बेटी के कहने पर नौकर से चूड़ने की कहानी

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम निधि है. मेरी उमर 45 साल है. मैं एक हाउसवाइफ हू, और मेरी एक बेटी है जो 22 साल की है. मेरे पति का बिज़्नेस है, और हमे पैसों की कोई कमी नही है. मैने रेग्युलर जिम करके अपने आप को फिट रखा हुआ है.

मेरा रंग गोरा है, और फिगर 36-29-36 है. आज भी जब लड़के मुझे देखते है, तो मुझ पर लाइन ज़रूर मारते है. इससे मुझे खुशी तो बहुत मिलती है, लेकिन मैने कभी अपनी मर्यादा क्रॉस नही की.

मेरे पति ने सालों पहले मुझे छोड़ना बंद कर दिया था. उसके बाद मैने हमेशा अपने आप को कभी फिंगरिंग से, कभी वाइब्रटर से, और कभी डिल्डो से संतुष्ट किया. लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ, की सब कुछ बदल गया.

जैसा की मैने आपको बताया है, की पैसों की कोई कमी नही है, तो हमारे घर में 3 नौकर है. उनमे से एक है हमारा ड्राइवर जो 30 साल का हटता-कटता लड़का है. उसकी हाइट 5’11” है, और रंग सावला है. उसने भी एक्सर्साइज़ करके पहलवान टाइप बॉडी बनाई हुई है.

मेरी बेटी की कॉलेज की छुट्टियाँ चल रही थी, और वो घर पर ही थी. मुझे कुछ काम था, तो मैं उसको 2 घंटे में वापस आने का बोल कर चली गयी. जहा पर काम था, वाहा वो बंदा नही आया था जिससे काम था. तो मैं वापस आ गयी.

मैं आधे घंटे में ही वापस आ गयी थी. जब मैं घर में एंटर करी, तो मुझे मेरी बेटी के कमरे से कुछ आवाज़े सुनाई दी. मुझे अजीब लगा, और मैं दबे पावं उसके रूम की तरफ गयी.

फिर जब मैं उसके रूम के सामने पहुँची, और जो मैने देखा, वो देख कर मेरी आँखें फटत गयी. मेरी बेटी ड्राइवर के नीचे पड़ी हुई थी, और वो उसकी छूट छोड़ रहा था. वो ज़ोर-ज़ोर से आहें भर रही थी.

मुझे बहुत गुस्सा आया, और मैं ज़ोर से उसका नाम चिल्लाई. मेरी आवाज़ सुन कर वो दोनो दर्र गये, और अलग हो गये. ड्राइवर जल्दी से कपड़े पहनने लगा, और मेरी बेटी ने भी कपड़े पहन लिए. फिर मैं बोली-

मैं: क्या तमाशा है ये? बहुत आग लगी है तुझे?

बेटी: इसमे आग लगने वाली क्या बात है मुम्मा? ये तो फिज़िकल नीड है.

मैं: और किसके साथ कर रही है ये तो देख ले.

बेटी: इसमे देखना क्या. जो आपको सॅटिस्फाइ करे उसके साथ ही करना चाहिए. आपको पापा के साथ करके क्या मिला? एक अनसॅटिस्फाइड सेक्स लाइफ.

मैं: क्या बकवास कर रही हो?

बेटी: सही तो बोल रही हू. आपका डिल्डो, वाइब्रटर आपके अनसॅटिस्फाइड होने की गवाही देता है. मैने बहुत बार आपको इन चीज़ो से और फिंगरिंग करके आपको खुद को ठंडा करते देखा है. इससे बेटर ये नही होता, की आप किसी ढंग के आदमी से रीलेशन बना लेती.

उसकी बात सुन कर मैं चुप हो गयी, क्यूंकी वो कुछ भी ग़लत नही कह रही थी. फिर वो बोली-

बेटी: मम्मी ये बहुत आचे से करता है. जितना मज़ा मुझे इसने दिया, उतना किसी ने नही दिया. मैं तो कहती हू की आप भी ट्राइ करो एक बार. कुछ नही मिलना आपको सती-सावित्री बन कर.

ये बोल कर उसने मेरा हाथ पकड़ा, और ड्राइवर के पास ले गयी. मैं ना बोलती रही, लेकिन मेरी ना में वो दूं नही था. मेरी बेटी ने मेरी दुखती हुई राग पर हाथ रख दिया था. अब मैं ड्राइवर के पास खड़ी थी, और तभी मेरी बेटी उसको बोली-

बेटी: आज इनको जन्नत दिखा देना.

