीलिए।

पर आप टेंशन मत लीजिए, आपकी यह प्यारी बहन है ना। यह आपके 9 इंच के लौड़े की प्यास बुझाएगी।

भाई ने कहा: तुम्हें कैसे पता कि मेरा लौड़ा 9 इंच का है?

मैंने कहा: मैंने आपको चोदते हुए देखा था। तब से मैं आपके लौड़े की दीवानी हो गई हूं।

दोस्तों अब मैं धीरे-धीरे अपने भाई के करीब आने लगी, और अपने सारे कपड़ा भी मैंने खुद उतार दिये। अब मैं अपने भाई के सामने पूरी नंगी लेटी थी ।

मैंने भाई से कहा: भाई आज तक इस बुर में केवल गाजर, मूली, बैगन ही घुसा है।आज आप अपना पूरा 9 इंच का लौड़ा पेल दीजिए, और फाड़ दीजिए इस कुंवारी बुर को।

भाई ने मेरी बुर देखी, तो वह मुझ पर टूट पड़ा। उसने मेरी दोनो टांगो को फैलाया, और बुर की दोनों फांको को खोला, और अपना गरम-गरम लौड़ा मेरी चूत में घुसा दिया।

मैं बहुत चिल्लाई: आह… ओह… आह… कितना चोदोगे?

मैं ऐसे चिल्लाती रही। पर भाई कहा सुनने वाला था। उसे तो बस मेरी बुर के दोनों किनारे ही दिख रहे थे और बीच का वो लाल-लाल टोट जिसमें वह अपना लौड़ा चाप रहा था।

फिर कुछ समय बाद अचानक मेरे पापा रूम में आ गए, और उन्होंने हमको सेक्स करते हुए देख लिया। वो गुस्सा हो गए ।

पर मैंने पापा से कहा: पापा आप गुस्सा क्यों हो रहे है? आपको भी चोदना है तो चोद लीजिए मुझे।‌ मैंने कल आपको भी मुठ मारते हुए देखा था। मुझे सब पता है कि आप बाप बेटे की निगाह बस मेरी इस प्यारी सी कुंवारी बुर पर थी।

आज यह बुर चुदाने के लिए फैली हुई है। आईए और चोदिए।

दोस्तों इतना सुनते ही मेरे पापा का लौड़ा टनटना उठा, और वो भी मेरे ऊपर टूट पड़े। फिर पापा ने मुझे जम कर चोदा, और अपना सारा माल अपनी ही सग्गी बेटी की बुर में डाल दिया। उसके बाद भाई ने फिर मुझे 69 की पोजीशन में अपना 9 इंच का लंबा और मोटा लौड़ा चुसवाया।

फिर उसने लौड़ा मेरी छोटी सी बुर में डाल दिया। मेरे भाई का लौड़ा मेरी बच्चेदानी को टच कर रहा था।

मेरा भाई मुझे हर पोजीशन में चोद रहा था, कभी घोड़ी बना कर, तो कभी दोनो टांगो को चकला कर। मेरी बुर में अब भाई ने अपना हाथ डाल दिया और हिलाने लगे।

फिर उसने कहा: नेहा कैसा लग रहा है?

मैंने हंसते हुए कहा: सब बहनों को आपके जैसा भाई मिले, जो उन्हें घर में ही चोद-चोद कर संतुष्ट करे।

मैंने भाई से कहा: भाई मैं आपसे शादी करना चाहती हूं। मैं हमेशा आपके इस लौड़े का मजा लेना चाहती हूं।

भाई ने कहा: ठीक है मैं तुम्हे अब हमेशा चोदूंगा, और तुम्हारी बुर का तो मैं भोसड़ा बना दूंगा।

मैं भी बहुत खुश थी, और भाई से कह रही थी: चोद भाई चोद, फाड़ डाल इस साली बुर को।

और भाई मुझे लगातार चोदे ही जा रहे थे। फिर मैं झड़ गई, पर भाई अभी तक नहीं झड़े थे। उन्होंने मुझे लगभग आधे घंटे तक खूब चोदा। उसके बाद पापा ने मेरी बुर का भोंसड़ा बना दिया।

इतना चोदा मुझे कि आज भी मैं अगर अपनी बुर से मूतती हूं, तो बहुत दर्द होता है। दोस्तों सच में मेरा भाई मुझे जन्नत की सैर करा रहा था। वह मुझे जीवन का परम सुख दे रहा था। आज मेरी बुर भी वहीं 9 इंच का लौड़ा मांगती है, जो सिर्फ मेरे भाई के पास था।

आज मेरी शादी हो गई है, पर वो रात जिसमें मेरे पापा और भाई ने चोदा था, वो रात आज भी मुझे याद है। दोस्तों एक लड़की या औरत के लिए सबसे अच्छा वही होता है, जो उसे रात भर चोदे और परम सुख दे।

मेरे पति का लौड़ा तो बहुत छोटा है, 5 इंच का ही। पर मैं अपने भाई से आज भी चुदने उसके घर जाती हूं। और पूरी रात उसके 9 इंच के लौड़े का भरपूर मजा लेती हूं।

अगर रात में दो जिस्म मिलते है तो वह रिश्ता नहीं देखते है और मैं भी सारे रिश्तों को भूल कर अपने भाई से लगातार चुदे ही जा रही थी।

आखिर गलती तो मेरी ही थी, जो मैंने भाई को अपनी चूत चोदने के लिए मजबूर किया था। पर दोस्तों क्या करे, जब जवानी का रंग चढ़ जाता है और बुर में खुजली होने लगती है, तो कोई किसी से भी चुदवा सकता है।

और मैंने भी यही किया। अपने भाई से चुदाना कोई गुनाह थोड़ी है। आखिर मेरे भाई और पापा ने ही तो मुझे चोदा है।

वैसे भी अपने भाई के लौड़े से कौन चुदता है? मैं तो बहुत भाग्यवान हूं, जो मेरे भाई ने मुझे चोदा।

मैं अपने भाई के लौड़े से बहुत प्यार करती हूं।

दोस्तों अगर आपको मेरी यह बुर फाड़ कहानी अच्छी लगी, तो कृपया मुझे कॉमेंट और मेल करके जरूर बताएं। मैं आपसे सेक्स चैट करुंगी, और सब कुछ दिखाऊंगी।

मेरी मेल है

यह कहानी भी पड़े  कज़िन बहन की चुदाई जारी रखी


error: Content is protected !!