भाभी को संतुष्टि और बच्चा दोनो दिए

हेलो दोस्तो, मैं रोहित कॉल बॉय हू. मैं अपनी एक और न्यू रियल सेक्स स्टोरी लेके आया हू. जिसमे मैने एक भाभी को प्रेगञेन्ट किया. उसने मुझसे खूब छूट चुदाई करवाई.

मुझे कुछ टाइम पहले एक मैल आया. जिसमे एक हाउसवाइफ ने मुझे कहा, की उसे प्रेग्नेंट होना था. उसने मुझे अपने बारे सारी बात बताई.

भाभी का नामे आशा अग्रवाल (नामे चेंज्ड) है. रहने वाली जाईपुर की है. उसकी आगे 32 है. वो एक हाइ क्लास बिज़्नेस फॅमिली से थी. उसने कहा की उसकी शादी को 3 साल हो गये थे, और उसके हज़्बेंड अभी तक उसे प्रेग्नेंट नही कर पाए थे. घर वाले भी बच्चा माँग रहे थे. और उसे भी मा बनने का सुख चाहिए था.

आशा ने कहा: प्लीज़ रोहित. आप मुझे प्रेग्नेंट कर दो. मैं आपसे चूड़ना भी चाहती हू. मेरे पति मुझे आचे से संतुष्ट नही कर पाते है.

मैने कहा: तो बेबी आपको प्रेग्नेंट करने के लिए टाइम लगेगा.

आशा: कितना चाहिए? प्लीज़ आप माना मत करना. मुझे बच्चा चाहिए.

मैं: ठीक है. लेकिन प्रेग्नेंट करने के लिए कम से कम 1 वीक लगेगा. उससे आपके पेट में अछा हेल्ती बच्चा ठहर जाएगा.

आशा: ओक. आप जाईपुर से हो? मैं भी जाईपुर से हू. हमे मिलने में प्राब्लम नही होगी. मैं होटेल बुक कर लूँगी.

आशा: आप मुझे दिन में छोड़ना, और शाम को मैं घर चली जौंगी.

मैं: ओक मेरी जान.

उसके बाद हमने रात भर सेक्स छत की, और उसका छत पर 3 बार पानी निकाला. उसे बहुत अछा लगा.

फिर हम 3 दिन बाद एक आचे होटेल में मिले. वाहा जाके उसने मुझे कॉल किया. मैने उसे पहले ही अपना नंबर दे दिया था. आशा ने मुझे अपनी लोकेशन बता दी. और मैं 1 अवर बाद सुबह 10 बजे वाहा पहुँच गया.

आशा ने मुझे रूम में आने को बोल दिया था. मैं सीधा रूम में चला गया. उसने डोर खोला, और मुझे अंदर आने को कहा.

मैने देखा आशा वाकाई एक खूबसूरत हाउसवाइफ थी. उसने उस टाइम पिंक सारी और ब्लाउस पहना हुआ था. उसका खूबसूरत फेस मुझे अट्रॅक्ट कर रहा था. होंठो पर लिपस्टिक और आइज़ पर काजल लगा रखा था. उसमे उसका चेहरा खिला हुआ नज़र आ रहा था.

मैने उसके पास जाके,उसके फेस को पकड़ा, और एक किस दे दिया. वो शरमाने लगी. फिर आशा ने मुझे गले से लगा लिया.

वो मेरे टच से सिसक गयी, जिससे उसने मुझे कस्स के पकड़ लिया. उसके 30″ के बूब्स मेरी चेस्ट में डब गये.

5 मिनिट तक आशा मुझसे चिपकी रही, और बोली.

आशा: आप से गले लग कर मुझे बहुत अछा लगा. आपका टच मुझे अंदर तक सिहरन पहुचा रहा है.

मैं: थॅंक्स मेरी जान.

वो मुझसे अलग हुई, और उसने कॉफी ऑर्डर की. उसके बाद हमने 20 मिनिट बातें करके कॉफी ख़तम की.

आशा को अब मैने बेड से उठाया, और उसे दीवार की तरफ ले गया. वो बस मेरी आँखों में देख रही थी. उसकी आँखों में प्यास और मुझसे चूड़ने की चाहत थी. आशा की आँखें बोल रही थी, की मुझे छोड़ दो. मैने उसे दीवार के सहारे खड़ा किया. फिर उसके सारी का पल्लू हटा दिया. ब्लाउस में बूब्स टाइट थे. मैं उसके जिस्म को देख कर गरम हो गया.

