बेटे ने देखा मोम और मामू का प्यार

हेलो दोस्तो, सीधे कहानी पे आता हू. मेरे घर में मेरी प्यारी ब्यूटिफुल और संस्कारी मों – निकिता (42 यियर्ज़), मेरे दाद लविंग आंड केरिंग नेचर (46 यियर्ज़) और मैं स्किनी और टोंड बॉडी – राहुल (18 यियर्ज़).

ये कुछ वक़्त पहले की बात है जब पापा को मंक कंपनी में परोमोटिओं हुआ था और उनका परॉजेक्ट आउट ऑफ इंडिया रहने लगा. तब वो कुछ दिन हमारे साथ रहते और कुछ दिन बाहर.

थोड़ी ही दूर मेरे मामा का घर है जो कुछ 38 यियर्ज़ के होंगे और मामी 35 यियर्ज़ की. उनकी डॉटर भी है जो मेरी ही उमर की है और हम एक ही स्कूल में पढ़ते है.

तो होता यह था की जब पापा बाहर जाते थे, तो अक्सर मामा या मामी कुछ दिन हमारे घर रहने लगे. ताकि हूमें कोई परेशानी ना हो. कभी कभी हम सब एक साथ रहते थे.

और कभी कभी सिर्फ़ मामू रहते थे जब भी हूमें कहीं बाहर जाना होता था. वो हर त्योहार में हमारे घर आकर मुझे और मेरे मों दाद के लिए गिफ्ट्स लाते थे और मुझे भी उनके साथ बोहोट अछा लगता था वक़्त बिताना.

मों भी बोहोट खुश रहती थी. वैसे तो दाद मों की हर ज़रूरत का ख़याल रखते है, जो माँगते है वो हाज़िर हो जाती है लेकिन बस वक़्त नही दे पाते.

और उस उमर में मर्द का तो पता नही लेकिन एक औरत को एक मर्द की बोहोट ज़रूरत होती है शारीरिक तौर पे.

मामू – निकिता, तुम तुम्हारे पति के परोमोटिओं से खुश नही हो क्या?

मों – ऐसी बात नही है. बस कम के चक्कर में घर भूल जाते है ये. आज कल त्योहार पर भी घर नही रहते.

मामू – तो क्या हुआ, मैं हू ना दीदी. आप चिंता क्यू करती हो?

निकिता – अरे मगर बात वो नही है. तुम्हे पता है, पूरे 6 महीने हो गये हूमें साथ वक़्त बिताए. इन्होने ठीक से मुझे गले तक नही लगाया है

मामू – अब कम है तो करना तो पड़ता है ना दीदी. और वैसे भी तुम जैसी इतनी खूबसूरत औरत मेरे साथ होती तो मैं तो गले के साथ साथ बोहोट कुछ लगता.

मों – इतना ही है तो अपनी बीवी से क्यू नही लगते?

मामू – यार तुमसे ज़्यादा खूबसूरत और संस्कारी थोड़ी है. उस वक़्त मा बौजी ने कह दिया तो कर लिया हम दोनो ने शादी जहा उन्होने कहा.

मों – मुझे भी मेरे पति बोहोट आचे मिले है, बस एक चीज़ की कमी पूरी नही कर पाते. कितना कोशिश करती हू, की जब राहुल सो जाए, तो हम अपने कमरे में प्यार कर सके. मगर ये है की कम और कम.

मामू – तो दीदी, आप कहो तो आपके इस पारोबलें के लिए, मैं कुछ हेल्प करू,?

मों – तुम क्या हेल्प करोगे?

मामू – दीदी, तुम चाहो तो एक वाइब्रटर ऑर्डर करू तुम्हारे लिए?

मों – ची. अब असली लंड की कमी वाइब्रटर कैसे पूरी कर सकता है भला?

मामू – तो मैं हू ना दीदी? भूल गयी बचपन में हम ऐसी मस्ती तो करते ही थे ना.

मों – है पता है. हमेशा घर में आधे टाइम नंगे घूमते रहते थे. फिर जब मैं तुम्हे बम्स पे जब तक 2 4 स्पॅंक नही करती, तुम कपड़े ही नही पहेनटे थे

मामू – कितना मज़ा आता था ना..

मों – लेकिन तब हम बचे थे. और अब तो हमारे खुद के बचे हो गये है.

मामू – दीदी, तुम कहो तो हम अब भी ऐसी मस्ती कर सकते है.

मों – अब तो हमारे खुद की फॅमिलीस है. ऐसा कैसे कर सकते है? और तुम अपनी बीवी से क्यू नही कहते की स्पॅंक करे तुम्हे?

