बेटी के पापा को सिड्यूस करने की कहानी

ही फ्रेंड्स, मेरा नामे रागिनी अगरवाल है. मैं 19 साल की हो चुकी हू, इस जुलाइ में. ये कहानी तब की है जब मैने पापा से ज़िद की थी की मुझे ब’दे में गोआ जाना थे सोलो ट्रिप पे. पर पापा मुझे अकेले नही जाने दे रहे थे. क्यूंकी उन्हे मेरी बहुत टेन्षन थी.

मैं अपने बारे में बता रही हू अब. मैं 19 की हू, बुत मेरी बॉडी देख कर कोई भी बोलेगा की 22 की हू. मेरी बॉडी 34सी-28-34 है. काफ़ी ज़्यादा कर्वी हू अवर ग्लास के जैसे. लोंग हेर है, ब्लॅक और लिप्स पिंक है. मुझे देख कर अंकल्स और बुड्ढे दोनो घूरते है. कुछ अपनी पॅंट्स को मसालते भी है.

मेरी बिल्डिंग में एक अंकल है. राजीव नामे है उनका. वो काफ़ी मुझे घूरते है, बातें करने की कोशिश करते है, और जब मैं फ्रेंड्स के साथ रात में पार्टी करने जाती हू, मुझे देख कर कॉंप्लिमेंट देते है, “योउ अरे रियली हॉट टुनाइट रागिनी. ज़्यादा ड्रिंक्स करोगी तो मुझे बुला लेना, पिक उप कर लूँगा”.

रागिनी (मैं भी कभी-कभी उनसे फ्लर्ट कर लेती हू, पास खड़े हो कर): हा राजीव अंकल, आपको ही याद करूँगी इफ़ ड्रिंक ज़्यादा की तो.

अब स्टोरी पर आती हू. मैं 19 की थी. मेरा ब’दे 19 जुलाइ को था. मुझे अपने ब’दे पे गोआ जाना था. मैने पापा को रिक्वेस्ट की 19त जुलाइ को सनडे था, तो पापा घर पर बैठे थे रूम में. मेरी मों एक्सपाइर हो गयी थी. तब से पापा काफ़ी अकेले हो गये थे. सनडे की शाम को मैने सोचा आज से ही पापा को सिड्यूस करती हू. क्यूंकी मैं भी जवानी में आ गयी थी.

तभी पापा के रूम में गयी, और उन्हे बेड पर बैठा देखा. मैं सोची कुछ डीप नेक टॉप और शॉर्ट्स वेर करके जौ. फिर नॉक किया रूम डोर पे, और उनके पास आ गयी और बैठ गयी फेस के सामने.

रागिनी: पापा मुझे ब’दे में गोआ जाना है. यहा घर पर सेलेब्रेट नही करना.

पापा: बेटा, गोआ अकेले नही जाने दे सकता. वाहा काफ़ी खराब लोग है.

रागिनी: पापा मैं अब बड़ी हो गयी हू (थोड़ी सी बेंड हुई ताकि उन्हे क्लीवेज दिखे).

पापा: हा, तू बड़ी हो गयी है (ये कहते हुए उनकी नज़र मेरी क्लीवेज पे पड़ी). पर अकेले नही.

फिर मुझे कुछ शरारत सूझी, और पापा की गोद में बैठ गयी. उनका पेट मेरे स्टमक में टच होने लगा, और प्यार से उनकी नेक में हॅंड्ज़ को रखी, और कहा-

रागिनी: आप चलो मेरे साथ अगर इतनी ही टेन्षन है मेरी.

ये आक्षन देख के पापा की गरम साँसे मेरी क्लीवेज पे पड़ी. उफ़फ्फ़! इतनी गर्मी हुई की क्या बतौ. मेरी पनटी थोड़ी सी वेट होने लगी, और उन्होने कहा-

पापा: बेटी तुम कितनी जल्दी बड़ी हो गयी हो (ये कहते हुए उन्होने एक हाथ से मेरे हेर्स को कर्ल किया).

रागिनी: कैसे बड़ी हो गयी हू बताओ (इनोसेंट बनते हुए)?

पापा: पहले तुम बच्ची थी. अब 19 की होने वाली हो. काफ़ी चेंज हो गयी हो. बॉडी भी लेडी के जैसी होने लगी है तुम्हारी.

ये सुनते ही मेरी आँखें शर्मा गयी, और मुझे कुछ अड्जस्ट करके बैठना था उनकी लॅप में. मुझे अनकंफर्टबल देखते ही उन्होने मुझे थाइ के पास पकड़ा, और ऐसे मूव किया जैसे अब मैं उनके लंड पे बैठ गयी थी, और मेरी छूट उनके लंड से टच हो गयी थी.

