आराव का मेरी ज़िंदगी मे वापस आना

हेलो ई आम नैना. थर्ड पार्ट ऑफ स्टोरी बिगिन्स नाउ.

मेरे पास आराव का नंबर था पर हिम्मत नही हो रही थी उससे कॉल करने की. सोच रही थी आराव ने मुजसे फिर से वो ही सवाल पूछा तो मैं क्या जवाब दूँगी. मेरा घर पर दिल नही लगता था.

ये सब चलते हुए 1 महीना निकल गया. मैं बस घर के कामो मे अपना टाइम निकल रही थी. एक दिन मैं बहोट फ्रस्टरेटेड हो गयी घर के कामो से, काव्या की देख भाल से, पति जैसे ट्रीट करता वैसे. मैने अपने घर जाने की सोची, मीन्स मैके.

मैने पति को कहा मुझे जाना है तो वो डाटने लगे. जैसे मेरा खाना कौन बनाएगा काव्या की स्कूल शुरू है वगेरा वगेरा. मैने भी बोल दिया. तुम अपना देख लो मैं काव्या को लेकर अपने मैके जा रही हू. पति ने बहोट माना किया पर मैं नही मानी और कुछ 5 दीनो के लिए मैके चली गयी. कुछ दीनो बाद पति का कॉल आया.

मैं- हन बोलो?

पति- अरे वो मेरा फ्रेंड है ना मोहन जिसके बेटी की षड्दी मे हम गये थे.

मैं- हन याद है.

पति- उसका भांजा था आराव जो तुम्हे शॉपिंग के लिए लेकर गया था.

मैं- हन उसका क्या?

पति- तो मोहन का कॉल आया था बोल रहा था मेरे भनजे को रूम चाहिए रेंट से. क्यूकी आराव के रूम पार्ट्नर की फॅमिली अपने सिटी मे रहने आने वाली है कुछ महीनो के लिए. तो आराव को कुछ दीनो के लिए रूम चाहिए. तो मोहन पूछ रहा था की क्या वो अपने घर पर रेंट से रह सकता है क्या. मैने तो हन बोल था पर तुम्हे पूछना चाहता था.

मैं- आपको ठीक लगता है तो रख लो. आज तक अपने मुजसे कुछ पूछ के किया है क्या जो आज पूछ रहे हो.

पति- एक काम करो तुम रिटर्न आ जाओ फिर देखते है उससे रखना है या नही.

मैं- नही आप रख लो उससे मैं कुछ दीनो मे आ जौंगी.

मैं बहोट खुश थी मेरे पति पहेली बार कोई अक्चा काम किया. क्यूकी अब आराव मेरी लाइफ मे फिर से आने वाला था और मुझे उसका वेलकम करना था बस मैने सोच लिया अब मैं रिटर्न जौंगी. मैने अपनी मा को बताया मुझे कल रिटर्न जाना है तो मा ने कुछ ज़्यादा सवाल नही किए और मैं रिटर्न चली गयी.

नेक्स्ट दे मैं रिटर्न चली गयी तो पति भी सवाल करने लगे तुम इतने जल्दी कैसे आ गयी. मैने बोला आराव आने वाला है तो उपर की रूम की सफाई वगेरा करना पढ़ेगा जो आप तो नही कर सकते इसलिए मैं जल्दी आ गयी.

मैं- वैसे आराव कब आने वाला है?

पति- पता नही मुजसे बात तो नही हुई पर मोहन ने मेरा नंबर उससे दिया है देखते है कब कॉल करता है.

मैं- आप उससे रेंट लेने वेल हो क्या.

पति- हन वो आस पेयिंग गेस्ट है, तुम्हे उसके लिए खाना भी बनाना पढ़ेगा.

मैं- वो ठीक है पर आपके फ्रेंड का भांजा है तो आप उससे रेंट मत लो.

पति- नही रेंट तो लेगे ही.

मैं- आज तक आप ने मेरी कौन सी बात मानी है जो आज मनोगे.

हम पति पाँटनी मे थोड़ी देर तक ज़गदा हुआ. पर मैं अपने पति को इग्नोर करती हू और वो मुझे. मैं बहोट खुश थी मैने उपर के रूम की बहोट अकचे से सफाई की. हुमारे घर के उपर 2 रूम्स है और वॉशरूम और बातरूम और बड़ी टेरेस और घर के पीछे पूरा वीरान जगह.

रात मे मुझे उपर जाने से भी दर लगता है अंधेरे की वाजसे. अब 2 दिन हो गये थे पर आराव की कोई खबर या कॉल नही था. 3र्ड दे मॉर्निंग मे आराव का कॉल मेरे पति को आया. बात होने के बाद पति ने बताया आराव आज आ रहा है.

मैं और काव्या बहोट खुश हो गये क्यूकी आराव को काव्या बहोट मिस करती थी उससे भी ज़्यादा मैने आराव को मिस किया. काव्या स्कूल नही जाना चाहती थी इसलिए मैने भी उसे फोर्स नही किया. मेरे पति ऑफीस चले गये.

कुछ 10 बजे मॉर्निंग मे आराव की गाड़ी हुमारे घर के सामने आई. आराव गाड़ी से उतार कर बाल्कनी मे मुझे देखने लगा. मैं बाल्कनी से ही आराव को ही किया. काव्या भाग कर आराव के पास गयी. काव्या बहोट खुश दिख रही थी आराव काव्या को गोद मे उठा कर घर मे आया.

मैं- कैसे हो?

आराव- ठीक हू, तुम कैसी हो?

मैं- अब तब तक ठीक नही थी पर अब खुश हू.