मामू – वो मुझे भगवान के रूप में देखती है. इसलिए ऐसा सोच भी नही सकती. मैने कितनी बार कहा है, तोड़ा किकी हो जाओ, मस्ती है लेकिन मनती ही नही

मों – सपना तो मेरा भी था, की रोमॅंटिक सेक्सी किकी हज़्बेंड मिलेगा. लेकिन अब खैर जो हमारा नसीब.

मामू – तो क्यू ना हम एक दूसरे की किकी विशस पूरी करे?

मों – देखो, इचा मेरी भी है. लेकिन ग़लत होगा ये. और उपर से बचो को पता चलेगा तो क्या सोचेंगे?

मामू- राहुल तो स्कूल गया है इस वक़्त. कोई है भी नही.

मों – है लेकिन उसके लौटने का वक़्त हो चुका है.

मामू – दीदी, प्लीज़ एक बार? बचपन की तरह. जैसे तुम मुझे झुका के.फिर अपना हाथ मेरे बम्स पे घूमती थी. और फिर कस के 2 छाते. बोहोट मिस करता हू उन दीनो को और तुम्हारा डॉमैनेटिंग नेचर.

मों – अब तो आदत नही रही उन सबकी. क्यू की किसे डॉमिनेट करू मैं यहा घर में?

मामू – मैं तो हू ना दीदी. मुझे भी तो मज़ा आता था इन सब में. और तो और आपके चेहरे पे कितनी खुशी होती थी उसके बाद

(इतने में मामू ने तुरंत अपनी जीन्स का बटन खोला, ज़िप नीचे की और पॅंट्स घुटने तक उतार दी)

मामू – देखो दीदी, वरना आज तो मैं पंत नही पहनुंगा. करो ना

मों – अरे राहुल आ जाएगा.

मामू – उसके पहले हो जाएगा प्लीज़ दीदी?

मों – यार तुम भी ना. यहा आओ. टेबल पे झुको.

(मामू ने पोज़िशन ली और टेबल पे झुक गये)

मों – यार तुम्हारे बम्स कितने छोटे थे तब. अब तो हाथ में भी नही आएँगे.

(फिर मों ने अंडरवेर के उपर से ही फील लेना शुरू किया बम्स का.और नीचे बैठ के गौर से देखने लगी मामू के आस को.

फिर उन्होने मामू की अंडरवेर उतार दी घुटने तक और खड़े होके हाथ रब करने लगी बम्स पे)

मों – काफ़ी रफ हो गयी है तुम्हारी गांद

मामू – तुम्हारे कोमल हाथो की कमी थी दीदी. कितने प्यार हाथ है तुम्हारे. अया

(फिर मों ने हल्का सा थूक लिया अपने हाथ में और पहले मामू के रिघ्त बम्स पे रब किया. उसके बाद मों ने मामू का टशहिर्त तोड़ा उपर किया और ज़ोर का एक स्पॅंक मामू के बम्स पे किया. इतने सालो के बाद ये मौका था इसलिए मों के हाथ में भी दर्द सा हुआ हल्का सा.)

मामू – आउच दीदी, तुम अब तक नही भूली अपना तरीका. दीदी दूसरा भी प्लीज़

मों – मैं तो एक ही गांद लाल करूँगी. अपनी बीवी को क्या कहोगे? गांद किसने लाल की

मामू – आज उसके सामने नंगा ही नही होऊँगा. दीदी दूसरी साइड भी मरो ना ई लीके इट

(मों ने लेकिन उसी गांद पे और 2 स्पॅंक किए ज़ोर से और मामू की गांद लाल हो रही थी. जैसे ही मामू चिल्लाने लगे, मों नीचे बैठ कर मामू के गांद पे किस करने लगी और उसे सहलाने लगी.)

मामू – एक ही साइड मार के अछा नही किया दीदी.

मों – अब मेरे चूमने से ठीक हो जाएगा है ना ?

मामू – आ दीदी.

(जैसे ही मों ने मामू की गांद को पकड़ के तोड़ा स्पर्ेआद किया, इतने में मैं डोर खुलने की आवाज़ आई और दोनो चोंक गये)

(मैं ही था और स्कूल से रिटर्न आ चुका था. इतने में मों खड़ी होके खुद को ठीक करने लगी, और मामू भी अपनी अंडरवेर पहें कर जीन्स पहेन्ने लगे. जैसे ही मैं मों से मिलने बेडरूम का दरवाज़ा खोला तो मामू जीन्स का बटन लगा रहे थे और मों साइड में खड़ी थी)

राहुल – मामू क्या हुआ?

मामू – बस वो अभी अभी वॉशरूम से निकला था बेटा. तुम आ गये?

मों – है और राहुल बेटा, कैसा था आज का दिन?

राहुल – बोहोट अछा था मम्मी.

मामू – अछा मैं भी निकलता हू कम के लिए

मों – लेकिन रत को आओगे क्या? वो अकेले दर लगेगा ना मुझे.

