अंजान आदमी ने बीवी को चूसा, और लंड चुस्वाया

जैसे ही मैं कॅबिन के पास पहुँचा, तो देखा की सोनिया प्रियांश की गोद में बैठी थी, और प्रियांश उसे स्मूच कर रहा था एक-दूं चिपक के. वो उसके टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसकी चूचियाँ दबा रहा था. मुझे एक बार लगा चलो दोनो को डिस्टर्ब कर देता हू, बुत मैने सोचा चलो छ्चोढो यार, मज़े लेने दो दोनो को. फिर मैं वापस वॉशरूम चला गया.

वाहा पहुँच के मैने सोनिया को कॉल किया. सोनिया ने कॉल उठाया तो मैने उसे बोला-

मैं: जान मेरा सिगरेट का पॅक वही रह गया है.

सोनिया बोली: अछा.

और मुझे पता चल गया था की सोनिया ने कॉल स्पीकर पे रखी थी, क्यूंकी जब मैने ये बोला की मेरा सिगरेट पॅक वही रह गया है, तो पीछे से प्रियांश बोला-

प्रियांश: बहनचोड़ साला डिस्टर्ब कर दिया.

और सोनिया हल्का हस्स दी.

फिर प्रियांश पीछे से बोला: तुम वही रूको, मैं आता हू देने.

मैने बोला: ओक आ जाओ.

फिर प्रियांश सिगरेट देने आया. उसने डोर नॉक किया. मैने खोला तो उसने बोला-

प्रियांश: लो.

मैने बोला: थॅंक्स यार.

फिर मैने सोचा दोनो को ऐसा लगे की उनके पास तोड़ा फ्री टाइम है, तो देखते है क्या करते है दोनो. फिर मैने प्रियांश को कहा-

मैं: यार मुझे ना तोड़ा टाइम लग जाएगा. मैं ना 2 या 3 सिगरेट्स पी के अवँगा. इससे मुझे बार-बार नही आना पड़ेगा, और पॉटी भी करनी है. मुझे अराउंड 30 मिनिट लग जाएँगे. तो तुम सोनिया को बता देना.

प्रियांश बोला: ओक यार, तुम आराम से आओ.

और प्रियांश के चेहरे पे एक अजीब सी स्माइल थी, जैसे वो यही चाहता था की उसे टाइम मिल जाए. फिर प्रियांश वाहा से चला गया. मैं जल्दी से सिगरेट पीक बाहर गया ये देखने की क्या हो रहा था वाहा. मैं वाहा पहुँचा, और एक साइड में जाके खड़ा हो गया. विप ज़ोन होने की वजह से वाहा हम तीनो के अलावा कोई नही था.

जैसे ही मैने वाहा खड़ा होके देखा, तो प्रियांश ने सोनिया को अपनी गोद में बिता रखा था, और बहुत मज़े से उसके लिप्स पे स्मूच कर रहा था. सोनिया भी उसका सिर पकड़ कर उसका पूरा साथ दे रही थी. फिर प्रियांश ने सोनिया को अपनी गोद में से उठाया, और साइड में बिता दिया, और फिर उसने सोनिया के शॉर्ट्स का बटन खोला. वो तोड़ा सा शॉर्ट नीचे करके उसकी छूट सहलाने लग गया. एक हाथ से वो सोनिया की चूची दबाने लग गया.

मैने सोनिया का चेहरा देखा तो उसने मस्ती में आँखें बंद करी हुई थी. उसे बहुत मज़ा आ रहा था. वो मस्ती में अजीब-अजीब से फेस बना रही थी. ऐसे ही चलता रहा 5 मिनिट. फिर प्रियांश ने अपना हाथ उसकी छूट पे से हटाया, और अपने शॉर्ट्स की ज़िप खोल के अपना लंड बाहर निकाल दिया. उसका लंड एक-दूं खड़ा था. मुझे अंधेरे में ज़्यादा नही दिखा, मगर साइज़ फील हो रहा था.

