भाभी के साथ चुदाई और बातों का मज़ा

हेलो फ्रेंड्स, मैं निक आमेडबॅड से, फिरसे हाज़िर हू कहानी का 5त पार्ट लेकर.

सॉरी फ्रेंड्स, बहुत बिज़ी हो गया था, सो देर से ये पार्ट लेकर आ रहा हू आपके लिए.

कोई भी भाभी, आंटी, या लड़की मुझसे प्राइवेट बात करना चाहे, पॅशनेट रोमॅन्स चाहे, या फिर फुल सेक्स चाहे तो मैल में अट निक्कनीत26@गमाल.कॉम.

हमारी छत 100% प्राइवेट रहेगी और सेफ रहेगी. मैं वीडियो कॉल या हणगौट कॉल पर भी आपको खुश रखूँगा इफ़ योउ विश.

पिछले पार्ट में आपने पढ़ा की कैसे मैने निधि भाभी के साथ सेक्स करके उन्हे मा बनाया, और कैसे उनको आइडिया भी दिया की कैसे ये बात किसी को पता ना चले की ये हमारा बच्चा था. अब ज़्यादा बोर ना करते हुए कहानी स्टार्ट करते है.

उस रात सेक्स के बाद निधि भाभी नीचे चली गयी. उसके बाद मैं वॉशरूम गया. फिर जब मैं बाहर आया तो अम्मी भाभी वाहा बेड पर मेरा इंतेज़ार कर रही थी. मैने उनसे बोला-

मे: भाभी आप सोई नही अभी तक?

अम्मी भाभी बोली: नही, मुझे नींद नही आ रही है. मैं कभी अकेली नही सोती ना, इसलिए शायद नींद नही आ रही है.

मे: तो अब तो निधि भाभी नीचे आ गयी है, तो आप सो जाए.

अम्मी भाभी: नही, मुझे तेरे साथ सोना है, उसके साथ नही.

मे: इट’स डेंजरस, बिकॉज़ 2:30 बाज गये है, आंड हमे 9 बजे निकलना भी है.

अम्मी भाभी: कोई बात नही. तू 2-3 घंटे हमारे कमरे में आजा. आचे से थ्रीसम कर लेते है. क्यूंकी फिर निधि नही होगी कल से.

मे: नही अम्मी भाभी. मैं आपको पहले अकेले में प्यार करूँगा. उसके बाद ही थ्रीसम होगा.

अम्मी भाभी: तो फिर अभी चढ़ जेया.

मे: नही, आज तक गया हू, आंड कल मेरी एंजल मेरी बेहन आ रही है. मुझे उसकी तायारी भी करनी है.

अम्मी भाभी: तो मुझे पूरी रात तड़पति रहना पड़ेगा?

मे: नो! लेट’स स्टार्ट आ क़ुक्के.

फिर मैने अम्मी भाभी की निघट्य खोल दी, आंड फोरप्ले करते-करते उनको उंगली से सॅटिस्फाइ कर दिया.

अम्मी भाभी: अयाया आहह तेरी उंगली में इतना दूं है, तो तेरा वो तो मेरी जान ही ले लेगा.

मे: चलो अब सो जाओ, आंड निधि के साथ वैसे भी थ्रीसम नही कर सकते क्यूंकी उसकी छूट सूजा दी है मैने आंड मा भी बना दिया उसे ऑलमोस्ट.

अम्मी भाभी: अब उसको छ्चोढ़ दे. अब से मैं ही तेरी बीवी हू नेक्स्ट 3 डेज़ के लिए.

मे (मॅन में): शादी के पहले इतनी बीवियाँ हो गयी है.

अम्मी भाभी: क्या सोच रहा है?

मे: भाई आपके साथ सेक्स नही करते है क्या?

अम्मी भाभी: पहले करते थे. बुत अब 4 साल से नही कर रहे है. मुझे तो लग रहा है उनका किसी के साथ अफेर है.

मे: नही यार, ऐसा नही हो सकता. वैसे क्यूँ ऐसा लग रहा है आपको?

अम्मी भाभी: बस ऐसे ही. सिगरेट पीटा है तू?

मे: नही, ईशा मार डालेगी मेरे को.

अम्मी भाभी: हहा, ईशा पीटी है, तुझे नही पता क्या?

