अपने आप को भाई को सोप दिया

हेलो मेरा नाम सोनिया है और मई आचे घर की रहने वाली हू. गोरा रंग 32 के बूब्स, टाइट छूट, थोरी बाउन्सी चुतताड है.

घर मे मई ज़्यादातर अकेली रहती थी क्यूकी मेरे मम्मी पापा दोनो ही जब करते थे और काम के लिए काफ़ी बाहर जाना होता था उनके. मेरा ब्फ व है उसका नाम अल था. मेरी उमर 19 साल है. मेरा भाई मेरे से छोटा था, उसका नाम र्क (शॉर्ट फॉर्म) था. उसकी उमर नही बताना.

तो घर मे मई, पापा, मों और भाई रहते थे. जब भी मौका मिलता मई अपने ब्फ को घर बुला लिया करती थी. मेरी मों को भी पता था की मेरा ब्फ है क्यूकी वो ओपन माइंडेड थी लेकिन वो ज़्यादातर बाहर ही रहती थी क्यूकी वो जॉब करती थी. मेरा ब्फ बहुत हॉट था, हम अक्सर सेक्स किया करते थे.

एक दिन हम सेक्स कर रहे थे डॉगी स्टाइल मे. उसका 8 इंच का लंड मेरी छूट मे पूरा अंदर जा चुका था. मई सुख के सातवे आसमान मे थी और वो तेज़ी बढ़ते हुए मुझे पीछे से धक्के दे रहा था.

लगभग 15 मीं तक ऐसे ही करने के बाद हम दोनो का पानी निकल गया. तब मई सीधी हुई और गाते के पास अपने भाई को देखा. वो चुप छाप ह्यूम देख रहा था और एक हाथ से अपना लंड हिला रहा था. ब्फ बगल मे आख बंद करते लेता हुआ था तो वो उसे नही देख पा रहा था.

तो मैने अपने पैर धीरे से और खोल दिए और लेती रही अपने भाई को अपनी छूट दिखती हुई. फिर हम कपड़े पहने के लिए उठे तब तक भाई निकल चुका था.

अब ये हमेशा का हो गया था. भाई अपनी बेहन को अपने ब्फ चूड़ते हुए देखता था. मुझे कोई प्राब्लम नही थी क्यूकी मुझे चूड़ना अछा लगता था और जब से पता चला भाई देखता है तब मुझे और मज़ा आता था चुदाई मे.

अब कुछ दिन बाद मेरे ब्फ को काम से दूर जाना था. तो उसके जाने से पहले जब कुछ दिन रह गये थे तो उस दिन मैने उसे अपने घर बुला लिया. बिन कुछ बोले उसके कडपे निकले और बेड मे ले गयी.

उसे बेड पर लेटया और उस पर चाड के उसको किस करने लगी. अपने जीभ से उसकी जीभ को ज़ोर ज़ोर से चूसने और चाटने लगी. हम लोग पूरे जोश मे थे.

फिर मई नीचे हुई और उसके होतो को से होते हुए उसकी गर्दन को चाटते हुए उसके निपल को चाटने लगी. अब नीचे जाते हुए उसके लंड तक आ गयी.

लंड मई ज़्यादा चूसना पसंद करती हू. मेरा बस चले को किसी का व लंड को चूस लू बुत ब्फ है तो किसी की क्या ज़रूरत.

उसका लंड उपर से नीचे तक और उसके टट्टो को भी आचे से चाटने के बाद मैने उसका लंड अपने मूह मे ले लिया. उसका लंड 8 इंच का था तो मई पूरा अंदर नही ले पा रही थी लेकिन फिर व उसे चुस्ती रही.

कम निकालने से पहले मैने उसका लंड अपने मूह से बाहर निकल दिया ताकि मेरी छूट को व तोड़ा मज़ा मिले. फिर मई उसके उपर बैठ गयी और उसके लंड को अपने छूट मे टीका के अंदर डाल दी. अब मई उछालती रही ऑश यअहह ओइईईई माआ क्या मज़ा आ रहा था.

