स्वाति भाभी का गंगबांग चुदाई की

मेरा नाम स्वाति हे और मैं 25 साल की हाउसवाइफ हूँ. मेरी शादी को एक साल हो चूका हे पर मेरे पति अभी तक मुझे दिन रात चोदते हे. एक भी रात ऐसी नहीं होती हे जब वो मेरी चूत न बजाये!
मेरी कोलोनी के सारे लड़के मेरी सेक्सी फिगर के दीवाने हे. और जब भी मैं अकेले निकलती हूँ तो सब फ्लर्ट करते हे मेरे साथ. मैं हमेशा बहोत छोटा ब्लाउज पहनती हूँ और साडी भी काफी लो वेस्ट पहनती हूँ. ब्लाउज बेकलेस होता हे और इतना डीप की क्लीवेज दिखे अच्छे से. मुझे अच्छा लगता हे जब लड़के मुझे देख के ललचाते हे.
एक दिन ऐसे ही मैं अकेले वाल्क पर निकली कोलोनी में. मेरे घर के पास में तिन लड़के रहते हे किराए पर जो कोलेज में पढ़ाई करने आये हे यहाँ. रोहन, अक्षय और विजय नाम हे उन्के. उन लोगों ने मुझे देखा तो आ गए बातें करने के लिए.
रोहन: अरे भाभी आप तो बहुत दिनों के बाद में दिखी आज. वैसे आजकल लगता हे काफी बीजी हो आओ?
मैं: नहीं बीजी तो नहीं हूँ. पर ऐसे ही आजकल उन्के ऑफिस की रोज कोई न कोई पार्टी होती हे तो मैं उसी में बीजी रहती हूँ थोड़ी.
अक्षय: भैया नहीं नजर आ रहे हे आज.
मैं: आज उन्हें कुछ काम से बहार जाना पड़ा. काल शाम तक ही लौटेंगे वापस वो घर पर.
रोहन: आप तो बोर हो जाओगी भैया के बगेर भाभी जी.
मैं: हां यार पर क्या करूँ अब. बोर तो होना ही हे मुझे तुम्हारे भैया के बिना.
तभी अचानक रोहन ने कहा, अगर आप का मन हो तो आज अपन लोग मिल के पार्टी करते हे. आप और हम तीनो!
अक्षय और विजय भी जोर देने लगे तो मैंने उनसे कहा की ठीक हे शाम को मेरे पर ही आ जाओ तुम तीनो. पार्टी करेंगे हम चारो मिल के.
वो तीनो एकदम खुश हो गया और मैंने भी सोचा की अच्छा ही हे की अकेले बोर होती उस से अच्छा हे की इन तीनो के साथ पार्टी ही कर लूँ रात में. मैं घर लौट आई और पार्टी की तैयारी में लग गई तभी से. मैंने खाना ऑर्डर कर दिया सब के लिए और जा के रेडी होने लगी.

मैंने नहा के एक पिंक कलर की साडी पहनी जिसका ब्लाउज बहोत ही छोटा था. बेकलेस होने की वजह से मेरी पूरी पीठ खुली थी और मेरी पतली कमर भी पूरी तरह दिख रही थी. मेरा क्लीवेज भी दिख रहा था. लगभग 9 बजे घंटी बजी और वो तीनो आ गए. वो तीनो अन्दर आ के बैठे और मेरी तारीफ़ करने लगे.
रोहन: वाऊ भाभी जी आज तो आप कमाल की लग रही हो.
विजय: भाभी तो रोज ही हॉट लगती हे मेरे को.
मैंने हंस पड़ी और तीनो के लिए पानी ले के आई. पानी सर्व करते समय मेरा पल्लू बार बार सरक रहा था. उन तीनो के तो पसीने छुट रहे थे. सब को भूख भी लगी थी तो हम सब खाना खाने बैठ गए. खाने के टेबल पर तीनो वापस मेरे साथ फ्लर्ट करने लगे.