फिर मैं अपने हाथ उसके गले से हो कर पीछे ले जाने लगा. मेरे हाथ जैसे ही उसके गले पर टच हुए, तो उसने अपनी आँख बंद कर ली. हाथ पीछे ले जेया कर उसके बालों की क्लिप निकाल दी, और काले घने बाल कमर तक फैल गये.

अब मैं अपने लिप्स को उसके लिप्स पर ले जाने लगा. उसने अपनी आँखें बंद ही रखी. मैने अपने लिप्स उसके होंठो पर रखे, तो वो सिसक गयी.

आशा: ष्ह उम्म्म.

मैं अब भाभी के गरम मुलायम होंठो को चूसने और चूमने लगा. आशा अपने हाथ मेरी पीठ पर ले जेया कर उससे सहलाने लगी. आशा मेरे किस्सिंग से बहुत गरम हो गयी थी. वो भी मेरे होंठो चूसने में साथ दे रही थी, और गरम-गरम सिसकियाँ लेने लगी.

आशा: उम्म्म श उहह रोहित. और चूसो, रुकना मत.

होंठ चूस्टे हुए मैं उसके गले से ले कर बूब्स तक हाथो से सहलाने लगा. जिससे वो ज़ोर-ज़ोर से मुझे चूमने चाटने लगी. मैं कभी उसके लिप्स चूस्टा तो कभी उसके गालों को. वो भी मुझे सेम तरीके से चूमने लगती.

अब उसके होंठ चूमते हुए मैने उसका सेक्सी ब्लाउस उतार दिया. उसने अंदर वाइट ब्रा पहनी हुई थी. जिसमे बूब्स गरम और कड़क हो गये. मैं अपना मूह बूब्स के लाइन पर ले जेया कर उसे चूमने लगा.

आशा मेरा मूह बूब्स में दबा कर मेरे बालो को सहलाने लगी, और मूह से आँख बंद करके गरम सिसकियाँ निकालने लगी.

आशा: आह उम्म्म श उफ़फ्फ़. बहुत अछा रोमॅन्स करते हो रोहित. लोवे योउ सो मच. और करो बेबी.

मैने 15 मिनिट तक ब्रा के उपर से ही उसके बूब्स छाते थे. जिससे उसकी वाइट ब्रा मेरे चाटने से गीली हो गयी. अब मैने उसे पलट दिया, और बालों में मूह घुसा के उसके पीठ को चाटने लगा. वो बस आँखें बंद करके, सिसकियाँ लेती हुई बोली.

आशा: आह श उम्म्म. मेरे रोहित बाबू. 3 साल में कभी मेरे पति ने ऐसा प्यार नही दिया. तुम सबसे बेस्ट हो.

मैं: मेरी जान. आपका जिस्म भी तो बहुत मादक और कामुक है.

10 मिनिट तक उसकी पीठ चाटने के बाद मैने उसकी सारी निकाल द, और पेटिकोट भी निकाल दिया. आशा अब मेरे सामने वाइट ब्रा पनटी में थी. ग़ज़ब की सेक्सी लग रही थी. उसके खुले हुए बाल और 34″ की मस्त कड़क गांद देख कर लंड खड़ा हो गया.

अब उसने भी मेरे शर्ट निकाल दी, और मेरी चेस्ट को खड़े-खड़े ही चाटने लगी. फिर मैने उसकी ब्रा निकाल दी. मेरे सामने अब उसके मोटे मुलायम बूब्स थे. आशा मुझे चूमते हुए बोली-

आशा: रोही प्लीज़, अब बेड पर चलो.

मैं उसे उठा कर बेड पर ले गया, आर उसके उपर चढ़ गया. आशा के रिघ्त बूब्स को मसल मसल कर चूसने लगा. जिससे उसकी सिसकियाँ बादने लगी. उसे भी मज़ा आने लगा.

आशा: आह उम्म्म उफ़फ्फ़. रोहित और चूसो मेरे बूब्स. मसल दो इन्हे. बहुत मज़ा आ रहा है. खा जाओ इनका रस्स.

उसकी बातें सुन कर मैं ज़ोर-ज़ोर से दोनो बूब्स मसालते हुए चूसने लगा. ब्लॅक निपल काट-ते हुए चूस रहा था, जिससे उसकी ज़ोरदार सिसकी निकल जाती.