जैसे ही उसने ये बोला, ड्राइवर ने मुझे अपनी बाहों में भर लिया, और अपने होंठ मेरे होंठो से लगा दिए. कुछ सेकेंड्स तो मैने उसका साथ नही दिया, और सोचती रही. लेकिन फिर मैने अपनी लायल्टी को तोड़ते हुए उसका साथ देना शुरू कर दिया.

मैने उस वक़्त जीन्स और कुरती पहनी थी. ड्राइवर ने मुझे किस करते हुए मेरी गांद पर अपने हाथ रखे, और उसको दबाने लगा. आज बहुत वक़्त बाद किसी मर्द ने मेरी गांद दबाई थी.

अब मैं भी गरम होने लगी थी. धीरे-धीरे हमारी किस वाइल्ड होने लगी, और वो मेरी गांद के चियर में अपना हाथ दबाने लगा. मेरी छूट गीली होनी शुरू हो गयी थी. फिर हमारी किस टूटी, और उसने मेरा कुर्ता उतार दिया. साथ ही उसने मेरी ब्रा उतरी, और मेरे बूब्स बाहर निकाल लिए.

मेरे बड़े-बड़े बूब्स देख कर वो खुश हो गया, और उनको ज़ोर-ज़ोर से चूसने लग गया. बूब्स चूस्टे हुए उसने मुझे बेड पर लिटा दिया.

उसने मेरे निपल्स लाल कर दिए थे. फिर वो नीचे आया, और मेरी नाभि चाट-ते हुए मेरी जीन्स खोल दी. वो धीरे-धीरे मेरी जीन्स उतारने लगा, और अब मेरी सेक्सी जांघें उसके सामने थी. मैने मरून पनटी पहनी हुई थी.

फिर वो मेरी जांघें चाटने लगा. मेरी पनटी छूट वाली जगह से बिल्कुल गीली हो रखी थी. मैने अपनी बेटी की तरफ देखा, तो वो अपनी छूट सहला रही थी. फिर ड्राइवर मेरी छूट पर आया, और उसने पनटी के उपर से छूट पर जीभ फेरी. इससे मुझे करेंट सा लगा.

फिर उसने मेरी पनटी उतार दी, और मेरी छूट पर जीभ फेरी. इससे मैं सिहार उठी. उसने अपना मूह मेरी छूट में डाल दिया, और ज़ोर-ज़ोर से चाटने-चूसने लगा. मुझे इतना मज़ा आ रहा था, की मैने 2 मिनिट में ही पानी छ्चोढ़ दिया.

वो मेरा सारा पानी चाट गया. फिर उसने अपने कपड़े उतारे, और उसका लोहे जैसा 8 इंच का लंड मेरे सामने आ गया. वो मेरे उपर आया, और उसने मेरी टांगे खोल कर अपना लंड मेरी छूट पर सेट किया. फिर वो मेरी छूट पर अपना लंड रगड़ने लगा. मेरी बॉडी वाइब्रट हो रही थी.

उसके बाद जैसे ही उसका लंड छूट के मूह पर रुका, उसने पुश करके लंड पूरा अंदर डाल दिया. दर्द से मेरी आँखें बाहर आ गयी, और उसकी भी आ निकल गयी. मेरे पति का 6 इंच का लंड ही लिया था मैने आज से पहले. मेरी छूट टाइट भी थी, क्यूंकी बहुत वक़्त से नही चूड़ी थी.

फिर वो मुझे किस करने लगा, और नीचे से अपना लंड मेरी छूट में अंदर-बाहर करने लगा. थोड़ी ही देर में मेरा दर्द कम हुआ, और मुझे जन्नत का मज़ा आने लगा. अब वो तेज़ी से मुझे छोड़ने लग गया. पच-पच की आवाज़े आने लग गयी थी, और मैं अहहा आ करके चुड रही थी.

उसने मेरी टाँगो को पूरा मोड़ दिया, और मुझे पूरा ज़ोर लगा कर छोड़ने लगा. 20 मिनिट की इस चुदाई के बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला, तो मेरी छूट से सफेद पानी का एक धक्का निकला. फिर वो मेरे बूब्स पर आके बैठा, और मेरे मूह में लंड डाल कर धक्के देने लगा.

2 मिनिट में ही उसके लंड ने मेरे मूह को माल से भर दिया. उस दिन के बाद से मैं और मेरी बेटी दोनो उसके साथ पूरा मज़ा लेने लगे.

तो ये थी मेरी कहानी दोस्तों. अची लगी हो, तो लीके और कॉमेंट ज़रूर करे.

यह कहानी भी पड़े  आफरीन की मस्त चुदाई-2


error: Content is protected !!