सोनिया एक-दूं से चौंक गयी और बोली: यार ये क्या कर रहे हो? यहा कोई आ जाएगा तो देख लेगा.

प्रियांश बोला: सोनिया डार्लिंग नही, यहा कोई नही आता. हम दोनो ही है यहा. तुम बस आ जाओ और इसे मूह में लेलो. यार तुम इतनी सेक्सी हो, जल्दी से चूसो.

सोनिया बोली: चूस तो लूँगी. अगर अंश आ गये और उन्होने देख लिया हमे ऐसे, तो अछा नही होगा.

प्रियांश बोला: यार अंश ने बोला है की उसे अभी टाइम लगेगा. फिर भी तुम बोल रही हो तो मैं उसे कॉल करता हू, और पूछता हू कितना टाइम लगेगा.

सोनिया बोली: ठीक है.

फिर प्रियांश ने सोनिया से फोन माँगा और सोनिया ने फोन दिया तो प्रियांश ने सोनिया का हाथ पकड़ कर अपने लंड पे रख दिया. मैं एक-दूं से साइड में हो गया और अपना फोन चेक किया, की उसमे वाइब्रेशन थी या नही. तो उसमे पहले से ही वाइब्रेशन मोड था. तभी सोनिया के नंबर से मुझे कॉल आया.

मैने कॉल पिक की और बोला: हा सोनिया बोलो.

मुझे प्रियांश की आवाज़ आई: मैं प्रियांश बोल रहा हू.

तो मैं बोला: हा प्रियांश बोलो.

प्रियांश बोला: अंश हम कुछ खाने के लिए ऑर्डर करने जेया रहे है. तुम्हे कुछ खाना है तो बताओ.

मैं बोला: तुम्हे जो खाना हो वो माँगा लो. मुझे 15 मिनिट और लग जाएँगे. 1 सिगरेट और पीनी है. मैं आके अपने आप ऑर्डर कर दूँगा.

फिर प्रियांश बोला: ओक अंश (और फोन रख दिया).

मैं फिर अपनी जगह पे आ गया. मैने देखा प्रियांश ने सोनिया को बोला-

प्रियांश: अब तो डार्लिंग 15 मिनिट है. चूस लो इसको. कोई नही आएगा.

फिर प्रियांश तोड़ा पीछे हुआ, तो उसकी वजह से उसका लंबा और गोरा लंड दिख गया. 8 इंच का होगा, और मोटा मेरे लंड से ज़्यादा था. फिर प्रियांश ने सोनिया का सिर पकड़ा, और सीधा उसका मूह अपने लंड पे रख दिया. वो लगातार उसका सिर उपर-नीचे करने लगा. सोनिया उसका पूरा लंड चूस रही थी. प्रियांश का भी पूरा लंड सोनिया की थूक से चमक रहा था. प्रियांश भी आ आ कर रहा था.

वो बोल रहा था: चूस सोनिया डार्लिंग. तेरे मूह में झड़ना है मुझे.

फिर मैने देखा सामने से एक वेटर आ रहा था. वेटर कॅबिन के पास पहुँचा जैसे ही, वैसे ही प्रियांश ने मूह पे उंगली रख के उसे इशारे में वापस जाने के लिए इशारा कर दिया. फिर वेटर वाहा से जेया ही रहा था तो उसने मुझे देख लिया, और हल्के से स्माइल करके चला गया. मैने सोनिया की तरफ देखा तो वो प्रियांश का लंड चूस रही थी.

मैने सोचा अभी एक ड्रिंक लेके आता हू, क्यूंकी ये सब देख के मेरा नशा कम हो गया था.

फिर मैं बार पर गया अपने लिए ड्रिंक लेने. वाहा रश बहुत था तो मैं ऑर्डर करके साइड में काउच पा बैठ गया. फिर 5 मिनिट बाद वही वेटर मुझे ड्रिंक देने आया जिसने सोनिया को प्रियांश का लंड चूस्टे हुए देखा था.