मे: पता है, बुत अब वो नही पिएगी. उसने मुझे प्रॉमिस्ड किया है.

उसी वक़्त भूमि का मेसेज आता है मोबाइल में.

भूमि: ही निक, मैं भी कल आ रही हू ईशा को लेने.

ई साइड: सॉरी, लेकिन कार फुल है. अम्मी भाभी आंड निधि भाभी भी है सो.

अम्मी भाभी: ये क्यूँ तेरे पीछे पड़ी है?

मे: इसको एक बार ईशा के कहने पे मज़ा दिया था. तब से मेरे पीछे पद गयी है.

अम्मी भाभी: एक काम कर, कल इसको भी लेले साथ में. कल तेरा पीछा च्चूधा दूँगी.

मे: नही भाभी. पीछा च्चूधने के लिए कल का दिन नही प्लीज़. टुमॉरो मी सिस इस कमिंग बॅक तो हेर होमे आंड मैं उसी में फोकस करना चाहता हू. उसके बिना रहना मतलब इंपॉसिबल है.

अम्मी भाभी: इसीलिए तो वो हमको तेरे पास छ्चोढ़ के गयी है. उसको पता था की तू रोएगा पीछे से.

मे: आपको भी?

अम्मी भाभी: एस, मुझे भी. टवल में तेरे सामने आने का प्लान उसका ही था.

मे: तो बस मिस हुई और वो सब?

अम्मी भाभी: बस हमारी 5 बजे की थी, बुत मैने और ईशा ने प्लान बना कर लाते कर दिया. तू छ्चोढ़ ये सब, और सो जेया. कल तेरे लिए और एक सर्प्राइज़ है.

मे: क्या?

अम्मी भाभी: कल पता चलेगा तुझे. बीटीयौ ईशा ने तेरे ड्रॉयर में ब्लू शर्ट रखा है. वो पहनने के लिए बोला है. मैं भूल गयी बताना उसका मेसेज आया था.

मे: हा मुझे भी आया था.

अम्मी भाभी: यार ईशा में कुछ ख़ास है. वो नही होती तो घर पूरा खाली रहता है.

मे: क्यूंकी वो चुप नही रहती, बक बक चालू ही रहती है.

अम्मी भाभी: तुझे पता है उसकी ननद करीना का कितने लड़कों के साथ चक्कर चल रहा है यार?

मे ( मॅन ही मॅन आपके पति के साथ भी चल रहा है): हा शी वाज़ मी क्लासमेट, मैने भी 2 साल उसके साथ मज़े किए है. बुत तब इतनी हॉट नही थी. अब तो ख़तरनाक हो गयी है.

अम्मी भाभी: तू शादी कर ले उससे.

मे: नही. मुझे ईशा जिस किसी से शादी करने को बोलेगी उससे ही करूँगा. ई प्रॉमिस्ड हेर.

अम्मी भाभी: तो ईशा को पत्ता लेती हू. बोल देती हू की मेरे से शादी करवा दे.

मे: वो पासिबल होता तो मैं खुद ही ईशा से बात करता यार.

फिर हम बेड में खड़े हुए, और 6 मिनिट तक लिपलोक्क करी. कभी उपर का होंठ, कभी नीचे का, आंड फिर वो कपड़े पहनने लगी और कहा-

अम्मी भाभी: कल कार में मेरे और निधि के बीच में बैठना.

मैने बोला: नही मैं साइड में बैठूँगा या पीछे वाली सीट पर.

अम्मी भाभी: तो पीछे हम दोनो बैठ जाएँगे और मज़े करेंगे.

मे: ओक.

वी बोत हग्ड ईच अदर और फिर वो नीचे चली गयी.

अगली स्टोरी में आपको बतौँगा की मेरा सर्प्राइज़ क्या था, और कैसे मेरे दिन बदलने लगे, और ईशा के ससुराल में हमारा स्वागत कैसे हुआ. सब कुछ बतौँगा.

तब तक स्टोरी को लीके कीजिए और अपना प्यार दीजिए. दोस्तों अगर आपको कहानी अची लगी हो, तो इसको अपने फ्रेंड्स के साथ भी शेर कीजिए. कहानी पढ़ने के लिए आप सब का दिल से थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  भैया टूर पर गए तो भाभी मेरी बीवी बनी


error: Content is protected !!