अल अपने हाथ से मेरे चुचे बड़ा रहा था जो मेरे साथ साथ उछाल रहे थे. बस अब हमारा निकालने वाला था ऑश यअहह… वो मेरे अंदर ही निकाल दिया. लेकिन पता नही आज मुझे उसके साथ चुदाई करने मे इतना मज़ा नही आया.

आज भाई हमे नही देख रहा था शायद इसलिए मुझे उतना मज़ा नही आया. वो मम्मी को एरपोर्ट चॉर्ने गया था, वो लोग बिज़्नेस ट्रिप के लिए श्री लंका जा रहे थे.

तो घर मे मई और अल थे चुदाई के बाद नंगे लेते हुए थे. वो कपड़े पहनने को जेया रहा था तो मैने माना किया और बोली की ऐसे ही रहो मेरे साथ. उसका लंड अब सॉफ्ट हो रहा था.

मई अब सेक्स नही करना चाहती थी तब तक जब तक भाई ना आ जाए क्यूकी तब ही मुझे ज़्यादा मज़ा आता था. हम लोग कड्ड्ल करके सोए हुए थे और वो मेरे चुचे को पड़के हुए था. और अपने लंड को मेरी गांद मे टीकाया हुआ था. थोड़ी देर मे उसका लंड फिर से उठने लगा.

मैने आज तक अपनी गांद मे लंड नही लिया था.

मई लेती हुई थी और अल अचानक मेरी गांद मे लंड डालने की कोशिश करने लगा जिससे मई चिल्ला उठी अहह…! क्या कर रहे हो दर्द हो रहा!

मेरा भाई घर आ चुका था ये बात हमे नही पता थी. मेरी आवाज़ सुनके वो रूम मे आ गया जल्दी से. अल का लंड हल्का सा मेरी गंद मे था और भाई रूम मे आ कर देख रहा था. अल ने अपना लंड निकाला जिससे मुझे आराम मिला और बेडशीट से अपने आप को कवर कर लिया. लेकिन मई पूरी की पूरी नंगी ही थी और भाई मुझे देख रहा था.

भाई से मुझसे पूछा की क्या हुआ??

मैने कहा कुछ नही तुम अपने रूम मे जाओ और वो चला गया.

क्यूकी मई अपने आप को कवर नही की थी, मेरा भाई मेरे बॉडी को घूर रहा था और ये मेरे ब्फ ने देख लिया था. उसने मुझसे कहा तुमने अपनी बॉडी कवर क्यू नही किया?!! तुम्हारा भाई घूर रहा था!

मैने कहा मई भूल गयी गांद मे दर्द के कारण, अब से नही करूँगी. लेकिन वो काफ़ी गुस्सा हो गया था और मान नही रहा था. तो मैने कहा ठीक है मान जाओ आज गांद छोड़ने दूँगी.

वो खुश हो गया, उसकी आखों मे एग्ज़ाइट्मेंट था. मैने कहा जाओ लोशन लेकर आओ तब छोड़ने दूँगी मेरी गांद. वो लोशन लेने बातरूम गया और आ कर मुझे डॉगी स्टाइल मे ले आया. मई झुक गयी और गांद उठा के उसके हवाले कर दी.

वो हाथ मे बहुत सारा लोशन लेकर मेरी गांद की मालिश करने ल्गा. एक फिंगर गांद मे डाल दिया जिससे मेरी मूह से आअहह की आवाज़ निकल गयी.

मैने सोचा ये मैने क्या कह दिया. उसकी एक फिंगर से ही दर्द कर रहा जब पूरा लंड डालेगा तब क्या होगा.

वो मेरी गांद को किसी कीमती चीज़ की तरह मालिश कर रहा था. फिर उसने 2 फिंगर मेरी गांद मे डाल दी.

तो बे कंटिन्यूड, अभी आयेज और भी बहुत कुछ हुआ बुत नेक्स्ट स्टोरी मे बतौँगी. मी एमाइल इस 6पेर9सोन[email protected]गमाल.कॉम, आयेज जानना है तो मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  भाभी को चोदा उसके बचे के सामने

error: Content is protected !!