यह कहानी भी पड़े  गीता भाभी की चूत को लंड खिलाया

अक्षय: भाभी आप के आगे तो खाना भी फीका लग रहा हे. भैया तो भूखे ही रह जाते होंगे रोज क्यूंकि आप से नजर ही दूर नहीं होती होगी उनकी तो.
रोहन: अरे पागल भैया तो खाना ख़तम होने की वेट में रहते होंगे की जल्दी से भाभी को ले के बेडरूम में जा सके!
वो तीनो हंसने लगे और मैं शर्मा के मुस्कुरा रही थी. खाना ख़तम होते ही हम लोग ड्रिंक्स करने लगे. और साथ में तास खेलने लगे. खेलते वक्त वो तीनो किसी न किसी बहाने से कभी मेरा हाथ पकड़ते थे तो कभी मेरी कमरे के ऊपर हाथ जो घिस लेते थे. मैं भी व्हिस्की पी रही थी वो सोचा की थोड़ी बहोत मस्ती तो चलती हे इस एज के लडको के साथ में.
फिर विजय ने म्यूजिक चलाया और मुझे अपने साथ डांस करने को कहा. मैं तुरंत मान गई और वो मेरी कमर पर हाथ रख के धीरे धीरे नाचने लगा. डांस करते हुए वो अपने हाथ से मेरी पीठ और कमर को सहला रहा था. मैं भी नशे में थी और उसके हाथ का मेरे बदन पर ऐसे चलना मुझे अच्छा लग रहा था.

वो बोला: अगर मैं होता भैया की जगह तो एक दिन तो क्या एक घंटे के लिए भी आप से दूर नहीं होता.
मैंने हसंते हुए कहा, अच्छा उतनी हॉट लगती हूँ मैं तुम को?
वो बोला, सच कहूँ तो बता नहीं सकता उतनी हॉट हो आप भाभी.

इतने में रोहन मेरे पीछे खड़ा हुआ और धीरे से अपने हाथ मेरे पेट के ऊपर रख के डांस करने लगा. अब मैं उन दोनों के बिच में थी और हम तीनो डांस कर रहे थे. मैं भी नशे में मस्त थी और सच कहूँ तो मुझे भी ये सब करना अच्छा लग रहा था.
रोहन: भाभी आप बुरा ना मानो तो क्या मैं आप की पतली और सेक्सी कमर के ऊपर उंगलियाँ फेर सकता हूँ.
मैं उसके गालों को सहलाते हुए कहा, उसमे बुरा मानने की क्या बात हे रोहन, करो कोई प्रॉब्लम नहीं हे.
उतने में अक्षय बोला: भाभी को ये सब बुरा नहीं लगता तभी तो सूरज के साथ!
इतना कह के वो हंसने लगा और बाकी के दिनों भी हंस पड़े. मैं हैरान हो गई की सूरज की बात इन तिनो को कैसे पता चली. उम्र में सूरज मेरे से 4 5 साल छोटा हे और मेरा उसके साथ सीक्रेट अफेयर हे. मेरे पति के ऑफिस जाने के बाद मैं उसे अपने घर में बुला के उसके साथ दोपहर में सेक्स करती हूँ. मैं तो ऐसे समझती थी की मेरी और सूरज की बात किसी को भी पता नहीं हे.
मैं घबरा के पूछा, क्या सूरज ने तुम तीनो को कुछ बताया हे?
रोहन ने कहा, हां भाभी हम सब एक ही कोलेज में पढ़ते हे. पर आप चिंता मत करो जरा भी. हम लोग किसी को भी ये सब नहीं बताएँगे.
मैंने राहत की साँस ली और वो तीनो डांस करते मेरे एकदम करीब आ गए. डांस करते वक्त मेरा पल्लू बार बार सरक रहा था और वो तीनो जैसे की पागल ही हो रहे थे.
तभी अक्षय ने कहा: भाभी आप जरा तो अपना फिगर अच्छे से दिखाओ, पल्लू को हटा ही दो बिच में से अब तो आप.
इस से पहले की मैं कुछ बोलती उसने मेरी साडी उतार दी. अब मेरी पूरी कमर और क्लीवेज उन्हें दिख रही थी. रोहन बोला: भाभी आप सूरज को तो रोज खुश करती हो अपने सेक्सी और सिल्की बदन से. आज जरा सा हमारे लिए भी कुछ करों ना. नंगी हो के थोडा नाचो ना. अपना फिगर हमें भी दिखाओ जरा आज.
मुझे ये सब एकदम अजीब सा लग रहा था. एक तरफ ख़ुशी थी की तिन लड़के मुझे नंगा करने को बेताब से थे और डर भी लग रहा था की किसी को पता ना चल जाए. पर मैं मना करती तो वो लोग सूरज वाली बात सब को बता देते और मेरी बदनामी होती.

यह कहानी भी पड़े  विधवा टीचर के तन की प्यास

Pages: 1 2

Comments 1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!