आराव- हन वो तुम्हारे फेस की स्माइल से ही दिख रहा है. (मैं आराव को अंदर बुलाया और सोफा पर बैठने कहा. पर आराव खड़ा ही था) आराव बोला शायद तुम कुछ बुल रही हो.

मैं- क्या?

आराव- याद कर लो मैं तब तक वेट करता हू. (मुझे साँझ मे आ गया था पर मैं नाटक कर रही थी.)

मैं- काव्या जाओ भैया के लिए फ्रिड्ज से पानी लेकर आओ.

काव्या – हन मम्मी काव्या जैसे ही किचन मे गयी मैं जल्दी से आराव को हग कर लिया और काव्या आने से पहेले दूर हो गयी. काव्या ने बॉटल आराव को दी आराव पानी पानी सोफे पर बैठ गया और काव्या आराव की गोद मे.

आराव- चलो मुझे रूम दिखा दो फिर मुझे मेरा समान लेकर भी आना है.

मैं- इतने जल्दी क्या है कुछ खा लो पहेले, मैं तुम्हारे लिए कुछ बनती हू.

आराव- प्लीज़ नैना मुझे कुछ नही खाना है मुझे रूम दिखा दो. मुझे रिटर्न जा कर बाग लेकर आना है रूम सेट्ल होने मे भी टाइम लगेगा और मेरे रूम पार्ट्नर की फॅमिली कल मॉर्निंग मे ही आ जाएगी. इसलिए मुझे जल्दी जल्दी शिफ्ट करना है, और मेरी गाड़ी रखने के लिए पार्किंग है क्या टुमरे घर मे?

मैं- पार्किंग के लिए जाग हो जाएगी पहेले रूम देख लो, चलो उपर. काव्या बेटा तुम टीवी देखो मैं भैया को रूम दिखा कर आती हू.

काव्या ने हन कहा और मैं आराव उपर चले गये. आराव मेरा पूरा घर देख रहा था. हम उपर की रूम मे गये. 1स्ट्रीट रूम मे आराव देख रहा था फिर हम अंदर की रूम मे गये.

तो आराव ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे खुद की और खिच लिया मेरे बूब्स आराव की चेस्ट से चिपक गये. मेरे लिप्स और आराव ने लीप ऑलमोस्ट 5सीयेम का डिस्टेन्स था.

अगर हम तोड़ा भी हिलते तो शायद हम लीप किस करने लगते. आराव के दोनो हाथ मेरी नंगी कमर पर ही जो मुझे गर्मी फील करा रहे थे.

मैं- आराव क्या कर रहे हो..?

आराव- नैना उस दिन के लिए सॉरी मैं तुम पर गुस्सा हो गया था.

मैं- ठीक है पर मुझे छोड़ड़ो कोई देख लेगा.

आराव- पहेले तुम मुझे माफ़ करो.

मैं- ठीक है माफ़ किया अब प्लीज़ मुझे छोड़ड़ो.

फिर आराव अलग हुआ तो मैने खुद की सारी ठीक की.

आराव- मैं यहा रहने आने वाला हू तो तुम्हे कोई प्राब्लम तो नही है ना?

मैं- नही, क्यू तुम्हे प्राब्लम है क्या?

आराव- नही मैं तो खुश हू, तुम्हारे साथ टाइम स्पेंट करने मिलेगा.

मैं- अक्चा फिर मैं जिस दिन रिटर्न आ रही थी तुम तो मुजसे मिलने भी नही आए.

आराव- (नीचे फेस करते हुए) कैसा आता तुमने मेरे सवाल के जवाब ही नही दिया. उपर से मैने तुम पर इतना गुस्सा किया. पर सच बोलू नैना मैने तुम्हे बहोट मिस किया.

मैं- मैने भी आराव.

आराव- आछा इतना मिस किया तो 1 बार ना कॉल किया ना ही म्स्ग किया. (मैं चुप थी)

तो आराव बोला – देखो आज भी तुम चुप हो सोचो मुझे कैसा लग रहा होगा वो टाइम पर.

मैं- आराव क्या हम सिर्फ़ अकचे फ्रेंड्स की तरह नही रह सकते? मैं तुम्हे फ्रेंड जैसा रखना चाहती हू. मई तुमसे प्यार करती हू या नही ये सब बाते हुमारे बीच मे फिर से नही आना चाहिए.

आराव- ठीक है तुम्हे आन्सर नही देना है तो तुम ऐसा ही करने वाली हो. मुझे बुरा नही लगा इसलिए ज़्यादा सोचो मत.

आराव ने स्माइल दी तो मैने भी आराव को स्माइल दी. मैं आराव का हाथ पकड़ तो आराव मुझे देख रहा था मैने आराव को हग कर लिया.

मैं- (हग करते हुए) थॅंक योउ आराव मेरे फ्रेंड बनने के लिए.

आराव- कोई बात नही, और वैसे भी मैं तुम्हारी जैसी फ्रेंड को खोना नही चाहता था.

मैं- आराव मुझे एक बात बोलनी है तुम से.

आराव – बोलो.

मैने आराव को अपनी और खिछा, उसके बालो मे पीछे से हाथ डाला और आराव के गाल पर किस किया.

मैं- आराव मुझे समझने के लिए थॅंक योउ, तुम बहोट अकचे हो.

आराव ने मुझे फोर्हेड पर किस किया. हम दोनो चुप थे, फिर हम अलग हुए और नीचे आ गये. आराव से थोड़ी देर बात करने के बाद आराव अपना समान लेने चला गया.

वेट फॉर नेक्स्ट एपिसोड गाइस.

यह कहानी भी पड़े  पापा के दोस्त की बीवी को पटा कर चुदाई की

error: Content is protected !!