लड़के ने अपनी भाभी और बहन दोनों को चोदा

दोस्तो मैं गुजरात का रहने वाला हूं। मैं 23 साल का जवान लड़का हूं, और मेरा लौड़ा 9 इंच का है। मेरा लौड़ा जिसकी चूत में घुस जाता है, उसको तो नानी ही याद आ जाती है।

दोस्तों इस बार मैंने अपना लौड़ा अपनी भाभी और बहन की ही बुर में पेल दिया। मैं आपको बता दूं कि मैं चूत चोदने का बहुत शौकीन हूं, और बुर का पक्का पुजारी भी।

मेरे घर में दो मस्त जवान माल थी, मेरी भाभी और बहन। वो दिखने में बहुत हॉट थी, और उनकी चूत का तो कहना ही क्या, किसी को भी चोदने का मन करने लगे।

दोस्तों मेरी भाभी को कोई बच्चा नहीं हो रहा था। उनकी शादी को लगभग 5 साल हो चुके थे, पर वह एक-दम अपसरा जैसी थी बहुत सुंदर। और उनकी चूत तो उनसे भी ज्यादा मस्त थी।

जब मैं अपनी भाभी को देखता तो मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता था, और फुफकार उठता था। मेरे भैया बाहर रहते थे, इसलिए मेरी भाभी को ज्यादा जिस्मानी सुख प्राप्त नहीं हो पाता था।

मैं भाभी से कहता था कि भाभी आप तो बहुत सुन्दर है भईया ने तो आपकी रात कई बार रंगीन की होगी है ना। वह शर्मा जाती थी, और कुछ नहीं कहती थी। एक दिन मैंने हिम्मत करके कहा-

मैं: भाभी आपको तो भईया के साथ सोए कई साल हो गए हैं। आप मेरे साथ रात में सोइए।

मैं बुरा नहीं मानूंगा। अगर आपकी इच्छा हो तो।

दोस्तों मेरी भाभी उस टाइप की नहीं थी कि गैर मर्द से भी चुद जाए।

उन्होंने कहा: आपका दिमाग तो ठीक है?

मैं कुछ नही बोला, और अपने रूम में चला आया। दोस्तों मेरी हवस इतनी ज्यादा बढ़ गई कि मैं उसी रात को अपनी सग्गी बहन के कमरे में उसे चोदने चला गया। मैंने अपनी बहन को सोते हुए ही उसके कपड़े उतार कर उसे चोदने लगा।

और फिर अचानक मेरी छोटी बहन जाग गई, और अचानक बोली: भैया आप ये क्या कर रहे है?

मैंने कहा: देख बहन, चुप हो जा, और शांति से मुझसे चुद।

फिर मेरी बहन मुझसे प्यार से चुदाने लगी, और मैंने उस रात उसे जम कर चोदा। उसकी बुर फाड़ डाली मैंने और सील भी टूट गई।

अगली रात फिर मैं अपनी बहन को चोदने उसके कमरे में गया। वह पहले से ही नंगी होकर 9 इंच का लौड़ा चूत में डलवाने के लिए तत्पर थी। मैंने उसे जम कर चोदा, और फिर कहा-

मैं: मुझे तुम्हारे साथ-साथ भाभी को भी चोदना है।

उसने कहा: तो मैं क्या करूं?

मैंने कहा: यार मैं उसे चोदने गया था, लेकिन उसने मना कर दिया।

अब तू ही मनवा दे मेरी जान।

उसने कहा: ठीक है मेरे भड़वे, मैं अभी जाती हूं, और उसको पकड़ कर लाती हूं। वैसे भी उसकी चूत में लौड़ा घुसे बहुत साल हो गए है।

फिर मेरी बहन गई और बहाना करके भाभी को बुला कर लाई, और बोली: भाभी आज तुम्हे मेरा भाई चोदेगा। क्या आप चुदवाने के लिए रेडी है?