आशा: आह मा मज़ा आ रहा है. और करो ना बेबी. रोहित तुम बहुत आचे से चूसना जानते हो.

मैं: मेरी आशा भाभी. आपके बूब्स का रस्स पी जाना है आज मुझे.

आशा: पी जाओ ना. किसने माना किया है? एक तुम ही तो हो, जो इतना आचे से प्यार करते हो. मेरे जिस्म की कदर कर रहे हो.

लगभग 30मिनिट बूब्स चूज़. उसके बाद आशा को मैने उठाया. मैं बेड के नीचे खड़ा हो गया. वो बेड पर बैठी रही. मैने उसका गोरा मूह लंड के सामने रख दिया. जो मेरे जीन्स में हलचल मचा रहा था. वो समझ गयी और मुझे स्माइल देने लगी.

आशा ने मेरी जीन्स निकाल दी. उसके बाद मेरा अंडरवेर भी उतार दिया. आशा की आँखों के सामने अब मेरा 7 इंच का लंड सलामी देने लगा. वो उसे बस देखे जेया रही थी. फिर बोली-

आशा: रोहित, सॅकी ये लंड तो बहुत टाइट है. और बड़ा भी है. मेरे हब्बी का 4 से 5 इंच का होगा, और वो भी पूरा नही जाता छूट में. उससे पहले ही झाड़ जाते है.

मैं: तो मेरी जान. आज आपकी सील टूटेगी.

आशा: हा, आज असली में सुहग्रात वाला सीन होगा. मेरे रोहित बाबू, आज मुझे भी अपनी सील इस तगड़े लंड से तुद्वा कर मज़ा लेना है.

आशा अपना हाथ मेरे लंड पर रख कर उसे हिलने लगी. फिर लंड के टोपे को किस करने लगी. मैने उससे कहा-

मैं: बेबी आपने कभी अपने पति का मूह में लिया है?

आशा: लिया था एक बार. जल्दी झाड़ गये, और मज़ा भी नही आया.

मैं: आज मेरे लंड को लो, और मज़े लो.

वो हेस्ट हुए लंड को मूह में लेने लगी. मेरा आधा लंड ही चूस पा रही थी. मुझे बड़ा मज़्ज़ा आने लगा. फिर मैने कहा-

मैं: अर्रे रानी जी. इससे पूरा लो अपने मुलायम मूह में.

आशा: बेबी नही जेया रहा है. जितना जेया रहा उतना तो ले रही हू.

मैने उसका मूह पकड़ा, और ज़ोर से धक्का दे कर लंड मूह में दे दिया. लंड उसके गले में लगने लगा. उसकी आँखों से आँसू आ गये. उसने मुझे धक्का दिया, और लंड बाहर आ गया.

आशा: क्या करते हो यार? मेरी जान निकल जाती अभी. मुझसे नही लिया जाएगा.

मैं: फिर तो तुम छूट में भी नही ले पावगी. वाहा भी माना करोगी. कैसे एंजाय करोगी?

आशा: तो यार तुम आराम से करो ना.

मैने फिरसे उसके मूह में लंड दबा दिया. पूरा लंड अंदर-बाहर करने लगा. वो भी अब मज़े से मेरी और देख कर लंड को चूसने लगी. लंड बाहर निकाल कर मैने उसके मूह में अपने बॉल्स दिए. आशा उन्हे भी आचे से चूसने लगी. बारी-बारी से उसने दोनो बॉल्स को खूब चूसा. फिर मैने पूछा-

मैं: मेरे रानी, अब मज़ा आया ना आपको?

आशा: हा राजा जी. आपने जो दिया है, मज़ा कैसे नही आएगा.

अब नेक्स्ट पार्ट में मिलेगा असली मज़ा.

गर्ल, भाभी, आंटी, हाउसवाइफ, डाइवोर्स वुमन को रियल और सेक्यूर सेक्स चाहिए, तो आप मुझे एमाइल पर मेसेज करे. आप मुझे गूगले छत पर भी मेसेज कर सकते हो. आपकी सारी जानकारी प्राइवेट आंड सेक्यूर रखेगी.

आपको किसी तरह से डरने की ज़रूरत नही है. आप मुझे बिना दर्रे मेसेज करे और अपनी दिल की बात शेर करे. मुझे आप गम0288580@गमाल.कॉम पर मैल करे.

थॅंक्स ड्के.

यह कहानी भी पड़े  बारिश मे भाभी संग मस्ती


error: Content is protected !!