तो मैने उस वेटर को रोका, और उससे कहा: तुम किसी को वो सब मत बताना जो तुमने देखा है.

वो हस्स दिया और बोला: सिर ये तो प्रियांश सिर का हमेशा का है. क्लब में कोई ना कोई मिल ही जाती है उन्हे. सो आप चिंता मत करो.

फिर मैने उससे पूछा: हमेशा?

तो वो बोला: हा सिर, अभी तो आप है साथ में इसलिए, वरना तो अभी तक उपर एक रूम है, वाहा चले गये होते दोनो. मैने तो पहले काई बार देखा है, इसलिए मेरे लिए ये सब नॉर्मल है. आप चिंता मत कीजिए, किसी को कुछ नही पता चलेगा.

फिर वो चला गया, और मैने अपनी ड्रिंक ख़तम करी. फिर मैं चला गया वापस विप ज़ोन. वाहा पहुँचते ही मैने देखा की दोनो अब नॉर्मल हो गये थे. मगर वाहा सिचुयेशन बता रही थी की कुछ हुआ था.

फिर सोनिया बोली: मैं वॉशरूम होके आती हू.

मैने देखा तो सोनिया का पूरा मेकप बिगड़ गया था. फिर मैने दोनो से मज़ाक में कहा-

मैं: सोनिया की हालत से लग रहा है किसी ने इसको जाम के किस करी हो.

और मैं हासणे लगा.

सोनिया धीमी सी आवाज़ में बोली: तुम भी ना, ऐसा कुछ नही है. वो नशे में स्नॅक खाते वक़्त सौसे लग गयी थी. सो मैने टिश्यू से सॉफ किया इसलिए.

मैने प्रियांश को देखा तो वो नॉटी स्माइल दे रहा था. फिर सोनिया वॉशरूम से सही होके आई.

देन उसने कहा: चलो यार चलते है. रात ज़्यादा हो गयी है.

उस टाइम रात के 3 बाज रहे थे. सो मैने प्रियांश से कहा: यार नाइट में होटेल के लिए कॅब मिल जाएगी क्लब से?

तो उसने कहा:यहा से तो नही मिलेगी. अगर तुम बुरा ना मानो तो मैं अपनी कार में तुम्हे होटेल तक ड्रॉप कर दूँगा. वाहा से मैं अपने होटेल चला जौंगा.

मैने सोनिया को कहा: चलो चलते है.

सोनिया को चलने में प्राब्लम हो रही थी. उसने पी रखी थी, सो एक तरफ से मैने पकड़ा, और एक तरफ से प्रियांश ने. फिर हम एग्ज़िट गाते तक पहुँचे. उसने क्लब में से किसी को अपनी कार की कीस दी और सोनिया के साथ खड़ा हो गया. मैं सिगरेट पीने के लिए आयेज गया. तोड़ा पीछे देखा मैने तो प्रियांश ने सोनिया के गले में हाथ डाल रखा था, और उपर से ही बूब्स प्रेस कर रहा था उसके.

फिर मैने सिगरेतटे ख़तम करी, और वाहा जाके खड़ा हुआ तो प्रियांश ने अपना हाथ सोनिया के बूब्स पे से हटा दिया. अब कार आ गयी, और हम उसमे बैठ गये. मैं प्रियांश के साथ फ्रंट सीट पे और सोनिया पीछे बैठ गयी. क्लब से होटेल 30 मिनिट्स की दूरी पे था. सोनिया बॅक सीट पे ही सो गयी.

मैने प्रियांश से कहा: इसने कुछ ज़्यादा ही एंजाय कर लिया, और प्रियांश इस पर हस्स दिया.

फिर प्रियांश बोला: इसने ही अपना हनिमून एंजाय किया है. तुम तो टाय्लेट में बैठे थे.