मुझे दर्र था कही मेरी थाइस से वेट एरिया उन्हे पता ना चल जाए. फिर मैने भी आचे से अड्जस्टमेंट की अपनी छूट को उनके लंड पर. उन्होने मुझे सपोर्ट किया मेरी वेस्ट पकड़ कर दूसरे हाथ से.

पापा: रूको बेटा, वरना गिर जाओगी.

रागिनी: हीही पापा आप भी ना, मुझे कभी गिरने नही दोगे लगता है.

पापा: कभी नही. तू मेरी जान है.

रज़ीनी: अवव पापा (मैने ये सुनते ही उन्हे हग की).

पापा: आ (उन्होने ने भी हग किया).

मैने भी थोड़ी सी अपनी क्लीवेज उनकी चेस्ट पर प्रेशर कर दी, और विस्पर की-

रागिनी: क्या मैं हा समझू?

पापा: एक शर्त पे.

रागिनी (हग रिलीस करते हुए): क्या पापा? (उनकी आखों में देखने लगी)

पापा: कुछ नही.

और उन्होने मुझे साइड में स्लाइड किया, और टिकेट बुक करनी है ये कहते हुए चले गये. जब वो मुझे साइड बैठा कर जेया रहे थे मुझे उनका बोनेर फील हुआ, और मेरे लंड में हुलचल हुई. मैने भी सोचा अब कल शॉपिंग पर जौंगी पापा के साथ, और बिकीनिस लूँगी.

मैं खुशी की वजह से भूल ही गयी की वो मेरे पापा थे, और मैं उनकी बेटी थी. मैं अपने रूम में गयी और सो गयी. रात को जल्दी मुझे नींद नही आती. पापा मेरे रूम में आए और मेरे पास बैठ गये. फिर उन्होने प्यार से मेरे हेर साइड किए. मैं वैसे ही लेती रही.

मेरी क्लीवेज पूरी विज़िबल थी, क्यूंकी रात को मैं ब्रा वेर नही करती. शायद वो मेरे पिंक निपल्स को भी देख पा रहे थे निघट्य टॉप में. थोड़ी देर मेरे हेर्स को साइड करने के बाद, वो अपना हाथ धीरे से मेरी नेक पर ले आए. एक सेन्सेशन हुई मुझे कुछ हॉट सी, पर मैं मोन करना चाहती थी, जो नही कर सकती थी.

कुछ देर बाद वो उठे, और एक किस की मुझे फोर्हेड पर, और अपने रूम में चले गये. जाते-जाते मेरी ब्रा को जो मैने खोल के चेर पे रखी थी, वो उठा कर ले गये. मैं शॉक में हो गयी, की पापा को मुझपे इतना हॉट सेन्सेशन था.

मैं भी रात भर सो नही सकी, और सुबा 10 बजे उठी. मैने ब्रश किया, फिर नहाने गयी. तभी सारे आक्षन्स याद आने लगे मुझे पापा के, और मैं बेदिंग के टाइम में अपनी लेग्स के पास टच करने लगी खुद को ज़ोर से.

मैं अपने थाइस को ज़ोर से रब करने लगी. मुझे सब कुछ याद आने लगा, और फिर मुझे होश आया. फिर जल्दी से बाहर आई, और ड्रेस वेर की सेक्सी सी, जिसमे मेरी क्लीवेज डीप दिखने लगी, और बूब्स की कुवर्व्स भी. फिर पापा के रूम को नॉक किया मैने.

रागिनी: पापा आप अंदर हो?

पापा: हा बेटा, बातरूम में हू. रेडी हो रहा हू. एक काम करो, मेरी अंडरवेर डेडॉ, भूल गया हू

और मैं अंडरवेर उठा कर उन्हे देने जेया रही थी. पर मुझे कुछ हॉट का फील हुआ, और मेरी पनटी वेट हो गयी.

फिर पापा को कहा: चलो शॉपिंग पर, गोआ के लिए कपड़े लेने है.

पापा बाहर आए, और वो शॉक हो गये मुझे देख कर. उन्होने मेरी क्लीवेज और कर्वी फिगर देखा, और वो माना ही नही कर पाए और बोले-

पापा: बस गाते के पास वेट करो, आता हू बेटा.

मैने खुश हो कर उन्हे हग की ज़ोर से, और चीक पर किस की. फिर हम दोनो बाहर आ गये. गाते लॉक करने के टाइम मुझे अनीज़ी हो रहा था, जो मैं इंटेन्षनली कर रही थी. इतने में पापा ने पीछे से मेरी वेस्ट को टच करते हुए मेरी हेल्प की. मेरी हिप में उन्होने पूरा प्रेशर डाला हुआ था अपने लंड का.

वो अपने लंड के बल्ज को मेरी आस पे रब करने लगे थे. कही ना कही मुझे भी अछा लग रहा था ये नाटक. दोनो ही लॉक करने में इतना बिज़ी हुए, की बॉडी के साथ क्या हो रहा था भूल गये.