(मामू मम्मी की बातें समाज चुके थे)

राहुल – लेकिन मम्मी आज तक तो आपको दर नही लगा.

मों – वो बेटा, आज थोड़ी घबराहट सी हो रही है ना. इसलिए.

(मुझे तभी से तोड़ा डाउट होने लगा. लेकिन मुझे लगा हो सकता है. आख़िर रोज़ अकेले सोने में कभी कभी बेचैनी सी हो सकती है.)

मामू – अछा मैं रत में लौटूँगा ठीक है?

राहुल – ओके मामू.

(फिर मामू चले गये और हम भी अपने डेली के कामो में लग गये. फिर शाम हुई और मों मान ही मान मुस्कुराने लगी थी. और आज वो पूरी तरह तैयार हुई थी जैसे कहीं फंक्षन में जाना हो.

मों ने ब्लॅक कलर की स्लीव्ले सारी पहनी थी और उपर ब्लॅक ब्लाउस. हाथ में ब्लू कलर की बॅंगल्स, मॅचिंग नाइल पोलिश और परो में पायल. आज मों पता नही क्यू लेकिन बोहोट खूबसूरत लग रही थी.)

राहुल – मम्मी आज कोई खास बात है?

मों – वो बेटा, आज मामू और उनकी फॅमिली के साथ डिन्नर का प्लान है हमारा. तुम भी तैयार हो जाओ.

राहुल – ओके मम्मा.

(मैने भी नयी डेनिम जीन्स और वाइट शर्ट पहना, वाइट शूस आंड वॉच पहें के रेडी हुआ. फिर मामू ने उनकी कार में हूमें पिकप किया और डिन्नर में हुँने ढेर सारी बातें की और रिटर्न घर आ गये)

मामू – राहुल बेटा, कैसा था रेस्टोरेंट?

राहुल – मामू बोहोट मस्त था. हम नेक्स्ट टाइम वहीं जाएँगे. मेरा तो पेट इतना फुल है की बेड पे जाते ही सो जौंगा.

मों – अछा है.

राहुल – है? क्यू अछा है मम्मी?

मों – मेरा मतलब है की अछा है जल्दी सो जाओगे बेटा. कल स्कूल भी जाना है ना? चेंज कर के सो जाओ. मैं और मामू भी सो जाएँगे अभी. और तुम तो कपड़े लाए नही होगे ना? आओ इनके कपड़े दे डू

मामू – है दीदी. चलो

राहुल – मम्मी मामू कहा सोएंगे?

मों – वो बेटा, उन्हे कपड़े दे डू तुम्हारे पापा के. फिर मेरे कमरे में सोफे पे सो जाएँगे.

मामू – है बेटा. तुम चिंता मत करो. सो जाओ ठीक है?

राहुल – ओके गुड नाइट

मों – गुड नाइट मेरा बचा (हग कर के फोर्हेड पे किस किया मों ने मुझे)

(फिर हम कमरे में चले गये और मुझे पता ही नही लगा कब मेरी आख लग गयी.)

मामू – (बेड पे लेते हुए) तो क्या इरादा है दीदी?

मों – सुबह कुछ बाकी रह गया था ना? बस वही पूरा करना है.

मामू – मैं कुछ संजा नही दीदी

मों – बस ओवेरक्टिंग मत करो.

मामू – मुझे भी तो बताओ करना क्या है? गांद तो मेरी लाल कर दी दीदी.

मों – वो दरअसल, जब मैं बम्स पे किस कर रही थी, तो मुझे मान हुआ की तुम्हारी आस लीक करू. लेकिन राहुल आ गया था.

मामू – वाउ दीदी. ये शोक काब्से लगा?

मों – कुछ वक़्त से मैं काफ़ी सारे वीडियोस देख रही हू फीमेल डॉमिनेशन के. बस उसी वीडियो में से ये सब देखा है मैने. और तब से इचा है की मैं ये सब करू.

मामू – और दीदी तुम्हे तो पता है. मुझे तुम्हारी हर किकी चीज़ पसंद आएगी.

मों – अब चलो भी. उतरो ना पंत, रहा नही जाता

(मामू बेड से उतरे, और इस बार जीन्स और अंडरवेर उन्होने खुद ही उतार दी मम्मी के सामने. और दूसरी तरफ मूह कर के खड़े हो गये. मों ने 2 ज़ोर से स्पॅंक किए और कहा.)

आयेज की कहानी नेक्स्ट पार्ट मे जल्दी ही.

तो दोस्तो ये कहानी आपको कैसी लगी मुझे नीचे दिए मैल द्वारा ज़रूर बताए. इसका दूसरा पार्ट जल्द ही आएगा. तब तक आपका प्यार बरसते रहिए, कॉमेंट्स द्वारा.

यह कहानी भी पड़े  पापा के दोस्त की बीवी को पटा कर चुदाई की

error: Content is protected !!