मैने कहा: अछा सही है, किसी ने तो एंजाय किया.

फिर हम होटेल पहुँच गये. सोनिया पूरी नींद में थी. मैने उसे उठाया तो वो नही उठी मुझसे. फिर मैने कार में से पानी की बॉटल ली, और हल्का सा पानी उसके मूह पर डाला. वो उठ गयी एक-दूं.

मैने मज़ाक में बोला: मैं तो दर्र गया था. मुझे लगा तुम निकल ली.

प्रियांश ज़ोर-ज़ोर से हासणे लगा और बोला: हनिमून तो माना लो.

मैने कहा: दिन में दो बार माना लिया है. रात को भी सोचा था मैने, मगर इसकी हालत देख के नही लगता की ये दे पाएगी.

फिर हमने सहारा देके उसे उठाया, और होटेल लॉबी पहुँचे. उसके बाद लिफ्ट लेके 5त फ्लोर पर जहा हमारा रूम था वाहा पहुँचे.

प्रियांश बोला: चलो अंश और सोनिया, तुम जाओ. मैं भी चलता हू.

मैने उसे बोला: यार यहा तक आ गये हो. अब इसे बेड पे लिटा के ही जाओ. मैं भी नशे में हू.

वो मान गया. हम फिर रूम के अंदर पहुँचे. उसने सोनिया को बेड पे लिटने के लिए मेरी मदद करी, और उसे लिटा दिया हमने. फिर मैं वॉशरूम गया. जब मैं वापस आया तो प्रियांश सोनिया को किस कर रहा था. वो मेरे आते ही हॅट गया और बोला-

प्रियांश: गर्दन सही कर रहा था मैं इसकी. रात भर ऐसे ही पड़ी रहती तो दर्द हो जाता.

मैने कहा: ठीक किया यार.

उसने सोनिया को बाइ बोला, और मुझे भी. फिर वो जाने लगा.

मैने बोला: यार यही रुक जाते. फिर मॉर्निंग में गोआ घूमते.

तो प्रियांश बोला: यार मैं रूम में जाता हू. यहा स्पेस नही है, और तुम्हे दिक्कत होगी. मॉर्निंग में जब तुम उठो और फ्रेश हो जाओ, मुझे कॉल कर देना मैं आ जौंगा कार लेके.

मैने कहा: ओक.

मैने प्रियांश को देखा तो तोड़ा मायूस लगा.

फिर मैने कहा: चलो अपना नंबर दो. मैं तुम्हे कॉल करूँगा.

उसने कहा: ओक.

मैने नंबर लेने के लिए फोन निकाला तो फोन डेड पड़ा था.

फिर मैने कहा: सोनिया के फोन में आड कर लेता हू.

तो उसने एक-दूं से बोला: मैने सोनिया को नंबर दे दिया है क्लब में. मैं थोड़ी देर के लिए गया था, इसलिए कॉल करने के लिए दिया था.

मैने कहा: ओक.

फिर वो चला गया. मैने भी अपने कपड़े उतारे, और खाली अंडरवेर में बेड पे लेट गया, और सोनिया को चुदाई के लिए जगाने लगा. मगर वो बहुत नशे में थी, इसलिए नही उठी. तो मैं भी सो गया.

मैं मॉर्निंग में उठा और फिर कैसे-कैसे हमने सेक्स किया, और फिर कैसे गोआ घूमने के बहाने प्रियांश ने सोनिया को छोड़ दिया, ये सब इस कहानी के नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा. आयेज की कहानी जानने के लिए मुझसे जुड़े रहिए, और अपना फीडबॅक मुझे अंश199231@गमाल.कॉम पे दीजिए. थॅंक योउ ऑल.

यह कहानी भी पड़े  सागर के साथ मिल कर सालो तक लिए हॉट आंटी के मज़े


error: Content is protected !!