भाभी ने पहले ना करते हुए जाने को कहा। फिर मैं नंगा हो गया, और अपनी बहन को भी पूरा नंगा कर दिया। जब मेरी भाभी ने देखा तो उनकी आंखे फटी रह गई।

फिर मैंने भाभी को पीछे से पकड़ लिया, और मेरी बहन ने भाभी को बहुत समझाया-

बहन: भाभी आपको तो बच्चा भी नहीं हो रहा है। आप चुदवाती क्यूं नहीं।

फिर भाभी को मैंने और मेरी रंडी बहन ने बहुत मनाया, और अंत में वह चुदने के लिए रेडी हो गई। दोस्तों अब आप लोग भी अपने लौड़े या बुर में उंगली डाल लीजिए। क्योंकि अब मैं भाभी और अपनी बहन की घमासान बुर चुसाई और चुदाई करने वाला हूं।

सबसे पहले मैंने अपनी भाभी की बुर खोली, और चूसने लगा मलाई की तरह। आह‌‌ ऊह ओह ओह‌, क्या चूत थी मस्त जवान। पहली बार मैंने इतनी सुंदर बुर देखी थी।

फिर क्या था, मैंने अपना 9 इंच का मोटा लौड़ा उनकी बुर में फिट किया, और जोरदार धक्का मारा।

भाभी झटपटा उठी और चिल्लाने लगी आह आह आह। ऐसे वह चिल्लाने लगी। फिर मैं अपना लौड़ा लगातार भाभी को चूत में डालने लगा, और भाभी को भी मजा आने लगा।

फिर भाभी खुद अपनी गांड उठा-उठा करके चुदवाने लगी, ‌और मैं भाभी को जम कर चोदता रहा।

मैंने अपना सारा गरम-गरम माल भाभी की बुर के अंदर ही डाल दिया जिससे वह प्रेगनेंट हो जाए। अब मेरी भाभी पूरी तरह से संतुष्ट थी, और चुप हो गई थी। उसके बाद फिर मैंने अपनी बहन को भी चोद-चोद कर संतुष्ट किया, और उसके मुंह में अपना 9 इंच का लौड़ा ठूस दिया।

दोस्तों मेरी भाभी की बुर जिंदगी में केवल एक ही बार चोदी गई थी। उनकी सुहागरात पर बस। उसके बाद मैंने उनकी नाजुक सी बुर चोदी। उनकी चूत को मैंने काफी देर तक चाटा, और जीभ डालता रहा।

फिर मैंने भाभी और बहन दोनों को उस रात जम कर ठोका और चुसाई की। मेरी भाभी से ज्यादा मस्त उनकी चूत थी। वो 6 इंच तक लौड़ा सहन करने की क्षमता रखती थी, पर मैंने अपना पूरा 9 इंच का लौड़ा उनकी बुर के पेल दिया, जिससे वह दर्द के मारे कराह उठी।

उसके बाद मैंने अपनी बहन और भाभी दोनों को घोड़ी बनाया और फिर चोदा। अब मेरी भाभी की प्यारी चूत किसी भी लौड़े को सहने के लिए रेडी थी, क्योंकी मैं अपना 9 इंच का पूरा लौड़ा चाप दिया था उनकी बुर में।

मैं आपको बता दूं कि मैं उस दिन से भाभी को आज तक रोज चोदता हूं। और मेरी भाभी अब मेरी रण्डी बन चुकी है, जिन्हें मैं जब चाहूं तब चोदता हूं, और नंगी करके पूरे बदन में अपना लौड़ा भी सहलाता हूं।

दोस्तों मैं आपको बता दूं, कि दुनिया में सबसे ज्यादा मर्दों को पसंद आने वाली चीज औरतों और लड़कियों की प्यारी-प्यारी चूत ही होती है, जिसमें जिंदगी का सारा मजा होता है।

दोस्तों बिना चूत के कोई मर्द रह ही नहीं सकता। फिर चाहे वह अपनी मां बहनों को ही क्यो ना चोदे।

चोदना भी एक कला है जिसमे मैं पारंगत हूं। मुझे लड़कियों और औरतों को चोदने का पूरा अनुभव है इसलिए मैंने अपने भाभी को पहली बार में ही संतुष्ट कर दिया।

अब मैं अपनी भाभी को रोज दिन में तीन बार चोदता हूं। दोस्तों मैं मानता हूं कि दुनिया में चूत से ज्यादा सुंदर और मस्त चीज और कुछ नहीं है। अपनी बहन और भाभी की बुर चोदने का मजा ही कुछ अलग होता है ।

दोस्तों मैं आपको मिलता हूं अगली कहानी में,‌ जिसमे मैंने अपनी मां को नंगा करके उन्हीं के ही बेडरुम में रात भर चोदा।

तब तक के लिए अपने लौड़े को सहलाते रहिए, और अपनी मां बहन की बुर चाटते और फाड़ते रहिए।

प्यारे दोस्तों मुझे कॉमेंट करके और मेल करके जरूर बताएं।

यह कहानी भी पड़े  ठरकी ट्यूशन टीचर और मेरी चुदाई


error: Content is protected !!