पापा: बेटा तोड़ा सा टाइट हो गया है लॉक, वेट करना (बल्ज को पीछे से रब करते हुए ).

रागिनी: हा पापा, आराम से करो (हिप को तोड़ा प्रेशर बना कर खड़ी थी).

फाइनली लॉक हो गया, और वो पीछे हुए. मेरी ड्रेस हिप के बीच में चली गयी थी, और फिर मैने घूम कर अड्जस्ट की, और हम दोनो लिफ्ट में चले गये. वाहा पापा का हाथ पकड़ लिया, और वो मुझे कार के पास तक ले गये.

फिर उन्होने गेंटल्मन की तरह कार का गाते ओपन किया, और मैं अंदर बैठ गयी थाइस क्रॉस करके. वो ड्राइवर सीट पर बैठे और हम दोनो माल चले गये.

रास्ते में वो कभी-कभी गियर चेंज करते हुए मेरी थाइस को टच कर देते, कभी नीस को. मैं अब इनोसेंट्ली आक्ट करते हुए बाहर देखती.

मैं भी समझ गयी थी की पापा अभी भी मुझे चूना चाहते थे. आख़िर मैं इतनी हॉट कर्वी जो थी, कोई भी बंदा रेज़िस्ट नही कर पाता. माल जेया कर मैने पापा को विस्पर किया-

रागिनी: पापा सब आपको देख रहे है. आप सेलेब्रिटी हो आज के.

पापा: बेटा मेरे साथ मेरी गफ़ जो है ( ये कहते ही उन्होने मेरी वेस्ट पे हाथ रखा).

रागिनी: हीही, पापा आप भी ना (मैं भी मस्त वेस्ट डाए-बाए करते हुए वॉक कर रही थी).

स्लोली-स्लोली मैने नोटीस किया पापा का हाथ मेरी आस कर्व पे था, और मुझे काफ़ी हॉट फील हो रहा था. फिर मैं पापा को लाइनाये सेक्षन में ले जाने वाली थी. बुत वो शाइ हो कर रुक गये, और बोले-

पापा: तुम जाओ.

मैं बोली: आप मेरे ब्फ हो. आप आ सकते हो.

ये सुनते ही वो स्माइल किए, और ज़ोर से वेस्ट पुल करके चलने लगे. इस बार उनका हाथ मेरी आस चीक पर था. वाहा की वर्कर मेरे पापा को डेक कर पूछी-

वर्कर: सिर माँ का साइज़ बता दो, अभी हनिमून पॅक निकाल देती हू.

पापा आंड रागिनी दोनो हासणे लगे, और पापा बोले: हा 34सी डेडॉ.

मैं शॉक हो गयी की पापा को कैसे पता था मेरा साइज़. फिर याद आया की उस रात पापा ने मेरी ब्रा ली थी, शायद उस वजह से. मैने 1 बिकिनी भी ली, और पापा को बोली-

रागिनी: आपके लिए एक सर्प्राइज़ है, जो गोआ में दूँगी.

फिर हम दोनो जब बाहर जेया रहे थे, तब काफ़ी क्राउड हो गयी थी. पापा मुझे प्रोटेक्ट करने के लिए पीछे आ गये, और इस बार उनकी बगल मेरी आस पे प्रेस हो रही थी, जैसे वो ड्राइ हंप कर रहे थे वेस्ट पकड़ कर. मैं भी उन्हे मज़े दे रही थी, और उनका हाथ अपने पेट पर रब कर रही थी.

ये करते-करते दोनो को फील हुआ की उनका डिक मेरे बट के बीच में आ चुका था, और फिर उन्होने स्लोली-स्लोली हंप किया, और हम दोनो 20 मिनिट के बाद बाहर आ गये माल से. दोनो एक-दूसरे को फेस नही किए, और कार में बैठ गये.

रास्ते में पापा ने कहा: रागिनी तुम बड़ी हो गयी हो. तुम समझ सकती हो माल में जो हुआ वो भीड़ की वजह से हुआ.

रागिनी: हा पापा, कोई बात नही. मैं भी अब लेडी हू, और गफ़ ब्फ के बीचे में कामन है ये.

ये सुनते ही पापा खुश हो गये और बोले-

पापा: अछा जी.

रागिनी (थाइस क्रॉस की और ड्रेस एक-दूं उपर आ गयी ): हा जी.

फिर हम दोनो नेक्स्ट दे एरपोर्ट के लिए निकल गये. नेक्स्ट स्टोरी पार्ट 2 के लिए वेट करना.

यह कहानी भी पड़े  चुदासी हुई बीवी की चुदाई की इच्छा रह गई


error: Content is protected !!